• देखिये ट्रेनडिंग न्यूज़ अलर्टस

अंकिता शर्मा

  • टेलीवुड में सबसे ज्‍यादा होता है कास्‍टिंग काउच, इस एक्‍ट्रेस ने किया खुलासा
    Last Updated: October 14 2016, 16:39 PM

    आगरा. टीवी एक्ट्रेस अंकिता शर्मा ने टेलीविजन की दुनिया में कास्टिंग काउच की बात एक्सेप्ट करते हुए कहा, इससे बचने के लिए लड़कियों को हाथ में चप्पल रखनी चाहिए। मुझे एक बार किसी ने इस तरह परेशान करने की कोशिश की थी। मैंने उसे कॉफी शॉप में सबके सामने चप्पलों से धुना था और तब से आज तक किसी की हिम्मत नहीं हुई है। PAK की बड़ाई न करें आर्टिस्ट, तो वहां काट दी जाएगी उनकी फैमिली... - पाक आर्टिस्ट्स के एक सवाल पर अंकिता ने कहा, अगर पाक आर्टिस्ट नेशन फर्स्ट नहीं बोलेंगे तो पाकिस्तान में उनकी फैमिली को काट दिया जाएगा। - हम सीधे हैं, लेकिन वहां काट दिया जाता है। - कुछ भी हो एक एक्टर पहले इंसान होता है, ये सबको यह ध्यान रखना चाहिए। महिलाओं को ध्यान में रखकर बनाए जाते हैं सीरियल - टीवी की दुनिया में महिलाओं को ही नेगेटिव रोल मिलने और हमेशा महिला प्रधान सीरियल आने की बात पर अंकिता ने कहा, आजकल सीरियल यह सोचकर नहीं बनते कि उसे कितने लोग देखेंगे, बल्कि यह सोच कर बनता है की कितनी महिलाएं उसे देखेंगी। - कई बार पुरुष को ध्यान में रखकर सीरियल बने भी, लेकिन दो महीने में ही टीआरपी धड़ाम हो गई। - टीवी पर अश्लीलता और फूहड़ कहानियों के बारे में अंकिता ने कहा, जो होता है वही दिखाया जाता है। आजकल 60 फीसदी लोग तो ऐसे ही सीन देखना पसंद करते हैं। - यूथ ये सब पसंद करता है और ऐसे सीरियलों की टीआरपी इसका सबूत है। ऐसे में प्रोड्यूसर क्या कर सकता है। बिग बॉस के घर में जाना चाहती हैं अंकिता - सलमान की फैन अंकिता का फेवरेट शो बिग बॉस है और घर की मेंबर बनना चाहती हैं। - अंकिता ने कहा, आर्टिस्ट को जो खुशी अपने पोस्टर और फिल्म देखकर मिलती है वो कोई बयान नहीं कर सकता है। आगे की स्लाइड्स में अंकिता शर्मा की फोटोज...

  • देश के काम आ रही इस मेजर के बनाए कम्प्यूटर प्रोग्राम, विदेश से था जॉब ऑफर
    Last Updated: February 22 2016, 01:18 AM

    नवादा. बात छह साल पहले की है। अंकिता ने बीटेक की पढ़ाई पूरी कर ली थी। वह एमएस की पढ़ाई के लिए यूके जानेवाली थी। यूनिवर्सिटी में दाखिला भी हो चुका था। तभी अंकिता को आर्मी में लेफ्टिनेंट पद पर बुलावा आया। अंकिता की सफलता से मम्मी पापा काफी खुश थे, लेकिन बुआ बेहद नाराज थीं। बुआ नहीं चाहती थीं कि अंकिता फौज की नौकरी करे। बुआ का कहना था कि फौज की नौकरी के चलते उनके कर्नल भाई पर्व त्योहार में भी परिवार के साथ समय नहीं दे पाते थे। वह चाहती थीं कि अंकिता इंजीनियरिंग की नौकरी करे ताकि उसे बाद में कोई परेशानी न हो। लेकिन अंकिता फौज की नौकरी से प्रभावित थी। इसलिए वह डिग्री पूरा करने के बाद फौज में नौकरी के लिए आवेदन की थी। अंकिता ने आधे दर्जन कम्प्यूटर प्रोग्राम तैयार किया है, जिसका आर्मी देश की रक्षा के लिए इस्तेमाल कर रही है। 14 खराब टैंक की मरम्मत कर पिता ने पाई थी ख्याति अंकिता के पिता अजय कुमार कर्नल रहे हैं। वह पिता की नौकरी से काफी प्रेरित थी। लिहाजा, उसे भी फौज की नौकरी से लगाव था। दरअसल, 1990 में कर्नल अजय कुमार जब श्रीलंका से लौटे थे तब 14 टैंक खराब हो गए थे। रूस में अनिश्चितता की स्थिति थी। टैंक का कलपूर्जा का आयात नहीं हो पा रहा था। तब अजय ने अपनी टीम के साथ मेहनत कर खराब टैंक को दुरूस्त कर दिया। तब उनके रेजिमेंट को काफी ख्याति मिली थी। इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर की प्रतिनिधि नवादा जिले की अंकिता फौज में गहरी छाप छोड़ी है। अंकिता ने इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर डिविजन में दमदार उपस्थिति दर्ज कराई है। वह पूणे के बाद भटिंडा में इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर का प्रतिनिधित्व कर रही है। आठवीं में पंजाब की टाॅपर रही नवादा जिले के काशीचक प्रखंड के चंडीनावां गांव की अंकिता शर्मा की शिक्षा दीक्षा आर्मी स्कूल में हुआ। तीसरी कक्षा तक की झांसी स्थित बबीना आर्मी पब्लिक स्कूल से की। आठवीं की पढ़ाई पठानकोट आर्मी पब्लिक स्कूल से की। आठवीं में पंजाब की टाॅपर रही थी। तब तत्कालीन मंत्री मोहनलाल ने सम्मानित किया था।

Flicker