• देखिये ट्रेनडिंग न्यूज़ अलर्टस

अभिनव बिंद्रा

  • अनिल कपूर और हर्षवर्धन कपूर ऑनस्क्रीन प्ले करेंगे बाप-बेटे का रोल
    Last Updated: March 17 2017, 09:45 AM

    मुंबई। अनिल कपूर और हर्षवर्धन कपूर जल्द ही ऑनस्क्रीन बाप-बेटे का रोल प्ले करते हुए नजर आएंगे। सोर्स की मानें तो कनन अय्यर के डायरेक्शन में बन रही अभिनव बिंद्रा की बायोपिक में ये दोनों स्क्रीन शेयर करेंगे। हर्ष इसमें ओलिंपिक शूटर का किरदार निभाएंगे और अनिल अभिनव के पिता एएस बिंद्रा का, जो चंडीगढ़ बेस्ड इंडस्ट्रियलिस्ट हैं। अभिनव की तरफ से इस फिल्म को ग्रीन सिग्नल मिल गया है। गौरतलब है कि कनन अय्यर ने फिल्म एक थी डायन को पहली बार डायरेक्ट किया था।

  • शूटर अभिनव बिंद्रा ने लिया रिटायरमेंट, अब बिजनेस में उतरने की तैयारी की
    Last Updated: September 05 2016, 13:20 PM

    नई दिल्ली. ओलिंपिक गोल्ड मेडल चैम्पियन अभिनव बिंद्रा ने रविवार को आधिकारिक तौर पर निशानेबाजी से रिटायरमेंट लेने की घोषणा करते हुए अपनी भविष्य की योजनाओं का खुलासा किया। अब वे खेल विज्ञान; से संबंधित कारोबार करना चाहते है जिसमें फिटनेस और मेडिकल भी शामिल हैं। क्या बताया बिंद्रा ने... - बिंद्रा ने मीडिया वालों से कहा, अब आगे बढ़ने और युवा पीढ़ी को जिम्मेदारी सौंपने का समय है।; - बिंद्रा ने पत्रकारों से कहा, मैं बिजनेस से जुड़ा हूं, और कमाने की कोशिश कर रहा हूं ताकि भूखा ना रहूं। - मैं कुछ चीजों से जुड़ा हूं जो फिटनेस, मेडिकल फील्ड में कुछ करने से संबंधित हैं। मैं खेलों में हाई परफॉर्मेंस करने के क्षेत्र में भी कुछ करने की कोशिश कर रहा हूं।;

  • एक अवॉर्ड जीतने पर इनपर लुटाए गए थे करोड़ों, किसने दिया था कितना पैसा
    Last Updated: August 17 2016, 00:01 AM

    स्पोर्ट्स डेस्क. 2008 में ओलिंपिक गोल्ड जीतने वाले इंडियन शूटर अभिनव बिंद्रा रियो में सुपरफ्लॉप रहे। यदि आप ऐसा सोचते हैं कि भारत में कोई मैच या टूर्नामेंट जीतने पर सिर्फ क्रिकेटर्स ही मालामाल होते हैं तो ये गलत है। कम ही लोग जानते होंगे कि बीजिंग ओलिंपिक में मेडल जीतने पर अभिनव बिंद्रा पर भी पैसों की बारिश हुई थी। मिले थे 33.3 करोड़ रुपए... - बिंद्रा को सबसे ज्यादा अवॉर्ड मनी मित्तल कंपनीज ट्रस्ट ने दी थी। - ये ट्रस्ट शानदार परफॉर्म करने वाले इंडियन एथलीट्स को सपोर्ट करता है। - इसके फाउंडर इंडियन टेनिस स्टार महेश भूपति हैं। जबकि, ट्रस्ट के लिए फंडिंग बिजनेसमैन लक्ष्मी मित्तल करते हैं। - अभिनब बिंद्रा को इस ट्रस्ट ने 1.5 करोड़ रुपए अवॉर्ड मनी दी थी। - इसके अलावा उन्हें सेंट्रल और स्टेट गवर्नमेंट से करोड़ों रुपए मिले थे। - बिंद्रा को भारतीय क्रिकेट बोर्ड यानी बीसीसीआई ने भी करोडों की अवॉर्ड मनी दी थी। हीरो हुआ फ्लॉप - कभी देश के हीरो बने अभिनव बिंद्रा रियो ओलिंपिक में निशाने से चूक गए। - हालांकि, कहा गया कि फाइनल में वो अपनी फेवरेट राइफल से नहीं खेल सके, इसलिए ऐसा हुआ। - बिंद्रा को 2008 में अर्जुन अवॉर्ड 2001 में राजीव गांधी खेल रत्न अवॉर्ड मिल चुका है। - 2009 में उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। आगे की स्लाइड्स में जानें 2008 में ओलिंपिक गोल्ड मेडल जीतने पर अभिनव बिंद्रा को कहां से मिली थी कितनी प्राइज मनी...

  • ISSF शूटिंग वर्ल्ड कप में अभिनव बिंद्रा ने किया निराश, सातवें स्थान पर रहे
    Last Updated: June 24 2016, 10:09 AM

    बाकू (अजरबेजान). यहां चल रही आईएसएसएफ विश्वकप निशानेबाजी प्रतियोगिता में भारत के निशानेबाजों की परफॉर्मेंस बेहद बेकार रही है। ओलिंपिक गोल्ड मेडल विनर अभिनव बिंद्रा और लंदन ओलिंपिक के ब्रोंज मेडल विनर गगन नारंग तो 10 मीटर एयर राइफल के फाइनल में सातवें और छठे नंबर पर रहे। - गगन 123.1 अंक लेकर छठे और अभिनव 102.3 अंकों के साथ सातवें स्थान पर रहे। - वहीं पुरुषों की ट्रेप कॉम्पटीशन में कीनन चेनाई छठे, पृथ्वीराज टोंडईमैन 25वें और जोरावर सिंह संधू 27वें स्थान पर रहे। - महिला वर्ग में सीमा तोमार 21वें, शगुन चौधरी 22वें, राजेश्वरी कुमारी 26वें नंबर पर रहीं। - 10 मीटर एयर पिस्टल में हीना सिद्धू को 26वां, श्वेता सिंह को 39वां, अनीसा सैयद को 54वां स्थान मिला।

  • ओलिंपिक में एम्बेसडर विवाद पर सलमान बोले- मीडिया मुझे ही क्यों निशाना बनाता है?
    Last Updated: June 06 2016, 17:26 PM

    मुंबई. रियो ओलिंपिक के गुडविल एम्बेसडर बनाए जाने के विवाद पर पहली बार सलमान खान ने चुप्पी तोड़ी है। सलमान ने तल्ख लहजे में कहा- मेरे बाद जो गुडविल एम्बेसडर बनाए गए हैं वो हैं सचिन तेंडुलकर, एआर रहमान और अभिनव बिंद्रा...राइट! तो अब मैं मीडिया से पूछना चाहता हूं कि वह सबके साथ एक जैसा बर्ताव क्यों नहीं करता। ओलिंपिक इस साल अगस्त में ब्राजील के रियो डि जेनेरियो में होने वाला है। सलमान बोले-आखिर मीडिया सिर्फ मुझे ही क्यों क्रिटिसाइज करता है... - सलमान ने कहा, मीडिया सिर्फ मुझे ही क्रिटिसाइज करता है, जबकि दूसरे गुडविल एम्बेसडर के साथ ऐसा नहीं, क्यों? मीडिया आखिर सबको उतना ही कवरेज क्यों नहीं देता जितना कि मुझे। - क्या रहमान को स्पोर्ट्स पर्सन कहलाने के लिए स्टेट लेवल सर्टिफिकेट या फिर नेशनल लेवल के मेडल की जरूरत है। तो फिर आखिर मुझे ही निशाना क्यों बनाया जा रहा है? मेरे लिए देश ज्यादा इम्पॉर्टेंट - सलमान से जब उनके क्रिमिनल रिकॉर्ड के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, तो क्या यह मुद्दा केवल मेरे लिए ही है। यहां कई ऐसे पॉलिटिशियन हैं, जिनके ऊपर कोर्ट केसेस चल रहे हैं। - देश ज्यादा इम्पॉर्टेंट है या ओलिंपिक? मेरे लिए देश ज्यादा इम्पॉर्टेंट है। मैं अपनी गुडविल एम्बेसडर की पोस्ट छोड़ने के लिए तैयार हूं, लेकिन इस शर्त पर कि उन पॉलिटिशियन को भी अपनी कुर्सी छोड़नी होगी। - यहां एक दो नहीं बल्कि सैकड़ों पॉलिटिशियन हैं, जिनके उपर भ्रष्टाचार, घोटालों और रेप के केस चल रहे हैं, लेकिन फिर भी वो बाहर हैं। सलमान के नाम पर क्यों है विवाद, किसने उठाया था मुद्दा - इंडियन ओलिंपिक एसोसिएशन (आईओए) ने सलमान को अगस्त में होने वाले रियो ओलिंपिक के लिए इंडियन टीम का गुडविल एम्बेसडर बनाया है। - मिल्खा सिंह और रेसलर योगेश्वर दत्त सहित कई लोगों ने आईओए के इस फैसले पर नाराजगी जाहिर की थी। - सबसे पहले पहलवान योगेश्वर दत्त ने ट्वीट कर कहा था- एम्बेसडर का क्या काम होता है, यह कोई मुझे बता सकता है क्या? क्यूं पागल बना रहे हो देश की जनता को। - वहीं, पूर्व हॉकी खिलाड़ी और सांसद दिलीप टर्की ने कहा था कि सलमान को ब्रांड एम्बेसडर बनाया जाना अच्छा है पर अगर किसी खिलाड़ी को बनाते तो ज्यादा अच्छा होता। - मिल्खा सिंह ने ट्वीट कहा था- अगर एक एम्बेसडर भेजने की जरूरत है तो मुझे लगता है कि पीटी ऊषा, राज्यवर्धन सिंह राठौड़, अजीत पाल सिंह बेटर च्वॉइस हो सकते हैं। IOA को स्पोर्ट्स इवेंट के लिए किसी बॉलीवुड पर्सन को एम्बेसडर नहीं बनाना चाहिए था। उनका फैसला गलत है।

  • रियो ओलिंपिक के लिए एथलीट्स को प्रेरित कर रहे हैं बिंद्रा, सबको भेजा लेटर
    Last Updated: May 10 2016, 13:35 PM

    नई दिल्ली. भारत के लिए एकमात्र ओलिंपिक गोल्ड मेडल जीतने वाले शूटर अभिनव बिंद्रा एथलीट्स को बूस्ट-अप करने की कोशिश में लग गए हैं। गौरतलब है कि उन्हें रियो ओलिंपिक के लिए गुडविल एंबेसडर बनाया गया है। बिंद्रा ने कहा है कि ओलिंपिक के लिये क्वालीफाई कर चुके एथलीट्स से संपर्क में हैं। - उन्होंने सभी एथलीट्स को पहले ही पूरा समर्थन व्यक्त किया था और अब प्रत्येक खिलाड़ी को पत्र भी लिखा है। - अभिनव बिंद्रा ने मंगलवार को जारी एक बयान में कहा कि वे ओलिंपिक के लिए गुडविल एंबेसडर बनकर सम्मानित महसूस कर रहे हैं। - बिंद्रा के अनुसार, ये मेरे लिए बड़ा सम्मान है। मैं अपने साथी खिलाड़ियों को प्रेरित करके बहुत खुश हूं जो रियो में देश का प्रतिनिधित्व करने जा रहे हैं। - गौरतलब है कि रियो ओलिंपिक के लिए बिंद्रा के अलावा बॉलीवुड एक्टर सलमान खान और पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर को भी गुडविल एंबेसडर बनाया गया है। - बिंद्रा के अनुसार, खिलाड़ियों के विकास के लिए काम करना और उन्हें प्रेरित करना मेरे लिए बहुत अहम है।

  • IOA की अदूरदर्शिता से उपजे सलमान विवाद का अंतत: पटाक्षेप
    Last Updated: May 01 2016, 09:34 AM

    अयाज मेमन की कलम से अंतत: अभिनव बिंद्रा को रियो आेलिंपिक के लिए गुडविल एंबेसडर नियुक्त कर दिया गया। इससे पहले बॉलीवुड स्टार सलमान खान को गुडविल एंबेसडर बनाए जाने से विरोध के स्वर उठने लगे थे। सलमान के पक्ष में भारतीय आेलिंपिक संघ (आईआेए) का तर्क है कि वे बॉलीवुड के सुपरस्टार हैं आैर युवा वर्ग के चहेते कलाकार हैं। अत: वे युवाआें को खेलों के प्रति आकर्षित करने में मददगार साबित होंगे। दूसरी आेर, ओलिंपिक स्वर्ण पदक विजेता शूटर अभिनव बिंद्रा के गुडविल एंबेसडर बनाए जाने से आलोचनाएं लगभग थम गई हैं। आईआेए अब अपनी भूल को सुधारते हुए सचिन तेंडुलकर आैर एआर रहमान को भी गुडविल एंबेसडर बनाने जा रहा है। अाखिर एक बॉलीवुड स्टार को क्यों गुडविल एंबेसडर बनाया गया। सलमान क्यों राजी हुए। ऐेसे प्रश्न उछलने लगे हैं । सलमान खान, जाहिर है उन्होंने सहमति देने की गलती की होगी लेकिन उनका इरादा तो शायद आईआेए के एजेंडे को आगे बढ़ाने का था। हां, यह जरूर कहा जा सकता है कि अगर किसी कलाकार के जरिए खेलों से युवाआें को जोड़ना ही है तो इसे एक बड़े खेल आयोजन के ठीक पहले तदर्थ तरीके से करने के बजाय लंबी अवधि की योजना के तहत करना चाहिए। मेरे ख्याल से सलमान को गुडविल एंबेसडर बनने का समर्थन करना चाहिए। कई बॉलीबुड स्टार (शाहरुख खान, जॉन अब्राहम, अभिषेक बच्चन,रणबीर कपूर आदि) हैं जो खेलों को बढ़ावा दे रहे हैं। सलमान का प्रयास भी उन सितारों जैसा ही है। सलमान का परिवार वैसे भी खेल जुनूनी है। इसलिए यह मान कर चलिए कि एक नेक इरादे से उन्होंने खेलों की आेर कदम बढ़ाया है। यदि आईआेए पहले स्पष्ट कर देता कि सिर्फ सलमान ही गुडविल एंबेसडर नहीं बनाए गए हैं, खेल जगत की हस्तियों को भी एंबेसडर बनाया जाएगा। तो आलोचनाएं पैदा ही नहीं होतीं। सलमान को गुडविल एंबेसडर बनाए जाने से खेल जगत दो भागों में बटी हुई है। उड़नसिख मिल्खा सिंह, योगेश्वर दत्त आैर अशोक कुमार ने इसे गलत ठहराया है तो साइना नेहवाल आैर एमसी मैरीकॉम ने इसका स्वागत किया है। मेरे ख्याल से सार्वजनिक क्षेत्र में एक दूसरे पर दांत पीसने से बेहतर है एक स्वस्थ बहस के माध्यम से इस विवाद का अंत हो। यह भी ध्यान रखना जरूरी है कि इस अनावश्यक विवाद के कारण हम अपने मूल उद्देश्य से कहीं भटक न जाए। ऐसा लगता है कि खेल जगत ने सलमान की नियुक्ति को खुले मन से नहीं स्वीकारा है। मैं इसके लिए खेल जगत को गलत नहीं मानता हूं। आेलिंपिक हर चार साल में आयोजित होता है। यही समय है जब वे सुर्खियां बटोर सकते हैं। वे क्यों चाहेंगे कि जिस त्याग व परिश्रम से उन्होंने उपलब्धियां हासिल की है उसे नजरअंदाज कर ऐसे सख्श को एंबेसडर बनाया जाए जिनका कि खेलों के सीधे कोई रिश्ता नहीं है। उम्मीद है कि आईआेए भविष्य में योजनाबद्ध तरीके से कदम बढ़ाएगा ताकि आेलिंपिक आंदोलन कमजोर न हो सके।

  • रियो अोलिंपिक के लिए जर्मनी में रहकर तैयारी करेंगे भारतीय शूटर अभिनव बिंद्रा
    Last Updated: January 26 2016, 12:39 PM

    कोलकाता. बीजिंग अोलिंपिक के 10 मीटर एयर राइफल के गोल्ड मेडल विजेता निशानेबाज अभिनव बिंद्रा ने कहा कि वे इस साल अगस्त में होने वाले रियो अोलिंपिक खेलों के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं। उन्हें उम्मीद है कि वे फिर से पदक जीतने में सफल रहेंगे। बिंद्रा ने कहा, मैं एक दो दिन में जर्मनी रवाना हो रहा हूं। मैं वहां प्रतियोगिता में हिस्सा लूंगा।; उन्होंने कहा कि जर्मनी में होने वाले टूर्नामेंट से उन्हें रियो के लिए तैयारियां करने में मदद मिलेगी। वे पिछले साल भी जर्मनी में ही अभ्यास के लिए गए थे। बिंद्रा पहले ही अपनी आत्मकथा लिख चुके हैं जिसका शीर्षक है ए शॉट एट हिस्ट्री: माई ऑबसेसिव जर्नी टु अोलंपिक गोल्ड; है।

Flicker