• देखिये ट्रेनडिंग न्यूज़ अलर्टस

Bhaskar Utsav

आखिर कपिल शर्मा के शो में क्यों नहीं जाते आमिर, पहली बार खोला ये राज

आखिर कपिल शर्मा के शो में क्यों नहीं जाते आमिर, पहली बार खोला ये राज

Last Updated: December 25 2016, 09:34 AM

जयपुर। राजस्थान में दैनिक भास्कर की सफलता की 20वीं वर्षगांठ पर जयपुर की जनता को आमिर खान से मिलने का मौका दिया गया। नौ दिवसीय भास्कर उत्सव के तीसरे दिन शनिवार को आमिर ने टॉक शो में फिल्म डायरेक्टर फराह खान के सवालों के जवाब दिए। वहीं फैंस को भी अपने चहेते अभिनेता आमिर से सवाल पूछने का मौका दिया गया। इस दरौन उन्होंने बताया अपनी फिल्मों का प्रमोशन करने के लिए वो कपिल शर्मा के शो सहित बाकी टीवी प्रोग्राम्स में क्यों नहीं जाते। जानिए कौन से सवाल पूछे ऑडियंस ने... 1. सलोनी - आप मिस्टर परफेक्शनिस्ट के रूप में जाने जाते हैं। फैमिली और प्रोफेशन को कैसे मैनेज करते हैं। आमिर - असल में मैं 27 सालों से काम कर रहा हूं। और आज भी मेरे लिए यह स्ट्रगल का विषय होता है। मैं अपने काम में पूरी तरह खो जाता हूं और सब कुछ भूल जाता हूं। मैं बच्चों को भूल जाता हूं। अम्मी से नहीं मिलता हूं। मैं अपनी जिंदगी अपने काम अपने पैशन में खो चुका हूं। अक्सर मैं अपनी फैमिली को भूल जाता हूं। 2. सवाल- छोटी सी बच्ची झिलमिल भीड़ में से सवाल करती है, लेकिन वह भीड़ में दिखती नहीं है। जब कैमरा उसकी ओर फ्लैश करता है तो आमिर कहते हैं, स्टेज पर आ जाओ। स्टेज पर आकर झिलमिल आमिर से एक सवाल करती है, लेकिन झिलमिल पूरी तरह से अपनी बात नहीं समझा पाती। फिर आमिर से झिलमिल पापा कहते है गाना गाने की रिक्वेस्ट करती है, लेकिन अामिर बापू सेहत के लिए तू तो हानिकारक है गाना गाते हैं। 3. अंकित - आप टीवी शो पर अपनी मूवी प्रमोट करने क्यों नहीं जाते, सभी एक्टर जाते हैं जैसे कपिल शर्मा के शो में लगभग सभी एक्टर आते है। आमिर- हां वैसे मैं टीवी शो में नहीं जाता, लेकिन हां एक बार मैं गया था सलमान के शो दस का दम में। दरअसल मुझे फिल्म बनाने के बाद इतना समय नहीं मिलता। 4. संजीव - जब किरण मैम ने कहा कि इस देश में डर लगा तो उस समय आपका क्या रिएक्शन था किरण मैम पर। आमिर - मैं लोगों को कहता हूं कि दिल को फॉलो करो। अक्सर उसमें कठिनाई भी आती है। ये सवाल पूछा है तो उस शो को देखें तो आपको जवाब मिल जाएगा। 5. प्रियंका - एक्टर होने का सबसे अच्छा और सबसे बुरा पार्ट क्या है। आमिर - आप अपनी गुमनामी को खो देते हैं। अच्छा यह है कि आपको बहुत सारी स्टोरी लाइन मिलती हैं। आपको ढेर सारा प्यार मिलता है। 6. सोनल - आप सत्यमेव जयते में बहुत सारे बड़े मुद्दों को लेकर सामने आए थे। मैं चाहती हूं आप एनिमल टॉर्चर पर भी कोई प्रोग्राम लाएं तो मुझे विश्वास है कि लोग आपकी बात मानेंगे। आमिर- आपने अच्छा सुझाव दिया है। भविष्य में इस पर कुछ काम करूंगा। आगे की स्लाइड्स मेंं देखिए और फोटोज... फोटो- योगेन्द्र गुप्ता और मनोज श्रेष्ठ व ताराचंद गवारिया

सलमान को पिटता देख डर जाती थी ये बाल कलाकार, सेट पर रोने लगती थी

सलमान को पिटता देख डर जाती थी ये बाल कलाकार, सेट पर रोने लगती थी

Last Updated: December 25 2016, 09:34 AM

जयपुर। बजरंगी भाईजान फिल्म के जरिए अपनी मासूमियत का दीवाना बना चुकी बाल कलाकार हर्षाली मलहोत्रा कई बार सेट पर डर जाती थी और जोर-जोर से रोने लगती थी। फिल्म में सलमान के साथ फाइटिंग सीन्स की शूटिंग देखकर भी वह रोने लग जाती थी। ऐसे मनाते थे सलमान& 19 दिसंबर, 1996 को जयपुर में शुरू हुए दैनिक भास्कर ने इस 19 दिसंबर को ऐेतिहासिक 20 साल पूरे कर लिए हैं। इन स्वर्णिम पलों को यादगार बनाने के लिए दैनिक भास्कर जयपुर में 9 दिवसीय भास्कर उत्सव का आयोजन किया जा रहा है। इस आयोजन के तहत 23 दिसंबर को शहर के जयपुरिया स्कूल के क्रिकेट ग्राउंड में इंटर स्कूल पेंटिंग और स्लोगन कॉम्पिटिशन का आयोजन होगा। कार्यक्रम में बजरंगी भाईजान फेम चाइल्ड आर्टिस्ट हर्षाली मलहोत्रा मुख्य आकर्षण होंगी। ऐसे में dainikbhaskar.com हर्षाली और बजरंगी भाईजान से जुड़े कुछ रोचक किस्सों से रूबरू करा रहा है। - हर्षाली की मां काजल मलहोत्रा के मुताबिक वह बहुत शर्मीली है। - बजरंगी भाई जान की शूटिंग के दौरान शुरुआत में वह सलमान खान से बात करने में शर्माती थी। - बहुत जल्द ही अपने प्यार और व्यवहार से सलमान ने हर्षाली को कंफर्टेबल माहौल दे दिया। - काजल के मुताबिक उनकी बेटी हर्षाली को सेट पर शांत रखना बड़ा ही चैलेंजिंग था। - जब भी सलमान कोई इमोशनल सीन शूट कर रहे होते या फाइटिंग सीन में सलमान की पिटाई का सीन होता तो हर्षाली रोने लग जाती थी। - कई बार एक्शन के अलावा कोई हाई पिच साउंड पर वो डर जाती थी। - ऐसे में सलमान और कबीर खान कुछ स्पेशल इफेक्ट साउंड से उसे कंफर्ट करने की कोशिश करते थे। - हर्षाली को जब सीन में कुछ समझ में नहीं आता था तब वो सीधे कबीर खान से ही जाकर पूछ लेती थी। - हर्षाली अक्सर सलमान खान के साथ सेट पर मोबाइल में वीडियो गेम्स खेलती थीं। सलमान अंकल की तरह सुपर स्टार बनना चाहती हूं - हर्षाली सलमान खान की तरह सुपर स्टार बनना चाहती है। - काजल ने कास्टिंग डायरेक्टर मुकेश छाबड़ा से मुलाकात की थी। - एक दिन उन्हें फोन आया कि सलमान खान स्टारर फिल्म बजरंगी भाईजान के लिए उनकी बच्ची का चयन किया गया है। - उन्होंने बताया, मुझे इस बात की जानकारी नहीं थी कि सलमान इस फिल्म में काम कर रहे हैं। - शुरू में हम लोगों को यकीन नहीं हुआ। - हर्षाली ने बताया कि फिल्म के सेट पर सलमान अंकल मेरे साथ बार्बी गेम्स और टेबल टेनिस खेलते थे। - मैं कबीर अंकल की गोद में भी बैठ कर बार्बी गेम्स खेलती थी। - हर्षाली इस फिल्म से पहले कबूल है, लौट आओ त्रिशा टीवी सीरियल्स समेत कुछ विज्ञापनों में काम कर चुकी हैं। अगली स्लाइड्स में क्लिक करके देखिए हर्षाली की और फोटोज

भास्कर उत्सव: रामदेव ने कहा- आरटीआई में 5 लाख करोड़ रु. का हिसाब नहीं, रिजर्व बैंक ने क्या एक नंबर के दो-दो नोट छापे?

भास्कर उत्सव: रामदेव ने कहा- आरटीआई में 5 लाख करोड़ रु. का हिसाब नहीं, रिजर्व बैंक ने क्या एक नंबर के दो-दो नोट छापे?

Last Updated: December 25 2016, 09:34 AM

जयपुर. राजस्थान में दैनिक भास्कर के 20 साल पूरे होने के मौके पर गुरुवार से 9 दिन के भास्कर उत्सव; की शुरुआत हुई। पहले दिन यहां सीतापुरा स्थित जेईसीसी ऑडिटोरियम में प्रोग्राम में योग गुरु बाबा रामदेव खास मेहमान थे। बाबा रामदेव ने नोटबंदी को तो अच्छा बताया पर कहा, मुझे डर है कि कहीं आरबीआई ने एक ही नंबर के दो-दो नोट तो नहीं छाप दिए? मैंने RTI लगाई थी। 5 लाख करोड़ रु. कहां से आए इसका हिसाब नहीं मिल रहा है। मुंबई में बैंक के कुछ कर्मचारियों ने तो करोड़ों के नोट दो दिन में ही बदल डाले। पहली बार बतौर बिजनेस गुरु रूबरू हुए, कहा- बाबा बीयर कभी नहीं बनाएगा... - वे लोगों से पहली बार बतौर बिजनेस गुरु रूबरू हुए। उन्होंने कहा, अक्सर वॉट्सऐप पर मजाक बनाया जाता है कि पतंजलि बीयर बनाने वाला है। मैं यहां बता दूं कि बाबा बीयर कभी नहीं बनाएगा। मेरे जाने के बाद भी ऐसा नहीं होगा। - हम एजुकेशन सेक्टर में आएंगे। संस्कृत जानने वालों को नौकरियां मिलेंगी। - 2017 में हम डेयरी लाएंगे। गाय की ऐसी ब्रीड तैयार करेंगे जो एक दिन में 30 से 40 लीटर दूध देगी। जानिए और क्या कहा बाबा रामदेव ने - पतंजलि एजुकेशन में आएगा। 80% प्रॉफिट एजुकेशन से होगा। संस्कृत पढ़ने वालों को अंग्रेजी वालों से ज्यादा सैलरी मिलने लगेगी। - संस्कृत विद्वान को कर्मकांडी ही समझा जाता है। मैं चाहता हूं संस्कृत पढ़ने वाले विद्वान को इंजीनियर-डॉक्टर से ज्यादा सैलरी मिले। अगले साल डेयरी शुरू करेंगे, 40 लीटर दूध देने वाली गाय तैयार कर रहे हैं - रामदेव ने कहा, पहली बार गाय के मामले में सरोगेट मदर तकनीक का इस्तेमाल करेंगे। हमने ऐसी साइंटिफिक सोच रखी है। हम पूरे देश में भी अच्छी ब्रीड का सलेक्शन कर रहे हैं। हम 2017 में डेयरी की शुरुआत करेंगे। 30 से 40 लीटर दूध देने वाली गायें तैयार कर रहे हैं। 5 लाख करोड़ तक ले जाएंगे मार्केट कैप - रामदेव ने कहा, बेईमान बिजनेसमैन की उम्र किसी गैंगस्टर से ज्यादा नहीं होती। ऐसे ही बेईमान पार्टी की उम्र भी 10 साल से ज्यादा नहीं होती। मैं 50 साल हिलने वाला नहीं हूं। - बता दें कि करीब 6500 लोगों को रोजगार देने वाली पतंजलि कंपनी के सिर्फ हरिद्वार में ही 28 प्लांट हैं, जहां 800 से ज्यादा प्रोडक्ट्स बनते हैं। - अपने कारोबार के बारे में रामदेव ने कहा, पतंजलि का मार्केट कैप अभी 1 लाख करोड़ रुपए के करीब है। पांच साल में यह 5 लाख करोड़ हो जाएगा। - बाबा रामदेव और बालकृष्ण के ब्रेन पर भी रिसर्च होने वाला है कि ये एक्टिवेट कैसे हुए हैं। - हमारा सीक्रेट ये है कि हम हिंदुस्तान लीवर के सिर्फ 10 प्रतिशत हैं, लेकिन उससे भारी पड़ रहे हैं। कांग्रेस पर निशाना, एड के लिए हां - बाबा रामदेव ने कहा कि वे दुनिया में सबसे ज्यादा मुकदमे झेलने वाले व्यक्ति हैं। उन पर एक दिन में 82 मुकदमे भी हुए हैं। - असल में तब कांग्रेस की सरकार थी। 2012 में उन पर एड मिस लीडिंग का केस चलाया, लेकिन उन्होंने कांग्रेस की जड़ें ऐसी खोदी की अब तक हरी नहीं हो पाईं। - उन्होंने ये भी कहा कि वो एड पर हिंदुस्तान यूनी लीवर से कम पैसा खर्च करते हैं, लेकिन उनकी एक सीक्रेट स्ट्रेटेजी है जिससे उनके एड कम पैसों में ज्यादा दिखाई देते हैं। और मैं तो अपने स्वदेशी मीडिया को ही पैसे दे रहा हूं। आज तक ट्रेन में नहीं बैठी मां - रामदेव ने कहा, मेरी मां आज तक ट्रेन में नहीं बैठी। एयरप्लेन से जाता था तो उसे हम चीलगाड़ी कहते थे। - रामदेव ने श्रोताओं से कहा कि जिद करो और दुनिया बदलो के नारे को आप भी साकार कर सकते हैं। - उन्होंने कहा, किसी को कुचलना, मिटाना, हटाना हमारा मकसद नहीं है। राह में आगे बढ़ना हमारा मकसद है। विनोद में हम मजाक करते हैं। जैसे- नेस्ले का पंछी उड़ने वाला है और कोलगेट का दरवाजा बंद होने वाला है। - याेग को लेकर देश में बढ़ते रुझान पर उन्होंने कहा- बीएसएफ ने भी अब पीटी की जगह योग को कम्पलसरी किया है। - उन्होंने यंगस्टर्स से कहा कि सिक्स पैक बनाने के चक्कर में मत रहो। सिंगल पैक बनाओ। जो छेड़ेगा, उसे छोड़ूंगा नहीं - योगगुरु ने कहा, कांग्रेस की सरकार ने मुझ पर मिसब्रांडिंग का मुकदमा लगाया था। हमने ऐसी जड़ें खोदीं कि हमें हरा नहीं पाए वो। हम जो कहते हैं, वही चीज मिलेगी। दुनिया की एक लैब में नहीं, बल्कि हजारों लैब में टेस्ट करा लो। - मुझ पर एक दिन में 82 केस लगाए गए। हमारे 500 लोगों को उठाया गया। मैं शायद दुनिया में सबसे ज्यादा मुकदमे झेलने वाला व्यक्ति हूं। हम पर डबल सीबीआई जांच हुई थी। - अभी मैं मौन हूं। जो छेड़ेगा, उसको छोड़ूंगा नहीं। - उन्होंने कहा, ये अखबार है। इसमें बातों की सर्जरी हो जाएगी। अब मैं सावधान रहता हूं। पतंजलि को चलाना आसान है। अखबार चलाना कठिन है। कई बार कोई न्यूज लगी तो फोन खड़कने लगते हैं कि ये खबर नहीं छपनी चाहिए। फोन खड़कने के बाद भी निष्पक्ष रहना बड़ी बात है। राखी सावंत के बारे में क्या बोले योगगुरु - रामदेव ने कहा, राखी सावंत एक शो में मिली थीं। भागकर मेरे पीछे पड़ गईं। बोलीं- बाबाजी मैं आपसे ब्याह करूंगी। मैंने कहा कि और किसी को देख लें, बहुत कंवारे पड़े हैं दिल्ली में। मैं उनके बारे में कुछ नहीं कहता। पता नहीं वो क्या कह दे। दान सिंह ने गायों के लिए दान कर दी 88 बीघा जमीन सवाई माधोपुर के एक व्यक्ति दान सिंह कार्यक्रम के दौरान ही बाबा रामदेव के पास आए। उन्होंने कुछ कागज बाबा रामदेव को सौंपे और घोषणा की, मैं अपनी सवाई माधोपुर में मौजूद 88 बीघा जमीन गोशाला के लिए दान देता हूं। लोग खड़े हो गए, बाबा रामदेव के साथ सभी ने जमकर तालिया बजाईं। फिर बाबा ने कहा, राजस्थान की धरती कुछ ऐसी ही है। इसे मैं प्रणाम करता हूं। यहां भामाशाहों की कमी नहीं। रामदेव ने कराए योगासन - भास्कर उत्सव के इस पहले कार्यक्रम में रामदेव ने योगासन किए। खुद शीर्षासन और सूर्य नमस्कार किए। इस प्रोग्राम के मॉडरेटर संजय पुगलिया से भी योगासन करवाए। ऑडिएंस को प्राणायाम कराया। - दैनिक भास्कर समूह के चेयरमैन रमेशचंद्र अग्रवाल ने उत्सव की शुरुआत के मौके पर बताया कि दैनिक भास्कर को देश का सबसे बड़ा अखबार बनाने में राजस्थान कितनी अहमियत रखता है। - इस भास्कर उत्सव का मुख्य प्रायोजक मिराज ग्रुप है। प्रस्तुतकर्ता बीएसएनएल है, जबकि एसबीबीजे वीवो सहयोगी है। भास्कर उत्सव में आगे क्या? - 16 दिसंबर को संजीव कपूर खाने का जायका गाने के साथ देश में पहली बार पेश करेंगे। यह अपनी तरह का संजीव कपूर का पहला शो होगा। - वे दोपहर दो बजे लाइव बैंड के साथ रेसिपी बताएंगे। - इसी दिन देश के प्रख्यात एड गुरु पीयूष पांडे सीतापुरा स्थित जेईसीसी कन्वेंशन सेंटर में शाम 6 बजे से अपनी एड यात्रा के बारे में बताएंगे। वे पाठकों के सवालों के जवाब भी देंगे। यह भी बताएंगे कि अपनी एड फिल्मों को उन्होंने कैसे क्रिएट किया और इसके वीडियो भी दिखाएंगे। - 17 दिसंबर को आमिर खान फिल्म निर्देशक फरहा खान के साथ टॉक शो करेंेगे। दंगल फिल्म सहित यादगार किस्सों पर बात होगी। - 18 दिसंबर को कवि सम्मेलन। - 19 दिसंबर को कैलाश खेर का सूफी गायन। - 20 दिसंबर को सुनिधि चौहान और टाइगर श्राफ की म्यूजिकल डांस नाइट होगी। - 21 दिसंबर को जयपुर से पहली बार प्रख्यात पत्रकार अरनब गोस्वामी रूबरू होंगे। - 23 दिसंबर को 15 हजार बच्चों का पेंटिंग और स्लोगन कॉम्पिटीशन होगा। फोटो: मनोज श्रेष्ठ छठी स्लाइड में देखें पूरा वीडियो

10 हजार बच्चों ने बनाई पेंटिंग, 'बजरंगी..' की 'मुन्नी' ने भी लिया हिस्सा

10 हजार बच्चों ने बनाई पेंटिंग, 'बजरंगी..' की 'मुन्नी' ने भी लिया हिस्सा

Last Updated: December 24 2016, 18:27 PM

जयपुर. राजस्थान में भास्कर के 20 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में चल रहे भास्कर उत्सव के तहत शुक्रवार को इंटरस्कूल पेंटिंग व स्लोगन कॉम्पीटिशन हुआ। जयपुर के 10 हजार से ज्यादा स्टूडेंट इस कॉम्पीटिशन में हिस्सा लिया। बच्चों का उत्साह बढ़ाने के लिए बजरंगी भाईजान फेम बाल कलाकार हर्षाली मल्होत्रा भी यहां पहुंचीं। हर्षाली गुरुवार को ही जयपुर पहुंच गई थीं। यहां पहुंचने के बाद हर्षाली ने कहा कि वो भविष्य में सिंगिंग, डांसिंग और एक्टिंग तीनों करना चाहती हैं।हर्षाली ने स्टूडेंट्स का बढ़ाया हौसला... - इस कॉम्पीटिशन में तीन कैटेगरी हैं-जूनियर, सब जूनियर और सीनियर। कैटेगरी के मुताबिक स्टूडेंट्स के बैठने की व्यवस्था की गई। - चौथी क्लास से 12वीं क्लास तक के स्टूडेंट्स इसमें हिस्सा ले रहे हैं। - स्लोगन और पेंटिंग के टॉपिक वेन्यू पर दिए गए। कॉम्पीटिशन के लिए एक घंटे का समय दिया गया है। - पार्टिसिपेंट्स को ड्रॉइंग शीट भी उपलब्ध करवाई गई है। बच्चे अपने साथ ड्रॉइंग बोर्ड व कलर लेकर पहुंचे। एंट्री सुबह 9 बजे से शुरू हुई। - गौरतलब है कि जिन स्कूल्स ने 19 दिसंबर तक कंपीटिशन के लिए रजिस्ट्रेशन करवाए, वही इसमें हिस्सा ले सकेंगे। ऑन द स्पॉट रजिस्ट्रेशन नहीं होंगे। - कॉम्पटिशन शुरू होने के थोड़ी देर बाद हर्षाली भी ग्राउंड पर पहुंची। उन्होंने कॉम्पीटिशन में हिस्सा ले रहे स्टूडेंट्स का हौसला बढ़ाया। एक्टिंग, डांसिंग और सिंगिंग तीनों करना चाहती हैं हर्षाली - आठ साल की चाइल्ड एक्टर जिसने फिल्म बजरंगी भाईजान में अपनी मासूमियत और एक्टिंग से बॉलीवुड में अलग पहचान बनाई है उनका सपना है देश की एक सुपर स्टार बनने का। - इंडस्ट्री में श्रद्धा कपूर से इंसपायर्ड हर्षाली ने कहा, मैं श्रद्धा की तरह ही एक्टिंग, डांसिंग और सिंगिंग तीनों करना चाहती हूं। - मौका मिला तो श्रद्धा कपूर के साथ स्टेज पर सिंगिंग करना चाहूंगी। - हर्षाली की मम्मी काजल मल्होत्रा ने बताया कि हर्षाली की कोई प्रोफेशनल ट्रेनिंग नहीं हुई। - हालांकि फिल्म के लिए चुने जाने के बाद कुछ दिनों की वर्कशॉप करवाई गई थी, लेकिन सीन समझाने की मशक्कत कभी नहीं करनी पड़ी। सलमान अंकल के साथ खेला टेबल टेनिस मैच - स्टार बनने का सपना देखने वाली ये नन्ही अदाकारा 6 साल की उम्र में बजरंगी भाईजान में अपनी एक्टिंग से चर्चा में आईं। - स्टारडम की चमक-दमक से दूर अपनी मासूमियत से दिल जीतने वाली नन्ही हर्षाली ने कहा, सलमान अंकल के साथ शूटिंग के दौरान मैंने काफी मस्ती की। - हमारे बीच टेबल टेनिस का मैच भी होता था। मुझे खाने में चिकन और राजमा काफी पसंद है। - मात्र डेढ़ साल की उम्र में मॉडलिंग की दुनिया में कदम रखने वाली हर्षाली पढ़ाई में भी अव्वल है। - वो कहती है, यूं तो मुझे सभी सब्जेक्ट पसंद हैं पर मैथ्स से दोस्ती गहरी है। - पढ़ाई के अलावा डांस और ढेर सारी मस्ती करना भी पसंद है। कभी-कभी दोस्तों और अपने बड़े भाई से लड़ने-झगड़ने में भी मुझे मजा आता है। फोटो : योगेंद्र गुप्ता, ताराचंद गवारिया चौथी स्लाइड में देखिए इस ईवेंट का वीडियो और फोटो... यह भी पढ़ें: 1# <a href='http://www.bhaskar.com/news/RAJ-JAI-HMU-baba-ramdev-at-bhaskar-rajasthan-utsav-news-hindi-5482396-PHO.html?ref=ht'>रामदेव बोले- रणवीर चुलबुला, बेशर्म है राखी; मोदी को बताया फेवरेट एक्टर पर डिनर की चाहत वसुंधरा के साथ</a> 2# <a href='http://www.bhaskar.com/news/c-10-baba-ramdev-live-chat-just-after-patanjali-fined-rs-NOR.html?ref=ht'>रामदेव ने कहा- आरटीआई में 5 लाख करोड़ रु. का हिसाब नहीं, रिजर्व बैंक ने क्या एक नंबर के दो-दो नोट छापे?</a> 3# <a href='http://www.bhaskar.com/news/c-10-dainik-bhaskar-celebrating-bhaskar-utsav-in-rajasthan-NOR.html?ref=ht'>संजीव कपूर ने पहली बार सात सुरों के साथ बनाईं सात डिशेस</a> 4# <a href='http://www.bhaskar.com/news-ht/c-10-add-guru-piyush-pandey-in-jaipur-jp0957-NOR.html'>राहुल गांधी के लिए ऐड कैम्पेन के सवाल पर बोले पीयूष पांडे- ऐसा काम नहीं लूंगा जिसमें 50 साल लगें</a> 5# <a href='http://www.bhaskar.com/news-ht/c-10-amir-khan-and-farah-khan-at-bhaskar-utsav-jaipur-jp0556-NOR.html'>भास्कर उत्सव: आमिर खान ने कहा- जो स्टारडम सलमान-शाहरुख में है, वो मुझमें नहीं है, वे आते हैं तो मैं भी उठ जाता हूं</a> 6# <a href='http://www.bhaskar.com/news-ht/c-10-dainik-bhaskar-utsav-2016-interesting-statements-by-the-aamir-khan-jp0925-NOR.html'>आमिर ने पहली बार बताईं ये बातें: पांचवां प्यार थीं रीना, तीन लड़कियों ने किया था रिजेक्ट</a> 7# <a href='http://www.bhaskar.com/news-ht/c-10-10-poets-in-jaipur-at-bhaskar-utsav-jp0556-NOR.html'>भास्कर उत्सव: कुमार विश्वास की रचना- किसी दिल की मायूसी जहां से होकर गुजरी है, हमारी सारी चालाकी वहीं खोकर गुजरी है</a> 8# <a href='http://www.bhaskar.com/news-ht/c-10-singer-kailash-kher-in-bhaskar-utsav-at-jaipur-jp0556-NOR.html'>कैलाश खेर का सूफियाना सफर- मैं तो तेरे प्यार में दीवाना हो गया...</a>

भास्कर उत्सव: जब अर्नब को लॉ मिनिस्टर से मांगनी पड़ी थी माफी

भास्कर उत्सव: जब अर्नब को लॉ मिनिस्टर से मांगनी पड़ी थी माफी

Last Updated: December 22 2016, 15:38 PM

जयपुर: राजस्थान में दैनिक भास्कर की कामयाबी के 20 साल पूरे होने पर मनाए जा रहे भास्कर उत्सव के तहत बुधवार को जर्नलिस्ट अर्नब गोस्वामी जयपुर के लोगों से रूबरू हुए। यहां अर्नब ने कहा,एक बार मैं पार्लियामेंट के गेट नंबर 4 पर पहुंचा। मैं जो भी सवाल पूछता था,सीधे पूछता था। मैं एक निजी चैनल का जर्नलिस्ट था। एक बार मुझे लॉ मिनिस्टर से सॉरी बोलने को कहा गया। यह बेहद शर्म की बात है। इसी तरह ज्योति बसु से माफी मांगने के लिए भी कहा गया था। पॉलिटिशियन्स ने मुझे काफी प्रताड़ित किया। - राजनेता न्यूज चैनल को ऐड देते थे आैर जर्नलिस्ट्स को प्रताड़ित करते थे। इन सारी चीजों ने मुझे रिपब्लिक; लाने के लिए प्रोत्साहित किया। जर्नलिज्म के नजरिए को बदलने की सोच है रिपब्लिक। मेरे (टाइम्स नाऊ से) एग्जिट को सेलिब्रेट करने वाले अफसोस करेंगे, क्योंकि मैं वापस आ रहा हूं। रिपब्लिक मेरा नया वेंचर है। - मैं क्यों चिल्लाता हूं, ये समझो। ...क्योंकि इस देश में चिल्लाओगे नहीं तो कोई नहीं सुनेगा। अर्नब के बयान को सुनने के लिए देखिए वीडियो...

इस बॉलीवुड एक्टर ने गर्ल्स स्कूल की में की थी पढ़ाई, इस वजह से पड़ गई ये आदत

इस बॉलीवुड एक्टर ने गर्ल्स स्कूल की में की थी पढ़ाई, इस वजह से पड़ गई ये आदत

Last Updated: December 22 2016, 15:33 PM

जयपुर। बी-टाउन के मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान ने बचपन में 5वीं तक गर्ल्स स्कूल में पढ़ाई की थी। इस वजह से बचपन से ही इनके फ्रेंड लिस्ट में लड़के बहुत ही कम और लड़कियां ढेरों थीं। कहते हैं बचपन में लड़कियों के साथ पढ़ने की वजह से आमिर में लड़कों की बजाय लड़कियों के साथ रहना ज्यादा कंफर्ट लगता था। जानिए गर्ल्स स्कूल में पढ़ने की की वजह…   19 दिसंबर, 1996 को जयपुर में शुरू हुए दैनिक भास्कर इस 19 दिसंबर को ऐतिहासिक 20 साल पूरे करने जा रहा है। इन स्वर्णिम पलों को यादगार बनाने के लिए दैनिक भास्कर जयपुर में 9 दिवसीय भास्कर उत्सव का आयोजन किया जा रहा है। इस आयोजन के तहत 18 दिसंबर को सीतापुरा स्थित जेईसीसी में बॉलीवुड एक्टर आमिर खान फराह खान के सवालों का जवाब देंगे। ऐसे में dainikbhaskar.com इनके जीवन से जुड़े कुछ रोचक किस्सों से रूबरू करा रहा है।   - आमिर के घर के पास करीब के स्कूल में गर्ल्स स्कूल ही था। चूंकि ज्यादा दूर जाकर पढ़ाई करना संभव नहीं था। - ऐसे में आमिर का एडमिशन लड़कियों के स्कूल में हो गया। - ये यहां 5वीं तक पढ़े। इस दौरान इनको कॉमिक्स पढ़ने का भी शौक हो गया। - इनको जेब खर्च के लिए एक महीने में 20 रुपए मिलते थे। - ये सारे पैसे कॉमिक्स में खर्च हो जाते थे। - बिस्तर में लेटकर चुपके-चोरी कॉमिक्स पढ़ने और बहनों पर हुक्म जमाने में आमिर को बहुत मजा आता था। गर्ल्स स्कूल के टीचर हो गए परेशान - स्कूल में लड़कियों की चोटी खींचने और परेशान करने की घटनाएं बढ़ने लगीं तो टीचर्स ने आमिर के घर आकर उनकी मां जीनत से शिकायत की। - टीचर्स ने रिक्वेस्ट किया कि इन्हें किसी दूसरे स्कूल में एडमिशन दिला दीजिए। यहां लड़कियों को बहुत तंग करते हैं।     अगली स्लाइड्स में क्लिक करके देखिए आमिर की जीवन से जुड़ी कुछ और फोटोज      

PHOTOS: अमन वर्मा के सवाल पर टाइगर बोले- मेरा बाप सबका बाप है...

PHOTOS: अमन वर्मा के सवाल पर टाइगर बोले- मेरा बाप सबका बाप है...

Last Updated: December 22 2016, 09:21 AM

जयपुर। भास्कर उत्सव के छठे दिन अमन वर्मा को टाइगर श्रॉफ और सुनिधि चौहान के कार्यक्रम के लिए मंच सौंप दिया गया था। पूरा आयोजन उन्हें ही संवारना था। संवारा भी, सजाया भी। सुनिधि और टाइगर के इवेंट्स को मैनेज भी किया और भास्कर समूह को भी मंच पर आमंत्रित किया। इसी दौरान अमन एक ऐसा सवाल पूछ बैठे कि टाइगर भी चौंक गए। आखिर क्या था सवाल, क्या बोले उत्तर में... - असल में धमाकेदार एंट्री के बाद टाइगर श्रॉफ ने पहले डांस किया, फिर लड़कियों के समूह के साथ अपनी अदाएं बिखेरी। - इसके बाद शहर के छह युवाओं को टाइगर से मंच पर मिलने का मौका दिया गया था क्यों वे लकी विनर्स थे। - उन्होंने सवाल पूछे, कुछ अपनी बातें कहीं, किसी ने डांस स्टेप्स साथ कराए तो दो लड़कियां गले ही लगकर झूमने लगीं। - इस बीच अमन वर्मा ने किया सवाल- बोले- आप पारिवारिक रूप से फिल्मी बैकग्राउंड से आते हैं, इसलिए फिल्म इंडस्ट्री में खुद का चेहरा स्थापित करने में दिक्कतें आई होंगी। - टाइगर बोले- मैं शुक्रगुजार हूं कि मैं जैकी साहब का बेटा हूं। खुद को उनसे अलग हटाकर स्थापित करने में दिक्कतें तो आती ही हैं क्योंकि बाप तो बाप होता हैं। लेकिन मेरा बाप सबका बाप है। - इस जवाब पर लोगों ने जमकर ठहाके लगाए और खूब तालियां बजाईं। आगे की स्लाइड्स में देखें और फोटोज...

अर्नब ने जर्नलिज्म का सफरनामा साझा किया, बोले- डिमॉनिटाइजेशन एक अच्छा कदम

अर्नब ने जर्नलिज्म का सफरनामा साझा किया, बोले- डिमॉनिटाइजेशन एक अच्छा कदम

Last Updated: December 22 2016, 03:39 AM

जयपुर. भास्कर उत्सव के सातवें दिन मानसरोवर स्थित दीप स्मृति भवन में आयोजित टॉक शो में पत्रकार अर्नब गोस्वामी ने लोगों से जर्नलिज्म का सफरनामा साझा किया। उन्होंने बताया कि मेरे हिसाब से डिमॉनिटाइजेशन भविष्य के लिए एक अच्छा कदम है। मैं मानता हूं कि फिलहाल लोगों को थोड़ी परेशानी हो रही है, लेकिन यह कैश-लेस इकोनॉमी को बढ़ावा देगा और भ्रष्टाचार कम होगा। किसी भी भ्रष्ट आदमी को आप ऑनलाइन रिश्वत नहीं दे पाएंगे। मैंने खुद लाइन में लगकर पैसे निकाले हैं और 12 हजार जमा भी करवाए हैं। - आने वाला वक्त ऑनलाइन मीडिया का है इससे व्यवस्था में पारदर्शिता आएगी। - मेरे हिसाब से राहुल गांधी से मैं काफी विनम्र था लेकिन मैं सवाल पूछ कर खुद जवाब नहीं दे सकता। मोदी के साथ इंटरव्यू करने में मुझे मजा आया। मेरे चिल्लाने का कारण है नेताओं के प्रति गुस्सा - 21 साल का था जब जर्नलिज्म में आया, कुछ बदलने का माद्दा लेकर जिसे ललकारा गया या फिर दबाने की कोशिश की गई। मैं यूं ही नहीं चीखता। - मेरे अंदर आक्रोश भरा हुआ है उन भ्रष्ट नेताओं के खिलाफ जिन्होंने इस देश को बांटने का काम किया है। - जब मैं हिंदू कॉलेज में पढ़ रहा था तब मंडल कमीशन की घोषणा के बाद लोग मुझसे मेरी जाति पूछ रहे थे। - मुझे पहली बार लगा कि पॉलिटिशियंस मुझे ठग रहे हैं, जाति और धर्म के नाम पर। - एजुकेशन के बाद मेरे 70 फीसदी दोस्त देश छोड़ कर चले गए थे, लेकिन मैं देश छोड़ कर नहीं गया क्योंकि मैं बदलाव लाना चाहता था और मुझे अपने देश पर भरोसा था। हिंदी पत्रकारिता की पहुंच सभी तक - दैनिक भास्कर के चेयरमैन रमेशचंद अग्रवाल ने कहा कि भारत में 100 प्रतिशत लोगों तक पहुंचने के लिए हिंदी में पत्रकारिता करना जरूरी है। - भास्कर ने हमेशा पूरी ईमानदारी से पत्रकारिता की है और लोगों का विश्वास ही हमारी ताकत है। सक्सेस से ज्यादा फेलियर की करता हूं इज्जत, तीस हजारी बीट से की शुरुआत - जब मैंने टाइम्स नाउ को लॉन्च किया तो मुझे शुरुआत में लगा कि करियर खत्म हो जाएगा लेकिन फिर प्रिंस के कवरेज से दुबारा सक्सेस मिली क्योंकि उस स्टोरी का इम्पैक्ट हुआ। - इसलिए मैं फेलियर की आज भी सक्सेस से ज्यादा इज्जत करता हूं। - मेरी रिपोर्टिंग की शुरुआत तीस हजारी बीट से हुई थी। जैन हवाला डायरी को कवर करते वक्त तीस हजारी कोर्ट से मैं रिपोर्टिंग करता था। - चाहे वो सिंघानिया हो या आडवाणी, उनसे सवाल पूछता रहता। - 1996 में ज्योति बसु का इंटरव्यू करने गया तब पहले धक्का-मुक्की हुई फिर मुझे चोट भी लगी। कोई मदद को नही आया। - मैंने विरोध की ठान ली और लिखित माफी नहीं मिलने तक डटा रहा। आज भी माफी का वह पत्र मेरे पास है। डेढ़ पन्ने से मिला कॉमन वैल्थ घोटाले का सुराग, फिर जमा हो गए ढेरों दस्तावेज - मेरे पास डेढ़ पन्ना आया था जिसमें इतनी जानकारी थी के 2000 पाउंड यानी तीस प्रतिशत पैसा एक फर्जी एकाउंट में ट्रांसफर हुआ। - मैंने टीम के साथ प्लान किया कि पहले दिन सिर्फ ब्रांडिंग करेंगे कि हम यह मामला एक्सपोज कर रहे हैं। - जैसे ही हमने चलाया तो पहले फोन आने लगे, फिर ढेरों सबूत। - तत्कालीन खेल मंत्री सुरेश कलमाडी के एक प्रेस कॉनफ्रेंस में रिएक्शन को देखकर मेरा शक यकीन में बदला। - असल में कॉमनवैल्थ घोटले का सबसे बड़ा सबूत खुद कलमाडी ने दिया। - मनमोहन सिंह ने कॉन्फ्रेंस की तो मैंने जब सवाल पूछा तो उन्हें भी करप्शन पर बोलना पड़ा। - हैरान करने वाली बात यह है कि मुझसे पहले किसी ने भी भ्रष्टाचार पर सवाल नहीं पूछा। जर्नलिस्ट होने के नाते ओपिनियन देना हमारा अधिकार है - हमें सिखाया जाता है कि सिर्फ फैक्ट्स बताओ लेकिन मैं इस बेसिक रूल के सख्त खिलाफ हूं। - जर्नलिज्म की इस धारणा को सबसे पहले खत्म करना होगा। किस किताब से सिखाया जा रहा है ऐसा जर्नलिज्म? ओपिनियन देना जर्नलिस्ट का अधिकार है। - चार साल का बच्चा बेबाकी से ओपिनियन दे सकता है लेकिन 40 साल का जर्नलिस्ट नहीं और न ही वो सिस्टम या करप्शन पर सवाल दागता है। - मुझे दुख होता है जब में शहीद हनुमतकृपा के बारे में बात करता हूं और जेनयू के लोग और लुटियन जोन में बैठे पत्रकार लोग उसका विरोध करते हैं। - 26/11 की कवरेज के दौरान टेलिकास्ट को काट दिया गया और नेता धमकी दे रहे थे तब मैंने तुरंत लॉ मिनिस्टर को फोन किया और कहां कि आधे घंटे में टेलीकास्ट दुबारा शुरू होना चाहिए और 25 मिनट में हम दुबारा ऑन एयर थे। रिपब्लिक लोगों का होगा लोगों के लिए होगा - मेरा नया वेंचर रिपब्लिक लोगों का होगा, लोगों के लिए होगा। - पहली बार दिल्ली में जो लोग लुटियन जोन में बैठे हैं देश के मुद्दे तय नहीं करेंगे। - अब लोग जाग्रत हैं तभी निर्भया कांड के बाद लोग सड़क पर आ जाते हैं और नेताओं को सबसे ज्यादा डर इसी बात से लगता है। - रिपब्लिक देश से लॉन्च किया हुआ पहला ग्लोबल मीडिया होगा। मुझे सिर्फ आप का साथ चाहिए ताकि हम लोग एक बड़े बदलाव का हिस्सा बन सकें।

भास्कर उत्सव में मेहमानों का हुआ रेड कारपेट वेलकम

भास्कर उत्सव में मेहमानों का हुआ रेड कारपेट वेलकम

Last Updated: December 22 2016, 02:46 AM

जयपुर. भास्कर उत्सव में आयोजित कैलाश खेर की सूफियाना महफिल की पूरे शहर में चर्चा है। इसमें डिनर पार्टी के दौरान भास्कर परिवार ने शहर के गणमान्य लोगों का रेड कारपेट वेलकम किया। इसमें बिजनेस पर्सन, प्रशासनिक अधिकारी और पॉलिटिशियन्स ने हिस्सा लिया। आगे की स्लाइड्स में देखिए भास्कर उत्सव में पहुंचे वीआईपी गेस्ट की फोटोज।

अर्नब ने की bhaskar.com की तारीफ, कहा- यूजर्स को मिली ताकत

अर्नब ने की bhaskar.com की तारीफ, कहा- यूजर्स को मिली ताकत

Last Updated: December 22 2016, 02:12 AM

जयपुर. राजस्थान में दैनिक भास्कर के 20 साल पूरे होने पर मनाए जा रहे भास्कर उत्सव में बुधवार को जर्नलिस्ट अर्नब गोस्वामी जयपुर के लोगों से रूबरू हुए। अपनी स्पीच के दौरान अर्नब ने भास्कर की तारीफ करते हुए कहा कि डिजिटल काफी अहम है। आने वाले वक्त में हम डिजिटल का वैसा इस्तेमाल देखेंगे, जैसा पहले कभी नहीं हुआ। इसके साथ उन्होंने कहा कि आप (भास्कर समूह) डिजिटल में जो कर रहे हैं, मैं उसके लिए आपको कॉम्प्लीमेंट करना चाहूंगा। डिजिटल मीडियम के लिए अर्नब ने की भास्कर समूह की तारीफ... - डिजिटल मीडिया की ताकत और उसके बढ़ते इस्तेमाल के बारे में अर्नब ने कहा, आप (भास्कर समूह) डिजिटल में जो कर रहे हैं, मैं उसके लिए आपको कॉम्प्लीमेंट करना चाहूंगा। - अर्नब ने कहा, डिजिटल काफी अहम है। आने वाले वक्त में हम डिजिटल का वैसा इस्तेमाल देखेंगे, जैसा पहले कभी नहीं हुआ। आज मिलियन्स यूजर्स हैं जो बढ़ते जाएंगे। ये ही डिजिटल न्यूज के कंजम्प्शन को बढ़ाएंगे। ये ताकत इनके हाथों में होगी। ओवर द टॉप (ओटीटी) डिवाइसेस जैसी चीजों का भविष्य में इस्तेमाल बढ़ेगा। ...और ये काफी डेमोक्रटाइज कर देगा क्योंकि अगर आप हमें किसी एक प्लेटफॉर्म पर रोकेंगे तो हमारे पास ऑडिएंस तक पहुंचने के 30 दूसरे तरीके भी होंगे। रीजनल ताकत सीमित नहीं रही - छोटे शहरों की खबरों और उनकी ताकत के बारे में अर्नब ने कहा, रीजनल कॉन्टेंट छोटे इलाकों तक सीमित नहीं रहेगा। बड़े ग्लाेबल न्यूज नेटवर्क की ताकत रीजनल कॉन्टेंट होगा। रीजनल और नेशनल स्टोरीज के बीच की खाई खत्म हो जाएगी क्योंकि भुवनेश्वर के अस्पताल में आग लग जाने की घटना उतनी ही अहमियत रखती है, जितनी आम आदमी पार्टी से जुड़ी कोई खबर। अभी हालात ऐसे हैं कि दिल्ली तक सीमित एक पार्टी देशभर के 50% मीडिया कवरेज को डॉमिनेट करती है। राजस्थान, मध्य प्रदेश, बंगाल के बारे में कोई बात नहीं करता। सिर्फ दिल्ली की बात होती है। आगे की स्लाइड्स में देखिए अर्नब के टॉक शो की फोटोज।

माइकल जैक्सन जैसे दिखने और डांस करने की कोशिश करता है से बॉलीवुड एक्टर

माइकल जैक्सन जैसे दिखने और डांस करने की कोशिश करता है से बॉलीवुड एक्टर

Last Updated: December 21 2016, 10:22 AM

जयपुर। बॉलीवुड अभिनेता जैकी श्रॉफ के बेटे टाइगर श्रॉफ माइकल जैक्सन को अपना आइडियल मानते हैं। टाइगर डांसिंग स्टाइल में माइकल को कॉपी करते हैं। उनके जैसा दिखने की भी कोशिश करते हैं। टाइगर माइकल पर बनने वाली फिल्म में काम भी करना चाहते हैं। जानिए टाइगर ऐसा क्यों कह रहे हैं& जयपुर में 9 दिवसीय भास्कर उत्सव का आयोजन किया जा रहा है। इस आयोजन के तहत 20 दिसंबर को मानसरोवर वीटी रोड स्थित हाउसिंग बोर्ड ग्राउंड में म्यूजिकल नाइट कार्यक्रम आयोजित हो रहा है। इस कार्यक्रम में बालीवुड एक्टर टाइगर श्रॉफ अपनी रबर जैसी फ्लैक्सिबल बॉडी के साथ डांस प्रस्तुत करेंगे । ऐसे में dainikbhaskar.com इनसे जुड़ी कुछ रोचक जानकारी से रूबरू करा रहा है। - टाइगर माइकल जैक्सन पर काफी रिसर्च कर चुके हैं। उनकी डांसिंग स्टाइल से लेकर उनके बोलने, चलने समेत उनकी लाइफ स्टाइल को को भी जान चुके हैं। - टाइगर का कहना है कि माइकल जैक्सन के बायोग्राफी पर बनने वाली फिल्म में काम करना उनके सपने जैसा है। इस वजह से पड़ा टाइगर नाम - टाइगर श्रॉफ अपने नाम के पीछे की कहानी को भी साझा कर चुके हैं। - दरअसल टाइगर बचपन में लोगों को काटते और नाखून से नोंचते बहुत थे। - ऐसे में इनका नाम टाइगर पड़ गया। डांस स्कूल खोलना चाहते हैं टाइगर - टाइगर अपने एक इंटरव्यू में बता चुके हैं कि वो एक डांसिंग स्कूल खोलना चाहते हैं। - वे चाहते हैं कि इसमें ऐसा प्रतिभाएं आएं जिन्हें अक्सर वंचित होने के चलते मौके नहीं मिल पाते हैं। - ऐसे में ये प्रतिभाएं किसी गली-कूचे तक सीमित रह जाते हैं। - टाइगर बताते हैं कि उन्हें माइकल जैक्सन के अलावा बॉलीवुड में हृतिक रोशन का डांस बहुत अच्छा लगता है। अगली स्लाइड्स में क्लिक करके देखिए खबर की और फोटोज...

सोशल मीडिया पर मजाक बना टाइगर का Look, बताया कैसा फील करते हैं

सोशल मीडिया पर मजाक बना टाइगर का Look, बताया कैसा फील करते हैं

Last Updated: December 21 2016, 06:40 AM

जयपुर. डांस स्टाइल अलग होना और स्टंट कर लेना असल में ये सब बचपन से ही है। मैं इतना उछलकूद करता था कि वो एनर्जी आज कॅरिअर में काम आ रही है। मां शर्मीली स्वभाव की है इसलिए उनका यह गुण मुझमें है। इसलिए डांस करके खुद को अच्छे से व्यक्त कर पता हूं। ये सब बातें मंगलवार को भास्कर उत्सव के लिए जयपुर आए टाइगर श्रॉफ ने भास्कर से शेयर की। इस दौरान उन्होंने सोशल मीडिया पर उनके चेहरे को लेकर चलने वाले मजाक पर भी बात कि। पढ़ें मजाक बनने पर कैसा फील करते हैं टाइगर... - टाइगर ने बताया कि स्टार किड होना खुशकिस्मती हो सकती है, लेकिन बॉलीवुड में कॉम्पीटिशन टफ है। - मैं तभी दर्शकों के बीच प्यार पा सकूंगा जब सब से अलग दे पाऊं। - लुक को लेकर सोशल मीडिया पर चलने वाले मजाक पर कहते हैं, असल में मुझे अच्छा लगता है कि लोग करीना कपूर से शक्ल मिला रहे हैं। - इस बहाने ही सही उनके बीच मैं टॉकिंग पॉइंट तो हूं। - सिक्स पैक के लिए मैं मानता हूं कि हर किसी में नॉलेज होता है वो उसका इस्तेमाल करे। हैल्थ पहले है बाकी चीज बाद में हैं। बचपन में काटता था तो टाइगर नाम दे दिया - जब भी घर में कोई आता तो मैं बचपने में उन्हें काटता था। मेरी इस आदत के कारण मेरा नाम टाइगर रख दिया। मैं खाली नहीं बैठ सकता। - कुछ न कुछ काम करते रहना चाहता हूं। इसलिए मैंने बचपन में जी भर कर शरारत की। स्कूल में सबसे शरारती और फुर्तीला - सबसे ज्यादा मार स्कूल में मुझे ही पड़ी। हर वक्त उछल-कूद और क्लास में बच्चों को मार कर भाग जाना मेरी आदत थी। - इतना तेज भागता था कि मुश्किल से पकड़ आता था। स्पोर्ट्स में रुचि होने के कारण खुद को इतना फुर्तीला बनाया। अगर मैं स्टार नहीं होता तो फुटबॉलर होता। रितिक से इंस्पायर्ड हूं - फ्लाइंग जट; करते वक्त मुझे किसी तरह की इन सिक्योरिटी नहीं हुई। चूंकि मैं रितिक से इंसपायर्ड हूं तो कृष; टाइप की फिल्म करना चाहता था। - अब स्पाइडरमैन; जैसी फिल्म करना चाहता हूं। मेरा सपना है कि जैसे आज घर-घर में बच्चे ब्रूस ली को पहचानते हैं, ठीक वैसे ही बच्चे टाइगर श्रॉफ को पहचानें। स्ट्रेस को मैनेज नहीं कर पाता - दो फिल्मों को मिली सफलता की वजह से मैंने फ्लाइंग जट; से जरूरत से ज्यादा उम्मीद लगा ली थी। - वो ज्यादा नहीं चल पाने के कारण स्ट्रेस में रहा। मेरी कमजोरी यही है कि मैं अपने स्ट्रेस को मैनेज नहीं कर पाता। - जब तक खुद को बिजी रखता हूं तब तक तो एंजॉय करता हूं। आगे की स्लाइड्स में देखिए सोशल मीडिया पर कैसे उड़ता है मजाक और जयपुर इवेंट की फोटोज।

भास्कर उत्सव: सूफियाना महफिल में मेहमानों का रेड कारपेट वेलकम, ये VIP हुए शामिल

भास्कर उत्सव: सूफियाना महफिल में मेहमानों का रेड कारपेट वेलकम, ये VIP हुए शामिल

Last Updated: December 21 2016, 05:54 AM

जयपुर. गुलाबी ठंड में डिनर पार्टी के साथ कैलाश खेर की सूफियाना महफिल में गेट टूगेदर और मेहमानाें का रेड कारपेट वेलकम। यह खास मौका था दैनिक भास्कर उत्सव के पांचवें दिन एंटरटेनमेंट पैराडाइज में सोमवार रात आयोजित कैलाश खेर म्यूजिकल नाइट का। जहां पॉलिटिशियंस, ब्यूरोक्रेट्स, बिजनेस टाइकून और शहर की जानी-मानी हस्तियों ने शिरकत की। - इस बीच कैलाश खेर ने फेवरेट बीट्स ऐ जी म्हारे चतुर सुजान, ये दुनिया ऊट पटांगा, मैं तो तेरे प्यार में दीवाना हो गया जैसे गानों की लाइव प्रस्तुति दी। - कैलाश खेर ने कहा, किसी ने उनसे पूछा कि आप क्या करते हो, तो मैंने जवाब दिया कि मैं कुछ नहीं करता सिर्फ प्रेम करता हूं। - उनके गीतों में इश्क-ए-हकीकी और इश्क-ए-मिजाजी के भाव थे, मनुहार थी और नायक-नायिका के मिलन की उत्कंठा व विरह की पीड़ा भी थी जिसे लोगों ने शिद्दत से महसूस किया। ये खास मेहमान बने महफिल की शोभा गीतों की इस महफिल में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और उनके मंत्रिमंडल के सहयोगी राजेंद्र सिंह राठौड़, कालीचरण सराफ, वासुदेव देवनानी, यूनुस खान, भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी, कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट, महापौर अशोक लाहोटी सहित बड़ी संख्या में पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी व उद्योगजगत की हस्तियां मौजूद थीं। आगे की स्लाइड्स में देखिए सभी वीआईपी गेस्ट की फोटोज।

भास्कर उत्सव: कैलाश खेर का सूफियाना सफर- मैं तो तेरे प्यार में दीवाना हो गया...

भास्कर उत्सव: कैलाश खेर का सूफियाना सफर- मैं तो तेरे प्यार में दीवाना हो गया...

Last Updated: December 20 2016, 10:11 AM

जयपुर. राजस्थान में दैनिक भास्कर की 20वीं वर्षगांठ पर चल रहे भास्कर उत्सव के पांचवें दिन सोमवार शाम सिंगर कैलाश खेर का सूफियाना अंदाज लोगों को अलग ही दुनिया में ले गया। खास मेहमानों के लिए आयोजित यह प्रोग्राम जवाहर सर्किल स्थित इंटरटेनमेंट पैराडाइज में हुआ। सीएम वसुंधरा राजे भी इस प्रोग्राम में मौजूद रहीं। पहुंचे कई VVIP मेहमान... - कैलाश ने कार्यक्रम की शुरुआत, राह निहारूं... ; से की। - इसके बाद उन्होंने, मैं तो तेरे प्यार में दीवाना हो गया... ; की तान छेड़ी। ऑडियन्स उनकी आवाज सुनकर झूम उठी। - दूसरा गाना खत्म करने के बाद कैलाश बोले, ये राजस्थान की धरती ही कुछ ऐसी है कि कलाकार और कला यहां जन्म लेते हैं। - लगातार शो चल रहे थे। लेकिन जैसे ही यहां आने का निमंत्रण मिला मैं आ गया। ट्वीट कर लिखा था मैं जा रहा हूं अपने मन की जगह। - इसके बाद उन्होंने अपना फेमस नंबर तौबा-तौबा उफ तेरी सूरत...माशा अल्लाह ये तेरी सूरत...; कैसे बताएं क्यों तुझे चाहें... पेश किया। कैलाश ने सीएम को यूं रोका - कैसे बताएं गाने के बताएं गाने के बाद कैलाश ने कहा कि जब आप अच्छा गाते हैं तो आप पर परमात्मा की कृपा होती है। - इसी दौरान सीएम वसुंधरा राजे जानें लगीं। कैलाश ने कहा- मैडम आपके लिए तेरी दीवानगी गाना बचा के रखा है;। इस पर सीएम रुक गईं। - इसके बाद उन्होंने अपने फेमस नंबर्स, प्रीत की लत मोहे ऐसी लागी...., तेरे नाम पर जी लूं, तेरे नाम पर मर जाऊं.... गाए। - कैलाश ने इसके बाद, जोबन छलके..., तेरे बिन नहीं लगता दिल मेरा ढोलना..., पिया के रंग रंग दीनी..., ढोल बजता तुंबा बजाता..., या रब्बा दे-दे कोई जान भी अगर... जैसे हिट नंबर पेश किए। शेयर की राजस्थान से जुड़ी यादें - कैलाश खेर का स्वागत मिराज ग्रुप के चेयरमैन मदन पालीवाल ने किया। - इस दौरान कैलाश ने कहा, हमारे ग्यारह साल पहले जितने भी वीडियो बने हैं, उसमें राजस्थान का सबसे बड़ा योगदान है। - दीया कुमारी के सहयोग से भी सिटी पैलेस में वीडियो शूट किए हैं। ये दुनिया ऊट पटांगा से खत्म हुई महफिल - अपने स्वागत के बाद कैलाश ने नैहरवा हमका न भावे नैहरवा... गाया। - इसके बाद कैलाश ने केश खोलकर, हाथ में डमरू लिए बगड़ बम बबम... गाना शुरू किया तो हर दर्शक झूम उठे। - उन्होंने जब टूटा टूटा एक परिंदा ऐसे टूटा..., हीरे मोती मैं ना चाहूं... गाया तो पब्लिक का जोश सातवें आसमान पर था। - इस शानदार महफिल का समापन कैलाश के सुपरहिट नंबर, ये दुनिया ऊट पटांगा... हुआ। सरकार और विपक्ष के कई बड़े नेता पहुंचे - प्रोग्राम में खास मेहमान पहुंचे। इनमें राजस्थान बीजेपी प्रेसिडेंट अशोक परनामी, कांग्रेस नेता सचिन पायलट, विधायक और जयपुर रॉयल फैमिली की मेंबर दीया कुमारी शामिल थे। बाबा रामदेव के टॉक शो से शुरू हुआ था उत्सव - 9 दिवसीय भास्कर उत्सव का आगाज 15 दिसंबर को बाबा रामदेव के टॉक शो से हुआ था। - इसके बाद एड गुरु पीयूष पांडे, एक्टर आमिर खान के साथ फिल्म डायरेक्टर फराह खान का कन्वर्सेशन, मास्टर शेफ संजीव कपूर और कवि सम्मेलन के आयोजन हुए। उत्सव में आगे क्या? 20 दिसंबर शाम 7:30 बजे- राजस्थान हाउसिंग बोर्ड ग्राउंड, वीटी रोड, मानसरोवर पर सुनिधि चौहान और टाइगर श्रॉफ की म्यूजिकल डांस नाइट होगी। 21 दिसंबर शाम 4 बजे- दीप स्मृति ऑडिटोरियम, टैगोर इंटरनेशनल स्कूल, मानसरोवर में पहली बार फेमस जर्नलिस्ट अर्नब गोस्वामी रूबरू होंगे। 23 दिसंबर सुबह 8:30 बजे- 15 हजार स्कूली स्टूडेंट्स के लिए पेन्टिंग कॉम्पिटीशन रखा गया है। इसमें 4th से लेकर 12th क्लास तक के स्टूडेंट्स अपनी क्रिएटिव सोच सामने लाएंगे। कॉम्पिटीशन जयपुरिया विद्यालय में होगा। फिल्म बजरंगी भाईजान फेम चाइल्ड आर्टिस्ट हर्षाली मल्होत्रा स्टूडेंट्स को मोटिवेट करेंगी। यह भी पढ़ें: 1# <a href='http://www.bhaskar.com/news/RAJ-JAI-HMU-baba-ramdev-at-bhaskar-rajasthan-utsav-news-hindi-5482396-PHO.html?ref=ht'>रामदेव बोले- रणवीर चुलबुला, बेशर्म है राखी; मोदी को बताया फेवरेट एक्टर पर डिनर की चाहत वसुंधरा के साथ</a> 2# <a href='http://www.bhaskar.com/news/c-10-baba-ramdev-live-chat-just-after-patanjali-fined-rs-NOR.html?ref=ht'>रामदेव ने कहा- आरटीआई में 5 लाख करोड़ रु. का हिसाब नहीं, रिजर्व बैंक ने क्या एक नंबर के दो-दो नोट छापे?</a> 3# <a href='http://www.bhaskar.com/news/c-10-dainik-bhaskar-celebrating-bhaskar-utsav-in-rajasthan-NOR.html?ref=ht'>संजीव कपूर ने पहली बार सात सुरों के साथ बनाईं सात डिशेस</a> 4# <a href='http://www.bhaskar.com/news-ht/c-10-add-guru-piyush-pandey-in-jaipur-jp0957-NOR.html'>राहुल गांधी के लिए ऐड कैम्पेन के सवाल पर बोले पीयूष पांडे- ऐसा काम नहीं लूंगा जिसमें 50 साल लगें</a> 5# <a href='http://www.bhaskar.com/news-ht/c-10-amir-khan-and-farah-khan-at-bhaskar-utsav-jaipur-jp0556-NOR.html'>भास्कर उत्सव: आमिर खान ने कहा- जो स्टारडम सलमान-शाहरुख में है, वो मुझमें नहीं है, वे आते हैं तो मैं भी उठ जाता हूं</a> 6# <a href='http://www.bhaskar.com/news-ht/c-10-dainik-bhaskar-utsav-2016-interesting-statements-by-the-aamir-khan-jp0925-NOR.html'>आमिर ने पहली बार बताईं ये बातें: पांचवां प्यार थीं रीना, तीन लड़कियों ने किया था रिजेक्ट</a> 7# <a href='http://www.bhaskar.com/news-ht/c-10-10-poets-in-jaipur-at-bhaskar-utsav-jp0556-NOR.html'>भास्कर उत्सव: कुमार विश्वास की रचना- किसी दिल की मायूसी जहां से होकर गुजरी है, हमारी सारी चालाकी वहीं खोकर गुजरी है</a>

भास्कर उत्सव: सर्द रात में सजी सूफियाना महफिल, राजनीति के दिग्गज पहुंचे

भास्कर उत्सव: सर्द रात में सजी सूफियाना महफिल, राजनीति के दिग्गज पहुंचे

Last Updated: December 20 2016, 04:07 AM

जयपुर. शहर के खास लोगों के बीच जब कैलाश खेर अपनी सूफियाना आवाज के साथ मंच पर आए तो वहां बैठा हर शख्स उससे निकले सुर, लय, ताल और भावों के सुहाने मंजर से सराबोर हो गया। रात को घड़ी की सुईयां जैसे ही साढ़े आठ पर आकर टिकीं बिना किसी मंचीय औपचारिकता या अतिरिक्त घोषणा के कैलाश खेर ने भागते हुए मंच पर प्रवेश किया और राजस्थानी लोक गीत एजी म्हारे चतुर सुजान; शुरू किया। मौका था 9 दिवसीय भास्कर उत्सव की पांचवीं कड़ी में इंटरटेनमेंट पैराडाइज के लॉन में आयोजित कैलाश खेर नाइट का। मंच के सामने बैठे सैकड़ों श्रोताओं ने भी कैलाश के इस सादगी भरे अंदाज को दिल में बसाकर उनके गीतों को दिल की गहराइयों में उतारना शुरू कर दिया। इस गीत के बाद कैलाश ने दूसरा गीत मैं तो तेरे प्यार में दीवाना हो गया; शुरू किया। इस गीत में प्यार में इंतजार की कसक के भाव खास थे। ग-म-धा-नि-सा, ग-म-धा-नि-सा की सरगम इस गीत की कशिश में और भी इजाफा कर रही थी। गीत खत्म हुआ तो कैलाश खेर ने कहा राजस्थान की धरती ही कुछ ऐसी है। कला और कलाकार यहां की मिट्टी में जन्म लेते हैं इसलिए जब भी यहां आता हूं, पांच-छह लीटर खून बढ़ाकर आता हूं। इसके बाद उन्होंने 2006 में रिलीज हुई उनकी रचना तौबा-तौबा वे उफ, तेरी सूरत माशा अल्लाह सुनाई। मैं सिर्फ प्रेम करता हूं कैलाश खेर ने कहा, किसी ने उनसे पूछा कि आप क्या करते हो, तो मैंने जवाब दिया कि मैं कुछ नहीं करता सिर्फ प्रेम करता हूं। उनके गीतों में इश्क-ए-हकीकी और इश्क-ए-मिजाजी के भाव थे, मनुहार थी और नायक-नायिका के मिलन की उत्कंठा व विरह की पीड़ा भी थी जिसे लोगों ने शिद्दत से महसूस किया। सुनाई 2006 में रिलीज हुई रचना इसके बाद उन्होंने 2006 में रिलीज हुई उनकी रचना तौबा तौबा वे, उफ तेरी सूरत माशा अल्लाह वे तेरी सूरत सुनाकर अपनी चर्चित रचना तू जाने ना, कैसे बताऊं बातें जो दिल की सुनाया तो वहां मौजूद लोग भी इस रचना के सुर में सुर मिलाकर गाने लगे। गीत खत्म होने पर कैलाश ने लोगों की प्रशंसा करते हुए कहा, आप लोग खुलकर गाइए। अच्छा गाना भी परमात्मा की एक कृपा होती है एण्ड यू ऑल सिंगिंग वैरी नाइस थैंक्यू वैरी मच। फिर लगी प्रीत की लगन कार्यक्रम में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से कैलाश खेर ने एक बार फिर मुखातिब होते कहा कि मैडम आप कला की कद्र जानते हैं, हम लोगों ने आपकी देखरेख में यहां कई कार्यक्रम दिए हैं। राजस्थान कलाकारों की भूमि है, देश में धनवानों की भी कमी नहीं है इसलिए आपसे निवेदन है कि आप यहां लॉस एंजिल्स की तर्ज पर संगीत के लिए एक गहराई वाला ऑडिटोरियम बनवाएं। इसके बाद उन्होंने अपनी चर्चित रचना तेरे नाम से जी लूं तेरे नाम से मर जाऊं; सुनाई। ये खास मेहमान बने महफिल की शोभा गीतों की इस महफिल में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और उनके मंत्रिमंडल के सहयोगी राजेंद्र सिंह राठौड़, कालीचरण सराफ, वासुदेव देवनानी, यूनुस खान, भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी, कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट, महापौर अशोक लाहोटी सहित बड़ी संख्या में पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी व उद्योगजगत की हस्तियां मौजूद थीं।

Flicker