भेल भास्कर

  • देखिये ट्रेनडिंग न्यूज़ अलर्टस
Home >> Madhya Pradesh >> Bhopal >> Bhel Bhaskar

Bhopal News

  • जिस झील को थी टूरिस्ट स्पॉट बनाने का प्लान, वहां धुल रहे हॉस्पिटल के कपड़े
    भोपाल. भेल टाउनशिप की जिस झील को तीन साल पहले पर्यटन स्थल के रूप में तैयार करने की योजना नगर निगम ने बनाकर पर्यटन केंद्र के पास भेजी थी, उसमें आज अस्पताल और टेंट हाउस के कपड़े धुल रहे हैं। झील में पिपलानी झुग्गी बस्ती का सीवेज भी मिल रहा है। तीन साल पहले इस झील के किनारे पाथ-वे भी बना था, जिससे मॉर्निंग वॉक करने लोग आया करते थे। कार्रवाई होगी भेल एजीएम एसबी सिंह के मुताबिक,सारंगपाणि झील को सुरक्षित करने के साथ ही कपड़े धोने पर रोक लगी हुई है। अगर वहां कपड़े धुल रहे हैं या पर्यटन को नुकसान पहुंचाने...
    March 18, 10:46 PM
  • लेडी सीए ने कुछ नया करने सीखी कार ड्राइविंग, रैली में हिस्सा लेकर जीते कई अवॉर्ड
    भोपाल.महिलाएं मजबूत और पक्के इरादों के साथ अगर आगे बढ़ती हैं, तो उनमें आत्मविश्वास बढ़ेगा। इसके लिए सिर्फ पढ़ाई या ऊंचे ओहदे पर पहुंचना जरूरी नहीं होता। अच्छी पढ़ाई और अच्छा करियर बनाने के साथ कुछ नया भी करना होगा। इसी उद्देश्य को लेकर न्यू मार्केट टीटी नगर में रहने वालीं चित्रा मनवानी ने पांच साल पहले कार ड्राइविंग सीखी और कार रैली में भाग लेना शुरू किया। चित्रा मनवानी के अनुसार सीए बनने से पहले ही उनके मन में इच्छा थी कि कुछ ऐसा किया जाए, जिससे आत्मविश्वास बढ़े। इस बारे में अपने पति हरीश मनवानी...
    March 18, 10:27 PM
  • अशिक्षित मां ने की बच्चों को पढ़ाने की जिद, आज सभी बच्चे हैं पीएचडी
    भोपाल.नवाबी दौर में लड़कियों की पढ़ाई-लिखाई तो दूर उनके घर से निकलने पर भी तमाम पाबंदियां हुआ करती थीं। ऐसे में अशिक्षित सैय्यदा बेगम ने रूढ़ीवादी सोच को दरकिनार करते हुए अपनी पांच बेटियों और इकलौते बेटे को बराबरी से शिक्षा दिलाई। उनके बच्चे आज न केवल शिक्षित हैं बल्कि वे सभी पीएचडी होल्डर हैं। 90 साल की हो चुकीं सैय्यदा बेगम कहती हैं कि मेरे पति फतेह अली उस दौर में नवाब के सेकेट्री हुआ करते थे। वे अक्सर देश-विदेश में टूर पर ही रहा करते थे। उनकी ख्वाहिश थी कि उनके बच्चे पढ़ लिखकर खूब नाम रोशन...
    March 18, 08:40 AM
  • इनके पास हैं 55 से भी ज्यादा प्रजाति के बोनसाई, पारंपरिक तरीकों से ही किए डेवलप
    भोपाल.बोनसाई के शौकीन लोगों के घरों में अमूमन दर्जनभर से ज्यादा प्लांट्स भी नहीं मिलते हैं, लेकिन बागवानी में रुचि रखने वाली ई-1 अरेरा कॉलोनी की विनीता गुप्ता के घर में हैं 55 से भी अधिक प्रजाति के बोनसाई प्लांट्स। - बोनसाई प्लांट्स को डेवलप करने के लिए आमतौर पर लोग कॉपर के तारों का उपयोग करते हैं, लेकिन सुनीता ने इन्हें विकसित करने के लिए कटाई छटाईं के जरिए विकसित करने का पुराना तरीका अपनाया। -इससे उन्हें पौधों को मनचाहा आकार देने में आसानी हुई। बाद में यही उनके पौधों की पहचान बनी। बीते 14 साल...
    March 11, 10:04 AM
  • स्कूल में मनाया गया साइंस डे, स्टूडेंट्स ने जाना चमत्कारों के पीछे का सच
    भोपाल. पिछले दिनों छात्र-छात्राओं को विज्ञान दिवस के मौके पर उन चमत्कारों के पीछे का विज्ञान बताया गया, जिसके बारे में वह अभी तक जानते ही नहीं थे। बच्चों में उत्सुकता थी कि पीला रंग लाल रंग में और लाल रंग पीले रंग में कैसे तब्दील हो गया। एक लौटे में सभी नदियों का पानी कैसे आ गया। बच्चों की यह बातें उस समय सुनने को मिलीं, जब उन्हें इसके पीछे के विज्ञान को समझाया जा रहा था। - शासकीय ज्ञानोदय आवासीय विद्यालय में आयोजित विज्ञान दिवस पर विशेषज्ञों ने सभी चमत्कारों की बताई सच्चाई। -यह आयोजन मध्य...
    March 11, 04:00 AM
  • इनके पास है 1926 का 90 साल पुराना पोस्टकार्ड, कलेक्शन में हैंं हजारों कार्ड्स
    भोपाल. मल्टी नेशनल कंपनी में काम करने वाले भेल क्षेत्र के 26 वर्षीय रंजीत कुमार झा को पुराने पोस्ट कार्ड सहेजकर रखने के अनोखे शौक ने खासी पहचान दिलाई है। एक बार उन्हें अपने दादाजी से पुराना पोस्ट कार्ड मिला तो उसे अमूल्य भेंट मानकर संभाल कर रखा। इसके बाद कुछ और कार्ड उनके हाथ लगे। फिर अचानक मन में आया कि क्यों न इन्हें संभाल कर रखा जाए। - इसके बाद रंजीत ने ऐसे लोगों से संपर्क साधना शुरू किया, जिनके पास पुराने पोस्ट कार्ड रखे थे। संयोग से कुछ पुराने लोग उन्हें मिले तो रंजीत ने उनसे कार्ड लेकर...
    March 11, 03:25 AM
  • स्कूल स्टूडेंट्स को दी ट्रैफिक नियमों की जानकारी, पुलिस ने आर्गनाइज की वर्कशॉप
    भोपाल.कक्षा 9 से लेकर 12 तक के विद्यार्थियों को सुरक्षित तरीके से वाहन चलाने के तरीके सिखाने के लिए सिक्युरिटी लाइन गोविंदपुरा स्थित हेमा उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के परिसर में एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। ट्रैफिक पुलिस द्वारा इस कार्यशाला का आयोजन छात्रों को सड़क दुर्घटना से बचने के लिए ट्रैफिक नियमों के पालन हेतु जागरूक करने के उद्देश्य से किया गया। इस मौके पर यातायात निरीक्षक पीके तिवारी ने विद्यार्थियों को सलाह दी कि दुर्घटना से बचने के लिए ट्रैफिक सिग्नल का पालन अवश्य करना...
    March 4, 09:52 AM
  • इंजीनियरिंग स्टूडेंट का अनोखा कार्ड्स कलेक्शन, बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में है नाम
    भोपाल.राजधानी में अलग-अलग तरह के सामानों का कलेक्शन करना कई लोगों का शौक है, लेकिन सिविल इंजीनियरिंग में थर्ड ईयर की छात्रा आरूषी श्रीवास्तव ने शादी के कार्ड कलेक्शन में कई रिकॉर्ड बनाए हैं। अब तक 7500 अलग-अलग प्रकार के कार्ड्स कलेक्ट कर चुकीं आरूषी के पास एक कार्ड ऐसा भी है जो 25 पेज की किताब के आकार का है। इसके अलावा एक टेबलाइट अखबार जितना बड़ा कार्ड भी है। आरूषी कहती हैं कि बचपन में हमारे घर शादी के कार्ड आया करते थे, जिन पर भगवान के सुंदर फोटो होते थे, लेकिन ये कार्ड या तो रद्दी वाले को बेच दिए...
    March 4, 09:37 AM
  • इंटरनेशनल प्लेयर को है ओलिंपिक नहीं खेलने का गम,मैच खेलने टाल दी थी शादी
    भोपाल.1957 में स्कूल नेशनल चैंपियनशिप से हॉकी की शुरुआत करने वाले शरीफउद्दीन ने 16 साल के करियर में भोपाल टीम के अलावा मोहन बगान और बंगाल की टीम से भी हॉकी खेली है। जहांगीराबाद निवासी 73 वर्षीय शरीफउद्दीन को 1963 में बंगाल में बेस्ट प्लेयर के अवॉर्ड से नवाजा था। शरीफउद्दीन कहते हैं कि उन्हें हॉकी पिता मुईनउद्दीन से विरासत में मिली थी। वे कहते हैं कि आेलंपिक में न खेल पाने का मलाल दिल में आज भी है। बंगाल हॉकी एसोसिएशन ने 1963 में शरीफउद्दीन को उन्हीं का पीतल से बना स्टेच्यू सम्मान स्वरूप भेंट किया था।...
    February 25, 05:26 AM
  • शहर में खास दुकान में बनती है उड़द की दाल की अंगूर के साइज की बूंदी
    भोपाल.सामान्यत: शादी-ब्याह के अवसर पर पंगत में परोसी जाने वाली नुक्ती (बूंदी) भेल के स्वीट्स कॉर्नर पर मिठाई के तौर पर खासी पसंद की जाती है। यहां जो बूंदी बनती है वह बेसन से नहीं, बल्कि उड़द की दाल से तैयार की जाती है और साइज भी अंगूर के दाने जितना बड़ा होता है। इंद्रपुरी की बजरंग डेयरी के संचालक नरेंद्र बजाज का कहना है कि 60 साल पहले मेरे दादाजी डीबी बजाज ने इसका चलन शुरू किया था। - नरेंद्र ने बताया कि दादाजी ने मिठाई को चर्चा में लाने के लिए इमरती के घोल में उड़द की दाल से बूंदी बनाना शुरू किया था।...
    February 25, 05:25 AM
  • मेडिकल बेनिफिट पर भेल में हुई चर्चा, विरोध कर रही यूनियनों में आपसी टकराव
    भोपाल.भेल प्रबंधन द्वारा रिटायरमेंट के बाद कर्मचारी और अधिकारियों के इलाज के लिए वेतन से पैसे काटे जाने के बाद मंगलवार को भेल कॉर्पोरेट के एचआर डारेक्टर डी बंदोपाध्याय ने वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के जरिए प्रतिनिधि यूनियनों से इस मुद्दे पर चर्चा की। इसके बाद प्रबंधन के निर्णय का विरोध कर रही यूनियनों में आपस में ही टकराव शुरू हो गया। - जहां प्रतिनिधि यूनियन प्रबंधन के समर्थन में है, वहीं कर्मचारी ट्रेड यूनियन (केटीयू) और हैवी इलेक्ट्रिकल मजदूर ट्रेड यूनियन(एचएमएस) अभी भी प्रबंधन के निर्णय...
    February 25, 03:04 AM
  • फिल्मी सितारों को खत लिखे तो उन्होंने भी भेजे जवाब, आज भी संभाल कर रखे
    भोपाल.फिल्मी सितारों के लिए फैंस की दीवानगी के किस्से तो आपने खूब पढ़े-सुने होंगे, लेकिन 73 वर्षीय नसीम अहमद 21वीं सदी के फैंस से काफी जुदा हैं। वो इसलिए कि 60 से 70 के दशक में नसीम अपने चहते सुपर स्टार्स को लेटर्स लिखा करती थीं, तो सिल्वर स्क्रीन के वे सितारे भी हाथ से लिखे खत जवाब के रूप में नसीम को भेजते थे। नसीम और फिल्मी सितारों का ये संबंध सिर्फ खतों तक ही सीमित रहा क्योंकि वे कभी अपने चहेते कलाकारों से मुलाकात नहीं कर पाईं, लेकिन मुंबई में दूर से देखने का मौका जरूर उन्हें कई बार मिला। नसीम बताती हैं...
    February 19, 12:03 AM
  • रंग-बिरंगे गुलाबों की खुशबू से महक उठे बाग, खिल उठे 434 तरह के गुलाब
    भोपाल. भेल का जवाहर गुलाब उद्यान इन दिनों रंग-बिरंगे गुलाबों की खुशबू से महक रहा है। यहां लगभग 434 प्रजाति के गुलाब अपनी सुगंध बिरेख रहे है। आम तौर पर गुलाब दिसंबर मे खिल जाने चाहिए लेकिन इस बार गुलाब के पौधों की कटिंग देर से किए जाने के कारणचारों तरफ बिखरे रंग। - दिसंबर में गुलाब नहीं खिल सके। इस कारण हर वर्ष गुलाब प्रतियोगिता में पहले स्थान पर रहने वाला जवाहर गुलाब उद्यान दूसरे स्थान पर रहा था। -इस गुलाब उद्यान की सुंदरता देखने के लिए भेल क्षेत्र के अलावा बाहर से भी सैलानी आ रहे है।
    February 18, 11:44 PM
  • बच्ची सहेजकर रखती है एंटीक्स, कलेक्शन में है 100 साल पुरानी ये खास बोतल
    भोपाल.जहांगीराबाद में रहने वाली जुबिया सिद्दीकी के पास 100 साल पुरानी एक मेडिसिन बोतल है। ये बोतल जुबिया को उनके नाना मोहम्मद शमीम से मिली थी। इंग्लैंड में बनी इस बोतल का उपयोग खास तौर से एलोपैथिक दवा रखने के लिए किया जाता था। - जुबिया बताती हैं कि मुझे बचपन से ही पुराना सामान एकत्र करने का शौक रहा है। मैंने एक बार नाना के पास इस बोतल को देखा, तो उनसे इसे अपने संग्रह के लिए मांग लिया। -वे बताती हैं कि चीनी मिट्टी से बनी इस बोलत पर मेड इन इंग्लैड लिखा हुआ है। मेरे नाना को ये बोतल उनके ससुर स्व....
    February 18, 11:34 PM
  • 39 साल से कर रहे माचिस कलेक्शन, जुटाए 1100 से ज्यादा माचिसों के कवर
    भोपाल.बचपन में रंग बिरंगी चीजें सबको आकर्षित करती हैं, लेकिन कुछ ही लोग ऐसे होते हैं जो यह सोच पाते हैं कि इनकाे भी उपयोग में लाया जा सकता है। ऐसे हजारों लोगों में से एक शख्स हैं बरखेड़ा निवासी रामगोपाल ठाकुर, जिन्होंने महज 15 साल की उम्र से ही माचिस के रंग बिरंगे डिब्बे देखकर उनका कलेक्शन करना शुरू कर दिया। आज उनको मैच बॉक्स किंग के नाम जाना जाता है। 1100 से अधिक माचिस के कवर का संग्रह कर चुके रामगोपाल ने एक नया इतिहास रच दिया है। वर्ष 1977 से रामगोपाल माचिस के कवर का संग्रह करते आ रहे हैं हालांकि, यह...
    February 11, 10:23 AM
  • बुलेट से तय किया गोवा तक का सफर, लोगों को प्यार का पाठ पढ़ाना ही मकसद
    भोपाल. शहर के तीन युवाओं ने लोगों को देशप्रेम और सांप्रदायिक सद्भावना का संदेश देने के लिए भोपाल से गोवा तक की एक अनूठी यात्रा की। बुरहान उद्दीन, सुनील विश्वास और हैदर हाशमी ओल्ड मॉडल रॉयल एनफील्ड से 26 जनवरी को भोपाल से निकले थे भाईचारे संदेश देने। तीनों ने यह यात्रा ढाई दिन में पूरी की। इस दौरान तीनों दोस्त शहर-शहर रुककर लाेगों को एकता पाठ पढ़ाते रहे। इस्लाम सिर्फ अमन का संदेश देता है -तीनों के इस हौसले को मालेगांव और शिर्डी में खूब वाहवाही मिली। वहां लोगों ने इनकी जमकर आवभगत की। इसके बाद...
    February 11, 10:00 AM
  • VRS के लिए भेल ने जारी किया सर्कुलर, इच्छा से रिटायरमेंट ले सकेंगे एम्पलॉई
    भोपाल. भेल मैनेजमेंट ने कर्मचारियों के लिए तीसरी वीआरएस योजना लागू की है। इस योजना के तहत वह कर्मचारी अपनी इच्छा से रिटायरमेंट ले सकते हैं, जो 55 साल की उम्र पूरी कर चुके हैं। मैनेजमेंट द्वारा जारी सर्कुलर के अनुसार वीआरएस लेने के इच्छुक कर्मचारियों को अगले पांच साल का कोई लाभ नहीं मिलेगा। युवा इंटक सर्कुलर का विरोध करते हुए कहा है कि कोई भी कर्मचारी वीआरएस नहीं लेगा। सामान्य है वीआरएस स्पोकर्सन भेल विनोदानंद झाके मुताबिक, वीआरएस का सर्कुलर कार्पोरेट कार्यालय ने जारी किया है। यह समान्य...
    February 11, 01:59 AM
  • इस कॉलोनी के पेश की मिसाल, यहां सभी सफाई को मानते हैं अपनी जिम्मेदारी
    भोपाल. वार्ड 84 स्थित सेवाय सावन कॉलोनी में हर नागरिक सफाई को अपनी नैतिक जिम्मेदारी मानता है। कॉलोनी के लोग एप्रोच राेड पर न कागज का टुकड़ा फेंकते हैं और न टॉफी की का रेपर। यदि गलती से किसी बाहरी व्यक्ति ने कागज फेंक भी दिया तो कॉलोनी का कोई भी रहवासी इसे अपनी नैतिक जिम्मेदारी मानकर उसे डस्टबिन में फेंक देता है। रहवासी और डेवलपमेंट टीम रखती है कॉलोनी की सफाई का ध्यान - कॉलोनी में न तो ननि के कर्मचारी सफाई करने आते हैं और न ही गार्डन मेंटेन करते हैं। इसके बावजूद पूरी कॉलोनी में हरे-भरे वृक्ष...
    February 6, 08:23 PM
  • बंद हाे चुकी यज़दी के लिए ऐसी दीवानगी, शौकीनों ने बना लिया अपना क्लब
    भोपाल.भारत में भले ही 70 के दशक की जावा बाइक का निर्माण बंद हुए दो दशक बीत चुके हैं, लेकिन भोपाल के कुछ युवाओं के लिए आज भी जावा मोटरसाइकिल सिर्फ एक बाइक नहीं बल्कि जिंदगी का एक हिस्सा है। 250 सीसी टू स्ट्रोक और दो साइलेंसर वाली इस अनूठी बाइक जावा-यज़दी के शौकीन ऐसे हैं, जिन्होंने भोपाल में इसका एक क्लब बना रखा है। - भोपाल जावा-यज़दी क्लब के नाम से मशहूर इस क्लब के मेंबर अपनी-अपनी बाइक के साथ संडे के दिन राजधानी की सड़कों पर निकलते हैं और यज़दी के प्रति अपनी दीवानगी बताने की कोशिश करते हैं। -क्लब के...
    February 4, 05:54 AM
  • बिना डिग्री के कबाड़ से बना देते हैं नई गाड़ी, मिल चुका है बेस्ट मैकेनिक अवॉर्ड
    भोपाल.विटेंज कार जहां से भी गुजरती है, वहां बस लोग इन्हें देखते ही रह जाते हैं। लोग कार की और कार चलाने वाले की तारीफ करते नहीं थकते, लेकिन असली तारीफ के हकदार इन कारों को रीस्टोर करने वाले वे मैकेनिक हैं, जो 80 साल पुरानी इन गाड़ियों में जान डालकर फिर से नया रूप देते हैं। न कोई डिग्री, न कोई पढ़ाई इसके बाद भी इन मैकेनिक्स में ऐसा हुनर कि देश के कोने-कोने से गाड़ियां सुधरने इनके पास आती हैं। यहीं नहीं किसी गाड़ी का पार्ट ना मिलने पर ये लोग खुद ही जुगाड़ से उस पार्ट को हूबहू बना लेते हैं। आज के वक्त में...
    February 4, 05:17 AM
पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

* किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.