Home >> Magazine >> Career Mantra
  • लर्निगः 5 सबक - स्टीव जॉब्स के जीवन से
    1 - आप सबकुछ अकेले नहीं कर सकते आप अपने कॅरिअर में सबकुछ अकेले नहीं कर सकते। कम से कम तब तो बिल्कुल नहीं, जब आप अपने काम को बड़े स्तर पर सफल होते हुए देखना चाहते हैं। आपको लोगों की जरूरत होती है। वे प्रतिभाशाली होने चाहिए। वे प्रेरित होने चाहिए। 2 - खुद को ग्राहक की जगह पर रखिए जिस उत्पाद की कभी कल्पना भी नहीं की गई, पहली बार उसे देखने पर भी उससे परिचित महसूस कराना, ऐसी सजृनशीलता स्टीव के ही वश की बात थी। इसकी वजह नए उत्पाद कीकल्पना के दौरान उनके केंद्र में ग्राहक का होना था। 3 - बेस्ट होना अच्छा है,...
    January 22, 08:15 PM
  • लोन गाइड - सिर्फ अच्छे ग्रेड्स से नहीं मिलता एजुकेशन लोन
    अक्सर समझा जाता है कि अच्छे ग्रेड्स, बेहतर यूनिवर्सिटी में एडमिशन या अच्छा प्रोफाइल एजुकेशन लोन की ब्याज दर को कमकरने में मददगार होंगे। जबकि असलियत कहीं अलग है। जानिए एजुकेशन लोन से जुड़े कुछ भ्रम और तथ्य। अच्छी यूनिवर्सिटी में एडमिशन कम ब्याज दर पर लोन दिलाएगा तथ्य - यह एक आम धारणा है कि अच्छी यूनिवर्सिटी में प्रवेश से कम ब्याज दर पर एजुकेशन लोन हासिल हो जाएगा। असल में ऐसा नहीं है। किसी भी प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी में प्रवेश मिलना लोन आसानी से दिलवाने में मदद करेगा, लेकिन हरेक के लिए ब्याज...
    January 22, 07:56 PM
  • पढ़िए, इंजीनियरिंग के नए विषयों को, जिनमें हैं आपार संभावनाएं!
    पसंदीदा कॅरिअर की सूची में अव्वल, इंजीनियरिंग की पारंपरिक स्ट्रीम्स बेशक स्टूडेंट्स को सालों से आकर्षित करती आई हैं। लेकिन अब स्पेशलाइजेशन के नए विकल्प न केवल कुछ अलग और चुनौतीपूर्ण करने का मौका दे रहे हैं, बल्कि जॉब मार्केट में भी आपके कदम मजबूत बनाने को तैयार हैं। इंजीनियरिंग देश में सबसे ज्यादा पसंद किया जाने वाला कॅरिअर है। 150 साल पहले जहां देश के चार कॉलेजों में पढ़ाई के लिए कुछेक विषय उपलब्ध थे, वहीं आज 3,393 इंजीनियरिंग कॉलेजों में अप्रूव्ड कोर्सेज की संख्या 35 से अधिक है। अंडरग्रेजुएट...
    January 22, 06:54 PM
  • कोर्स रिव्यूः कई फील्ड की नौकरियों के लिए एक कोर्स
    विजुअल कम्युनिकेशन प्रोग्राम को विजकॉम कहा जाता है। बीएससी इन विजुअल कम्युनिकेशन की डिग्री न केवल आपकी रचनात्मकता को प्लेटफॉर्म देगी, बल्कि एक कोर्स के जरिए अलग-अलग क्षेत्रों की नौकरियों के लिए भी रास्ते खोल देगी। एडवरटाइजिंग, फिल्म, जर्नलिज्म, एनिमेशन, इंडस्ट्रियल डिजाइन और संबंधित क्षेत्रों में कॅरिअर बनाने की इच्छा रखने वाले उम्मीदवारों के लिए विजुअल कम्युनिकेशन कोर्स एक अच्छा विकल्प है। बीएससी इन विजुअल कम्युनिकेशन की डिग्री न केवल आपकी रचनात्मकता को ह्रश्वलेटफॉर्म देगी, बल्कि...
    January 22, 06:52 PM
  • उपलब्धियों से कोई लेना-देना नहीं शिक्षा और ताकत का
    पहली कहानी: चेन्नई में रहने वाला 18 साल का लड़का वेंकटेश पढ़ाई में बेहद कमजोर है। टीचर्स, माता-पिता और उससे जानने वाले हमेशा उसकी इसके लिए आलोचना करते रहते हैं। ऐसे में अपना ज्यादातर वक्त वह स्कूल के बजाय मरीना बीच पर बिताने लगा। अमेरिका में फ्लोरिडा के बाद दुनिया का दूसरा सबसे लंबा समुद्र तट, मरीना बीच। यह बेहद खतरनाक समुद्र तट है इसलिए क्योंकि यहां किनारे पर लहरें काफी रौद्र रूप में होती हैं। इस समुद्र तट पर गोताखोर (डूबने वालों को बचाने के लिए) की भूमिका निभाने के लिए कोई आसानी से तैयार नहीं...
    January 22, 11:18 AM
  • अच्छे आइडिया पर काम नहीं किया तो वे खत्म हो जाएंगे
    तीन साल पहले विवेक व्यास और विमल पोपट अलग-अलग कंपनियों में काम कर रहे थे। खुश थे। फिर उन्होंने राजकोट में एक इंश्योरेंस कंपनी ज्वाइन कर ली। टेक्निकली बहुत ज्यादा कुछ जानते थे। फिर भी लोगों को सफलतापूर्वक बीमा पॉलिसियां बेच रहे थे। आगे उनकी खास कोई योजना नहीं थी। लेकिन किस्मत ने उनके लिए योजना बना रखी थी। एक रोज वे सड़क किनारे एक दुकान पर समोसे खाने को रुक गए। दुकानदार ने उन्हें अखबार के टुकड़े में रखकर समोसे दिए। खा-पीकर वे हाथ में रखे उस अखबार के टुकड़े को फेंकने ही वाले थे कि उनकी नजर उसमें...
    January 21, 11:05 AM
  • मानो या नहीं लेकिन कभी भगवान आपको मसीहा बना देते है
    वह सिर्फ 26 साल के हैं। मेडिकल प्रोफेशन में उन्हें आए अभी आठ महीने ही हुए हैं। डॉ. अंचित भटनागर की हम बात कर रहे हैं। मुंबई के जेजे अस्पताल के सर्जरी विभाग से जुड़े हुए हैं। उस रोज वह हिल पार्क सोसायटी में स्थित अपने घर पर आए ही थे। तभी उन्हें पता चला कि उनकी माताजी दिल्ली से आ रही हैं। नजदीकी अलेक्जेंडर ग्राहम बेल रोड पर भारी भीड़ थी। दाऊदी बोहरा समाज के धर्मगुरू सैयदना मोहम्मद बुरहानुद्दीन को अंतिम विदाई देने ये लोग देश और दुनिया भर से आए हुए थे। सैयदना मोहम्मद का निवास स्थान सैफी महल भी यहीं है।...
    January 20, 11:09 AM
  • ध्यान खींचना है तो कुछ अलग दिखना होगा
    पहली कहानी: देश में रोज हो रहे कंस्ट्रक्शन के काम को इकट्ठा कर दिया जाए। उसका आकलन किया जाए तो पता लगेगा कि भारत में हर साल अमेरिका की शिकागो सिटी के बराबर निर्माण हो जाताहै। और इसी बीच यह भी मालूम चलेगा कि देश में हरी-भरी जगहें, पार्क, बच्चों के लिए खेल के मैदान लगातार कम हो रहे हैं। कई शहरों में लंबे-लंबे फ्लाईओवर तो बने हुए हैं। लेकिन उनका बेहतर उपयोग करना अब भी हम लोगों को नहीं आया है। हालांकि कुछ शहरों में फ्लाईओवरों के नीचे पार्किग स्पेस बनाए गए हैं। कहीं-कहीं नगरीय निकायों के ऑफिस बने हैं।...
    January 18, 10:16 AM
  • नए पुराने को मिला दें तो जीवन स्तर बेहतर हो सकता है
    ये सिर्फ दो आइडिया हैं। पहला ये कि उन्हें अच्छा और स्वास्थ्यवर्धक भोजन करने के लिए कहें। और दूसरा कि इमरजेंसी में आधुनिक मेडिकल सुविधा मुहैया कराएं। अगर ये दो चीजें हो जाएं तो गरीबों के मौजूदा हालात बहुत बेहतर हो सकते हैं। लेकिन हम सब जानते हैं कि करने के मुकाबले यह कहना बहुत आसान है। लेकिन दो लोग ऐसे भी हैं जिन्होंने अपने-अपने तरीकों से यह कर दिखाया है। पहले आइडिया पर काम किया है सेवाय चिल्ड्रन ट्रस्ट के ई. गोपालकृष्णन ने। वे तमिलनाडु के त्रिची में रहते हैं। एग्रीकल्चर ग्रेजुएट हैं।...
    January 17, 11:12 AM
  • ताजा चलन के हिसाब से अपने ब्रांड में तब्दीली करते रहिए
    फौजा सिंह दुनिया के सबसे बुजुर्ग मैराथन धावक हैं। उन्होंने 2013 में मुंबई मैराथन में हिस्सा लिया था। उस वक्त उन्होंने इस पर नाखुशी जताई थी कि ऐसी प्रतिस्पर्धाओं में सिखों की भागीदारी बहुत कम है। इस असंतोष का सीधा असर ये हुआ कि 2014 की मुंबई मैराथन में 55 सिख हिस्सा लेने जा रहे हैं। पीली पगड़ी में ये लोग मुंबई दे सिख नाम के बैनर तले इस प्रतिस्पर्धा में भाग लेंगे। फौजा सिंह ने मुंबई के बाद पिछले साल ही हांगकांग मैराथन में हिस्सा लिया था। इसके बाद वे रुक गए, क्योंकि उनकी तबीयत अब इसकी इजाजत नहीं देती।...
    January 16, 11:45 AM
  • स्कूल/ कॉलेज के ड्रॉप आउट जिंदगी में पीछे रहें जरूरी नहीं
    सेलेब्रिटी की कहानी: वह झूठा है। असभ्य है। उसने अपनी उम्र के संबंध में गलत जानकारी दी है। इसलिए बीसीसीआई की इनडोर क्रिकेट अकादमी में उसे नहीं रहना चाहिए। उसे बाहर कर दिया जानाचाहिए। चार साल पहले 2009 में जब उसने हैरिस शील्ड में 439 रन बनाए तो कुछ इसी तरह उसके खिलाफ दलीलें दी गईं। तब वह 15 साल का था। रोज स्कूल नहीं जाता था। इसलिए उसे क्रिकेट के सत्र के बीच ट्यूशन दी जाती थी। लेकिन इन्हीं आलोचनाओं के बीच उसने जूनियर क्रिकेट सीरीज में दक्षिण अफ्रीका के एक गेंदबाज की खूब धुनाई की। महज 66 गेंदों पर 101 रन बना...
    January 15, 11:06 AM
  • अकेले आदमी की ताकत को भी समझिए
    पहली कहानी: ओडिशा के भुवनेश्वर में निराकार मल्लिक लिफ्ट एरिगेशन कॉरपोरेशन में निराकार मल्लिक ठेके पर काम करते हैं। वे यहां मोटर पंप ड्राइवर हैं। लेकिन वे एक चीज से व्यथित थे। नजदीकी केंद्रपाड़ा जिले के अलियाहा गांव में लोग बाढ़ और तूफान जैसी प्राकृतिक विपदाओं से जूझ रहे हैं। अलियाहा निराकार का पैतृक गांव है। सिंचाई विभाग में काम करते हुए उनको सिखाया गया था कि ऐसी समस्याओं का स्थायी समाधान है पानी स्रोतों के इर्द-गिर्द पौधे लगाए जाएं। इससे मिट्टी का क्षरण रुकेगा। और पानी को बेकार बहने से...
    January 14, 11:13 AM
Ad Link
 
विज्ञापन
 
 
 
 

बड़ी खबरें

 
 
 
 

रोचक खबरें

विज्ञापन
 

बॉलीवुड

 
 

जीवन मंत्र

 
 

स्पोर्ट्स

 

बिज़नेस

 

जोक्स

 

पसंदीदा खबरें