Home >> National >> Power Gallery
  • बुलेट प्रूफ मंच से परहेज
    पटना रैली में हुए बम धमाकों के बाद से नरेंद्र मोदी की सुरक्षा को चुनौती बहुत साफ नजर आने लगी है। हाल ही में पकड़े गए तमाम आतंकवादियों से भी इसी की पुष्टि हुई है। इसके बावजूद दिल्ली की रैली के लिए मोदी ने बुलेट प्रूफ मंच का प्रयोग करने से इनकार कर दिया। रैली शाम की थी और बुलेट प्रूफ मंच दिन में ही तैयार हो गया था। लेकिन जब मोदी ने इसका प्रयोग नहीं किया, तो पार्टी ने भी यह बात सार्वजनिक कर दी। फूलों से प्रेम 1 अप्रैल उर्फ ऑल फूल्स डे नेताओं के लिए किसी वेलैंटाइन डे से कम नहीं रहा। 1 अप्रैल के शुभ अवसर...
    April 7, 09:20 AM
  • हेडलाइन्स निर्वाचन क्षेत्र
    लोकसभा चुनाव हो ही रहे हैं। हमारा मानना है कि कम से कम दो, बल्कि तीन और निर्वाचन क्षेत्र होने चाहिए। एक हो - हेडलाइन्स निर्वाचन क्षेत्र। दूसरा हो टीआरपी निर्वाचन क्षेत्र। और तीसरा हो सोशल मीडिया निर्वाचन क्षेत्र। जैसे पार्टी और जनता के बीच मोदी भले ही काफी आगे निकल गए हों, लेकिन हेडलाइन्स सीट में उनकी आडवाणी के साथ अभी कांटे की टक्कर चल रही है। तीन राउंड हो चुके हैं, चौथा कभी भी शुरू हो सकता है। जब गोवा में मोदी को चुनाव अभियान समिति का प्रमुख बनाया गया था, तो आडवाणी ने पहले अपनी गैरहाजिरी और अगले...
    March 24, 10:16 AM
  • सेन्सिबल बात
    आपको एक सेन्सिबल बात बताते हैं। वो यह कि जिस बात का कोई सेन्स न बताया जाए, न समझ में आए, वो बात पहले सेन्सिबल होती है, फिर नॉन सेन्स होती है, और समाप्त होने के बाद फिर सेन्सिबल हो जाती है। जैसे सरकार दागी सांसदों को बचाने का अध्यादेश लाई। सरकार की समझ से यह सेन्सिबल कदम था। राहुल गांधी प्रेस क्लब में आए, बाहें चढ़ाईं और उन्होंने इसे नॉन सेन्स करार दे दिया। सरकार को यह सेन्सिबल बात समझ में आई, और उसने बिना कोई कारण बताए अध्यादेश वापस ले लिया। फिर राहुल गांधी के पसंदीदा अध्यादेश जारी करने की नौबत बनी।...
    March 10, 10:46 AM
  • ...समय बड़ा बलवान
    रहिमन नर का क्या बड़ा...। वही पुराने हथियार थे, वही पुराना निशाना था। लेकिन सब फेल। खबर ये है कि स्नूपगेट कहे जाने वाले मामले में राष्ट्रीय महिला आयोग ने नरेन्द्र मोदी को क्लीन चिट दे दी है और ये तब हुआ है, जब मोदी के खिलाफ गृह मंत्री के घोषित न्यायिक जांच आयोग की शोभा बढ़ाने के लिए सुप्रीम कोर्ट का कोई नया-पुराना जज अभी तक राजी नहीं हुआ है। मुफ्त हुए बदनाम! इस बार संसद में संसद तो संसद, राजनीति तक की जानी-मानी परम्पराएं धरी रह गईं। राजनीति का एक जाना-माना फंडा यह है कि जो भी राजनीति प्रसाद बैट-बॉल,...
    February 24, 09:30 AM
  • एडवांस तैयारी
    चुनावी समर तेज हो रहा है। बीजेपी के कुछ बड़े हथियार अभी आजमाए जाने बाकी हैं। इनमें से एक हैं डॉ. सुब्रह्मण्यम स्वामी। कांग्रेस भी स्वामी से निपटने के लिए पहले ही सक्रिय हो चुकी है। कांग्रेस के कैप्टन सतीश शर्मा और अपोलो हॉस्पिटल के चैयरमैन डॉ. प्रताप सी. रेड्डी 26 जनवरी को चर्चित तांत्रिक चंद्रास्वामी से मिले। एजेंडा सीधा सा था- चंद्रास्वामी डॉ. सुब्रह्मण्यम स्वामी पर अंकुश लगाएं। कम से कम निजी हमले करने से रोक लें। इस मुलाकात का क्या असर रहा, यह आने वाले कुछ दिनों में स्पष्ट हो जाएगा। एडवांस...
    February 10, 09:59 AM
  • ये मीडिया और वो दूरी
    येदियुरप्पा की भाजपा में वापसी से कर्नाटक में भाजपा को भले ही फायदा हो रहा हो, बाकी जगह उसे थोड़ी असहजता का सामना करना पड़ रहा है। हाल ही में जब येदियुरप्पा भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी और राष्ट्रीय परिषद की बैठकों के लिए दिल्ली आए, तो उनके बैठने की व्यवस्था मीडिया गैलरी से ठीक उल्टी तरफ ऐसे की गई कि उन्हें मीडिया का सामना न करना पड़े। पहली बार, बीजेपी ने मीडिया के लिए एक बैरिकैड लगवा दिया। बुरे फंसे मनीष तिवारी केजरीवाल के धरने से मची अफरा-तफरी का खामियाजा केन्द्रीय मंत्री मनीष तिवारी को...
    February 5, 05:14 PM
  • ताजा वाला ऐतिहासिक काम
    प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने एक और ऐतिहासिक काम कर डाला है। कहने का मतलब ये नहीं है कि उन्होंने इसके पहले जो काम किए थे, या वे आगे जो करेंगे, वे कम ऐतिहासिक हैं। नया वाला ऐतिहासिक काम ये है कि उन्होंने खुद प्रेस कांफ्रेंस करके अपना विदाई गीत पढ़ डाला है। देश के इतिहास में वे ऐसा करने वाले पहले प्रधानमंत्री बन गए हैं। वैसे भी इतिहास में कई बार उनका नाम कई अनूठी बातों के लिए दर्ज होना है। इस ऐतिहासिक प्रेस कांफ्रेंस में प्रधानमंत्री ने ये अपील करके फिर एक इतिहास रच डाला कि इतिहासकार उनके प्रति नरमी...
    January 14, 11:21 AM
  • ताजा वाला ऐतिहासिक काम और ...साहब की चौपाल!
    ताजा वाला ऐतिहासिक काम : प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने एक और ऐतिहासिक काम कर डाला है। कहने का मतलब ये नहीं है कि उन्होंने इसके पहले जो काम किए थे, या वे आगे जो करेंगे, वे कम ऐतिहासिक हैं। नया वाला ऐतिहासिक काम ये है कि उन्होंने खुद प्रेस कांफ्रेंस करके अपना विदाई गीत पढ़ डाला है। देश के इतिहास में वे ऐसा करने वाले पहले प्रधानमंत्री बन गए हैं। वैसे भी इतिहास में कई बार उनका नाम कई अनूठी बातों के लिए दर्ज होना है। इस ऐतिहासिक प्रेस कांफ्रेंस में प्रधानमंत्री ने ये अपील करके फिर एक इतिहास रच डाला कि...
    January 13, 12:05 PM
  • वक्त-वक्त की बात है
    अन्ना ने हमको सत्यव्रत बना दिया, वरना हम भी आदमी थे काम के। जब टूजी घोटाले पर जेपीसी बनी, तो उसके कांग्रेसी अध्यक्ष पी.सी. चाको के फैसलों, उनके कामकाज, उनकी स्टाइल, और जो भी कुछ उन्होंने किया या नहीं किया - सबकी कड़ी आलोचना अंतिम मौके तक होती रही। दूसरी तरफ लोकपाल बिल का मसौदा तैयार करने वाली सलेक्ट कमेटी के अध्यक्ष थे कांग्रेस के सत्यव्रत चतुर्वेदी। उधर अन्ना अनशन पर थे, इधर आम आदमी पार्टी का डर स्वाइन फ्लू बना जा रहा था, उधर संसद का सत्र चल रहा था और कोई पार्टी राजनीति के रांग साइड नजर आने के मूड में...
    December 30, 11:13 AM
  • मोदी स्टाइल
    क्या लिफाफे सचमुच बता देते हैं कि खत में क्या लिखा है? देखिए मोदी का, मोदी की दावेदारी का जमकर विरोध हुआ। पार्टी में भी और पार्टी के बाहर भी। लेकिन मोदी की लोकप्रियता और कार्यकर्ताओं के दबाव के आगे सबको शांत होना पड़ा। हम बात कर रहे थे लिफाफे की। पिछले लोकसभा चुनाव में जब आडवाणी भाजपा की ओर से पीएम पद के दावेदार थे, तब कार्यक्रमों का तालमेल बैठाने वाला वॉर रूम उनके बेहद नजदीकी अनंत कुमार के बंगले में बना था। अब दावेदार मोदी हैं। और उनके लिए वॉर रूम पार्टी कार्यालय में बनाया जा रहा है। नया...
    December 30, 11:11 AM
  • फिर लौटा अमर प्रेम!
    राज बब्बर और अमर सिंह की दोस्ती पुरानी है। यानि कि पुरानी थी। फिर दोनों में अनबन हो गई थी। अब अमर सिंह की एक पार्टी में राज बब्बर भी पहुंचे। क्या माना जाए? अमर सिंह के फिर दिन बदल रहे हैं या ये कैश फॉर वोट मामले में मिली क्लीन चिट का कमाल है? सफल रिपोर्ट टूजी मामले पर फायदा रेलवे को भी हुआ है। वो भी एकदम सॉलिड। थोड़ी तरी और दाल का भी। हम बताते हैं कैसे। हुआ यह कि टूजी मामले पर जेपीसी की सफलता के जश्न पर संसद की एनेक्सी में पार्टी का आयोजन किया गया। संसद में खान-पान का ठेका रेलवे की कैटरिंग सर्विस के...
    December 30, 11:10 AM
  • मन्ना डे के मुरीद पीएम
    महान पार्श्वगायक मन्ना डे के निधन से कई संगीतप्रेमियों को भारी दुख पहुंचा था। हम आपको एक भीतर की बात बताते हैं। मन्ना डे के निधन से दुखी होने वालों में खुद प्रधानमंत्री भी शामिल हैं। जब मन्ना डे के अवसान की खबर आई, उस समय प्रधानमंत्री चीन में थे। पता चला है कि अपने पसंदीदा गायक के निधन की खबर से प्रधानमंत्री काफी विचलित हो गए थे। मन्ना डे का गाया लागा चुनरी में दाग गीत प्रधानमंत्री का पसंदीदा गीत है। सही समय, सही स्थान, सही संगति! गलत समय पर, गलत स्थान पर और गलत लोगों की संगति भारी गलती साबित हो...
    December 16, 10:49 AM
Ad Link
 
विज्ञापन
 
 
 
 

बड़ी खबरें

 
 
 
 

रोचक खबरें

विज्ञापन
 

बॉलीवुड

 
 

जीवन मंत्र

 
 

स्पोर्ट्स

 

बिज़नेस

 

जोक्स

 

पसंदीदा खबरें