भेल भास्कर

  • देखिये ट्रेनडिंग न्यूज़ अलर्टस
Home >> Madhya Pradesh >> Bhopal >> Bhel Bhaskar

Bhel (MP) News (भेल न्यूज़)

कस्तूरबा अस्पताल के सीएमओ डॉ. एके दवे को दी गई विदाई

कस्तूरबा अस्पताल के सीएमओ डॉ. एके दवे को दी गई विदाई
भोपाल। कस्तूरबा अस्पताल के सीएमओ डॉ. एके दवे सोमवार को रिटायर्ड हो गए। कर्मचारी संगठनों व अधिकारियों ने उन्हें विदाई दी। उनके स्थान पर हरिद्वार यूनिट से आए डॉ. सुनील कुमार गुप्ता को डॉ. दवे की जगह कस्तूरबा अस्पताल का सीएमओ बनाया गया है।
April 24, 05:39 PM

सहेजकर रखे हैं दादा के जमाने के यंत्र, स्विटजरलैंड के ग्रामोफोन-बिगुल का है कलेक्शन

सहेजकर रखे हैं दादा के जमाने के यंत्र, स्विटजरलैंड के ग्रामोफोन-बिगुल का है कलेक्शन
भोपाल. पुराने दौर में गाने सुनने के लिए उपयोग होने वाले ग्रामोफोन आज भले ही गुजरे जमाने की बात हो गई हो, लेकिन जहांगीराबाद निवासी जर्रार जमा खान के पास स्विटजरलैंड के 70 वर्ष पुराने ग्रामाेफोन समेत जैनिट कंपनी का बक्सेनुमा रेडियो व बिगुल का अनोखा संग्रह है। उनके दादा के समय की इस अनूठी सामग्री को सहेजने का काम अब चौथी पीढ़ी कर रही है। जर्रार जमा खान ने बताया कि उनके पास दो ग्रामोफोन हैं। एक छोटा ग्रामोफोन हैं। जिसकी बनावट मोबाइल की तरह है। इसे कमर में बेल्ट बांधकर आसानी से लटकाया जा सकता है।...
April 22, 10:43 PM

60 सालों से इनके मंगोड़ों का स्वाद ले रहे हैं लोग, शाम होते ही लग जाती है भीड़

60 सालों से इनके मंगोड़ों का स्वाद ले रहे हैं लोग, शाम होते ही लग जाती है भीड़
भोपाल. भेल क्षेत्र समेत राजधानी के अन्य इलाकों में पिछले 60 साल से चौबे जी के मंगोड़े चर्चा में हैं। यहां अकसर लोग यह कहते मिल जाएंगे कि तेज गर्मी हो या कोई भी मौसम, मंगोड़े हों तो बस चौबे जी के। वर्ष 1956 में जब भेल कारखाना बनकर तैयार हुआ तो 24 साल के गोपाल कृष्ण चौबे ने क्रेन आॅपरेटर के रूप में नौकरी शुरू की। ड्यूटी के बाद शाम 5 बजे से उन्होंने बरखेडा मार्केट में हाथ ठेला लगाकर मंगोडे़ बेचना शुरू किया। लोग ड्यूटी से लौटते और मंगोड़े मांगते। डेढ़-दो घंटे में ही दुकान खाली हो जाती। करीब 20 साल ठेला लगाने और...
April 22, 10:41 PM

पूरा परिवार ही शतरंज का नेशनल चैंपियन, बेटी ने 41 तो बेटे ने जीते 33 मेडल

पूरा परिवार ही शतरंज का नेशनल चैंपियन, बेटी ने 41 तो बेटे ने जीते 33 मेडल
भोपाल.किसी भी कला को सीखने के लिए जज्बा होना चाहिए। फिर यह जरूरी नहीं कि उसे सीखने के लिए किसी गुरू के पास ही जाया जाए। यह बात साबित की है कि अयोध्या नगर में रहने वालीं सविता श्रीवास्तव ने। जिन्होंने अपने पिता को बचपन में शतरंज खेलते हुए देखा तो सीखने की इच्छा हुई। पिता से कहा तो उन्होंने डांट कर भगा दिया, लेकिन सविता चोरी छिपे उन्हें शतरंज खेलते हुए देखती रहती थीं और समय मिलता तो खेलने बैठ जातीं। उनकी इसी आदत ने उन्हें नेशनल चैंपियन बना दिया। सविता का बचपन टीटी नगर में गुजरा। उस समय भोपाल का...
April 22, 10:57 AM

गर्मी के तेवर तेज होते ही पानी की किल्लत शुरू, कॉलोनियों का वाटर लेवल गिरा

गर्मी के तेवर तेज होते ही पानी की किल्लत शुरू, कॉलोनियों का वाटर लेवल गिरा
भोपाल.गर्मी का मौसम शुरू होते ही पूरे शहर में जलसंकट गहरा गया है। लोग बूंद-बूंद पानी के लिए परेशान हैं। उन्हें आम जरूरत का पानी भी नहीं मिल पा रहा है। कहीं भू-जल स्तर नीचे जाने से घराें में कम प्रेशर से पानी आ रहा है तो कहीं पानी सप्लाई का दिन ही तय नहीं है। खजूरीकलां के रहवासियों का कहना है कि निगम अफसर सिर्फ जल्द पानी की समस्या हल करने का दावा करते है लेकिन पानी की किल्लत कम होने की जगह हर साल बढ़ जाती है। जिससे लोगों को खासी परेशानी होती है। भू-जल स्तर नीचे जाने से कम प्रेशर से आ रहा पानी...
April 9, 10:52 AM

गर्म टंगस्टन से लकड़ी पर बनाते हैं तस्वीरें, नहीं मिलते इस आर्ट को जानने वाले

गर्म टंगस्टन से लकड़ी पर बनाते हैं तस्वीरें, नहीं मिलते इस आर्ट को जानने वाले
भोपाल. दीवारों पर टंगी पेंटिंग्स को तो हम सभी निहारते और सराहते हैं, लेकिन उस कलाकार की मेहनत से अंजान ही रहते हैं, जिसने उस सुंदर पेंटिंग में अपनी कल्पना के रंग भरे हैं। भोपाल के एक ऐसे ही कलाकार बृजेश श्रीवास्तव से हम आपको रू-ब-रू करा रहे हैं जिन्होंने भारत में पेंटिंग की एक नई विद्या पायरोग्राफी को इन्ट्रोड्यूज किया है। बृजेश खुद के द्वारा बनाए गए उपकरण की मदद से लकड़ी को जलाकर खूबसूरत तस्वीरें बनाते हैं। बृजेश के द्वारा बनाई गईं पेंटिंग्स को देखकर लगता है कि मानों इन्हें पेंसिल से...
April 8, 10:53 AM

एक-दूसरे के सुख-दुख बांटने लोगों ने बनाया ग्रुप, बच्चे-बूढ़े सभी हैं शामिल

एक-दूसरे के सुख-दुख बांटने लोगों ने बनाया ग्रुप, बच्चे-बूढ़े सभी हैं शामिल
भोपाल.एक दूसरे के सुख-दुख में काम आने के लिए जैन समाज के लोगों ने जैनम नाम से ग्रुप बनाया है। इसमें परिवार के बच्चों से लेकर मुखिया तक को शामिल किया गया है। ग्रुप की एक सूची भी बनाई गई है, जिसमें सभी सदस्यों का ब्लड ग्रुप और मोबाइल नंबर हैं। सभी परिवारों में से किसी को भी कभी मदद की जरूरत पड़ती है, तो सदस्य तुरंत पहुंच जाते हैं। ग्रुप की सदस्य सिमी गंगवाल के अनुसार इस ग्रुप के सदस्य सेवा की भावना से मदद करते हुए दूसरे लोगों को भी प्रेरणा दे रहे हैं। ग्रुप के सदस्य एक-दूसरे की मदद के अलावा धार्मिक...
April 8, 10:37 AM

फोटोग्राफी के पुश्तैनी काम को आगे बढ़ी रही चौथी पीढ़ी, कलेक्शन में 175 से ज्यादा कैमरे

फोटोग्राफी के पुश्तैनी काम को आगे बढ़ी रही चौथी पीढ़ी, कलेक्शन में 175 से ज्यादा कैमरे
भोपाल. शहर के मावल परिवार के पास 142 साल पहले फोटो खींचने के लिए जिन कैमरों का उपयोग होता था उनका कलेक्शन मौजूद थे। नार्थ टीटी नगर निवासी 91 वर्षीय एसके मावल के इन कैमरों को देखने के लिए आज भी लोग की भीड़ जुटती है। मावल परिवार की चौथी पीढ़ी के रजा मावल ने इस नायाब संग्रह को अपने त्रिलंगा स्थित ऑफिस में सहेजकर रखा है। रजा मावल बताते हैं कि मेरे दादा स्व. केएच मावल ग्वालियर रियासत के महाराजा माधवराव सिंधिया (प्रथम) और उनके बाद जीवाजी राव सिंधिया के आॅफिशियल फोटोग्राफर थे। दादाजी अक्सर इन महाराजाओं...
April 1, 11:26 PM

भेल की 72 कॉलोनियों में गहराया जलसंकट, 25% तक गिरा वाटरलेवल

भेल की 72 कॉलोनियों में गहराया जलसंकट, 25% तक गिरा वाटरलेवल
भोपाल.गर्मी का मौसम शुरू होते ही भेल क्षेत्र की करीब 154 कॉलोनियों में जलसंकट गहराने लगा है। क्योंकि इन कॉलोनियों में आज भी पानी की सप्लाई ट्यूबवेल से हा़े रही है। हर साल अप्रैल माह में इन ट्यूबवेल से पानी कम मात्रा में आने लगता है, लेकिन इस बार मार्च में ही प्रेशर कम हो गया। रहवासियों का आरोप है कि हर साल जलसंकट गहराने के बाद भी नगर निगम नर्मदा जल का कनेक्शन नहीं दे रहा है। जबकि इन कॉलोनियों के मुहाने तक नर्मदा जल की पाइप लाइन बिछी है। जल संकट का सबसे ज्यादा सामना अवधपुरी क्षेत्र की 72 कॉलोनियों...
April 1, 10:58 PM

इस कलाकार की पिछले 50 साल में बनाई मूर्तियां बढ़ा रही हैं चौराहों की शोभा

इस कलाकार की पिछले 50 साल में बनाई मूर्तियां बढ़ा रही हैं चौराहों की शोभा
भोपाल.कलाकार वही महान है, जिसकी बनाई प्रतिमा संदेश देते हुए यह अहसास कराए कि वह कुछ बोल रही है। इस तरह की प्रतिमाएं पिछले 50 साल से भेल कारखाने से रिटायर्ड हुए रविनंद्र नाथ हलधर बना रहे हैं, जिनकी प्रतिमाएं टाउनशिप के हर चौराहे पर पिछले तीस साल से स्थापित हैं। 62 वर्षीय रविनंद्र नाथ हलधर 1970 में भोपाल आए थे। यहां भेल कारखाने में नौकरी के दौरान उन्होंने महापुरुषों की कई प्रतिमाएं बनाई जो आज भी यहां लगी हैं। भेल टाउनशिप के हर चौराहों, पार्कों, अस्पताल में कुछ न कुछ संदेश दे रहीं प्रतिमाएं आपको मिल...
April 1, 09:20 AM

लड़कियों और गरीब बच्चों का करते हैं मुफ्त इलाज, लगवा चुके हैं 40 से ज्यादा कैंप

लड़कियों और गरीब बच्चों का करते हैं मुफ्त इलाज, लगवा चुके हैं 40 से ज्यादा कैंप
भोपाल.शहर में ऐसे कई लोग मौजूद हैं जो अपने स्तर पर किसी न किसी तरह की समाजसेवा से जुड़े हुए हैं। ऐसे ही एक शख्स हैं डॉ. राकेश भारद्वाज, जो पिछले 10 साल से शहर के गरीब बच्चों विशेषकर लड़कियों का इलाज मुफ्त कर रहे हैं। इलाज के दौरान और स्कूलों में शिविर के दौरान वे लड़कियों को इस बीमारी के बारे में जानकारी देते हैं साथ ही उन्हें टीका भी अपने ही खर्चे से लगाते हैं। डॉ. राकेश कहते हैं कि लड़कियों में खसरा, गलसुए और रूबेला बीमारी होने का खतरा अन्य के मुकाबले ज्यादा रहता है। जबकि इन बीमारियों का टीका काफी...
March 26, 04:50 AM

सौंदर्यीकरण के लिए 10 करोड़ खर्च कर लगाई थी जालियां, टुकड़ो में जा रही चोरी

सौंदर्यीकरण के लिए 10 करोड़ खर्च कर लगाई थी जालियां, टुकड़ो में जा रही चोरी
भोपाल.भोपाल रेलवे स्टेशन से हबीबगंज रेलवे स्टेशन की सेकंड एंट्री तक फोरलेन सड़क के दोनों तरफ करीब 10 करोड़ रुपए की लागत से मध्य प्रदेश दर्शन के डिजायन वाली जाली सिर्फ गौतम नगर से दुग्ध संघ मुख्यालय तक लग पाई थी। सौंदर्यीकरण के लिए लगी यह जाली कई जगह से टुकड़ो में चोरी जा रही है। रहवासियों के अनुसार इस जाली के लगने से और सुंदरता भी दिख रही थी, लेकिन इसका मेंटेनेंस न होने से जाली कई जगह खराब हो गई। दो साल पहले लगी थी जालियां गौतम नगर रहवासियों के अनुसार यह जाली दो साल पहले ही लगाई गई थी, लेकिन...
March 26, 04:49 AM

बचपन में मिरर इमेज में लिखने पर मिली शाबाशी, अब रिकॉर्ड बनाने की तैयारी

बचपन में मिरर इमेज में लिखने पर मिली शाबाशी, अब रिकॉर्ड बनाने की तैयारी
भोपाल. उल्टे या सीधे हाथ से शब्द को अक्सर कई लोग लिख लेते हैं, लेकिन सुधीर पांड्या बचपन से ही उल्टे शब्दों (मिरर इमेज) को लिखकर लोगों को जन्मदिन या त्योहारों की शुभकामनाएं दे रहे हैं। पिपलानी निवासी सुधीर पांड्या कहते हैं कि मैं जब पहली कक्षा में था तब अपने शिक्षक को जन्मदिन की शुभकामनाएं कॉपी पर उल्टे शब्दों में लिखकर दी थीं। वे काफी खुश हुए और उनके प्रोत्साहन के बाद यह सिलसिला आज तक जारी है। - पांड्या बताते हैं कि वे अब तक दिग्विजय सिंह, कैलाश जोशी, शिवराज सिंह चौहान, विवेक तनखा को उल्टे...
March 26, 03:53 AM

जिस झील को थी टूरिस्ट स्पॉट बनाने का प्लान, वहां धुल रहे हॉस्पिटल के कपड़े

जिस झील को थी टूरिस्ट स्पॉट बनाने का प्लान, वहां धुल रहे हॉस्पिटल के कपड़े
भोपाल. भेल टाउनशिप की जिस झील को तीन साल पहले पर्यटन स्थल के रूप में तैयार करने की योजना नगर निगम ने बनाकर पर्यटन केंद्र के पास भेजी थी, उसमें आज अस्पताल और टेंट हाउस के कपड़े धुल रहे हैं। झील में पिपलानी झुग्गी बस्ती का सीवेज भी मिल रहा है। तीन साल पहले इस झील के किनारे पाथ-वे भी बना था, जिससे मॉर्निंग वॉक करने लोग आया करते थे। कार्रवाई होगी भेल एजीएम एसबी सिंह के मुताबिक,सारंगपाणि झील को सुरक्षित करने के साथ ही कपड़े धोने पर रोक लगी हुई है। अगर वहां कपड़े धुल रहे हैं या पर्यटन को नुकसान पहुंचाने...
March 18, 10:46 PM

लेडी सीए ने कुछ नया करने सीखी कार ड्राइविंग, रैली में हिस्सा लेकर जीते कई अवॉर्ड

लेडी सीए ने कुछ नया करने सीखी कार ड्राइविंग, रैली में हिस्सा लेकर जीते कई अवॉर्ड
भोपाल.महिलाएं मजबूत और पक्के इरादों के साथ अगर आगे बढ़ती हैं, तो उनमें आत्मविश्वास बढ़ेगा। इसके लिए सिर्फ पढ़ाई या ऊंचे ओहदे पर पहुंचना जरूरी नहीं होता। अच्छी पढ़ाई और अच्छा करियर बनाने के साथ कुछ नया भी करना होगा। इसी उद्देश्य को लेकर न्यू मार्केट टीटी नगर में रहने वालीं चित्रा मनवानी ने पांच साल पहले कार ड्राइविंग सीखी और कार रैली में भाग लेना शुरू किया। चित्रा मनवानी के अनुसार सीए बनने से पहले ही उनके मन में इच्छा थी कि कुछ ऐसा किया जाए, जिससे आत्मविश्वास बढ़े। इस बारे में अपने पति हरीश मनवानी...
March 18, 10:27 PM

अशिक्षित मां ने की बच्चों को पढ़ाने की जिद, आज सभी बच्चे हैं पीएचडी

अशिक्षित मां ने की बच्चों को पढ़ाने की जिद, आज सभी बच्चे हैं पीएचडी
भोपाल.नवाबी दौर में लड़कियों की पढ़ाई-लिखाई तो दूर उनके घर से निकलने पर भी तमाम पाबंदियां हुआ करती थीं। ऐसे में अशिक्षित सैय्यदा बेगम ने रूढ़ीवादी सोच को दरकिनार करते हुए अपनी पांच बेटियों और इकलौते बेटे को बराबरी से शिक्षा दिलाई। उनके बच्चे आज न केवल शिक्षित हैं बल्कि वे सभी पीएचडी होल्डर हैं। 90 साल की हो चुकीं सैय्यदा बेगम कहती हैं कि मेरे पति फतेह अली उस दौर में नवाब के सेकेट्री हुआ करते थे। वे अक्सर देश-विदेश में टूर पर ही रहा करते थे। उनकी ख्वाहिश थी कि उनके बच्चे पढ़ लिखकर खूब नाम रोशन...
March 18, 08:40 AM

इनके पास हैं 55 से भी ज्यादा प्रजाति के बोनसाई, पारंपरिक तरीकों से ही किए डेवलप

इनके पास हैं 55 से भी ज्यादा प्रजाति के बोनसाई, पारंपरिक तरीकों से ही किए डेवलप
भोपाल.बोनसाई के शौकीन लोगों के घरों में अमूमन दर्जनभर से ज्यादा प्लांट्स भी नहीं मिलते हैं, लेकिन बागवानी में रुचि रखने वाली ई-1 अरेरा कॉलोनी की विनीता गुप्ता के घर में हैं 55 से भी अधिक प्रजाति के बोनसाई प्लांट्स। - बोनसाई प्लांट्स को डेवलप करने के लिए आमतौर पर लोग कॉपर के तारों का उपयोग करते हैं, लेकिन सुनीता ने इन्हें विकसित करने के लिए कटाई छटाईं के जरिए विकसित करने का पुराना तरीका अपनाया। -इससे उन्हें पौधों को मनचाहा आकार देने में आसानी हुई। बाद में यही उनके पौधों की पहचान बनी। बीते 14 साल...
March 11, 10:04 AM

स्कूल में मनाया गया साइंस डे, स्टूडेंट्स ने जाना चमत्कारों के पीछे का सच

स्कूल में मनाया गया साइंस डे, स्टूडेंट्स ने जाना चमत्कारों के पीछे का सच
भोपाल. पिछले दिनों छात्र-छात्राओं को विज्ञान दिवस के मौके पर उन चमत्कारों के पीछे का विज्ञान बताया गया, जिसके बारे में वह अभी तक जानते ही नहीं थे। बच्चों में उत्सुकता थी कि पीला रंग लाल रंग में और लाल रंग पीले रंग में कैसे तब्दील हो गया। एक लौटे में सभी नदियों का पानी कैसे आ गया। बच्चों की यह बातें उस समय सुनने को मिलीं, जब उन्हें इसके पीछे के विज्ञान को समझाया जा रहा था। - शासकीय ज्ञानोदय आवासीय विद्यालय में आयोजित विज्ञान दिवस पर विशेषज्ञों ने सभी चमत्कारों की बताई सच्चाई। -यह आयोजन मध्य...
March 11, 04:00 AM

इनके पास है 1926 का 90 साल पुराना पोस्टकार्ड, कलेक्शन में हैंं हजारों कार्ड्स

इनके पास है 1926 का 90 साल पुराना पोस्टकार्ड, कलेक्शन में हैंं हजारों कार्ड्स
भोपाल. मल्टी नेशनल कंपनी में काम करने वाले भेल क्षेत्र के 26 वर्षीय रंजीत कुमार झा को पुराने पोस्ट कार्ड सहेजकर रखने के अनोखे शौक ने खासी पहचान दिलाई है। एक बार उन्हें अपने दादाजी से पुराना पोस्ट कार्ड मिला तो उसे अमूल्य भेंट मानकर संभाल कर रखा। इसके बाद कुछ और कार्ड उनके हाथ लगे। फिर अचानक मन में आया कि क्यों न इन्हें संभाल कर रखा जाए। - इसके बाद रंजीत ने ऐसे लोगों से संपर्क साधना शुरू किया, जिनके पास पुराने पोस्ट कार्ड रखे थे। संयोग से कुछ पुराने लोग उन्हें मिले तो रंजीत ने उनसे कार्ड लेकर...
March 11, 03:25 AM

स्कूल स्टूडेंट्स को दी ट्रैफिक नियमों की जानकारी, पुलिस ने आर्गनाइज की वर्कशॉप

स्कूल स्टूडेंट्स को दी ट्रैफिक नियमों की जानकारी, पुलिस ने आर्गनाइज की वर्कशॉप
भोपाल.कक्षा 9 से लेकर 12 तक के विद्यार्थियों को सुरक्षित तरीके से वाहन चलाने के तरीके सिखाने के लिए सिक्युरिटी लाइन गोविंदपुरा स्थित हेमा उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के परिसर में एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। ट्रैफिक पुलिस द्वारा इस कार्यशाला का आयोजन छात्रों को सड़क दुर्घटना से बचने के लिए ट्रैफिक नियमों के पालन हेतु जागरूक करने के उद्देश्य से किया गया। इस मौके पर यातायात निरीक्षक पीके तिवारी ने विद्यार्थियों को सलाह दी कि दुर्घटना से बचने के लिए ट्रैफिक सिग्नल का पालन अवश्य करना...
March 4, 09:52 AM
पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

* किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.