सिटी BLOGGERS

 
सूरमा भोपाली का एक्सक्लूज़िव इंटरव्यू

By: अनुज खरे

सूरमा भोपाली फिर बुधवारा की गली के मोड़ पर मिल गए। उसी खास गली के मोड़ पर जहां वे फिल्मों में जाने से पहले ‘रहते थे’, मजमा जमाते थे। हालांकि अब हाल बदरंग है, लेकिन उनकी...
 
जज्बा बड़ी चीज़ है

By: सुनील मिश्र

प्रेम गुप्ता शहर के वरिष्ठ रंगकर्मी हैं। बच्चों का रंगकर्म करते हुए उनको तीन दशक से भी ज्यादा समय हुआ। आज वो समय है जब प्राय: रंगकर्मी बच्चों के साथ नाटक करते हैं,...
 
गुरुकुल,ध्रुपद संस्थान: विश्व का एक अनूठा केन्द्र

By: रमाकांत गुंदेचा

गुरुकुल,ध्रुपद संस्थान की स्थापना के पीछे एक लम्बी पृष्ठभूमि रही है। हम लोगों ने जिसध्रुपद केन्द्र में सीखा था, वह तत्कालीन संस्कृति सचिव तथा उस समय के सर्वाधिक सक्रिय...
 
जीने की इच्‍छा उनकी पीठ पर उगा पंख थी

By: गीत चतुर्वेदी

क़रीब डेढ़ साल पहले-शाम फ़ोन बजता है. उस तरफ़ एक कांपती हुई, लेकिन ओजस्‍वी बुज़ुर्ग आवाज़ है. उलाहने का आरोह है. 'तुम्‍हें आने की फ़ुरसत नहीं मिलती?' 'दादा, क़सम से. बहुत उलझा...
 
भोपाल में अभिव्यक्ति की दीर्घाएं

By: सुनील मिश्र

भोपाल शहर को इन दिनों देखो तो वह नजारों में खुलता और विस्तृत होता दिखाई देता है। शहर की सड़कें खूब चौड़ी कर दी गई हैं। एक सड़क के बगल में दूसरी वैसी ही सड़क बना दी गई है और...
 
विज्ञापन

बड़ी खबरें

 

रोचक खबरें

 

बॉलीवुड

 

जीवन मंत्र

 
 

क्रिकेट

 

बिज़नेस

 

जोक्स

 

पसंदीदा खबरें

 
 

फोटो फीचर