• देखिये ट्रेनडिंग न्यूज़ अलर्टस

दर्शन

  • इस एक्ट्रेस ने बताई स्ट्रगल के द‍िनों की दास्तां, कभी ऐसे करती थी गुजारा
    Last Updated: March 22 2017, 20:16 PM

    लखनऊ. बॉलीवुड की कई फिल्में अप्रैल में रिलीज को तैयार हैं। इसी कड़ी में 7 अप्रैल को मिर्जा जूलियट रिलीज हो रही है। फिल्म के ट्रेलर और गाने को सोशल मीडिया पर काफी अच्छा रेस्पॉन्स मिला है। यूपी की रहने वाली फिल्म की एक्ट्रेस पिया बाजपेई होली में अपने होम टाउन इटावा आईं। DainikBhaskar.com से खास बातचीत में उन्होंने अपनी फिल्म, अपने स्ट्रगल और लाइफ से जुड़े कई इंटरेस्टिंग किस्से बताए। उन्होंने बताया कि कैसे मुंबई में अपने स्ट्रगल के दिनों में उन्हें डॉग के बगल में सोना पड़ा था। पढ़ें पिया बाजपेई का पूरा इंटरव्यू, जिसमें उन्होंने लाइफ से जुड़े कई इंटरेस्टिंग किस्से बताए... #प्यार में इमोशन बहुत होता है, पर सच तो ये है कि उतना ही कन्फ्यूजन होता है। फिल्म की इस टैगलाइन का क्या मतलब है? - ये कोई टैगलाइन नहीं है। कोई कन्फ्यूजन नहीं है। फिल्म के गाने को देखते हुए इसे इमोशन का कन्फ्यूजन कहा गया है। उस सॉन्ग को लेकर ये टैगलाइन लाइन रखी गई है। फिल्म को लेकर कोई कन्फ्यूजन नहीं है। (बता दें, फिल्म के लीड एक्टर मैरी कॉम और NH-10 फेम दर्शन कुमार हैं। लव स्टोरी बेस्ड इस फिल्म से लंबे समय के बाद तुम बिन फेम एक्टर प्रियांशु अपना कमबैक कर रहे हैं।) आगे की स्लाइड्स में पढ़ें, पिया को कैसे मिली फिल्म, जब अपने स्ट्रगल के दिनों में पिया को एक डॉग के बगल में सोना पड़ा और ऐसे ही दूसरे इंटरेस्टिंग किस्से...

  • गुजरात की अनोखी परंपरा: लोग दहकते अंगारों पर चलते हैं नंगे पांव
    Last Updated: March 15 2017, 12:43 PM

    गांधीनगर। होली का हर किसी के लिए विशेष महत्व होता है। यहां पालज गांव में जब होली जलती है, तब इसके अंगारे पर लोग नंगे पांव चलते हैं। इसमें बच्चे से लेकर बूढ़े भी शामिल होते हैं। मजाल है कि किसी को हल्की-सी भी चोट पहुंची हो। आज की पीढ़ी के लिए भले ही चमत्कार हो, पर गांव वालों के लिए यह एक परंपरा है, जिसे वे बरसों से निभा रहे हैं। देश-विदेश से लोग आते हैं देखने& अंगारों पर नंगे पांव चलने की इस परंपरा को देखने के लिए लोग देश-विदेश से बड़ी संख्या में आते हैं। गांव वालों के अनुसार हमारे यहां महाकाली माता का मंदिर है। उसके सत के कारण दहकते अंगारों पर नंगे पांव चलने के बाद भी किसी को हल्की-सी भी चोट नहीं पहुंचती। शाम सात बजे तक एक निश्चित स्थान पर 25 फीट ऊंचा लकड़ी का ढेर तैयार किया जाता है। उसके बाद पूजा-पाठ की जाती है। सबसे पहले महाकाली मंदिर के पुजारी दहकते अंगारों पर चलते हैं, उसके बाद जय महाकाली; के जयघोष के साथ अन्य लोग चलने लगते हैं। अंगारों पर चलने के लिए लोगों की लाइनें लगती हैं। इस लाइन में बच्चे से लेकर बूढ़े तक शामिल होते हैं। आज तक किसी को भी कोई शिकायत नहीं हुई। कहीं से भी किसी के जलने की भी सूचना नहीं है। बुखार तक किसी को नहीं आया। अंगारों पर चलने वाले साल भर पूरी तरह से स्वस्थ रहते हैं। इस दिन गांव में मेला भरता है। जिसमें काफी लोग शामिल होते हैँ। आगे की स्लाइड्स में देखें PHOTOS...

  • गाली-गलौज और बोल्ड सीन्स से भरा है ये ट्रेलर, प्रियंका के 'पति' का नया अवतार
    Last Updated: March 09 2017, 10:59 AM

    डीबी वीडियोज में हम आपको दुनियाभर के ट्रेंडिंग, न्यूज, फनी वीडियोज दिखाते हैं. हमारी कोशिश है कि वीडियो के मार्फत आपकी नॉलेज भी बढ़े और आपको एंटरटेन भी कर सकें. डीबी वीडियोज पर आप बॉलीवुड, स्पोर्ट्स, टिप्स, हेल्थ, गैजेट, इंटरनेशनल, नेशनल हैपनिंग के हर वीडियोज को देख सकते हैं.

  • भेरी अकबरपुर में बाबा रामदेव के दर्शन के लिए पहुंचे हजारों श्रद्धालु
    Last Updated: February 07 2017, 06:32 AM

    उकलाना मंडी. गांव भेरी अकबरपुर में लगे बाबा रामदेव महाराज के तीन दिवसीय वार्षिक मेले के दौरान सोमवार को माघ शुक्ल पक्ष की दशमी के दिन भारी संख्या में श्रद्घालुओं ने पूजा अर्चना करके मन्नत मांगी। हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, दिल्ली, उत्तरप्रदेश आदि अनेक प्रांतों के हजारों श्रद्घालुओं ने भाग लिया। रामदेव मेला प्रबंधक कमेटी द्वारा दर्शनार्थियों के लिए लगाई गई बैरिकेड्स व्यवस्था से श्रद्घालुओं ने पंक्तिबद्घ होकर मंदिर में प्रवेश किया। मंदिर परिसर तक सड़क पर लगी लाइन में बाबा रामदेव महाराज के जयकारे गूंज रहे थे। सड़क के दोनों किनारे छोटे-बड़े करीब डेढ़ हजार स्टालों पर श्रद्घालुओं ने खरीदारी की। करीब दो किलोमीटर की दूरी में कहीं झूले, कहीं मदारी, कहीं मनोरंजन के अनेक साधन बच्चों को लुभा रहे थे। मेला प्रबंधक कमेटी के प्रधान रामकिशन मुंजाल, हवा सिंह, नरसी राम,अनूप धतरवाल,धूपसिंह, धर्मवीर, बद्री, मनीराम, जयबीर, राजेन्द्र, दलबीर, प्रेम, रामकुमार व भीमराव अंबेडकर युवा संगठन के स्वयंसेवकों ने मेले में शांति का माहौल बने रहने पर बाबा रामदेव को नमन किया। बाबा रामदेव के गूंजे जयकारे अग्रोहा | लांधड़ी, फ्रांसी, दुर्जनपुर के ित्रवेणी धाम, जाखोदखेड़ा व जगाण गांव में बाबा रामदेव जी महाराज के धाम पर दशमी के अवसर पर श्रद्धालुओं ने पूजा अर्चना की। इस अवसर पर मेला का आयोजन किया गया। धाम में अल-सुबह ही श्रद्धालुओं की भारी भीड़ पूजा अर्चना करने के लिए आनी शुरू हो गई। पुरा क्षेत्र बाबा रामदेव जी के जयकारों से गूंज उठा। लांधड़ी धाम के पुजारी संजय कामड़ ने बताया कि मेला में प्रदेश के अलावा दूसरे राज्यों के लोग भी बाबा के दर्शन के लिए आते हैं।

  • सूफियाना माहौल में जमकर झूमे हरियाणा दर्शन पर निकले NRI हरियाणवी
    Last Updated: January 13 2017, 15:33 PM

    करनाल। अपनी माटी की खुशबू को फिर से ताजा करने के लिए हरियाणा दर्शन पर निकले एनआरआई हरियाणवी गुरुवार रात होटल नूरमहल में पहुंचे तो प्रशासनिक अधिकारियों व होटल प्रबंधन ने उनका वेलकम किया। प्रसिद्ध सूफी गायिकाओं नूरां बहनों के आवाज के जादू ने उन्हें बांधकर रखा। प्रवासियों ने कहा-गौरव की अनुभूति होती है यहां आकर... - बताते चलें कि प्रवासी हरियाणा दिवस समारोह में शामिल हुए प्रवासी हरियाणवियों को सरकार ने हरियाणा दर्शन कराने का प्रोग्राम बनाया है। - इसी प्रोग्राम के तहत रोहतक में राष्ट्रीय युवा महोत्सव का आनंद मान चुके प्रवासी हरियाणवी अपने आगे के सफर पर चलने के बाद रात के समय यहां होटल नूरमहल में पहुंचे। यहां उनके लिए हरियाणा टूरिज्म की ओर से कार्यक्रम रखा गया। - उनका सीपीएस बख्शीश सिंह, हरियाणा टूरिज्म के एमडी समीर पाल सरों, एडीसी प्रियंका सोनी, एसपी जेएस रंधावा, एसडीएम योगेश कुमार व इंद्री के एसडीएम अश्र्विनी मलिक और होटल नूरमहल की ओर से सीएमडी कर्नल मनबीर चौधरी व जीएम चंद्रशेखर पुरी ने स्वागत किया। - जालंधर की नूरां बहनों ज्योति व सुल्ताना नुरां ने सुफियाना गायन से प्रवासियों को वक्त बीतने का पता नहीं चलने दिया। उन्होंने सूफियाना गायकी के तिलिस्म में श्रोताओं को बांध दिया। - एक के बाद एक बेहतरीन प्रस्तुतियों से प्रवासी गायकी के समंदर में हिचकौले खाते रहे है। उन्होंने अल्लाह हू दा आवाजा आवे, कुल्ली नी फकीर दी विच्चौं गीत पर श्रोताओं को खूब झुमाया। - प्रवासी मेहमानों के लिए रात्रि भोज का भी विशेष इंतजाम किया गया। प्रवासियों के रात्रि विश्रम का बंदोबस्त भी होटल नूरमहल व ज्वैल्स में किया गया। वह यहां से शुक्रवार को कुरुक्षेत्र में भ्रमण के लिए रवाना हो गए। मेहमानों की आवभगत में रहे अधिकारी - प्रवासी हरियाणवियों की आवभगत के लिए होटल की ओर से खास इंतजाम किए गए। इन सभी इंतजामों पर अधिकारियों ने निगाह रखी। - अधिकारियों ने प्रवासी हरियाणवियों से एक-दूसरे का परिचय करवाया और उन्हें करनाल के बारे में भी जानकारी दी। होटल नूरमहल की वास्तुकला को भी प्रवासियों ने खूब सराहा और इस दौरे को यादगार बताया। इस तरह रहेगा हरियाणा दर्शन कार्यक्रम - प्रवासी हरियाणा दिवस में देश-विदेश से भाग लेने आए प्रवासी हरियाणवी 12 व 13 जनवरी को हरियाणा दर्शन पर हैं। - 140 प्रवासी हरियाणवियों का यह दल वॉल्वो बसों के जरिए गुड़गांव से रोहतक में 12 जनवरी से आयोजित किया जा रहा राष्ट्रीय युवा महोत्सव में पहुंच उद्घाटन सत्र का साक्षी बना। - वीरवार को इस दल का रात्रि ठहराव करनाल के नूरमहल होटल में हुआ, जहां पर इनके लिए सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए गए। - अब 13 जनवरी लोहड़ी पर्व पर इस दल को धर्मक्षेत्र कुरुक्षेत्र का भ्रमण करवाया जाएगा, जहां पर वे ऐतिहासिक और धार्मिक स्थलों को देखेंगे। - कुरुक्षेत्र में दोपहर भोज के बाद यह दल पिंजौर के लिए रवाना होगा। पिंजौर गार्डन देखने के बाद यह दल वापस दिल्ली के लिए रवाना होगा। - रास्ते में सोनीपत के राई स्थित एथनिक इंडिया पर्यटन केंद्र पर इस दल के लिए जलपान की व्यवस्था की गई है। शुक्रवार को यह दल वापस दिल्ली पहुंच जाएगा। आगे की स्लाइड्स में देखें चुनिंदा फोटोज...........

  • सपा में विवाद के बीच अखिलेश ने किया जनता दर्शन, देखें PHOTOS
    Last Updated: January 12 2017, 16:14 PM

    लखनऊ. सीएम अखिलेश यादव गुरुवार को जनता दर्शन हॉल पहुंचे। जहां सीएम ने फरियादियों से मुलाकात की। साथ ही सीएम ने फरियादियों की शिकायत से संबंधित अधिकारियों को इन शिकायतों के निस्तारण के आदेश भी दिए। झगड़े के बीच किया जनता दर्शन - बता दें, फिलहाल में सपा में घमासान मचा हुआ है। अखिलेश और मुलायम गुट पार्टी पर कब्जे को लेकर चुनाव आयोग में एफिडेविट फाइल कर चुके हैं। - इसी बीच जहां मुलायम पार्टी पर फिर से अपना कब्जा बनाने के रणनीति बना रहे हैं। वहीं, सीएम ने गुरुवार को जनता दर्शन किया। आगे की स्लाइड्स में देखें अन्य फोटोज...

  • 97 हजार करोड़ रुपए का मालिक है ये परिवार, छोटी-सी गुमटी में यूं पी चाय
    Last Updated: December 18 2016, 16:49 PM

    इंदौर। हिंदुजा बंधु दुनिया के 100 सबसे ज्यादा रईस लोगों में शुमार हैं। इनकी कुल संपत्ति 97 हजार करोड़ रुपए की संपत्ति के लगभग है। लेकिन बीते दिनों जब ये एमपी के उज्जैन में महाकाल मंदिर में दर्शन का करने पहुंचे तो इनका अंदाज ही अलग था। गोपीचंद और अशोक मंदिर से निकलकर महंगे होटल को छोड़ छोटी-सी गुमटी में चाय पीने जा पहुंचे। चाय के साथ लिया नमकीन और पोहे का लुत्फ, साथ गए लोगों को सुनाया गाना... - इंदौर में आयोजित ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के बाद हिंदुजा समूह के को-चेयरमेन गोपीचंद हिंदुजा, भाई अशोक, कुछ रिश्तेदारों, साउथ अफ्रीका के बड़े कारोबारी दिलीप लखी, इंदौर के मित्र ईश्वर व पुष्पेंद्र झामनानी और गोपाल कोडवानी के साथ महाकाल के दर्शन के लिए गए थे। - पुष्पेंद्र बताते हैं कि अभिषेक के बाद जब हम लोग मंदिर से निकले तो जीपी (गोपीचंद हिंदुजा ) साहब ने चाय पीने की इच्छा जताई। - इस पर हमने उन्हें कहा कि इंदौर रोड पर कुछ अच्छी होटल्स हैं, वहां रुककर चाय पी लेंगे। लेकिन मंदिर के सामने ही चाय की एक छोटी-सी दुकान देखकर वे कहने लगे कि होटल की क्या जरूरत है, ये दुकान अच्छी है। चलो यहीं चाय पीते हैं। - ये कहकर वे दुकान के भीतर चले गए। अंदर बैठकर उन्होंने सबके लिए चाय का ऑर्डर दिया। उन्होंने दुकानदार से कहा कि भाई थोड़ी भूख लग रही है कुछ खिला दो। - चाय वाले ने प्लेट में नमकीन और पोहा परोस दिया। इसी दौरान पीएम मोदी की बात निकली तो उन्होंने कहा कि मोदी ने ये साबित कर दिखाया है कि विजन बड़ा हो तो चाय वाला भी बड़ा काम कर सकता है। - चाय की इस दुकान पर जीपी का एक नया रूप सामने आया उन्होंने दुकान में चाय की चुस्कियां लेते हुए संगम फिल्म का एक गाना भी सुनाया। एक लाख करोड़ के मालिक हैं हिंदुजा - हालांकि, भारत की मीडिया में ज्यादा चर्चित नहीं होने के चलते दुकान का मालिक उन्हें पहचान नहीं सका। - फोर्ब्स मैगजीन के अनुसार, हिंदुजा समूह की अप्रैल 2016 में नेट वर्थ 15. 1 बिलियन डॉलर यानी करीब 1 लाख करोड़ रुपए थी। - लंदन में इंग्लैंड के राजमहल (जहां इंग्लैंड की महारानी एलिजाबेथ रहती हैं) के पास उनका एक आलीशान पैलेस है। इसे उन्होंने 100 मिलियन पौंड में खरीदा था। इसकी वर्थ आज करीब 500 मिलियन पौंड यानी करीब 4000 करोड़ रुपए है। आगे की स्लाइड्स पर क्लिक कर देखिए अन्य फोटोज...

  • एलुमिनी मीट में दिखीं लड़कियां, एक दूसरे से गले मिल ऐसे क्लिक की फोटोज
    Last Updated: December 11 2016, 04:17 AM

    मुजफ्फरपुर. महंत दर्शन दास महिला (एमडीडीएम) कॉलेज में शनिवार को पूर्ववर्ती छात्रा मिलन समारोह (एलुमिनी मीट) आरंभ हुआ। दो दिनों तक चलने वाले इस समारोह का उद्घाटन तिलकामांझी यूनिवर्सिटी, भागलपुर की पूर्व कुलपति डॉ. प्रेमा झा ने किया। इस दौरान पूर्व कुलपति ने कॉलेज से जुड़ीं अपनी यादें ताजा की। उन्होंने कहा- इस मिट्टी को नमन करती हूं। इसका कर्ज मैं चुका नहीं सकती। कॉलेज का इतिहास गौरवमयी रहा। लेकिन, वर्तमान प्राचार्या ने पहला एलुमिनी करा नया इतिहास रच दिया। यह टर्निंग पॉइंट होगा। नैक से लेकर हर क्षेत्र में कॉलेज आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि यहां क्वालिटी एजुकेशन है। लेकिन, इसका कोई अंतिम पायदान नहीं होता। यह निरंतर प्रक्रिया है, जो क्रांतिकारी बदलाव का परिचायक है। हिन्दी की पूर्व शिक्षिका डॉ. भारती सिन्हा ने कहा कि यहां बैठीं पूर्ववर्ती व्यक्ति नहीं, सभी व्यक्तित्व हैं। समारोह में आई किसी पूर्ववर्ती ने कहा कि पास आउट होने के बाद वह पहली बार कॉलेज आई तो किसी ने कॉरीडोर से लेकर कैंटीन में सहेलियों के साथ बिताए पलों को याद करते हुए समोसे खाने की फरमाइश कर डाली। यहां आई तो ऐसा लगा मानों यहीं की होकर रह गई। प्राचार्या डॉ. ममता रानी ने कहा कि बड़ी संख्या में पूर्ववर्तियों का आना सबसे बड़ी सफलता है। उन्होंने अतिथियों समेत आगंतुक पूर्ववर्ती छात्राओं का स्वागत किया। कैट वाक कर स्पीच दिया तो पूर्ववर्ती भी ठुमकने लगीं समारोह के दौरान कॉलेज की तीन दर्जन दर्शनाओं ने कैटवॉक किया। कैट वॉक व छात्राओं के स्पीच पर देश के कोने-कोने से आईं पूर्ववर्ती भी ठुमकने को विवश हो गईं। ऐसा लगा मानों वक्त की सूई 40 वर्ष पीछे चली आई हो। कॉलेज की छात्राओं के संग जमकर तालियां बजाईं। यादें जवां रखने को सेल्फी लेने का भी दौर चला। इस दौरान दो राउंड में हुई सुदर्शना में चयनित टॉप तीन को विजेता घोषित किया गया। परिंदों के आशियाने में मिला सम्मान दिल में सहेज कर रखूंगी; एलुमिनी मीट का हिस्सा बनने को कनाडा, सिंगापुर समेत देश के एक दर्जन राज्यों से पहुंची एमडीडीएम की पूर्ववर्ती छात्राओं को मोमेंटो देकर सम्मानित किया गया। सभी ने एक-एक कर परिचय दिया और यादें शेयर की। इस दौरान कई पूर्ववर्ती छात्राएं भावुक हो गईं। कहने लगीं- परिंदों के आशियाने में मिले को सम्मान दिल में सहेज कर रखूंगी। आगे की स्लाइड्स में देखें फोटोज...

  • पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जीवन पर चिंतन करेंगे भाजपा और संघ पदाधिकारी
    Last Updated: November 25 2016, 12:02 PM

    जयपुर। विचारक पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जीवन पर मंथन करने के लिए भाजपा और संघ से जुड़े पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं ने नई रणनीति बनाई है। इसके लिए 29 नवंबर को जयपुर में एक कार्यक्रम आयोजित करने का फैसला किया गया है। इसमें बड़ी संख्या में लोगों को अामंत्रित किया गया है। क्या होगा इस आयोजन में, कौन-कौन होंगे शामिल... - यह आयोजन एकात्म मानवदर्शन अनुसंधान एवं विकास प्रतिष्ठान्न जयपुर की ओर से किया जा रहा है। - यह 29 नवंबर की शाम 5:30 बजे बिड़ला ऑडिटोरियम में होगा। - इसमें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. कृष्ण गोपाल मुख्य वक्ता होंगे। - कार्यक्रम की अध्यक्षता मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे करेंगी। प्रस्तावना एकात्म मानवदर्शन अनुसंधान एवं विकास प्रतिष्ठान्न के अध्यक्ष डॉ. महेश शर्मा रखेंगे। - आयोजन से जुड़े भाजपा नेता सूरज सोनी ने बताया कि दीनदयाल स्मृति व्याख्यान का आयोजन वर्ष 2000 से किया जा रहा है। अब तक ऐसे आयोजन 13 बार हो चुके हैं। - इस आयोजन में बड़ी संख्या में संघ और भाजपा पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं के अलावा प्रबुद्ध वर्ग के लोग शामिल होंगे।

  • शिर्डी से लौटते हुए अमहमदाबाद जाती बस पलटी, 50 यात्री घायल
    Last Updated: November 08 2016, 15:21 PM

    व्यारा। शिर्डी में सांईबाबा के दर्शन कर लौटती बस के पलट जाने से 50 यात्री घायल हो गए। एक्सीडेंट जब हुआ, तब सभी यात्री सोये हुए थे। ट्रक को ओवरटेक करने के दौरान अचानक सामने से आती कार को बचाते समय बस के चालक ने नियंत्रण खो दिय, जिससे बस पलट गई। सभी यात्रियों को छोटी-बड़ी चोटें आई हैं। स्थानीय लोगों ने यात्रियों को बस से निकाला& शिर्डी से अहमदाबाद जाती हुई एक निजी कंपनी की बस 50 यात्रियों के साथ जब व्यारा के पास से गुजर रही थी, तब एक ट्रक को ओवरटेक करने के दौरान सामने से आती कार को बचाने के चक्कर में बस पलट गई। सोमवार की देर रात हुए इस एक्सीडेंट में आसपास के लोगों ने यात्रियों को बस से बाहर निकाला और 108 को फोन किया। जब दुर्घटना हुई, उस समय सभी यात्री सोये हुए थे। यात्रियों की चीख-पुकार सुनाई दी स्थानीय लोगों ने बताया कि घटना रात के करीब साढ़े 10 बजे की है। व्यारा के कांजण गांव के पास एक लक्जरी बस तेजी से चली जा रही थी। एक ट्रक को ओवरटेक करने के दौरान सामने से आती कार को बचाने के चक्कर में बस रोड के एक साइड होकर पलट गए। बस से यात्रियों की चीख-पुकार सुनाई देने लगी। कुछ ही देर में हाइवे जाम हो गया। लोगों ने रेस्क्यू ऑपरेशन कर यात्रियों को बस से बाहर निकाला। बस में अधिकांश सीनियर सिटीजन थे। अहमदाबाद से 7 दिनों का प्रवास था बस के यात्री ने बताया कि अहमदाबाद से सात दिनों के प्रवास का आयोजन किया गया था। शिर्डी, नासिक, सापुतारा और ऊनाई माता के दर्शन के बाद बस वापस अहमदाबाद आ रही थी। ड्राइवर सोहम बहुत ही स्पीड से चला रहा था। लोगों से उसे समझाया भी, पर उसने बस की स्पीड कम नहीं की। आखिर ओवरटेक करते हुए वह बस पर काबू नहीं रख पाया। आगे की स्लाइड्स में देखें PHOTOS...

  • पंजाब की तर्ज पर छत्तीसगढ़ में भी शुरू होगा संगत दर्शन
    Last Updated: October 28 2016, 06:24 AM

    गुरदासपुर । पंजाब की तर्ज पर अब छत्तीसगढ़ में भी संगत दर्शन कार्यक्रम शुरू होगा। कार्यक्रम की बारीकियां समझने के लिए छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों की एक टीम पंजाब भेजी है। पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल संगत दर्शन के दौरान लोगों से सीधे मिलकर उनकी समस्याएं हल करते हैं। सिर्फ पंजाब में चल रहे इस कार्यक्रम से रमन सिंह खासे प्रभावित हैं। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह के ओएसडी अरुण बिसेन और जनसंपर्क निदेशक राजेश सुकमा टोप्पो वीरवार को यहां बादल के संगत दर्शन कार्यक्रम में शामिल हुए। दोनों ने मुख्यमंत्री की इस कवायद का बारीकी से अध्ययन किया। इन्होंने राज्य सरकार के अधिकारियों और जिला प्रशासन से भी इस बारे में विस्तार से चर्चा की। दोनों अधिकारियों ने बताया कि लोगों से मिलने के इस फॉर्मेट में जनकल्याण की बहुत सी संभावनाएं हैं। इस कार्यक्रम में दिए जाने वाले अनुदान से गांवों के विकास को बढ़ावा मिलता है। वहीं पत्रकारों से बातचीत में सीएम बादल ने पंजाब में इंडस्ट्री के बुरे हालात पर अरविंद केजरीवाल द्वारा अकाली-भाजपा सरकार को जिम्मेवार ठहराने पर कहा कि पंजाब में इंडस्ट्री के बुरे हालात व दूसरे राज्यों में पलायन के लिए कांग्रेस की केंद्र की सरकारें जिम्मेदार है। कांग्रेस की अगवाई वालों सरकारों ने पंजाब के साथ सौतेला व्यवहार किया है।

  • विश्व पर्यटन दिवस पर वीरभूमि में आने वाले पर्यटकों को सौगात
    Last Updated: September 28 2016, 12:39 PM

    झांसी. पर्यटन स्थलों को बढ़ावा देने के लिये झांसी में झांसी दर्शन बस सेवा; की शुरुआत की गई । उत्तर प्रदेश पर्यटन विकास निगम ने पर्यटकों की आमद बढ़ाने और सुविधाएं देने के लिए इसका शुभारंभ कराया। बस को चीफ डेवलपमेंट ऑफिसर नवनीत सिंह ने हरी झंंडी दिखाकर रवाना किया। झांसी दर्शन बस सेवा; की खास बातें - उप्र पर्यटन विकास निगम से झांसी दर्शन बस सेवा; 14 सीटर एसी डीलक्स बस के टूर पैकेज तीन श्रेणी में होंगे। - इसमे भारतीय नागरिकों से पूरे दिन के टूर का टिकट 650 रुपये लिया जाएगा। - इसके अलावा विदेशी पर्यटकों से इस टूर का टिकट पर 1200 लिया जाएगा। - कोई भारतीय आधे दिन के लिये टूर करता है तो उससे 450 रुपये और विदेशी पर्यटकों से 500 रुपये किराया लिया जाएगा। - शाम के हाफ टिकट पर इंडियंस से 550 वहीं, विदेशी पर्यटकों से 1100 रुपये किराया लिया जाएगा। - फुल डे; के टिकट में बस सुबह 8.30 बजे होटल वीरांगना से रेलवे स्टेशन होते हुए ओरछा पहुंचेगी। - इसके बाद बरुआसागर होते हुए जराय मठ- सेंट-ज्यूड श्राइन, झांसी के म्यूजियम पहुंचेगी। - दोपहर दो बजे होटल वीरांगना में टूरिस्टों को लंच कराने के बाद तीन बजे महारानी लक्ष्मीबाई का किला, रानी महल, दतिया होते हुए शाम को झांसी किला में लाइट एंड साउंड शो दिखाया जाएगा। - इसके बाद रात 8.30 बजे होटल वीरांगना और रेलवे स्टेशन पर बस से टूरिस्टों को छोड़ा जाएगा। बस को हरी झंड़ी दिखाते हुए सीडीओ ने बताया इतिहास - चीफ डेवलपमेंट ऑफिसर नवनीत सिंह ने बस को झंडी दिखाते हुए झांसी के इतिहास को बताया। - बुंदेलखंड के प्रवेश द्धार झांसी का नाम 1857 के विद्रोह में ब्रिटिश साम्राज्य के खिलाफ अपनी सेना का नेतृत्व करने वाली वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई से जुड़ा है। - बुंदेलखंड क्षेत्र में आपार प्राचीन सांस्कृतिक घरोहरों के भंडार हैं। - इसके अलावांं यहां बांधों, झीलों एवं प्राकृतिक सौन्दर्य है। - इस बस को चलाने का उद्देश्य यहां के पर्यटन को बढ़ावा देना है।

  • लालबाग के राजा के दर पहुंचे नीता और मुकेश अंबानी, बेटा-बेटी भी थे साथ
    Last Updated: September 10 2016, 18:08 PM

    मुंबई: पूरे महाराष्ट्र में 10 दिनों तक चलने वाला गणेशोत्सव जारी है। इस बीच आज रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के चेयरमैन मुकेश अंबानी अपनी पूरी फैमिली के साथ मुंबई के फेमस लालबाग के राजा के दर्शन के लिए पहुंचे। तकरीबन 15 मिनट तक की पूजा... - मुकेश अंबानी के साथ उनकी मां कोकिलाबेन अंबानी, पत्नी नीता अंबानी उनका बेटा अनंत, आकाश और ईशा अंबानी भी वहां मौजूद थे। - सभी ने एक साथ मिलकर लालबाग के राजा की आरती की। - पूरा परिवार तकरीबन 15 मिनट तक लालबाग के राजा के दरबार में मौजूद रहा। - आपको बता दें कि, कुछ दिन पहले ही मुकेश अंबानी ने अपनी 4G सर्विस रिलायंस जिओ को लांच किया है। - मुकेश ने अपने जुड़वां बच्चों आकाश और ईशा को इसकी कमान सौंपी है। - जिओ सेवा शुरू करने के बाद मुकेश अंबानी पिछले शुक्रवार को तिरुपति पहुंचे थे। उन्होंने तिरमाला में भगवान वेंकटेश्वर मंदिर में पूजा अर्चना की थी। फैमिली ने किए वीआईपी दर्शन - मुकेश अंबानी ने पूरे परिवार के साथ लालबाग के राजा के वीआईपी दर्शन किए। - जिस दौरान वे बप्पा की प्रतिमा के पास थे उनके सुरक्षाकर्मियों ने अन्य लोगों को वहां नहीं जाने दिया। - बप्पा के दर्शन के लिए यहां दो तरह की लाइनें लगती हैं, जिनमें से नवसाची लाइन में भक्त अपनी मनोकामना पूरी करने के लिए खड़े होते हैं। - इस लाइन में लगने वालों को दर्शन के लिए करीब 24 घंटे इंतजार करना पड़ता है। कई बार तो नंबर आने में 40 घंटे तक लग जाते हैं। - दूसरी लाइन में दूर से मुख दर्शन होता है। इसमें भक्तों की बारी 5 से 8 घंटे में आती हैं, हालांकि इसमें भी कभी कभी 12 घंटे लग जाते हैं। - इस दौरान मुंबई के सबसे मशहूर लाल बाग के राजा के गणपति दर्शन के लिए लाखों लोग हर साल मुंबई आते हैं। - लालबाग के राजा पर 20-25 करोड़ रुपयों से अधिक का चढ़ावा अर्पित होता है। व्यापारियों ने शुरू की परंपरा - एक जमाने में मुंबई के लाल बाग के व्यापारियों का कारोबार घाटे में चलता था। - व्यापारी चाहते थे कि लाल बाग के एक खुली जगह पर भी बाजार लगे। कहते हैं इसी इच्छा के साथ कुछ व्यापारियों ने लाल बाग के राजा के पंडाल की स्थापना की थी। - लाल बाग के राजा की मूर्ति स्थापित हो जाने के बाद व्यापारियों की मनोकामना पूरी होने में वक्त नहीं लगा। - इसके बाद से ही यहां लाल बाग के राजा की स्थापना हर साल होने लगी। लाल बाग के गणपति का उत्सव साल दर साल और भव्य होता जा रहा है। आगे की स्लाइड्स में देखिए लालबाग के राजा के दरबार में पहुंचे अंबानी परिवार की कुछ और PHOTOS..

  • भारत दर्शन ट्रेन से 7 ज्योतिर्लिंगों के दर्शन करवाएगा IRCTC, जानें कैसे करें Apply
    Last Updated: August 04 2016, 13:04 PM

    लखनऊ. इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (IRCTC) श्रद्धालुओं को सितंबर से भारत दर्शन स्पेशल ट्रेन से सात ज्योतिर्लिंगों के दर्शन करवाएगा। यात्रा के इच्छुक श्रद्धालु को 10,040 रुपए खर्च करने होंगे। इसमें स्लीपर क्लास के सफर के साथ ही रहने, खाने-पीने की सभी सुविधाएं IRCTC मुहैया करवाएगा। बुकिंग के लिए कई ऑप्शन... - भारत दर्शन में जाने वाले श्रद्धालु गोमती नगर स्थित पर्यटन भवन के आईआरसीटीसी ऑफिस और आईआरसीटीसी की बेवसाइट <a href='http://www.irctctourism.com/'>www.irctctourism.com</a> से ऑनलाइन बुकिंग करवा सकते हैं। - इसके अलावा वह बुकिंग के लिए लखनऊ में मोबाइल नं. 9794863631/19, कानपुर में -9794844569 इलाहाबाद में -9794844559, वाराणसी में -9794844566 और 99794863628, झांसी में 9794802840 और आगरा में 9794863641 व 9794802842 से जानकारी ले सकते हैं। इन 7 ज्योतिर्लिंगों के होंगे दर्शन - आईआरसीटीसी के चीफ रीजनल मैनेजर अश्विनी श्रीवास्तव ने बताया कि 7 सितंंबर को रवाना होने वाली भारत दर्शन स्पेशल 18 सितंंबर को लौटेगी। - इससे जाने वाले श्रद्धालुओं को महाकालेश्वर, ओंकारेश्वर, नागेश्वर, सोमनाथ, भीमाशंकर, त्रयम्बकेश्वर और घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग के साथ ही शिरडी साईं मंदिर, द्वारकाधीश मंदिर के भी दर्शन करवाए जाएंगे। - आईआरसीटीसी इन श्रद्धालुओं को एलोरा की गुफाएं भी दिखाएगा। - वाराणसी से चलाई जाने वाली इस ट्रेन में सुलतानपुर, लखनऊ, कानपुर, झांसी और आगरा कैंट से बैठने की सुविधा मिलेगी। यह ट्रेन 11 रातें व 12 दिनों का सफर तय करेगी। जगन्नाथपुरी के लिए 22 सितंबर को ट्रेन - गंगासागर व जगन्नाथपुरी के रवाना होने वाली भारत दर्शन ट्रेन 22 सितंंबर को जाकर 30 सितंंबर को लौटेगी। - इस ट्रेन से जाने वाले श्रद्धालुओं को पहले वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर, दशाश्वमेध घाट ले जाने के बाद गंगा आरती में शामिल करवाया जाएगा। - इसके बाद उन्हें गया में विष्णुपाद मंदिर, महाबोधि मंदिर के दर्शन करवाए जाएंगे। - गया से उन्हें सीधे कोलकाता ले जाकर काली मंदिर व गंगासागर ले जाया जाएगा। वहां से जगन्नाथपुरी, कोणार्क मंदिर व लिंगराज के दर्शन करवाए जाएंगे। - वापसी में वह वैद्यनाथ धाम के दर्शन कर सकेंगे। 8 रातों व 9 दिन के इस टूर पर जाने वाले प्रत्येक श्रद्धालु को 7530 रुपए खर्च करने पड़ेंगे। इसमें मुरादाबाद, बरेली एवं लखनऊ से बैठने की सुविधा मिलेगी। आगे की स्लाइड्स में देखें ज्योतिर्लिंग की फोटोज...

  • दोनों हाथ और पैरों पर चलता हुआ शिव दर्शन को आया ये भक्त, देखें PHOTOS
    Last Updated: July 26 2016, 13:28 PM

    वाराणसी. सावन महीने के पहले सोमवार पर काशी विश्वनाथ मंदिर में सुबह से ही भक्तों की भीड़ देखने को मिली। जलाभिशेख के लिए भक्त 3 किलोमीटर दूर तक पंक्ति बनाए खड़े रहे। इनमें एक भक्त ऐसा भी था जो दिव्यांग होने के बावजूद दोनों हाथ व पैरों पर चलता हुआ दर्शन के लिए पहुंचा। विश्वनाथ के अलावा केदार मंदिर, तिलभांडेश्वर, साधू बेला, सारंगनाथ, महा-मृत्युंजय मदिरों में भी भक्तों का तांता लगा। इसलिए खास है सावन सोमवार... - अर्चक श्रीकांत मिश्रा ने बताया, बाबा स्वयं अपने भक्तों के साथ होते हैं। राजधिपति की तरह सभी के कष्टों को सुनते हैं और जलभिसेख के साथ ही हर भी लेते हैं। - बता दें कि समुद्र मंथन के दौरान जिस माह में शिवजी ने विष पिया था, वह सावन का महीना था। - विष पीने के बाद शिवजी के तन में ताप बढ़ गया। - सभी देवी-देवताओं और शिव के भक्तों ने उनको शीतलता प्रदान करने के लिए उनका जलाभिषेख करने लगे ताकि उनको ठंडक पहुंचे। - तभी से सावन के महीने के हर सोमवार को शिव की अराधना का महत्व बताया गया है। - इस दिन किसी अप्रिय घटना से बचने के लिए गोदौलिया, छत्ताद्वार, दशाश्वमेध मार्ग, गिरजाघर और सोनारपुरा को नो वेहिकल जोन बनाया गया है। - मैदागिन से गोदौलियां की ओर आने वाले मार्ग को केवल कावड़ियों के लिए खोला गया है। आगे की स्लाइड्स में देखिए रिलेटेड Photos...

Flicker