• देखिये ट्रेनडिंग न्यूज़ अलर्टस

अर्जुन सिंह

श्मशान में है ये प्रसिद्ध मंदिर, पांड़वों ने इस मन्नत के लिए की थी यहां पूजा

श्मशान में है ये प्रसिद्ध मंदिर, पांड़वों ने इस मन्नत के लिए की थी यहां पूजा

Last Updated: March 29 2017, 11:45 AM

इंदौर। नलखेड़ा स्थित विश्व प्रसिद्ध मां बगलामुखी मंदिर में बुधवार से चैत्र नवरात्रि महोत्सव की शुरू हुआ। सुबह 9 बजे परंपरागत तरीके से मंदिर में घट स्थापना की गई। इस मौके पर सुबह से ही भक्तों की भीड़ मंदिर में देखने को मिली। नवरात्र के मौके पर <a href='http://dainikbhskar.com'>dainikbhskar.com </a>बता रहे हैं मां बगुलामुखी मंदिर के बारे में... - तीन मुख वाली मां बगलामुखी का मंदिर मध्यप्रदेश के शाजापुर जिले के नलखेड़ा में लखुंदर नदी के किनारे स्थित है। - मान्यता है कि बगुलामुखी का यह मंदिर महाभारत के समय का है। मंदिर के पुजारी कैलाश नारायण के मुताबिक कृष्ण की प्रेरणा से पांड़वों ने यहां महाभारत के युद्ध में विजय प्राप्ति के लिए साधना की थी। - पहले इसे माताजी को देहरा के नाम से जाना जाता था। यहां पूजा में हल्दी और पीले रंग के पूजन सामग्री का विशेष महत्व है। - यह संभवत: अकेला मंदिर है जहां मां को पूजा में खड़ी हल्दी और हल्दी पाउडर चढ़ाया जाता है। त्रिशक्ति मां विराजित हैं मंदिर में - इस मंदिर में त्रिशक्ति मां विराजित है। ऐसी मान्यता है कि मध्य में मां बगलामुखी, दाएं मां लक्ष्मी तथा बाएं मां सरस्वती हैं। - त्रिशक्ति मां का मंदिर भारतवर्ष में दूसरा कहीं नहीं है। बेलपत्र, चंपा, सफेद, आंकडे, आंवले तथा नीम एवं पीपल (एकसाथ) स्थित हैं। - द्वापर युग के इस मंदिर में साधु-संत, तांत्रिक अनुष्ठान के लिए आते हैं। तंत्र साधना के लिए प्रसिद्ध है मां बगलामुखी - पं. कैलाश नारायण ने बताया मां बगलामुखी मंदिर में तंत्र साधना के लिए विशेष संयोग है। - मंदिर के चारों तरफ श्मशान व पास में ही नदी के कारण इसका महत्व और भी बढ़ गया है। - पश्चिम में ग्राम गुदरावन, पूर्व में कब्रिस्तान और दक्षिण में कच्चा श्मशान है। - उन्होंने बताया कि बगलामुखी तंत्र की देवी हैं, इसलिए यहां पर तांत्रिक अनुष्ठानों का महत्व अधिक है। - यह मंदिर इसलिए भी महत्व रखता है, क्योंकि यहां की मूर्ति स्वयंभू और जागृत है। यह है मां का स्वरूप - मां बगलामुखी में भगवान अर्धनारीश्वर महाशंभों के अलौलिक रूप का दर्शन मिलता है। भाल पर तीसरा नेत्र व मणिजडि़त मुकुट व चंद्र इस बात की पुष्टि करते हैं। - बगलामुखी को महारुद्र (मृत्युंजय शिव) की मूल शक्ति के रूप में माना जाता है। वैदिक शब्द बग्ला है उसका विकृत आगमोक्ता शब्द बगला अत मां बगलामुखी कहा जाता है। - भगवती बगला अष्टमी विद्या है। आराधना श्री काली, तारा तथा षोडशी का ही पूर्व क्रम है। सिद्ध-विद्या-त्रयी में पहला स्थान है। - मां बगलामुखी को रौद्र रूपिणी, स्तभिंनी, भ्रामरी, क्षोभिनी, मोहनी, संहारनी, द्राविनी, जिम्भिनी, पीतांबरा, देवी त्रिनेभी, विष्णुवनिता, विष्णु-शंकर भमिनी, रुद्रमूर्ति, रौद्राणी, नक्षत्ररूपा, नागेश्वरी, सौभाग्य-दायनी, सुत्र संहार, कारिणी सिद्ध रूपिणी, महारावन-हारिणी परमेश्वरी, परतंत्र, विनाशनी, पीत-वासना, पीत-पुष्प-प्रिया, पीतहारा, पीत-स्वरूपिणी, ब्रह्मरूपा कहा जाता है। कई हस्तियां मां दर पर टेक चुकी हैं माथा - मां के दरबार में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, उमा भारती, गिरिराज प्रसाद, अमर सिंह, जयाप्रदा तांत्रिक अनुष्ठान चुकी हैं। - इसके अलावा राजमाता विजयराजे सिंधिया, पूर्व मुख्यमंत्री स्व. अर्जुनसिंह सहित कई बड़े नेता यहां माथा ठेक चुके हैं। आगे की स्लाइड्स पर देखें स्मृति ईरानी, जयाप्रदा भी यहां टेक चुकी हैं माथा...

बीच किनारे यूं हनीमून एन्जॉय कर रहे हैं पॉलिटिशियन के पोते, देखें Photos

बीच किनारे यूं हनीमून एन्जॉय कर रहे हैं पॉलिटिशियन के पोते, देखें Photos

Last Updated: December 26 2016, 16:26 PM

एंटरटेनमेंट डेस्क: आएशा, ये साली जिंदगी, मोहनजो दाड़ो जैसी फिल्मों में अहम किरदार निभाने वाले एक्टर और पॉलिटिशियन अर्जुन सिंह के पोते <a href='http://bollywood.bhaskar.com/news/ENT-BNE-arunoday-singh-married-to-long-time-girlfriend-news-hindi-5481859-PHO.html'>अरुणोदय सिंह</a> इन दिनों हनीमून एन्जॉय करने में बिजी हैं। इसी साल 14 दिसंबर को भोपाल में शादी के बंधन में बंधने के बाद अरुणोदय अपनी पत्नी ली एल्टन के साथ सीक्रेट लोकेशन पर क्वालिटी टाइम स्पेंड कर रहे हैं। पत्नी के साथ फोटो शेयर करते हुए अरुणोदय ने लिखा, Merry Christmas. God bless us everyone!! (We are our own Christmas tree) ढाई साल से रिलेशनशिप में था कपल... अरुणोदय का फिल्मी करियर कुछ खास नहीं रहा। लेकिन उनकी लव-लाइफ काफी चर्चित रही। पिछले ढाई साल से वे कनाडा की रहने वाले ली एल्टन को डेट कर रहे थे। पेशे से गोवा स्थित Puffu केफे की मालिक ली मशहूर शेफ भी हैं। आगे की स्लाइड्स पर देखें, अरुणोदय-ली के हनीमून, शादी के चुनिंदा फोटोज...

शाही अंदाज में हुई रॉयल फैमिली के इस PRINCE की शादी, शेयर की तस्वीरें

शाही अंदाज में हुई रॉयल फैमिली के इस PRINCE की शादी, शेयर की तस्वीरें

Last Updated: December 17 2016, 10:07 AM

भोपाल। एमपी के फॉर्मर सीएम और कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में शुमार अर्जुन सिंह के पोते एक्टर अरुणोदय सिंह ने अपनी शाही शादी की कुछ तस्वीरें अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर किए हैं। इन खूबसूरत फोटो के साथ अरुणोदय ने Married the girl of my dreams, drove her home in an old Cadillac. Micdrop लिखा है। गुरुवार को भोपाल स्थित केरवा क्षेत्र में बने सिंह के फार्म हाऊस पर अरुणोदय की शादी का रिसेप्शन हुआ। अरुणोदय के पिता अजय सिंह चुरहट से एमएलए हैं और स्टेट असेंबली में अपोजीशन के लीडर रह चुके हैं। 15 नवंबर को शाही अंदाज में अरुणोदय ने अपने गर्लफ्रेंड ली से शादी की थी। शादी की दावत में बड़ी संख्या में पॉलिटिक्स और बॉलीवुड से जुड़ीं बड़ी हस्तियां शामिल हुई थी। इतना ही नहीं VVIP गेस्ट के लिए सीधी जिले के चुरहट में दो हेलीपैड बनाए गए थे। 50 हजार मेहमानों को दी गई थी दावत - एक्टर अरुणोदय सिंह की शादी और रिसेप्शन मध्य प्रदेश के सीधी जिले के चुरहट में मनाया गया था। - इस शाही समारोह में कुछ फिल्मी हस्तियों और राजनेताओं ने चार-चांद लगा दिए। - नवदंपति को आशीर्वाद देने के लिए राजनीतिक गलियारों की कई बड़ी हस्तियां पहुंची थी। -इनमें कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह सहित अन्य नेता शामिल थे। - चुरहट में मेहमाननवाजी के लिए बड़े और भव्य पंडाल सजाए गए थे। - रॉयल फैमिली की शाही शादी में 50 हजार मेहमानों के लिए दावत का इंतजाम किया गया था। - वीवीआईपी गेस्ट के लिए चुरहट में दो हेलीपैड बनाए गए थे। - अन्य गेस्टों के लिए खजुराहो, बनारस, डुमना एयरपोर्ट जबलपुर से आने के इंतजाम किए गए थे। रातों-रात बना दी गई थी अरुणोदय के घर तक सड़कें - अरुणोदय के परिवार की चुरहट में राजशाही रही है। इसे देखते हुए उनकी शादी का रिसेप्शन शाही अंदाज में किया गया। उनके घर जाने वाली सड़कें रातोंरात बना दी गई थी। - बता दें कि अरुणोदय ने पिछले दिनों कनाडा मूल की गोवा में रहने वाली ली एल्टन से शादी की हैं। - एल्टन गोवा के सबसे बड़े कैफे की मालिकन हैं। ये दोनों लंबे समय से लिवइन में थे। आगे की स्लाइड्स पर देखें तस्वीरें...

पॉलिटिशियन के पोते ने की विदेशी गर्लफ्रेंड से शादी, देखें Wedding Photos

पॉलिटिशियन के पोते ने की विदेशी गर्लफ्रेंड से शादी, देखें Wedding Photos

Last Updated: December 15 2016, 14:28 PM

भोपाल: आएशा, ये साली जिंदगी, मोहनजो दाड़ो जैसी फिल्मों में अहम किरदार निभाने वाले एक्टर और पॉलिटिशियन अर्जुन सिंह के पोते अरुणोदय सिंह ने शादी कर ली है। बुधवार को उन्होंने अपनी लॉन्ग टाइम गर्लफ्रेंड ली एल्टन के साथ सात फेरे लिए। भोपाल में हुई इस प्राइवेट सेरेमनी में अरुणोदय के क्लोज फ्रेंड्स साइरस साहूकार, गौरव कपूर, सारा जेन डियाज शामिल हुए थे। अरुणोदय-ली के अलावा उनके दोस्तों ने फेरे, रिसेप्शन, मेहंदी सेरेमनी की कई फोटोज पोस्ट की है। ढाई साल से रिलेशनशिप में था कपल... अरुणोदय का फिल्मी करियर कुछ खास नहीं रहा। लेकिन उनकी लव-लाइफ काफी चर्चित रही। पिछले ढाई साल से वे कनाडा की रहने वाले ली एल्टन को डेट कर रहे थे। पेशे से गोवा स्थित Puffu केफे की मालिक ली मशहूर शेफ भी हैं। आगे की स्लाइड्स पर देखें, अरुणोदय सिंह और ली एल्टन की शादी की Inside Photos...

रॉयल रिसेप्शन में पहुंचे राजनीति के दिग्गज, सेल्फी लेने के लिए लोगों में लगी होड़

रॉयल रिसेप्शन में पहुंचे राजनीति के दिग्गज, सेल्फी लेने के लिए लोगों में लगी होड़

Last Updated: November 14 2016, 15:21 PM

भोपाल। एक्टर अरुणोदय सिंह की शादी का रिसेप्शन रविवार को मध्य प्रदेश के सीधी जिले के चुरहट में हुआ। इस शाही समारोह में फिल्म हस्तियां तो नजर नहीं आईं, लेकिन राजनेताओं ने रिसेप्शन में चार चांद लगा दिए। नवदंपती को आशीर्वाद देने के लिए राजनीतिक गलियारों की कई बड़ी हस्तियां पहुंचीं। इनमें कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह सहित अन्य नेता शामिल थे। चुरहट में मेेहमाननवाजी के लिए बड़े और भव्य पंडाल सजाए गए हैं। अरुणोदय ने पिछले दिनों कनाडा मूल की गोवा में रहने वाली ली एल्टन से शादी की है। एल्टन गोवा के सबसे बड़े कैफे की मालिकन हैं। ये दोनों लंबे समय से लिव-इन रिलेशनशिप में थे। राजघराने से जुड़े अरुणोदय का हुआ रॉयल रिसेप्शन... - अरुणोदय के परिवार की चुरहट में राजशाही रही है। इसे देखते हुए उनकी शादी का रिसेप्शन शाही अंदाज में किया गया। - उनके घर जाने वाली सड़कें रातोंरात बना दी गई। गौरतलब है कि सनी लियोनी के साथ फिल्म जिस्म-2 में आने के बाद अरुणोदय बॉलीवुड में फेमस हुए थे। - अरुणोदय के दादा अर्जुन सिंह की गिनती कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं में होती रही है। वे मध्य प्रदेश के सीएम, पंजाब के राज्यपाल और केंद्रीय मंत्री भी रहे। उनके पिता अजय सिंह राहुल भैया एमपी विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रहे हैं। एक हजार रसोइयों ने बनाया खाना... - मप्र के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने अपने पारिवारिक मित्रों खासकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं को भव्य भोज दिया। - इसके लिए चुरहट के शिवराजपुर पैलेस के करीब दो एकड़ एरिया में दावत का इंतजाम किया गया था। - इसमें करीब 50 हजार से ज्यादा मेहमान शामिल हुए, जिनके लिए करीब एक हजार रसोइए ने विभिन्न और स्वादिष्ट पकवान बनाए। -14 नवंबर को सीधी और चुरहट की आम जनता के लिए रिसेप्शन रखा गया है। कोलकाता के कारीगरों ने बनाया खास पंडाल - इस भव्य समारोह को खास बनाने के लिए कुल 5 पंडाल बनाए गए हैं। इनमें से 4 पंडाल में वीवीआईपी गेस्ट के लिए खास इंतजाम थे और एक पंडाल में अरुणोदय एवं उनकी पत्नी थीं। - इन पंडालों में मेहमानों के बैठने और खाने की व्यवस्था की गई है। इन पंडालों को कोलकाता के बड़े कारीगरों ने सजाया हैं। - पंडाल को सजाने के लिए इलाहबाद से अलग-अलग तरह के फूल मंगवाए गए थे। कौन हैं अरुणोदय की दुल्हन - अरुणोदय ने कनाडा मूल की गोवा में रहने वाली ली एल्टन से शादी की है। एल्टन गोवा के सबसे बड़े कैफे की मालिकन हैं। - दोनों लंबे समय से लिव-इन में थे। अरुणोदय इससे पहले ये साली जिंदगी (2011) की शूटिंग के दौरान अदिति राव हैदरी के करीब आए थे। - हालांकि, जब अदिति ने अपनी रिलेशनशिप को लेकर अरुणोदय से कमिटमेंट चाहा, तो यह रिश्ता टूट गया था। एल्टन ने माना खुद को सबसे भाग्यशाली लड़की... - एल्टन ने हाल में अपने फेसबुक पर एक पोस्ट शेयर किया था। इसमें उन्होंने अरुणोदय के बारे में लिखा था, I am really the luckiest girl. ऐसे हैं अरुणोदय सिंह... स्वर्गीय अर्जुन सिंह के छोटे बेटे विधायक अजय सिंह के बड़े बेटे हैं अरुणोदय सिंह। अभी तक बॉलीवुड में उनके खाते में एक भी हिट फिल्म नहीं है। वे मिस्टर एक्स, जिस्म 2, उंगली, ये साली जिंदगी, मैं तेरा हीरो, एक बुरा आदमी सिकंदर जैसी फिल्मों में काम कर चुके हैं। हालिया रिलीज मोहनजो दाड़ो में भी वे नजर आए थे, लेकिन यह फिल्म भी पिट गई। विधानसभा में हुआ था हंगामा - अरुणोदय ने अब तक जिस तरह की फिल्मों में काम किया है, उससे उनकी छवि एक अलग तरह के स्टार की बन गई है। - उनकी एक फिल्म के एक सीन पर मध्य प्रदेश की विधानसभा में भारी हंगामा हुआ था। - करीब तीन साल पहले विधानसभा के शीतकालीन सत्र के दौरान कांग्रेस और भाजपा के सदस्यों के बीच तीखी बहस हो रही थी। - अरुणोदय के पिता विधायक राहुल सिंह ने कुछ ऐसा कहा, जिससे भाजपा के विधायक भड़क गए। इसके बाद मोर्चा संभाला मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने। - उन्होंने अजय सिंह के परिवार पर जुबानी हमला करते हुए कहा ये अजय सिंह मर्यादा की बात करते हैं। इनका बेटा अरुणोदय मुंबई में कैसी-कैसी फिल्मों में काम कर रहा है। - इसको देखकर ग्लानि होती है। (जिस फिल्म का जिक्र मध्य प्रदेश विधानसभा में हुआ था उसकी एक्ट्रेस सनी लियोनी थी।) काफी हंगामे के बाद विधानसभा के अध्यक्ष ने सदन की इस पूरी बहस को विलोपित करने के आदेश दिए थे। प्रभावशाली परिवार से ताल्लुक रखते हैं अरुणोदय - अरुणोदय के दादा और चुरहट रियासत के अर्जुन सिंह 9 जून 1980 से 10 मार्च 1985, 11 मार्च 1985 से 12 मार्च 1985 और फिर 14 फरवरी 1988 से 24 जनवरी 1989 तक मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे। - इसके बाद वे कई साल तक अलग-अलग पद पर भारत सरकार में मंत्री रहे। पंजाब के राज्यपाल रहे। - उनके साथ-साथ उनके परिवार के कई सदस्य भी राजनीति से लेकर बॉलीवुड तक से जुड़े हुए हैं। आगे की स्लाइड्स पर देखें फोटोज...

सनी लियोनी के साथ काम कर बने हीरो, इस विदेशी से कर रहे हैं रॉयल वेडिंग

सनी लियोनी के साथ काम कर बने हीरो, इस विदेशी से कर रहे हैं रॉयल वेडिंग

Last Updated: November 12 2016, 09:08 AM

भोपाल। एक्टर अरुणोदय सिंह की मैरिज के लिए मध्य प्रदेश के सीधी जिले के चुरहट में 13 नवंबर को होगी। इसकी तैयारियां शुरू हो गई हैं। यहां मेहमाननवाजी के लिए बड़े और भव्य पंडाल सजाए जा रहे हैं। अरुणोदय कनाडा मूल की गोवा में रहने वाली ली एल्टन से शादी करने जा रहे हैं। एल्टन गोवा के सबसे बड़े कैफे की मालिकन हैं। ये दोनों लंबे समय से live in में थे। 13 नवंबर को सुबह से ही विवाह की रस्में शुरू हो जाएगी। राजघराने से जुड़े अरुणोदय की होगी रॉयल वेडिंग... - अरुणोदय के परिवार की चुरहट में राजशाही रही है। इसे देखते हुए उनकी शादी शाही अंदाज में करने के सभी इंतजाम किए जा रहे हैं। - उनके घर जाने वाली सड़कें रातोंरात बन गई हैं। सनी लियोनी के साथ फिल्म जिस्म-2 में आने के बाद अरुणोदय बॉलीवुड में फेमस हुए थे। - अरुणोदय के दादा अर्जुन सिंह की गिनती कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं में होती रही है। वे मध्य प्रदेश के सीएम, पंजाब के राज्यपाल और केंद्रीय मंत्री भी रहे। उनके पिता अजय सिंह राहुल भैया एमपी विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रहे हैं। एक हजार रसोइयों का प्रबंध... मप्र के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने अपने पारिवारिक मित्रों खासकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं को भव्य भोज देने के लिए तैयारियां शुरू कर दी हैं। - इसके लिए चुरहट के शिवराजपुर पैलेस के करीब दो एकड़ एरिया में दावत का इंतजाम किया जा रहा है। - इसमें करीब 50 हजार मेहमानों को बुलाए जाने की संभावना है। करीब एक हजार रसोइये विभिन्न और स्वादिष्ट पकवान बनाएंगे। सर्किट हाऊस में ठहरेंगे मेहमान - शादी और रिसेप्शन में शामिल होने आ रहे मेहमान सीधी और चुरहट के सर्किट हाउस में रुकेंगे। - विवाह स्थल तक मेहमानों को ले जाने के लिए गाड़ियों की व्यवस्था की गई है। - विवाह स्थल पर प्रोजेक्टर और स्क्रीन भी लगाई जा ही है, ताकि अलग-अलग पंडाल में बैठे लोग विवाह की रस्मों को देख सके। कलकत्ता के कारीगर बना रहे हैं शादी और मेहमानों के लिए पंडाल - इस भव्य समारोह को खास बनाने के लिए कुल 5 पंडाल बनाए जा रहे हैं। इनमें से 4 पंडाल में वीवीआईपी गेस्ट के लिए खास इंतजाम होंगे और एक पंडाल में विवाह की रस्में होगी। - इन पंडालों में मेहमानों के बैठने और खाने की व्यवस्था की गई है। इन पंडालों को कलकत्ता के बड़े कारीगर बना और सजा रहे हैं। - पंडाल को सजाने के लिए इलाहबाद से अलग-अलग तरह के फूल मंगवाए गए हैं। कौन हैं अरुणोदय की होनी वाली दुल्हन - अरुणोदय कनाडा मूल की गोवा में रहने वाली ली एल्टन से शादी कर रहे हैं। एल्टन गोवा के सबसे बड़े कैफे की मालिकन हैं। - दोनों लंबे समय से लिव-इन में थे। अरुणोदय इससे पहले ये साली जिंदगी(2011) की शूटिंग के दौरान अदिति राव हैदरी के करीब आए थे। - हालांकि, जब अदिति ने अपनी रिलेशनशिप को लेकर अरुणोदय से कमिटमेंट चाहा, तो यह रिश्ता टूट गया था। एल्टन ने माना खुद को सबसे भाग्यशाली लड़की... - एल्टन ने हाल में अपने फेसबुक पर एक पोस्ट शेयर की थी। इसमें उन्होंने अरुणोदय के बारे में लिखा था, I am really the luckiest girl. ऐसे हैं अरुणोदय सिंह... स्वर्गीय अर्जुन सिंह के छोटे बेटे विधायक अजय सिंह के बड़े बेटे हैं अरुणोदय सिंह। अभी तक बॉलीवुड में उनके खाते में एक भी हिट फिल्म नहीं है। वे मिस्टर एक्स, जिस्म 2, उंगली, ये साली जिंदगी, मैं तेरा हीरो, एक बुरा आदमी सिकंदर जैसी फिल्मों में काम कर चुके हैं। हालिया रिलीज मोहनजो दाड़ो में भी वे नजर आए, लेकिन यह फिल्म भी पिट गई। विधानसभा में हुआ था हंगमा - अरुणोदय ने अब तक जिस तरह की फिल्मों में काम किया है, उससे उनकी छवि एक अलग तरह के स्टार की बन गई है। - उनकी एक फिल्म के एक सीन पर मध्य प्रदेश की विधानसभा में भारी हंगामा हुआ था। - करीब तीन साल पहले विघानसभा के शीतकालीन सत्र के दौरान कांग्रेस और भाजपा के सदस्यों के बीच तीखी बहस हो रही थी। - अरुणोदय के पिता विधायक राहुल सिंह ने कुछ ऐसा कहा जिससे भाजपा के विधायक भड़क गए। इसके बाद मोर्चा संभाला मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने। - उन्होंने अजय सिंह के परिवार पर जुबानी हमला करते हुए कहा ये अजय सिंह मर्यादा की बात करते हैं। इनका बेटा अरुणोदय मुंबई में कैसी-कैसी फिल्मों में काम कर रहा है। - इसको देखकर ग्लानि होती है। (जिस फिल्म का जिक्र मध्य प्रदेश विधानसभा में हुआ था उसकी एक्ट्रेस सनी लियोनी थी।) काफी हंगामे के बाद विधानसभा के अध्यक्ष ने सदन की इस पूरी बहस को विलोपित करने के आदेश दिए थे। प्रभावशाली परिवार से ताल्लुक रखते हैं अरुणोदय - अरुणोदय के दादा और चुरहट रियासत के अर्जुन सिंह 9 जून 1980 से 10 मार्च 1985, 11 मार्च 1985 से 12 मार्च 1985 और फिर 14 फरवरी 1988 से 24 जनवरी 1989 तक मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे। - इसके बाद वे कई साल तक अलग-अलग पद पर भारत सरकार में मंत्री रहे। पंजाब के राज्यपाल रहे। - उनके साथ-साथ उनके परिवार के कई सदस्य भी राजनीति से लेकर बॉलीवुड तक से जुड़े हुए हैं। आगे की स्लाइड्स में देखें शादी की तैयारियों की फोटो....

कनाडा की ये लड़की बनेगी रॉयल फैमिली की बहू, जीती हैं ऐसी LIFE

कनाडा की ये लड़की बनेगी रॉयल फैमिली की बहू, जीती हैं ऐसी LIFE

Last Updated: November 12 2016, 06:46 AM

भोपाल. मध्य प्रदेश की एक रॉयल फैमिली से ताल्लुक रखने वाले बॉलीवुड एक्टर अरुणोदय सिंह की शादी को होने जा रही है। उनकी दुल्हन बनेंगी कनाडा मूल की ली एल्टन। बता दें कि लंबे वक्त तक लिव-इन में रहने के बाद दोनों ने शादी का फैसला लिया है। ली, बिंदास लाइफ के लिए जानी जाती हैं। रविवार सुबह से मध्य प्रदेश के चुरहट में शादी की रस्में शुरू हो रही हैं। ऐसी है ली एल्टन की लाइफ... - अरुणोदय की होने वाली वाइफ ली, गोवा में रहती हैं। वे यहां के एक बड़े कैफे की मालिकन हैं। - ली एल्टन बिंदास लाइफ जीने के लिए भी फेमस हैं। वे पार्टीज और ट्रैवलिंग की शौक़ीन हैं। - उन्हें नेचर में रहना भाता है। जानवरों से काफी लगाव है, खासकर डॉग्स उनके फेवरेट हैं। - सोशल मीडिया में वे अक्सर अपनी पर्सनल एक्टिविटीज शेयर करती रहती हैं। - उनके सोशल अकाउंट पर शेयर फोटोज में उनकी लाइफ की झलक साफ़ नजर आती है। - ली काफी मुखर भी हैं। उन्होंने हाल ही में अपने फेसबुक पेज पर एक पोस्ट शेयर करते हुए अरुणोदय के बारे में लिखा- I am really the luckiest girl किस रॉयल फैमिली से हैं अरुणोदय? - अरुणोदय मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम रहे स्वर्गीय अर्जुन सिंह के बेटे अजय सिंह के बड़े बेटे हैं। - अर्जुन सिंह अपने वक्त में कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में शुमार किए जाते थे। वे सीधी जिले की चुरहट रियासत के पूर्व राजा थे। - अरुणोदय लंबे वक्त से बॉलीवुड फिल्मों में सपोर्टिंग एक्टर का रोल कर रहे हैं। हालांकि अभी तक उन्हें कोई बड़ी सक्सेस नहीं मिली है। - वे मिस्टर एक्स, जिस्म-2, उंगली, ये साली जिंदगी, मैं तेरा हीरो, एक बुरा आदमी सिकंदर जैसी फिल्मों में रोल कर चुके हैं। - हाल ही में रिलीज मोहनजोदाड़ो में भी वे ऋतिक के अपोजिट एक अहम रोल में थे, हालांकि उनकी ज्यादातर फ़िल्में बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह पिट गईं। - अरुणोदय के पिता और उनके दूसरे कई रिश्तेदार फिलहाल पॉलिटिक्स में काफी एक्टिव हैं। आगे की स्लाइड्स पर देखें चुरहट रियासत की बहू ली एल्टन की लाइफ दिखाती चुनिंदा Photos...

अर्जुन सिंह के Actor पोते अरुणोदय की मैरिज के लिए यहां हो रही तैयारियां

अर्जुन सिंह के Actor पोते अरुणोदय की मैरिज के लिए यहां हो रही तैयारियां

Last Updated: November 07 2016, 10:22 AM

भोपाल। कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में शुमार और MP के पूर्व CM रहे स्वर्गीय अर्जुन सिंह के पोते और अजय सिंह राहुल के बेटे अभिनेता अरुणोदय सिंह की मैरिज 13 नवंबर को सीधी जिले के चुरहट से होगी। अरुणोदय कनाडा मूल की गोवा में रहने वाली ली एल्टन से शादी करने जा रहे हैं। एल्टन गोवा के सबसे बड़े कैफे की मालिकन हैं। ये दोनों लंबे समय से live in में थे। भव्य होगा समारोह... एक हजार रसोइयों का प्रबंध... मप्र के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने अपने पारिवारिक मित्रों खासकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं को भव्य भोज देने के लिए तैयारियां शुरू कर दी हैं। इसके लिए चुरहट के शिवराजपुर पैलेस के करीब दो एकड़ एरिया में दावत का इंतजाम किया जा रहा है। इसमें करीब 50 हजार मेहमानों को बुलाए जाने की संभावना है। करीब एक हजार रसोइये विभिन्न और स्वादिष्ट पकवान बनाएंगे। उल्लेखनीय है कि अरुणोदय कनाडा मूल की गोवा में रहने वाली ली एल्टन से शादी करने जा रहे हैं। एल्टन गोवा के सबसे बड़े कैफे की मालिकन हैं। ये दोनों लंबे समय से live in में थे। अरुणोदय का इससे पहले ये साली जिंदगी(2011) की शूटिंग के दौरान अदिति राव हैदरी के करीब आए थे। हालांकि जब अदिति ने अपनी रिलेशनशिप को लेकर अरुणोदय से कमिटमेंट चाहा, तो यह रिश्ता टूट गया था। ली ने माना खुद को सबसे भाग्यशाली लड़की... हाल में अपने फेसबुक पर एक पोस्ट शेयर की थी। इसमें उन्होंने अरुणोदय के बारे में लिखा था कि,I really am the luckiest girl. ऐसे हैं अरुणोदय सिंह... स्वर्गीय अर्जुन सिंह के छोटे बेटे विधायक अजय सिंह के बड़े बेटे हैं अरुणोदय सिंह। अभी तक बॉलीवुड में उनके खाते में एक भी हिट फिल्म नहीं है। वे मिस्टर एक्स, जिस्म 2, उंगली, ये साली जिंदगी, मैं तेरा हीरो, एक बुरा आदमी सिकंदर जैसी फिल्मों में काम कर चुके हैं। हालिया रिलीज मोहनजो दाड़ो में भी वे नजर आए, लेकिन यह फिल्म भी पिट गई। विधानसभा में हुआ था हंगमा अरुणोदय ने अब तक जिस तरह की फिल्मों में काम किया है, उससे उनकी छवि एक अलग तरह के स्टार की बन गई है। उनकी एक फिल्म के एक सीन पर मध्यप्रदेश की विधानसभा में भारी हंगामा हुआ था। करीब तीन साल पहले विघानसभा के शीतकालीन सत्र के दौरान कांग्रेस और भाजपा के सदस्यों के बीच तीखी बहस हो रही थी। अरुणोदय के पिता विधायक राहुल सिंह ने कुछ ऐसा कहा जिससे भाजपा के विधायक भड़क गए। इसके बाद मोर्चा संभाला मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने। उन्होंने अजय सिंह पर परिवार के परिवार पर जुबानी हमला करते हुए कहा ये अजय सिंह मर्यादा की बात करते हैं इनका बेटा अरुणोदय मुंबई में कैसी-कैसी फिल्मों में काम कर रहा है। जिसको देखकर ग्लानी होती है। (जिस फिल्म का जिक्र मध्यप्रदेश विधानसभा में हुआ था उसकी एक्ट्रेस सनी लियोनी थी।) काफी हंगामें के बाद विधानसभा के अध्यक्ष ने सदन की इस पूरी बहस को विलोपित करने के आदेश दिए थे। प्रभावशाली परिवार से ताल्लुक रखते हैँ अरुणोदय अरुणोदय के दादा और चुरहट रियासत के अर्जुन सिंह 9 जून 1980 से 10 मार्च 1985, 11 मार्च 1985 से 12 मार्च 1985 और फिर 14 फरवरी 1988 से 24 जनवरी 1989 तक मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे। इसके बाद वे कई साल तक अलग-अलग पद पर भारत सरकार में मंत्री रहे। पंजाब के राज्यपाल रहे। उनके साथ-साथ उनके परिवार के कई सदस्य भी राजनीति से लेकर बॉलीवुड तक से जुड़े हुए हैं। 4 मार्च 2011 के दिन अर्जुन सिंह मृत्यु हो गई थी। आगे देखें संबंधित PHOTOS

फूलन देवी ने सरेंडर किया तो देखने के लिए उमड़ी लाखों की भीड़

फूलन देवी ने सरेंडर किया तो देखने के लिए उमड़ी लाखों की भीड़

Last Updated: August 04 2016, 08:34 AM

ग्वालियर। चंबल घाटी में लोग उसके नाम से कांपते थे। गुस्सा आता था तो वह गोली दाग कर बात करती थी। बैंडिट-क्वीन के नाम से फेमस फूलनदेवी ने भिंड में जब सरेंडर किया लाखों लोग उसकी एक झलक के लिए उमड़ पड़े। आखिरकार फूलन ने हथियारों के साथ महात्मा गांधी और दुर्गा मां की तस्वीर के सामने सरेंडर कर दिया। 25 जुलाई 2001 को फूलन देवी का दिल्ली में मर्डर किया गया था। इस मौके पर dainikbhaskar.com फूलन के सरेंडर से जुड़े कुछ तथ्यों को सामने ला रहा है। -1981 को हुए बेहमई सामूहिक नरसंहार में फूलन ने 22 लोगो को एक साथ मार दिया, जिससे वह पूरी दुनिया की नजरों में आ गई। -फूलन के आतंक के चलते यूपी की कांग्रेस सरकार तक हिल गई थी और नौबत मुख्यमंत्री के इस्तीफे तक आ गई थी। - यूपी में पुलिस पर फूलन को मारने का बहुत दबाव था। इसी कारण फूलन ने तय किया कि वह एमपी में सरेंडर करेगी। - उस समय भिंड के एसपी थे राजेन्द्र चतुर्वेदी। उन्होंने फूलन के करीबी एक डकैत से संपर्क किया और फूलन को सरेंडर के लिए राजी कर लिया। भिंड में किया था फूलन ने सरेंडर -12 फरवरी 1983 को फूलन भिंड के एमजेएस कॉलेज मैदान में पहुंच गई। उसके 11 साथी भी साथ थे। -उस समय एमपी के सीएम अर्जुन सिंह स्वयं फूलन का सरेंडर कराने आए थे। फूलन अपने हथियारों के साथ मंच पर आई। -फूलन ने अपने हथियार महात्मा गांधी और मां दुर्गा की तसवीर के सामने रखे और फिर अर्जुन सिंह के पास पहुंच गई। लाखों लोग पहुंचे फूलन को देखने -फूलन देवी के इस सरेंडर को देखने के लिए पूरे इलाके से करीब एक लाख लोग मैदान में जमा हुए थे। - विदेशी मीडिया से लेकर नेताओं की भीड़ भी सरेंडर के लिए तय मैदान में थी। फूलन का परिवार भी यूपी से भिंड आ गया था। -सरेंडर करने के बाद फूलन को ग्वालियर की सेंट्रल जेल में रखा गया। बाद में यूपी सरकार ने उसके खिलाफ मुकदमे वापस लिए तो रिहाई हो गई। स्लाइड्स में है फूलन को देखने उमड़ी भीड़ खुद फूलन हुई अभिभूत....

इस राजकुमारी के लिए फैमिली के खिलाफ हो गया था प्रिंस, की थी 9 की हत्या

इस राजकुमारी के लिए फैमिली के खिलाफ हो गया था प्रिंस, की थी 9 की हत्या

Last Updated: June 02 2016, 11:25 AM

नई दिल्ली/भोपाल. 2001 में नेपाल के युवराज दीपेंद्र ने शाही महल में राज परिवार के नौ सदस्यों की हत्या करने के बाद आत्महत्या कर ली थी। दीपेंद्र राजकुमारी देवयानी राणा से शादी करना चाहते थे, लेकिन शाही परिवार इस रिश्ते के लिए तैयार नहीं था। इसी बात पर गुस्से में आकर दीपेंद्र ने सबकी हत्या की थी। दीपेंद्र ने इस बारे में शाही परिवार के अन्य युवा सदस्यों से बातचीत की थी और हत्याकांड से सालभर पहले शाही परिवार का तख्तापलट करने की योजना का भी जिक्र किया था। कौन हैं देवयानी राणा और कहां हुई है उनकी शादी... - देवयानी राणा का जन्म 1972 में नेपाल में राणा राज घराने में हुआ। - वे नेपाल के पशुपति शमशेर जंग बहादुर राणा की बेटी हैं। - राणा राज घराने ने 1846 से नेपाल पर राज किया। - नेपाल में जन्मी देवयानी राज्यलक्ष्मी की शुरुआती पढ़ाई राजस्थान के अजमेर के मेयो कॉलेज से हुई। - इसके बाद उन्होंने दिल्ली के लेडी श्रीराम कॉलेज से ग्रैजुएशन किया। - ग्रैजुएशन के बाद उन्होंने काठमांडू के एक कॉलेज से पॉलिटिकल साइंस में मास्टर्स की डिग्री हासिल की। - 2007 में देवयानी की शादी सिंहरौली के राजकुमार कुंवर ऐश्वर्य सिंह के साथ हुई। - ऐश्वर्य सिंह मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम अर्जुन सिंह की बेटी वीणा सिंह के बेटे हैं। सिंधिया राज घराने से भी है देवयानी का रिश्ता - देवयानी राणा का रिश्ता ग्वालियर के सिंधिया राज घराने से भी है। - उनकी मां ऊषा राजे सिंधिया ग्वालियर घराने की महारानी विजयाराजे सिंधिया और महाराजा जीवाजी राव सिंधिया की बेटी हैं। - देवयानी के पिता पशुपति शमशेर जंग बहादुर राणा नेपाल की राष्ट्रीय प्रजातंत्र पार्टी के चेयरमैन भी रहे। हत्या के एक दिन बाद आई देवयानी-दीपेंद्र के शादी की बात - प्रिंस दीपेंद्र की देवायानी से मुलाकात 1989 में हुई थी, जिसके बाद उन्होंने अपनी फैमिली से शादी की बात कही थी। - 1 जून 2001 को नेपाल के युवराज दीपेंद्र ने अपने पिता मां के साथ राज परिवार के नौ लोगों की हत्या करने के बाद आत्महत्या कर ली। - घटना के समय देवयानी वहां मौजूद नहीं थीं। - उनके रिलेटिव्स बताते हैं कि इस घटना के बाद देवयानी डिप्रेशन की शिकार हो गई थीं। - नेपाल के टीवी और न्यूज पेपर्स में इस घटना के बारे में एक शब्द भी नहीं आया था। - 2 जून की सुबह से ही भारत के टीवी चैनलों पर दीपेंद्र और देवयानी राणा की शादी की बातों को जोड़कर न्यूज चलनी शुरू हो गई और इस बात का खुलासा हुआ। प्रिंस दीपेंद्र ने ली थी मिलिट्री ट्रेनिंग - दीपेंद्र नेपाल के 12वें किंग बीरेंद्र बीर बिक्रम शाह देव और ऐश्वर्या के बेटे थे। - दीपेंद्र नेपाल के होने वाले 13वें राजा थे। - 27 जून, 1971 को जन्मे दीपेंद्र की शुरुआती पढ़ाई काठमांडू में हुई थी। - शुरुआती पढ़ाई के बाद दीपेंद्र इंग्लैंड चले गए और ईटन कॉलेज से पढ़ाई की। - इसके बाद उन्होंने त्रिभुवन यूनिवर्सिटी और मिलिट्री एकेडमी ज्वाइन किया। - उन्होंने त्रिभुवन यूनिवर्सिटी से पीएचडी भी किया और नेपाल के गोर्खाली आर्मी से मिलिट्री की ट्रेनिंग ली। आगे की स्लाइड्स में देखें, देवयानी राणा और दीपेंद्र की फैमिली फोटोज...

राजघराने की बेहिसाब संपत्ति छोड़कर संन्यासी बन गए थे अर्जुन सिंह के भाई

राजघराने की बेहिसाब संपत्ति छोड़कर संन्यासी बन गए थे अर्जुन सिंह के भाई

Last Updated: April 05 2016, 14:08 PM

भोपाल। मप्र के पूर्व CM अर्जुन सिंह के बड़े भाई राव रणबहादुर सिंह का निधन हो गया है। राव रणबहादुर सिंह गृहस्थ जीवन से संन्यास ले चुके थे और चिन्मय आश्रम में रहते थे। सीधी जिले के चुरहट राजघराने के सबसे बड़े बेटे राव रणबहादुर सिंह ने करोड़ों की संपत्ति छोड़कर 2003 में संन्यास की दीक्षा ले ली थी। पिता की थी तीन पत्नियां... जानकारी के मुताबिक रीवा जिले में स्थित चिन्मय आश्रम में सुबह 4 बजे जब सेवक उनके कमरे में पहुंचा तो वे मृत मिले। वे 88 साल के थे और स्वामी प्रशांता नंद के नाम से जाने जाते थे। बताया जाता है कि 1998 में वे चिन्मय आश्रम में रहने आ गए थे। राव रणबहादुर सिंह 1975 से 77 तक सीधी से कांग्रेस के सांसद रहे। उनके पिता शिवबहादुर सिंह की तीन पत्नियां थीं। वे पहली पत्नी के बेटे थे। दूसरी पत्नी के बच्चे नहीं थे, वहीं अर्जुन सिंह, डॉ. सज्जन सिंह और गंगा सिंह तीसरी पत्नी के बच्चे हैं। उनका अंतिम संस्कार मंगलवार को होगा। गीता पर देते थे प्रवचन, रीवा संभाग में सबसे पहले करवाई थी नसबंदी आश्रम से मिली जानकारी के मुताबिक राव रणबहादुर सिंह गीता से प्रेरित थे। वे गीता पर प्रवचन भी देते थे। रीवा संभाग में नसबंदी करवाने वाले वे पहले व्यक्ति थे। उनके पिता ने उन्हें खेती की उन्नत तकनीक पर पढ़ाई के लिए 1954 में रीवा भेजा था। चारों बेटों को दिया एक-एक फार्म हाउस अर्जुन सिंह की किताब मोहिं कहां विश्राम में अजय सिंह ने लिखा है कि शिवबहादुर सिंह ने रावरणबहादुर सिंह को सिमरिया कृषि फॉर्म दिया था। जो उनके पास मौजूद सभी कृषि फॉर्म में सबसे बेहतर था। राव रणबहादुर सिंह फसलों की कटाई के लिए 1954 में अमेरिका से हार्वेस्टर लाए थे। आगे की स्लाइड्स में देखें फोटोज...

पिता-पत्नी की मौत के बाद परिंदों को बनाया परिवार, करते हैं सरंक्षण

पिता-पत्नी की मौत के बाद परिंदों को बनाया परिवार, करते हैं सरंक्षण

Last Updated: March 07 2016, 03:02 AM

पटना. अर्जुन सिंह। उम्र 52 वर्ष। पेशे से किसान। रोहतास जिले के मेड़रीपुर गांव के निवासी। पिता की मौत का गम भुला भी नहीं सके थे कि एक साल बाद वर्ष 2005 में पत्नी की मृत्यु से गहरा सदमा लगा। जिंदगी बोझ-सी लगने लगी। इतने टूट चुके थे कि उस सदमे से उबरना मुश्किल था। तभी उनकी बेरंग हो चुकी जिंदगी में रंग भरने के लिए एक गौरैया पक्षी आई। आंगन में घोंसले से गिर कर जमीन पर घायल पड़ी थी। उसे उठाया और देखभाल के लिए पिंजरे में रख दिया। कुछ दिन बाद वह ठीक हो गई। आंगन में आने वाली गौरैया को दाना देने लगे और धीरे-धीरे गौरैया की संख्या इतनी अधिक बढ़ गई कि उन्हें अपना परिवार बना लिया। 2007 में इस दिशा में शुरू किया था काम अर्जुन सिंह 2007 से गौरैया संरक्षण की दिशा में काम कर रहे हैं। अपने घर का निर्माण गौरैया के बसेरा के रूप में किया है। दोमंजिले घर की बाहरी दीवारों पर गौरैया के रहने के लिए छोटा-छोटा घर और बैठने का स्थान बना रखा है। दो हजार से अधिक गौरैया उनमें निवास करती हैं। घर के हर कोने में फुदकती गौरैया दिख जाती है। उन्हें खिलाने पर करीब 8-10 क्विंटल अनाज खर्च होता है। गांव के आसपास 9 हजार गौरैया रोहतास के मेड़रीपुर, सेमरिया, कल्याणपुर, मथुरापुर और अनंतपुरा गांव के आसपास खासकर बरसात के दिनों में काफी संख्या में गौरैया झुंड में दिखती है। यहां 9 हजार से अधिक गौरैया का डेरा है। पूर्व में डीएफओ द्वारा 8 हजार से अधिक गौरैया का होने का अनुमान लगाया गया था। बरसात के दिनों में अर्जुन सिंह के घर में और घर के आसपास झुंड में गौरैया रहती है। वन्य प्राणी परिषद के सदस्य गौरैया संरक्षक अर्जुन सिंह को वन्य एवं पर्यावरण विभाग द्वारा वन्य प्राणी परिषद का सदस्य बनाया गया है। इसके अध्यक्ष खुद मुख्यमंत्री हैं। गौरैया संरक्षण की दिशा में सराहनीय भूमिका निभाने के कारण महत्ती जिम्मेवारी विभाग द्वारा दी गई है। अर्जुन सिंह बताते हैं कि पत्नी की मृत्यु के बाद मैंने शादी नहीं की। पिता और पत्नी की मृत्यु के बाद मेरे जीने का हौसला खत्म हो चुका था। गौरैया ने मेरी जिंदगी में खुशियों का रंग लाया है। मैं भी उसे अपने परिवार के रूप में देखता हूं। जहां कहीं भी जाता हूं गौरैया के प्रति प्रेम और उसके संरक्षण के लिए लोगों से अपील करता हूं।

जागीरदार युवाओं के लिए बने प्रेरणास्रोत,113 सा्ल की उम्र रोजाना पीते है .5 ली. दूध

जागीरदार युवाओं के लिए बने प्रेरणास्रोत,113 सा्ल की उम्र रोजाना पीते है .5 ली. दूध

Last Updated: January 03 2016, 03:35 AM

शहजादपुर। गांव बड़ागढ़ के 113 वर्षीय जागीरदार सरदार अर्जुन सिंह युवाओं के लिए प्रेरणा स्रोत बने हुए हैं। वे कहते हैं कि नशे से शरीर पर बुरा असर पड़ता है और उम्र भी कम होती है। बकौल अर्जुन सिंह, मेरी लंबी अयु का राज है सादा खानपान। जवानी में खाते थे 250 ग्राम घी... रोजाना पीते हैं डेढ़ लीटर दूध बचपन से ही वे खेतों में मेहनत के साथ-साथ दूध-दही के शौकीन रहे हैं और यही उनकी लंबी आयु का राज है। अर्जुन सिंह कहते हैं कि वे इस आयु में भी तीनों समय खाना खाते हैं और डेढ़ लीटर दूध रोजाना पीते हैं। युवा अवस्था में वे रोजाना 250 ग्राम घी खाते थे। शिकार करने के भी शौकीन हैं अर्जुन सिंह अर्जुन बताते हैं कि उन्हें शिकार करने का भी शौक रहा है। उनके पास आजादी के समय से लाइसेंसी बंदूक है। अर्जुन सिंह के परिवार मे 17 सदस्य हैं। इनमें उनके पुत्र, पुत्र वधु, पौत्र, पौत्र वधु और पड़पौत्र शामिल हैं। उनके पड़पौत्र की आयु 15 साल है। कर चुके हैं दो - दो शादियां जब वे 19 साल के थे, उनके पिता का देहांत हो गया और पारिवारिक समस्याओं के चलते उनका विवाह देर से हुआ। जब विवाह हुआ तो पत्नी बीमारी के चलते स्वर्ग सिधार गईं। उसके बाद 1942 में उनका दूसरा विवाह हुआ और दो पुत्र और तीन पुत्रियां हुई। इनका एक बेटा गुरमेल सिंह गांव का निवर्तमान सरपंच है।

Flicker