• देखिये ट्रेनडिंग न्यूज़ अलर्टस

आनंद महिंद्रा

अमिताभ, टाटा, महिंद्रा के साथ मिलकर महाराष्ट्र के 1000 गांवों की तस्वीर बदलेंगे CM

अमिताभ, टाटा, महिंद्रा के साथ मिलकर महाराष्ट्र के 1000 गांवों की तस्वीर बदलेंगे CM

Last Updated: August 26 2016, 09:05 AM

मुंबई. महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस 1000 गांवों की तस्वीर बदलना चाहते हैं। इसके लिए उन्होंने सोशल ट्रांसफॉर्मेशन मिशन स्कीम लॉन्च की है। स्कीम के रोडमैप पर चर्चा करने रतन टाटा, आनंद महिंद्रा, अरुंधती भट्टाचार्य, राजश्री बिड़ला, अनिल अंबानी ग्रुप के अफसर और अमिताभ बच्चन पहुंचे। बता दें कि महाराष्ट्र ऐसा पहला राज्य बन गया है जहां औपचारिक रूप से सरकार और कॉर्पोरेट्स मिलकर काम करेंगे। मकसद है 1000 गांवों का विकास... - सरकार की स्कीम का मकसद 1000 गांवों के विकास से राज्य का विकास तय करना है। गुरुवार को सरकार ने इस स्कीम का एलान किया। - स्कीम की स्ट्रैटजी और इम्प्लीमेंटेशन एक गवर्निंग काउंसिल की देखरेख में पूरा होगा जिसकी अगुआई खुद सीएम करेंगे। अमिताभ बच्चन को मिशन का एंबेसेडर बनाया गया है। - गांवों के डेवलपमेंट के लिए उनकी सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी के तहत कई कॉर्पोरेट्स घरानों को भी जोड़ा गया है। मकसद है गांवों में गरीबी कम करना, एग्रीकल्चर के लिए मदद करना, टेलिकॉम कनेक्टीविटी और हेल्थ सर्विसेज को और बेहतर बनाना। फड़णवीस ने क्या कहा? - फड़णवीस ने कहा, कॉर्पोरेट्स के पास प्रोफेशनल्स होने के अलावा टेक्नोलॉजी और कैपेसिटी बिल्डिंग स्किल्स हैं। ये गांवों के डेवलपमेंट के लिए काफी मददगार साबित होगा। - 1000 में से 25 फीसदी गांव आदिवासी इलाके हैं। हम चाहते हैं कि 2 अक्टूबर से 100 गांवों में काम शुरू हो जाए। - फड़णवीस ने ये भी कहा, सरकार और कॉर्पोरेट्स का 50-50% फंड रहेगा। कंपनियां अपने एक्सपर्टीज के हिसाब से मदद करेंगी। मसलन अनिल अंबानी ग्रुप गांवों में टेलिकॉम सर्विस देखेगी। आदित्य बिड़ला ग्रुप 300 गांवों को गोद लेगा। क्या बोले कॉर्पोरेट्स? - रतन टाटा ने कहा, टाटा ग्रुप इस इनीशिएटिव में शामिल होकर काफी खुश है। एक तरफ तेजी से इंडस्ट्रियलाइजेशन हो रहा है, लेकिन कई बार विकास से गांव छूट जाते हैं। उनका डेवलपमेंट भी जरूरी है। सीएम का ये इनीशिएटिव महाराष्ट्र को डेवलप करने में कारगर साबित होगा। - महिंद्रा एंड महिंद्रा के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने कहा, बदलाव लाने की ये पॉजिटिव सोच है। अगर ये प्रोजेक्ट कामयाब हो गया तो देश के सामने एक एग्जाम्पल पेश करेगा। - अमिताभ पहले से कई सरकारी प्रोग्राम एंडोर्स कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ये एक गजब का प्लान है। इस स्कीम में हेल्थ और एजुकेशन से जुड़ी कई चीजें हैं। अगर सब कुछ सही तरीके से हो पाया तो निश्चित ही बदलाव होगा।

भारत के महिंद्रा ने अमेरिका में लॉन्च किया दुनिया का पहला इंटरनेट स्कूटर

भारत के महिंद्रा ने अमेरिका में लॉन्च किया दुनिया का पहला इंटरनेट स्कूटर

Last Updated: January 21 2016, 11:27 AM

ऑटो डेस्क. महिंद्रा ने अमेरिकी बाज़ार में इंटरनेट से जुड़ा दुनिया का पहला स्कूटर GenZe 2.0 लॉन्च किया है। कैलिफोर्निया में इंटरनेशनल इलेक्ट्रानिक्स शो के दौरान इसे पेश किया गया। क्या होता है इंटरनेट स्कूटर... क्लाउड कम्प्यूटिंग से जुड़ा यह स्कूटर यूज़र को राइड से पहले सभी जरूरी बातें जैसे ट्रैफिक, मौसम की जानकारी उसके स्मार्टफोन पर ही दे देगा। स्कूटर का टच स्क्रीन पैनल टायर प्रेशर और बैटरी चार्जिंग स्टेटस शो करेगा। ये हैं खासियतें - 7 इंच क्रूज़ कनेक्ट टचस्क्रीन कंट्रोल पैनल - एक बार रिचार्ज होने पर 48.3 KM राइड - टचस्क्रीन पैनल - वज़न- 105 KG, पे-लोड कैपिसिटी-125 KG - कीमत- 2999 डॉलर (तकरीबन 2 लाख रुपए) - री-जेनेरेटिंग ब्रेकिंग सिस्टम सिलिकॉन वैली में तैयार कॉन्सेप्ट महिंद्रा ने इस क्लाउड सर्विस के लिए अमेरिका की ATT मल्टीनेशनल टेलीकम्युनिकेशन्स कॉरपोरेशन से समझौता किया है। कंपनी के चेयरमैन आनंद महिंद्रा के मुताबिक, जेनजे 2.0 पहला फुल इलेक्ट्रिक स्कूटर है। इस स्कूटर का कॉन्सेप्ट सिलीकॉन वैली में तैयार किया गया है। जबकि मिशिगन के एन आर्बर में इसे असेंबल किया गया है। कहीं भी रिचार्ज करना आसान जेनजे 2.0 में बदली जा सकने वाली लिथियम ऑयन बैटरी लगी है, जिसे किसी भी स्टैंडर्ड इलेक्ट्रिक आउटलेट पर रीचार्ज किया जा सकता है। स्कूटर एक बार रीचार्ज होने पर करीब 3.5 घंटे या लगभग 50 KM तक जा सकता है। सिंगल सीट+सामान रखने की जगह सिंगल सीटर इस स्कूटर में सामान रखने की जगह दी गई है। हालांकि इसे ज्यादा भारी सामान रखकर चलाना मुश्किल है। आगे की स्लाइड में- GenZe की PHOTOS

Flicker