• देखिये ट्रेनडिंग न्यूज़ अलर्टस

Best of City

अगाखान पैलेस

आगाखान महल पुणे शहर की अमूल्य धरोहर है। यह पुणे के यरवदा क्षेत्र में स्थित है । 1892 में बना यह महल भारतीय इतिहास में महत्वपूर्ण स्थान रखता है। इस महल का निर्माण 1892 में इमाम सुल्तान मोहम्मद शाह आगाखान तृतीय ने किया था। इस महल के निर्माण में कुल 1.2 मिलियन का ख़र्च आया था और यह महल 5 साल में बन कर तैयार हुआ। 1969 में आगाखान चतुर्थ ने यह महल भारत सरकार को सौंप दिया। राष्ट्रीय स्वतंत्रता आंदोलन में भी पुणे ने अपनी सक्रिय भूमिका निभाई है।इस महल का राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जीवन से गहरा नाता है।यह महल गांधी मेमोरियल सोसाइटी का मुख्यालय है। मौला नदी के समीप स्थित, इस महल में गांधीजी और उनके जीवन पर आधारित यादों का स्मारक भी है। 1942 में हुए भारत छोड़ो आंदोलन के समय में गांधीजी, उनकी पत्नी कस्तूरबा और गांधीजी के सचिव महादेव भाई देसाई इस महल में ही रहे थे। तीनों ने ही 9 अगस्त 1942 से ले कर 6 मई 1944 तक का समय इस महल में गुजारा। इसी महल में कस्तूरबा गांधी ने अपनी अंतिम सांस ली थी। इसी महल में निवास के दौरान गांधी जी ने "अंग्रेज़ो भारत छोड़ो" आंदोलन की नींव रखी थी। साल 2003 में संस्‍कृति मंत्रालय के अधीन भारतीय पुरातत्‍व सर्वेक्षण ने इसे राष्ट्रीय महत्व का स्मारक घोषित किया।

Address: गांधी नेशनल मेमोरियल सोसाइटी,अगाखान पैलेस, पुणे-नगर रोड़, यरवदा ,पुणे - 411006

Phone: 020 - 26680250,

दोस्तों से शेयर करें

Email 
 
  
आपके विचार
 
अपने विचार पोस्ट करने के लिए लॉग इन करें

लॉग इन करे:
या
अपने बारे में बताएं
 
 

दिखाया जायेगा

 
 

दिखाया जायेगा

 
कोड:
2 + 5

 
विज्ञापन

RECOMMENDED

      पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

      दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

      * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.