• देखिये ट्रेनडिंग न्यूज़ अलर्टस

ganpati visarjan

भीड़ में फंसी थी ये एम्बुलेंस और फिर हुआ कुछ ऐसा चमत्कार

भीड़ में फंसी थी ये एम्बुलेंस और फिर हुआ कुछ ऐसा चमत्कार

Last Updated: September 21 2016, 09:50 AM

पुणे: कुछ दिनों पहले संपन्न हुए गणेश फेस्टिवल के दौरान का एक वीडियो सोशल मीडिया की सुर्खियों में है। इसमें भीड़ में फंसी एक एम्बुलेंस आम लोगों की सहायता से आसानी से आगे बढ़ती नजर आ रही है। एक शख्स के फोन कैमरे से तैयार इस वीडियो को अबतक लाखों लोग देख चुके हैं। क्या है वीडियो में ....     - पुणे में 10 दिनों तक गणेश फेस्टिवल चलता है और दसवें दिन भक्त बप्पा की शोभा यात्रा निकाल उनके विसर्जन के लिए जाते हैं। - इस दौरान ज्यादातर सड़कें पर यातायात प्रतिबंधित होता है। यह वीडियो भी उसी दिन का बताया जा रहा है। - पुणे के शगुन चौक के लक्ष्मी रोड पर निकल रही इस शोभायात्रा में बप्पा के लाखों भक्त नाचते-गाते नजर आ रहे हैं। - ढोल-नगाड़ों की आवाज के बीच अचानक एक एम्बुलेंस की आवाज आती है। यह एम्बुलेंस भीड़ में फंसी हुई है। - एम्बुलेंस को देखते ही शोभायात्रा रोक दी जाती है और गणेश मंडल के कार्यकर्ता सड़क खाली करने लगते हैं। - कुछ ही सेकंड में सड़क खाली हो जाती है और एम्बुलेंस आसानी से आगे बढ़ जाती है।      - यह वीडियो पुणे के लोगों के मिजाज की क्लियर इमेज पेश करता है।     वायरल हुआ वीडियो - तकरीबन 2 मिनट के इसे वीडियो को भीड़ में खड़े एक शख्स ने अपने मोबाइल फोन से तैयार किया और फेसबुक और यू-ट्यूब पर अपलोड कर दिया।   - शुक्रवार को शेयर हुए इस वीडियो को फेसबुक पर 3 दिन के भीतर 27 हजार लाइक्स और तकरीबन 1.5 मिलियन व्यूज मिले हैं। - साथ ही इसे फेसबुक और ट्विटर पर तकरीबन 35 हजार बार शेयर किया गया है। यू-ट्यूब पर भी इसे लाखों लोगों ने देखा है।  - सोशल मीडिया में लोग पुणे के लोगों के जज्बे को सलाम कर रहे हैं।      आगे की स्लाइड्स में देखिए भीड़ में फंसी एम्बुलेंस को कैसे लोगों ने रास्ता दिया...

ऋषि-रणधीर मामले में सामने आया रिपोर्टर, बताया क्या हुआ था उस दिन

ऋषि-रणधीर मामले में सामने आया रिपोर्टर, बताया क्या हुआ था उस दिन

Last Updated: September 18 2016, 19:38 PM

मुंबई। गुरुवार को गणेश विसर्जन के दौरान इंटरनेट पर एक वीडियो क्लिप वायरल हुआ था, जिसमें ऋषि कपूर और रणधीर कपूर मीडियाकर्मियों के साथ धक्का-मुक्की करते दिख रहे हैं। वीडियो में ऋषि के एक विजुअल को देखकर ऐसा लगता है, जैसे वो किसी पर हाथ उठा रहे हों। बदसलूकी का यह वीडियो काफी सुर्खियों में रहा। हालांकि अब इस मामले पर एक टीवी चैनल के सीनियर रिपोर्टर ने सफाई दी है। रिपोर्टर के मुताबिक यह पूरा वीडियो एडिट किया गया है। रणबीर ने उन्हें न तो मारा और न ही धक्का दिया। रिपोर्टर के मुताबिक भीड़ में वो खुद अपना संतुलन खो बैठै थे, जिसकी वजह से गिर पड़े थे। पैर में वायर उलझने की वजह से गिरा था रिपोर्टर... रिपोर्टर के मुताबिक, मैं अपने कैमरामैन के साथ रणबीर की बाइट लेने के लिए जा रहा था। लेकिन रणबीर अपनी कार में बैठे और कार आगे बढ़ी। तभी कैमरे का वायर मेरे पैर में उलझ गया और मैं लड़खड़ाकर गिर गया। इस वीडियो के बड़ी चतुराई के साथ एडिट किया गया है। रणबीर ने न तो मुझे धक्का दिया और ना ही मेरे साथ मारपीट की। मेरी ऋषि जी, रणधीर जी या रणबीर से कोई बैर भावना नहीं है। यहां तक कि भीड़ में हम कई लोग थे जो ऋषि कपूर के आसपास थे लेकिन उन्होंने एक बार भी हमें वहां से नहीं हटाया और ना ही धक्कामुक्की की। मैं गणपति विसर्जन के वक्त पूरे समय वहां पर मौजूद था और हर तरह की परिस्थितियों से वाकिफ था। वहां तेज बारिश होने के साथ ही काफी भीड़ भी थी। कपूर फैमिली ने किसी को टारगेट नहीं किया और ना ही किसी मीडिया पर्सन के साथ कोई बदसलूकी की। इस मामले पर क्या बोले ऋषि कपूर... ऋषि कपूर के मुताबिक, जो हुआ सो हुआ। अब मैं इस मामले पर और कुछ क्लेरिफिकेशन नहीं देना चाहता। लोग बिना किसी जांच पड़ताल या सोचे समझे मामले को उछालने लगते हैं। आगे की स्लाइड्स में देखें, गणपति विसर्जन के दौरान कपूर फैमिली के फोटोज...

गणपति को विदाई, पहले  घरों के टबों में फिर तालाबों में हुआ विसर्जन

गणपति को विदाई, पहले घरों के टबों में फिर तालाबों में हुआ विसर्जन

Last Updated: September 16 2016, 07:23 AM

ग्वालियर। गणेश उत्सव अंतिम चरण में आ गया है। घरों में विराजे गणपति को विदाई देने लोग ईको-फ्रैंडली तरीके अपना रहे हैं। लोगों ने पहले घर में ही पानी से भरे बड़े पात्र में श्रीजी का विसर्जन किया। इसके बाद उन अवशेषों को गमलों में या फिर बड़े तालाबों में विसर्जित किया गया। बड़े पंडालों में विराजीं गणपति प्रतिमाओं का ढोल-ताशे और गणपति बप्पा मोरया के जयकारों के साथ कटोरा ताल व सागर ताल में विसर्जन किया गया। - गणेश चतुर्थी पर स्थापित किए गए श्रीजी के विसर्जन का जो सिलसिला बीते रोज से जारी है। - गाजे-बाजे के साथ श्रद्धालुओं ने जुलूस निकालकर गणपति को विदाई दी। - गली-मोहल्लों से गणपति बप्पा का धूमधाम के साथ विसर्जन किया गया। - इस बार गणपति विसर्जन की खासियत यह रही कि घरों में विराजीं मिट्टी की श्रीजी की प्रतिमाओं को लोगों ने पानी के पात्र में या गमले में विसर्जित किया। - शहर के महाराज बाड़ा, पड़ाव, हजीरा, मुरार आदि जगहों से शोभायात्रा निकाली गई। श्रद्धालुओं ने कटोरा ताल, सागरताल सहित विभिन्न जलाशयों में ले जाकर पूजा-अर्चना के बाद प्रतिमा का विसर्जन किया गया। जगह-जगह भंडारों का आयोजन भी किया गया। स्लाइड्स में गणपति बप्पा को इस तरह दी विदाई....

अंबानी से ठाकरे तक, सचिन से सलमान तक ने ऐसे सेलिब्रेट किया गणेश उत्सव

अंबानी से ठाकरे तक, सचिन से सलमान तक ने ऐसे सेलिब्रेट किया गणेश उत्सव

Last Updated: September 15 2016, 19:25 PM

मुंबई: 10 दिनों तक चलने वाले गणेशोत्सव का आज समापन हो रहा है। गणेश चतुर्थी का पर्व वैसे तो पूरे देश में मनाया जाता है, लेकिन इसका सबसे ज्यादा रंग महाराष्ट्र में देखने को मिलता है। इस दौरान मुकेश अंबानी से लेकर राज ठाकरे तक, सचिन से लेकर सलमान तक ने पंडालों में जा कर बप्पा के दर्शन किए। इन सेलेब्रिटीज के घर भी विराजे बप्पा...     - बॉलीवुड स्टार्स, स्पोर्ट्समैन और वीआईपी हस्तियों ने अपने बिजी शिड्यूल के बीच अपने घर गणपति की स्थापना की।  - कईयों ने फेमस गणपति पंडालों में जाकर बप्पा के दर्शन किए। - उद्योगपति मुकेश अंबानी अपने पूरे परिवार के साथ मुंबई के फेमस लालबाग के राजा के दरबार में पहुंचे थे। - महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना प्रमुख राज ठाकरे ने परिवार के साथ तिलक नगर गणेश पंडाल में जाकर बप्पा के दर्शन किए।  - सचिन तेंदुलकर और अभिनेता सलमान खान ने भी अपने घरों में गणपति की स्थापना की थी।   - अभिनेता नाना पाटेकर, तुषार कपूर, गोविंदा, नील नितिन मुकेश और सुशांत सिंह राजपूत के घर भी गणपति की स्थापना हुई। - इसी तरह शिल्पा सेट्ठी, सोनाली बेंद्रे, सोहा अली खान, ऐश्वर्या राय बच्चन समेत कई एक्ट्रेस ने पंडालों में जा कर बप्पा के दर्शन किए।      क्या खास होता है गणेशोत्सव में ..   - हिन्दू महीने के हिसाब से अगर देखा जाए, तो भद्रा महिने के आखिर के 10 दिन यह त्योहार मनाया जाता है और अंतिम दिन यानी अनंत चतुर्दशी के दिन यह खत्म होता है। - गणेश चतुर्थी एक ऐसा त्योहार है, जिस पर गणेश जी को अलग-अलग रूप और अंदाज़ में तैयार कर, लोग इनकी प्रतिमा की स्थापना अपने घर पर करते हैं। - इस साल यह त्योहार पांच सितंबर 2016 से शुरू हुआ था और 10 दिन के बाद 15 सितंबर को इनका विसर्जन हो रहा है। - गणेशोत्सव के दौरान लोग बप्पा की मूर्ति दो, पांच, सात और 10 दिन के लिए स्थापित करते हैं। - त्योहार के आखिरी दिन गणेश जी की विदाई के समय उत्तरपूजा की जाती है, जिसके बाद इन्हें समुद्र, नदी, तालाब या फिर एक बाल्टी पानी में विसर्जित किया जाता है। - अंतिम विसर्जन के दिन मुंबई में यह त्योहार धूम-धाम से मनाया जाता है। इस दिन लोग हर तरफ सेलिब्रेशन के मूड में दिखाई देते हैं। - यहां सड़कों पर लगने वाले जाम को ट्रफिक पुलिस कंट्रोल करती भी दिखाई पड़ती है।   ऐसे शुरू हुई गणेशोत्सव की परंपरा   - सार्वजनिक रूप से गणेशोत्सव मनाने की शुरुआत महाराष्ट्र की सांस्कृतिक राजधानी पुणे से हुई थी।  - कुछ इतिहासकार मानते हैं कि पहली बार इस उत्सव को सार्वजनिक रूप से मनाने का श्रेय शिवाजी महाराज की माता जीजाबाई को जाता है। - उनके बाद पेशवाओं ने इसे भव्य तरीके से मनाना शुरू किया और लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक ने राष्ट्रीय पहचान दिलाई।  - इतिहास में इस बात का भी प्रमाण मिलता है कि महाराष्ट्र में सातवाहन, राष्ट्र कूट, चालुक्य आदि राजाओं ने गणेशोत्सव की प्रथा चलाई थी।  - इसके बाद शिवाजी महाराज के बचपन में उनकी माता जीजाबाई ने पुणे के ग्राम देवता कसबा गणपति की स्थापना कर इस उत्सव को पूरे राज्य में धूमधाम से मनाने की घोषणा की थी।    पेशवाओं ने किया विस्तार   - शिवाजी महाराजा के बाद पेशवा राजाओं ने गणेशोत्सव बढ़ाने का काम किया।  - पेशवाओं के महल शनिवार वाड़ा में पुणे के लोग काफी उत्साह के साथ हर साल गणेशोत्सव मनाते थे।  - इस उत्सव के दौरान ब्राह्मणों को महाभोज दिया जाता था और गरीबों में मिठाई और पैसे दिए जाते थे।  - पुणे के शनिवार वाड़ा पर कीर्तन, भजन तथा सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता था। भजन-कीर्तन की यह परंपरा आज भी जारी है। पहले सिर्फ घरों में होती थी गणेश पूजा   - ब्रिटिश काल में किसी भी सांस्कृतिक कार्यक्रम या उत्सव को एक साथ मिलकर या एक जगह इकट्ठा होकर मनाने की मनाही थी। वह सिर्फ घरों में पूजा कर सकते थे।  - इस कानून के खिलाफ लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक ने पुणे में पहली बार सार्वजनिक रूप से गणेशोत्सव मना कर इसे एक आंदोलन का स्वरुप दिया। आगे चलकर गजानन राष्ट्रीय एकता के प्रतीक बन गए। - पूजा को सार्वजनिक महोत्सव का रूप देते समय उसे केवल धार्मिक कर्मकांड तक ही सीमित नहीं रखा गया, बल्कि इसे आजादी की लड़ाई, छुआछूत दूर करने और समाज को संगठित करने तथा आम जनता का ज्ञानवर्धन करने का जरिया भी बनाया गया और इस उत्सव को एक आंदोलन का स्वरूप दिया गया।  - इस आंदोलन ने ब्रिटिश साम्राज्य की नींव हिलाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया। आगे की स्लाइड्स में देखिए गणेशोत्सव के दौरान पंडालों में पहुंचे वीआईपी सेलेब्रिटीज की कुछ और PHOTOS..

ढोल नगाड़ों संग दी जा रही है बप्पा को विदाई, 50 हजार जवान सुरक्षा में तैनात

ढोल नगाड़ों संग दी जा रही है बप्पा को विदाई, 50 हजार जवान सुरक्षा में तैनात

Last Updated: September 15 2016, 19:24 PM

मुंबई: पूरे महाराष्ट्र में 10 दिनों से चल रहे गणेशोत्सव का आज समापन हो रहा है। ढोल नगाड़ों की थाप पर और गणपति बप्पा मोरया, पुढ़च्यावर्षी लवकर या के नारों के साथ भक्त बप्पा को विदाई दे रहे हैं। मुंबई की सड़कों पर उमड़ी भीड़ की सुरक्षा के लिए 50 हजार पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। ड्रोन और हेलिकॉप्टर से हो रही है बप्पा की अंतिम यात्रा की निगरानी। चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा... - गणपति की प्रतिमाओं को समुद्र, प्राकृतिक या कृत्रिम तालाबों में विसर्जित किया जा रहा है। - सुबह बारिश होने के बावजूद लोगों के उत्साह में कोई कमी नजर नहीं आई। भगवान गणेश की अंतिम विदाई के वक्त लोग सड़कों पर नाचते और गाते दिखे। - लाल बागचा राजा और गणेश गल्ली चा राजा सहित मशहूर गणेश पंडालों में लाखों श्रद्धालुओं के आने की संभावना को देखकर व्यापक इंतजाम किए गए हैं। - विसर्जन घाटों पर नेवी और कोस्ट गार्ड के जवान हेलिकॉप्टर और बोट से नजर रख रहे हैं। - भीड़ पर नजर रखने के लिए पहली बार ड्रोन कैमरे का इस्तेमाल किया गया है। - प्रमुख स्थानों पर वाच टॉवर बनाए गए हैं। विसर्जन मार्ग पर सैकड़ों सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। - बड़े गणेश मंडलों ने अपने वालंटियर भी विसर्जन घाटों पर तैनात किए हैं। - मुंबई में समुद्री बीचों पर 600 से ज्यादा लाइफ गार्ड्स तैनात रहेंगे। - विसर्जन स्थलों पर स्टील प्लेट, नियंत्रण कक्ष, मोटरबोट, प्रथमोपचार केंद्र, जीवनरक्षक, एंबुलेंस, स्वागत कक्ष, फ्लड लाइट, सर्च लाइट और टॉयलेट्स की भी व्यवस्था की गई है। - रात के समय इन घाटों को 1,991 फ्लड लाइट, 1,306 सर्च लाइट से रौशन रखा जाएगा। - प्रमुख विसर्जन स्थलों पर कई वीआईपी और बॉलीवुड स्टार्स के भी पहुंचने की संभावना है। ट्रैफिक रूट में बदलाव - सड़कों पर उमड़ी भीड़ को देखते हुए मुंबई में 49 रास्तों पर बड़ी गाड़ियों की आवाजाही पर रोक लगाई गई है। - शहर के 55 रास्तों को वन-वे किया गया है, जबकि 18 मार्ग पूरी तरह बंद कर दिए गए हैं। - बीएमसी ने 99 रास्तों पर नो पार्किंग जोन बनाया है। भक्तों की सबसे ज्यादा भीड़ शिवाजी पार्क, गिरगांव चौपाटी, जुहू और मालवाणी बीच पर नजर आ रही है। हाइड्रॉलिक लिफ्ट के सहारे विसर्जन... इस साल मुंबई के लालबाग राजा का विसर्जन अनोखी तकनीक से होगा। पहली बार मरीन इंजीनियरिंग का इस्तेमाल करते हाइड्रॉलिक लिफ्ट का प्लेटफार्म तैयार किया है। - इसमें बाप्पा के भव्य मूर्ति को समंदर में तीन बार विधिवत तरीके से डूबा कर विसर्जित कर सकते है। - इसे गुजरात की एक शिपिंग कंपनी ने तैयार किया है। 20 हजार मूर्तियों का विसर्जन - भक्त गणपति बप्पा मोरया और अगले साल जल्दी आने की कामना करते हुए ढोल-नगाड़ों की धुन पर नाचते-गाते बप्पा को अंतिम विदाई दे रहे हैं। - विसर्जन के लिए प्रशासन की ओर से पूरी तैयारियां कर ली गई हैं। गुरुवार सुबह से शुरू हुआ यह विसर्जन शुक्रवार सुबह तक चलेगा। - अनुमानत है कि मुंबई में तकरीबन 20 हजार गणेश मूर्तियों का अंतिम दिन विसर्जन होगा। - राज्य सरकार ने गुरुवार को सार्वजनिक छुट्टी घोषित की है। नगरनिगम, पुलिस और ट्रैफिक पुलिस ने जगह-जगह जरूरी इंतजाम किए हैं। - मुंबई में गिरगांव, जुहू, माहिम, दादर, मार्वे आदि प्रमुख बीचों पर सारी व्यवस्थाएं की गई हैं। - मुंबई में कुल 69 नैसर्गिक विसर्जन स्थल हैं और बीएमसी ने 31 कृत्रिम तालाब बनाए हैं। - कुल मिलाकर 100 जगहों पर विसर्जन की व्यवस्था की गई है। गिरगांव चौपाटी पर सबसे ज्यादा भीड़ उमड़ने की उम्मीद है। ऐसे शुरू हुई गणेशोत्सव की परंपरा - सार्वजनिक रूप से गणेशोत्सव मनाने की शुरुआत महाराष्ट्र की सांस्कृतिक राजधानी पुणे से हुई थी। - कुछ इतिहासकार मानते हैं कि पहली बार इस उत्सव को सार्वजनिक रूप से मनाने का श्रेय शिवाजी महाराज की माता जीजाबाई को जाता है। - उनके बाद पेशवाओं ने इसे भव्य तरीके से मनाना शुरू किया और लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक ने राष्ट्रीय पहचान दिलाई। - इतिहास में इस बात का भी प्रमाण मिलता है कि महाराष्ट्र में सातवाहन, राष्ट्र कूट, चालुक्य आदि राजाओं ने गणेशोत्सव की प्रथा चलाई थी। - इसके बाद शिवाजी महाराज के बचपन में उनकी माता जीजाबाई ने पुणे के ग्राम देवता कसबा गणपति की स्थापना कर इस उत्सव को पूरे राज्य में धूमधाम से मनाने की घोषणा की थी। पेशवाओं ने किया विस्तार - शिवाजी महाराजा के बाद पेशवा राजाओं ने गणेशोत्सव बढ़ाने का काम किया। - पेशवाओं के महल शनिवार वाड़ा में पुणे के लोग काफी उत्साह के साथ हर साल गणेशोत्सव मनाते थे। - इस उत्सव के दौरान ब्राह्मणों को महाभोज दिया जाता था और गरीबों में मिठाई और पैसे दिए जाते थे। - पुणे के शनिवार वाड़ा पर कीर्तन, भजन तथा सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता था। भजन-कीर्तन की यह परंपरा आज भी जारी है। पहले सिर्फ घरों में होती थी गणेश पूजा - ब्रिटिश काल में किसी भी सांस्कृतिक कार्यक्रम या उत्सव को एक साथ मिलकर या एक जगह इकट्ठा होकर मनाने की मनाही थी। वह सिर्फ घरों में पूजा कर सकते थे। - इस कानून के खिलाफ लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक ने पुणे में पहली बार सार्वजनिक रूप से गणेशोत्सव मना कर इसे एक आंदोलन का स्वरुप दिया। आगे चलकर गजानन राष्ट्रीय एकता के प्रतीक बन गए। - पूजा को सार्वजनिक महोत्सव का रूप देते समय उसे केवल धार्मिक कर्मकांड तक ही सीमित नहीं रखा गया, बल्कि इसे आजादी की लड़ाई, छुआछूत दूर करने और समाज को संगठित करने तथा आम जनता का ज्ञानवर्धन करने का जरिया भी बनाया गया और इस उत्सव को एक आंदोलन का स्वरूप दिया गया। - इस आंदोलन ने ब्रिटिश साम्राज्य की नींव हिलाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया। आगे की स्लाइड्स में देखिए मुंबई और पुणे में हो रहे गणेश विसर्जन की कुछ और PHOTOS..

गणपति विसर्जन के लिए आसन नदी में गए युवकों की डूबने से मौत

गणपति विसर्जन के लिए आसन नदी में गए युवकों की डूबने से मौत

Last Updated: September 13 2016, 07:48 AM

ग्वालियर। आसन नदी में गणपति विसर्जन करने गए ग्वालियर के दो युवक नदी में डूब गए। २ घंटे के रेस्क्यू में दोनों की बॉडी नदी से रिकवर कर लीं। पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है। - ग्वालियर में कैलाश टॉकीज के पास रहने वाले वीरू और कांता शाक्य अपने साथियों के साथ मुरैना के बानमोर के नजदीक आसन नदी में गणपति विसर्जन के लिए गए थे। बीच धार में पहुंचते ही अचानक युवक संतुलन खो कर नदी में गिरे और तेज बहाव में डूबने लगे। - किनारे पर खड़े लोग चिल्लाए, लेकिन जब तक बचाव की कोशिश की जाती युवक नदीं में डूब कर गायब हो गए। - पुलिस को सूचना दी गई, पुलिस रेस्क्यू टीम के साथ मौके पर पहुंची, लेकिन युवकों का कोई सुराग नजर नहीं आया। - रेस्क्यू टीम ने दो घंटे की मशक्कत के बाद दोनों के शव ढूंढ निकाले, और पोस्टमॉर्टम के बाद परिजन के सुपुर्द कर दिए गए। - इस हादसे के पीछे जिला व पुलिस प्रशासन की बड़ी चूक सामने आई है। - नदी पर गणेश विसर्जनन के मद्देनजर कोई इंतजाम नहीं किये गए थे । - अगर विसर्ज घाट पर पुलिस टीम मौजूद होती तो दोनों को बचा जा सकता था। स्लाइड्स में है, पुलिस का रेस्क्यू ऑपरेशन....

PHOTOS: धूमधाम से किया गया बप्‍पा की 400 मूर्तियों का विसर्जन

PHOTOS: धूमधाम से किया गया बप्‍पा की 400 मूर्तियों का विसर्जन

Last Updated: September 12 2016, 18:57 PM

झांसी. यहां सोमवार को जल झूलनी एकादशी पर ढोल-नगाड़ों के साथ धूमधाम से 400 गणेश प्रतिमाओं का विसर्जन किया गया। चतुर्थी से प्रारंभ हुए गणेश उत्सव के समापन पर बेतवा नदी, लक्ष्मी तालाब और पहूज नदी में गणपति की प्रतिमाओं को विसर्जित किया गया। श्रद्धालुओं ने डीजे की धुन पर उड़ाया रंग-गुलाल... - डीजे और ढोल नगाड़ों की धुन पर गुलाल उड़ाते भक्तों की टोलियां डांस करती नजर आईं। - भक्त मूूर्ति विसर्जन से पहले बप्पा मोरिया अगले बरस तू जल्दी आ के जयकारे लगा रहे थे। - रथ यात्रा में हिस्सा लेने के लिए पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य और सदर सीट से बीजेपी विधायक रवि शर्मा पहुंचे। भारी संख्या में उमड़ी थी भीड़ - बता दें, कि 5 सितंबर को भक्तों ने गणपति को घरों और पंडालों में स्थापित किया था। - सोमवार को जल-विहार के अवसर पर सरोवरों में गणेश प्रतिमाओं का विसर्जन किया। - इस दौरान गणपति के दर्शन के लिए भारी संख्या में लोग उमड़े। चाचर नृत्य रहा मुख्य आकर्षण का केंद्र - एकादशी का मुख्य आकर्षण चाचर नृत्य रहा। - बुंदेली वाद्य यंत्रों जैसे नगाड़ों, बीन, लोटा की धुन पर दो दर्जन से ज्यादा युवाओं ने नृत्य किया। आगे की स्लाइड्स में देखें गणपति विसर्जन के फोटोज...

बेटी और नातिन के साथ ऋषि ने किया विसर्जन, भक्ति में लीन दिखे ये स्टार्स

बेटी और नातिन के साथ ऋषि ने किया विसर्जन, भक्ति में लीन दिखे ये स्टार्स

Last Updated: September 10 2016, 14:01 PM

मुंबई: बॉलीवुड के अधिकतर स्टार्स इन दिनों गणपति भक्ति में लीन हैं। शुक्रवार को एक्टर ऋषि कपूर ने ढोल-नगाड़ों के साथ बप्पा को विदाई दी। इस मौके पर वे पत्नी नीतू, बेटी रिद्धिमा और नातिन समायरा सहानी के साथ विधि-विधान से आरती और विसर्जन करते हुए देखे गए। ऋषि कपूर के अलावा डिंपल कपाडिया, विवेक ओबरॉय ने भी धूम-धाम से बप्पा को विदाई दी। वहीं, सोफी चौधरी, उर्वशी रौतेला, सोहा अली खान मुंबई स्थित अलग-अलग गणपति पंडाल में पूजन करते नजर आए। आगे की स्लाइड्स पर देखें, बप्पा की पूजन करते सेलेब्स की PHOTOS...

एकता कपूर के गणपति विसर्जन में पहुंचीं दिव्यंका, ये TV स्टार्स भी आए नजर

एकता कपूर के गणपति विसर्जन में पहुंचीं दिव्यंका, ये TV स्टार्स भी आए नजर

Last Updated: September 10 2016, 11:14 AM

मुंबई: टीवी क्वीन एकता कपूर ने शुक्रवार को बप्पा का विसर्जन बड़े धूमधाम से किया। इस मौके पर टीवी सेलेब्स के साथ कई बॉलीवुड स्टार्स भी उनके घर पहुंचे। ये हैं मोहब्बतें फेम एक्ट्रेस दिव्यंका त्रिपाठी पति विवेक दाहिया के साथ शामिल हुईं। इसके अलावा मोना सिंह, अनिता हसनंदानी, क्रिस्टल डिसूजा, करण टेकर, रागिनी खन्ना, नीलम कोठारी भी विसर्जन पूजा अटेंड करने पहुंचे। फिल्ममेकर राकेश रोशन, प्रेम चोपड़ा, करन जौहर की मां हीरू, मोहब्बतेंं फेम एक्ट्रेस प्रीति झिंगयानी भी एकता कपूर के घर के बाहर स्पॉट हुईं। आगे की स्लाइड्स पर देखें, एकता कपूर के घर गणपति विसर्जन में पहुंचे सेलेब्स की PHOTOS...

ऐश्वर्या से उर्मिला तक, डिजाइनर के घर गणपति पूजन में पहुचीं ये एक्ट्रेसेस

ऐश्वर्या से उर्मिला तक, डिजाइनर के घर गणपति पूजन में पहुचीं ये एक्ट्रेसेस

Last Updated: September 08 2016, 09:49 AM

मुंबई: बॉलीवुड स्टार्स और गणपति बप्पा का अटूट कनेक्शन है। स्टार्स अपने घर बप्पा की पूजा और उनका विसर्जन धूमधाम से करने के लिए जाने जाते हैं। इस तरह डिजाइनर मनीष मल्होत्रा के घर सोमवार शाम गणेश जी विराजे। इस मौके पर पूजा रखी गई, जिसमें बी-टाउन सेलेब्स ने हिस्सा लिया। मनीष के घर ऐश्वर्या राय बच्चन, उर्मिला मातोंडकर, फिल्ममेकर करन जौहर, करिश्मा कपूर, सोनाक्षी सिन्हा, लारा दत्ता आैर एकता कपूर भी पहुंची थीं। वहीं, मंगलवार को हुई पूजन के मौके पर मलाइका अरोड़ा खान, अमृता अरोड़ा, सोफी चौधरी, डायरेक्टर फराह खान समेत कई स्टार्स दिखाई दिए। डिजाइनर मनीष मल्होत्रा के गणपति सेलिब्रेशन की Inside Photos देखने के लिए, आगे की स्लाइड्स पर क्लिक करें...

सलमान की भांजी ने की बप्पा की आरती, शिल्पा-गोविंदा ने भी किया विसर्जन

सलमान की भांजी ने की बप्पा की आरती, शिल्पा-गोविंदा ने भी किया विसर्जन

Last Updated: September 07 2016, 11:43 AM

मुंबई: गणेश चतुर्थी के मौके पर बप्पा को घर पर विराजमान करने के बाद, मंगलवार को अधिकतर बॉलीवुड स्टार्स ने इनका विसर्जन कर दिया। सलमान के घर गैलेक्सी अपार्टमेंट में धूमधाम से गणपति की विदाई हुई। ट्यूबलाइट की शूटिंग में बिजी होने के कारण सलमान इस फंक्शन में शामिल नहीं हो पाए। लेकिन उनके पूरे परिवार ने ढोल-नगाड़ों के साथ बप्पा को विदा किया। सलमान की भांजी एलिजा अग्निहोत्री के साथ उनकी दोनों बहन अर्पिता-अलविरा, मां सलमा खान और हेलन, पिता सलीम खान, भाई सोहेल मौके पर मौजूद थे। शिल्पा-गोविंदा ने किया विर्सजन... शिल्पा शेट्टी ने पूरी फैमिली के साथ बप्पा का विसर्जन किया। पति राज कुंद्रा, बहन शमिता शेट्टी के साथ वे ढोल पर नाचती दिखाई दीं। वहीं, गोविंदा ने बेटी टीना, वाइफ सुनीता और बेटे यशवर्धन आहूजा के साथ गणपति को सिराया। इनके अलावा अनिल कपूर, ऋतिक रोशन की एक्स वाइफ सुजैन खान, सोनाली बेंद्रे, संजय दत्त की पत्नी मान्यता और डिजाइनर मनीष मल्होत्रा के घर गणपति विसर्जन हुआ। आगे की स्लाइड्स पर देखें, बप्पा के विसर्जन में शामिल हुए स्टार्स की PHOTOS...

Flicker