• देखिये ट्रेनडिंग न्यूज़ अलर्टस

Karun Nair

  • OMG! ऑस्ट्रेलियाई बॉलर ने की ऐसी बॉल, स्टम्प का हो गया इतना बुरा हाल
    Last Updated: March 07 2017, 17:18 PM

    स्पोर्ट्स डेस्क. ऑस्ट्रेलिया के साथ टेस्ट सीरीज के दूसरे मैच में टीम इंडिया दूसरी इनिंग में 274 रन पर ऑलआउट हो गई। इस दौरान मिशेल स्टार्क ने लगातार दो बॉल पर दो विकेट लेकर भारत की हालत खराब कर दी। इसमें से एक बॉल पर तो इतनी फास्ट थी कि उन्होंने स्टम्प ही तोड़ डाला। रहाणे के बाद आउट हुए नायर... - मैच के चौथे दिन सुबह इंडिया की दूसरी इनिंग के दौरान स्टार्क ने 85वां ओवर किया। - इस ओवर में उन्होंने तूफानी बॉल करते हुए दो विकेट ले डाले। - स्टार्क ने इस ओवर की तीसरी बॉल पर रहाणे को lbw आउट किया। - इसके बाद अगली ही बॉल पर उन्होंने नए बैट्समैन के रूप में आए करुण नायर को बोल्ड कर दिया। - ऑस्ट्रेलियाई बॉलर ने जिस बॉल पर रहाणे को आउट किया उसकी स्पीड 149 km/h थी। तोड़ डाला स्टम्प - स्टार्क के इस ओवर में करुण नायर (0) केवल एक बॉल खेलकर बोल्ड हो गए। - नायर जिस बॉल पर बोल्ड हुए वो इतनी तेज थी कि उसकी वजह से स्टम्प दो टुकड़ों में टूट गया। - स्टार्क की इस बॉल की स्पीड 153.6 किलोमीटर प्रति घंटा थी। ये इस ओवर की सबसे तेज बॉल थी। - शायद इसी वजह से करुण नायर के समझने से पहले ही बॉल घुस गई और वे बोल्ड हो गए। आगे की स्लाइड्स में देखें, कैसे हुआ ये पूरा मोमेंट...

  • करुण नायर-जयंत यादव ने जो किया उससे इन 6 खिलाड़ियों को है अब खतरा
    Last Updated: December 23 2016, 10:35 AM

    स्पोर्ट्स डेस्क. बैट्समैन करुण नायर और ऑलराउंडर जयंत यादव इंग्लैंड सीरीज की सबसे बड़ी खोज रहे। मौका मिलते ही दोनों प्लेयर्स ने इसे जबरदस्त तरीके से भुनाया। इनकी परफॉर्मेंस से अब कई सीनियर्स क्रिकेटर्स की टीम इंडिया में वापसी पर सवाल उठने लगे हैं। ये वो प्लेयर्स हैं, जिनके सिलेक्शन पर पहले भी सवाल उठते रहे हैं। जयंत-नायर ने बनाए ये रिकॉर्ड्स... - जयंत यादव और करुण नायर ने इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज से ही डेब्यू किया। दोनों ने 3-3 मैच खेले। - पहले जयंत यादव को विशाखापट्टन में हुए सीरीज के दूसरे टेस्ट में टीम में मौका मिला। - पहले ही मैच में 4 विकेट लेने के साथ ही उन्होंने लोअर ऑर्ड पर बैटिंग करते हुए 62 रन भी बनाए। - अगले दो मैच में उन्होंने एक हाफ सेन्चुरी और एक सेन्चुरी जड़ दी। 9वें नंबर पर बैटिंग करते हुए सेन्चुरी लगाने वाले वो पहले इंडियन हैं। - वहीं, करुण नायर को मोहाली में हुए सीरीज के तीसरे टेस्ट में डेब्यू का मौका मिला। - पहले दो मैच में फ्लॉप रहने की कसर उन्होंने तीसरे मैच में ट्रिपल सेन्चुरी बनाकर पूरी कर दी। - भारत के लिए ट्रिपल सेन्चुरी लगाने वाले वो इतिहास के दूसरे इंडियन हैं। उनसे आगे सिर्फ वीरेंद्र सहवाग हैं। आगे की स्लाइड्स में जानें करुण नायर की ट्रिपल सेन्चुरी और जयंत यादव के ऑलराउंड परफॉर्मेंस ने किस सीनियर्स के लिए खड़ी कर दी हैं मुश्किलें.....

  • ICC टेस्ट रैंकिंगः अश्विन-जडेजा ने किया कमाल, 42 साल बाद हुआ ऐसा
    Last Updated: December 22 2016, 14:22 PM

    दुबई. भारत के दो क्रिकेटर आईसीसी की टेस्ट बॉलिंग और ऑलराउंडर रैंकिंग में टॉप 3 में आए हैं। बॉलर्स रैंकिंग में लेफ्ट आर्म स्पिनर रवींद्र जडेजा चार पोजिशन के फायदे के साथ दूसरे नंबर पर आ गए हैं, जबकि ऑफ स्पिनर आर. अश्विन नंबर वन पर बने हुए हैं। वहीं, ऑलराउंडर रैंकिंग में जडेजा तीसरी रैंकिंग पर पहुंच गए हैं। जबकि अश्विन इसमें भी टॉप पर हैं। बॉलिंग और ऑलराउंडर दोनों में जडेजा की ये करियर बेस्ट रैंकिंग है। आखिरी टेस्ट के बाद लंबी छलांग... - हाल ही में खत्म हुए चेन्नई टेस्ट में जडेजा ने 10 विकेट झटके थे। इसी परफॉर्मेंस का फायदा उन्हें रैंकिंग में मिला। - चेन्नई टेस्ट मैच शुरू होने से पहले वे 6th नंबर पर थे। इस मैच के बाद उन्हें 66 रेटिंग प्वाइंट का फायदा हुआ। अब जडेजा के 879 रेटिंग अंक हैं। - हालांकि इस मैच में केवल एक विकेट हासिल कर सके अश्विन को 17 रेटिंग अंकों का नुकसान हुआ। अब उनके रेटिंग अंक 887 हैं। - दोनों बॉलर्स के बीच अब केवल 8 रेटिंग प्वाइंट का फासला रह गया है। 42 साल बाद आया ऐसा मौका - भारतीय टेस्ट हिस्ट्री में ऐसा दूसरी बार हुआ है, जब बॉलर्स रैंकिंग में टॉप दो स्थानों पर भारतीय खिलाड़ियों का कब्जा है। - इससे पहले साल 1974 में लेफ्ट आर्म स्पिनर बिशन सिंह बेदी और लेग स्पिनर भागवत चंद्रशेखर बॉलर्स रैंकिंग में नंबर एक और नंबर दो पर रहे थे। करुण नायर टॉप 100 में: - करुण नायर ने बैट्समैन रैंकिंग में टॉप 100 में जगह बना ली है। वे 55वें नंबर पर हैं। - लोकेश राहुल 51वें नंबर पर हैं। ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीवन स्मिथ पहले और विराट कोहली दूसरे नंबर पर हैं। - बॉलर्स रैंकिंग में इशांत शर्मा 23वें नंबर पर पहुंच गए हैं। ब्रिटिश मीडियाः कोहली की स्ट्रेटजी थी कमजोर, जडेजा-अश्विन की बदौलत जीते - ब्रिटेन की मीडिया ने इंग्लैंड के 0-4 से सीरीज हारने के बाद एनालिसिस करना शुरू कर दिया है। - ब्रिटिश मीडिया ने विराट कोहली की स्ट्रेटजी को कमजोर बताकर कहा कि आर. अश्विन और रवींद्र जडेजा की बदौलत ही भारत को जीत मिली। - द सन; अखबार ने लिखा- कोहली की एप्रोच नकारात्मक है। पूरी सीरीज के दौरान इस बारे में कोई बात नहीं हुई क्योंकि जडेजा और अश्विन टीम को जीत दिला रहे थे।; - अखबार ने इंग्लैंड के खिलाड़ियों के बारे में लिखा- इंग्लिश खिलाड़ी क्रिकेट के बेसिक नियमों को ही भूल गए।; - द इंडिपेंडेंट; ने लिखा- पिचों से स्पिनर्स को काफी मदद मिली। इंग्लैंड के बॉलर्स के नाकाम होने की वजह कन्फ्यूजन, गलत रणनीति और लगातार अटैक न कर पाना रहा। - इस बार कुक की स्ट्रैटजी साफ नजर नहीं आई। 19 साल के हसीब हमीद ने अपनी जिम्मेदारी समझी। - इंग्लैंड के प्रतिद्वंद्वी देश ऑस्ट्रेलिया की मीडिया ने भी इस सीरीज का एनालिसिस किया। - सिडनी मार्निंग हेराल्ड; ने लिखा- इंग्लैंड ने इस सीरीज को बहुत हल्के में लिया। पूरी टीम मानसिक रूप से कमजोर नजर आ रही थी। टीम में न तो आक्रामकता नजर आ रही थी और न ही लड़ने का जज्बा। डेली टेलीग्राफ; ने कुक की कप्तानी पर सवाल उठाए। आगे की स्लाइड्स में देंखें, ICC टेस्ट बॉलर्स, बैट्समैन और ऑलराउंडर रैंकिंग...

  • अब टीम में रहना नहीं होगा आसान, जानें जीत के बाद कोहली ने क्या-क्या कहा
    Last Updated: December 21 2016, 12:11 PM

    स्पोर्ट्स डेस्क. चेन्नई टेस्ट में करुण नायर और लोकेश राहुल की परफॉर्मेंस ने कप्तान विराट कोहली का दिल जीत लिया। इन दोनों की परफॉर्मेंस के बाद विराट ने कहा कि अब वो वक्त गया जब प्लेयर्स टीम में आकर 1 साल तक सीखते थे। अब इतना इंतजार नहीं किया जा सकता। नायर और राहुल ने किया प्रूव... - विराट ने कहा जो खिलाड़ी टीम में आता है वो फिटनेस पर ध्यान देता है। उसे फिट होना ही चाहिए। - ये नहीं कि वो एक साल तक सिर्फ सीखता रहे। लोकेश राहुल और करुण नायर को देखिए। - नायर अजिंक्य रहाणे को रिप्लेस करके टीम में आए थे और खुद को प्रूव किया। - याद रखिए, आगे की जनरेशन और स्मार्ट होती जाएगी। यंगस्टर्स को देखकर हैरानी होती है कि वो कितने प्रोफेश्नल हैं। - गौरतलब है कि चेन्नई टेस्ट में करुण नायर को रहाणे के चोटिल होने के बाद शामिल किया गया था और उन्होंने ट्रिपल सेन्चुरी लगा दी। चेन्नई टेस्ट के हीरो केएल राहुलः पहली इनिंग में 199 रन बनाए। करुण नायरः 303* रन की जबरदस्त इनिंग खेली। रवींद्र जडेजाः पहली में 3 और दूसरी इनिंग में 7 विकेट झटके। 51 रन भी बनाए। आर. अश्विनः मात्र 1 विकेट ले सके, लेकिन 67 रन की इनिंग खेली। सीरीज रिजल्टः पहला टेस्टः राजकोट में ड्रॉ रहा दूसरा टेस्टः विशाखापट्टनम में टीम इंडिया 246 रन से जीती। तीसरा टेस्टः मोहाली में टीम इंडिया 8 विकेट से जीती। चौथा टेस्टः मुंबई में टीम इंडिया 1 इनिंग और 36 रन से जीती पांचवां टेस्टः चेन्नई में टीम इंडिया 1 इनिंग और 75 रन से जीती। आगे की स्लाइड्स में पढ़ें मैच के बाद कप्तान विराट ने पूरी इंडियन टीम, रवींद्र जडेजा की परफॉर्मेंस और इंग्लिश कप्तान एलिस्टर कुक की कप्तानी पर क्या कहा....

  • इस सीरीज में तीन खिलाड़ियों की किस्मत चमकी, दो प्लेयर्स ने बनाई नई पहचान
    Last Updated: December 21 2016, 10:52 AM

    स्पोर्ट्स डेस्क. इंग्लैंड के साथ पांच मैचों की टेस्ट सीरीज भारत ने 4-0 से अपने नाम कर ली। चेन्नई में हुआ आखिरी टेस्ट मैच भी टीम इंडिया ने एक इनिंग और 75 रन से जीत लिया। ये सीरीज कई मायनों में भारत के लिए बहुत अहम रही। इसके जरिए ना केवल भारत ने टेस्ट मैचों में अपनी जीत को बरकरार रखा, बल्कि इन पांच मैचों में भारत को तीन ऐसे क्रिकेटर्स भी मिल गए जो आने वाले वक्त में टीम इंडिया के बड़े नाम बन सकते हैं। तीन यंगस्टर्स ने कर दिया कमाल... - लोकेश राहुल - करुण नायर - जयंत यादव - इस सीरीज में टीम इंडिया की यूथ ब्रिगेड के नए मेंबर लोकेश राहुल, करुण नायर और जयंत यादव ने कमाल कर दिया। - तीनों प्लेयर्स ने सीरीज के दौरान शानदार परफॉर्मेंस देकर सिलेक्टर्स के डिसीजन को बिल्कुल सही साबित कर दिया। - लोकेश राहुल ने सीरीज के 3 मैचों में 58.25 के एवरेज से टोटल 233 रन बनाए। चेन्नई टेस्ट में वे केवल 1 रन से डबल सेन्चुरी से चूक गए। - वहीं, इस सीरीज में डेब्यू मैच खेलने वाले करुण नायर ने करियर के तीसरे मैच में ही ट्रिपल सेन्चुरी ठोक कर अपना नाम हिस्ट्री में दर्ज करा लिया। - इन दोनों प्लेयर्स ने तीसरे मैच में टीम इंडिया की टीम में सबसे खास रोल निभाया। - वहीं, जयंत यादव मुंबई में हुए चौथे टेस्ट के दौरान रिकॉर्ड परफॉर्मेंस देकर छा गए। - जयंत यादव नौवें नंबर पर आकर सेन्चुरी लगाने वाले भारत के पहले बैट्समैन बने। उनके आने से टीम इंडिया को निचले क्रम पर एक नया ऑलराउंडर मिल गया। - ये तीनों प्लेयर्स ही सही मायने में इस सीरीज में टीम इंडिया की खोज रहे, जिन्होंने अपनी परफॉर्मेंस से सबका दिल जीता। दो सीनियर प्लेयर्स ने बनाई नई पहचान - इस सीरीज में रवींद्र जडेजा और आर. अश्विन टीम के लिए रेग्युलर बैट्समैन के तौर पर उभरकर आए। - दोनों बॉलर्स अपनी बॉलिंग से तो मैच विनर प्लेयर हैं ही, साथ ही इस सीरीज में उन्होंने अपनी बैटिंग का जलवा भी दिखाया। - इस दौरान आर. अश्विन ने सीरीज में 5 मैच खेलकर 4 हाफ सेन्चुरी लगाते हुए टोटल 306 रन बनाए। - उधर, रवींद्र जडेजा ने इतने मैचों में 2 हाफ सेन्चुरी लगाते हुए कुल 224 रन बनाए। सीरीज में विराट ने बनाए कई रिकॉर्ड - विराट कोहली इस सीरीज में सबसे ज्यादा रन (655 रन) बनाकर मैन ऑफ द सीरीज बने। - मुंबई टेस्ट में बतौर कप्तान विराट ने सबसे बड़ी टेस्ट इनिंग (235 रन) खेलते हुए धोनी (224 रन) का रिकॉर्ड तोड़ा। - इस सीरीज के बाद कोहली इस साल तीनों फॉर्मेट में सबसे ज्यादा रन (2595 रन) बनाने वाले बैट्समैन भी बन गए। - विराट कोहली ने बतौर कप्तान लगातार 17 टेस्ट नहीं हारने के कपिल देव के 29 साल पुराने रिकॉर्ड को तोड़ दिया। - एक सीरीज में 500+रन बनाने वाले विराट दूसरे इंडियन टेस्ट कप्तान बने। उनसे पहले सिर्फ सुनील गावसकर ने ऐसा 2 बार किया। - विराट एक साल में 1000 रन पूरे करने वाले तीसरे इंडियन कैप्टन बने। - उन्होंने इस साल 1215 टेस्ट रन बनाए। इंडियन टेस्ट हिस्ट्री में एक साल में इतने रन बनाने वाले इकलौते भारतीय कप्तान हैं। - विराट ने इस साल टेस्ट मैचों में 3 डबल सेन्चुरी लगाई। ऐसा करने वाले वे पहले इंडियन क्रिकेटर हैं। - विराट ने तीनों डबल सेन्चुरी कप्तान रहते हुए ही लगाई। ऐसा कर वो वर्ल्ड के तीसरे बेस्ट क्रिकेटर बन गए। सीरीज में भारत की परफॉर्मेंस - 1st टेस्ट- राजकोट (ड्रॉ) - 2nd टेस्ट- विशाखापट्टनम (भारत 246 रन से जीता) - 3rd टेस्ट- मोहाली (भारत 8 विकेट से जीता) - 4th टेस्ट- मुंबई (भारत इनिंग और 36 रन से जीता) - 5th टेस्ट- चेन्नई (भारत इनिंग और 75 रन से जीता) आगे की स्लाइड्स में देखें, इस सीरीज में शानदार परफॉर्मेंस देने वाले बाकी इंडियन क्रिकेटर्स...

  • इतिहास में पहली बार 477 रन बनाकर पारी से हारी कोई टीमः बने 9 रिकॉर्ड; कोहली ने तोड़ा कपिल, अजहर और धोनी का रिकॉर्ड
    Last Updated: December 21 2016, 07:55 AM

    चेन्नई. टीम इंडिया ने मंगलवार को इंग्लैंड को आखिरी टेस्ट में हराकर सीरीज 4-0 से जीत ली। 5वें टेस्ट में भारत ने 759 रन बनाए। जवाब में पहली इनिंग में 477 रन बनाने वाला इंग्लैंड दूसरी इनिंग में 207 रन पर सिमट गया। 139 साल के टेस्ट इतिहास में पहली बार कोई टीम पहली इनिंग में 450 से ज्यादा रन बनाकर भी पारी से हारी है। इस टेस्ट में कुल 9 रिकॉर्ड बने। विराट कोहली ने लगातार 17 टेस्ट नहीं हारने के कपिल देव के 29 साल पुराने रिकॉर्ड को तोड़ दिया। कोहली की कप्तानी में अब टीम इंडिया लगातार 18 टेस्ट मैच नहीं हारी है। उन्होंने शुरुआती 22 टेस्ट की कप्तानी में जीत के मामले में धोनी को भी पीछे छोड़ दिया है। यही नहीं, जितने टेस्ट मोहम्मद अजहरुद्दीन ने बतौर कप्तान 9 साल में जीते, उतने टेस्ट में कोहली ने 2 साल की कप्तानी में ही जीत दिलाई। इस मैच और सीरीज में बने 8 बड़े रिकॉर्ड... 1# 22 टेस्ट में कप्तानी कर धोनी को पीछे छोड़ा - चेन्नई टेस्ट से पहले विराट और धोनी के बीच शुरुआती 21 मैच में कप्तानी का एक जैसा रिकॉर्ड था। दोनों को शुरुआती 21 में से 13 टेस्ट में जीत हासिल हुई थी। दो मैच हारे और बाकी 6 टेस्ट ड्रॉ रहे। - हालांकि, चेन्नई टेस्ट जीतकर विराट ने शुरुआती 22 मैचों में कप्तानी के मामले में धोनी को पीछे छोड़ा। वे अब तक 14 टेस्ट जीत चुके हैं। - दरअसल, धोनी की कप्तानी में भारत 22वां टेस्ट हार गया था। यह टेस्ट साउथ अफ्रीका के खिलाफ दिसंबर 2010 में सेन्चुरियन में खेला गया था। भारत को एक पारी और 25 रन से हार मिली थी। 2# लगातार 18 टेस्ट ना हारने का रिकॉर्ड (a) कोहली : अगस्त 2015 से दिसंबर 2016 के बीच कोहली की कप्तानी में इंडिया लगातार 18 टेस्ट नहीं हारी। इनमें 14 टेस्ट जीते और 4 ड्रॉ रहे। कोहली का सक्सेस रेट 77% है। (b) कपिल : सितंबर 1985 से मार्च 1987 के बीच कपिल देव की कप्तानी में भारत लगातार 17 टेस्ट नहीं हारा। हालांकि, इसमें 13 टेस्ट ड्रॉ थे और 4 मैच जीते थे। हालांकि, कपिल का सक्सेस रेट 24% रहा। 3# कोहली बने इस साल के टॉप स्कोरर, जो रूट को पीछे छोड़ा - कोहली इस साल तीनों फॉर्मेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बैट्समैन बन गए हैं। - 8 साल बाद भारत से कोई बैट्समैन टॉप स्कोरर बना है। 2008 में सहवाग थे, उनके 2355 रन थे। - कोहली ने इस साल 2595 रन बनाए हैं। तीनों फॉर्मेट में उन्होंने 37 मैच खेले हैं। 7 सेन्चुरी लगाई हैं। 13 हाफ सेन्चुरी हैं। हाईएस्ट स्कोर 235 का है। - कोहली के बाद दूसरे नंबर पर हैं इंग्लैंड के बल्लेबाज जो रूट। जिन्होंने 41 मैच खेलकर 2570 रन बनाए हैं। 4# कोहली ने अजहर के 16 साल पुराने रिकॉर्ड की बराबरी की - जितने टेस्ट अजहर ने 9 साल में जीते, उतने टेस्ट में कोहली ने 2 साल में जीत दिलाई। - अजहर 1990 से 1999 के बीच कप्तान थे। उन्होंने 47 टेस्ट में कप्तानी की। 14 टेस्ट जीते। 14 हारे। - कोहली दो साल से टेस्ट में कप्तानी कर रहे हैं। लेकिन इतने कम वक्त में वे 14 टेस्ट जीत चुके हैं। 5# इंग्लैंड पर पहली बार लगातार 4 जीत टीम इंडिया की पहली बार इंग्लैंड पर लगातार चौथी जीत हुई। इससे पहले भारत ने कभी लगातार चार टेस्ट में इंग्लैंड को नहीं हराया था। भारत ने उसे सिर्फ 1993 में लगातार 3 मैच में हराया था। 6# एक सीरीज में सबसे ज्यादा जीत के 3 साल पुराने रिकॉर्ड की बराबरी 2013 में भारत ने ऑस्ट्रेलिया का 4-0 से सफाया कर दिया था। कोहली ने इंग्लैंड को 4-0 से हराकर इसकी बराबरी कर दी। 7# इंग्लैंड के खिलाफ 8 साल बाद टेस्ट सीरीज जीती - 2008 : भारत ने इंग्लैंड को अपने देश में 1-0 से हराया था। - 2011 : इंग्लैंड ने इंग्लैंड में भारत को 4-0 से हराया था। - 2012 : इंग्लैंड ने यहां आकर भारत को 2-1 से हराया। - 2014 : इंग्लैंड ने अपने देश में भारत को 3-1 से हराया। - 2016 : भारत ने अपने देश में इंग्लैंड को 4-0 से हराया। 8# दूसरी बार लगातार 5 सीरीज जीता भारत - 2015 : श्रीलंका को 2-0 से हराया - 2015 : साउथ अफ्रीका को 3-0 से हराया - 2016 : वेस्ट इंडीज को 2-0 से हराया - 2016 : न्यूजीलैंड को 3-0 से हराया - 2016 : इंग्लैंड को 4-0 से हराया - इससे पहले अक्टूबर 2008 से जनवरी 2009 के बीच कुंबले, सहवाग और धोनी की कप्तानी में टीम ने लगातार 5 टेस्ट सीरीज जीती थी। ये रिकॉर्ड बनाने से चूके विराट - विराट आखिरी टेस्ट में अगर 135 रन बना लेते तो एक सीरीज में सबसे ज्यादा रन बनाने का गावस्कर का रिकॉर्ड तोड़ देते। - उन्होंने चेन्नई टेस्ट की पहली पारी तक 655 रन बना लिए थे। उन्हें गावसकर का 45 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ने के लिए 120 रन की जरूरत थी। गावसकर ने 1970-71 की सीरीज में चार टेस्टों में ही 154.80 के एवरेज से 774 रन बनाए थे। - भारत अगर दूसरी इनिंग खेलता तो विराट के पास यह रिकॉर्ड तोड़ने का मौका रहता। जडेजा ने पहली बार लिए 10 विकेट - जडेजा ने मैच के आखिरी दिन 7 विकेट लिए। वहीं इस मैच में उन्होंने कुल 10 विकेट झटके। - ये पहला मौका है जब जडेजा ने अपने टेस्ट करियर में किसी मैच में 10 विकेट झटके हों। - चेन्नई टेस्ट में उनकी यह परफॉर्मेंस इसलिए मायने रखती है क्यांेकि यहां पहली इनिंग में दोनों टीमों ने मिलकर 1200 से ज्यादा रन बनाए। ऐसी पिच पर जडेजा अकेले 10 विकेट झटकने में कामयाब रहे।

  • भारत ने चेन्नई टेस्ट इनिंग और 75 रन से जीता, जडेजा ने पहली बार लिए 10 विकेट; इंडिया ने 4-0 से सीरीज अपने नाम की
    Last Updated: December 20 2016, 18:37 PM

    चेन्नई. रवींद्र जडेजा के करियर की बेस्ट परफॉर्मेंस (10/154 विकेट) के दम पर भारत ने इंग्लैंड से सीरीज का आखिरी टेस्ट मैच एक इनिंग और 75 रन से जीत लिया। मैच के आखिरी दिन भारत की 282 रन की लीड का पीछा करते हुए इंग्लैंड की पूरी टीम दूसरी इनिंग में 207 रन पर आउट हो गई। जिसमें रवींद्र जडेजा ने 48 रन देकर 7 विकेट झटके। इंग्लैंड ने पहली इनिंग में 477 रन बनाए थे। जवाब में भारत ने पहली इनिंग 759/7 रन पर डिक्लेयर कर दी थी। भारत ने पांच मैचों की ये सीरीज 4-0 से अपने नाम कर ली। करुण नायर मैन ऑफ द मैच तो वहीं विराट कोहली मैन ऑफ द सीरीज बने। कैसा रहा मैच का रोमांच... - मैच में टॉस जीतकर पहले बैटिंग करते हुए इंग्लैंड की टीम ने पहली इनिंग में 477 रन बनाए थे। - इंग्लैंड के लिए पहली इनिंग में मोइन अली ने 146, जो रूट ने 88, लियाम डॉसन 66* और आदिल राशिद ने 60 रन बनाए। - भारत के लिए रवींद्र जडेजा ने 3 तो उमेश यादव और इशांत शर्मा ने 2-2 विकेट लिए। अश्विन केवल 1 विकेट ले पाए। - जवाब में भारत ने अपनी पहली इनिंग करुण नायर की ट्रिपल सेन्चुरी और लोकेश राहुल के 199 रन की बदौलत 7 विकेट पर 759 रन बनाकर डिक्लेयर कर दी। - इन दोनों के अलावा भारत की ओर से पार्थिव पटेल ने 71, आर. अश्विन ने 67 और रवींद्र जडेजा ने 51 रन बनाए। पहली इनिंग में भारत को 282 रन की लीड मिली। - दूसरी इनिंग में इंग्लैंड की पूरी टीम 207 रन पर आउट हो गई और भारत ने ये मैच इनिंग और 75 रन से जीत लिया। इंग्लैंड के आखिरी 6 विकेट 40 रन के अंदर गिरे। जडेजा ने पहली बार लिए 10 विकेट - जडेजा ने मैच के आखिरी दिन 7 विकेट लिए। वहीं इस मैच में उन्होंने कुल 10 विकेट झटके। - ये पहला मौका है जब जडेजा ने अपने टेस्ट करियर में किसी मैच में 10 विकेट झटके हों। - मैच की पहली इनिंग में उन्होंने 3 विकेट लिए थे, वहीं दूसरी इनिंग में उन्होंने 7 विकेट लिए। - दूसरी इनिंग में उन्होंने एलिस्टर कुक, जेनिंग्स, जो रूट, मोइन अली, बेन स्टोक्स, स्टुअर्ट ब्रॉड और जैक बॉल को आउट किया। मैन ऑफ द मैच बने करुण नायर - मैच में भारत के लिए ट्रिपल सेन्चुरी लगाने वाले करुण नायर (303* रन) मैन ऑफ द मैच बने। - नायर ने इस मैच में 381 बॉल पर 303* रन बनाए। ये उनके टेस्ट करियर का तीसरा मैच था। - ये भारत की ओर से तीसरी ट्रिपल सेन्चुरी रही, वहीं नायर भारत की ओर से ऐसा करने वाले दूसरे बैट्समैन बने। विराट कोहली बने मैन ऑफ द सीरीज - इस सीरीज के हाईएस्ट स्कोरर रहे विराट कोहली मैन ऑफ द सीरीज बने। - सीरीज के 5 मैचों में उन्होंने 109.16 के एवरेज से 655 रन बनाए। - मुंबई टेस्ट में उन्होंने डबल सेन्चुरी लगाते हुए करियर का बेस्ट स्कोर (235) भी बनाया। जीत के बाद किसने क्या कहाः रवींद्र जडेजा: बहुत अच्छा लगा। क्योंकि विकेट में कोई मदद नहीं थी। मैं खुश हूं। मिश्रा और जयंत ने भी मेहनत की। आर. अश्विन: जड्डू ने बेहतरीन बॉलिंग की। क्योंकि विकेट बिल्कुल फ्लेट था। हम जानते थे कि बांग्लादेश ने इंग्लैंड को एक सेशन में ऑल आउट कर दिया था। यही कोशिश कर रहे थे। नई बॉल से उमेश ने बेहतरीन बॉलिंग की। जड्डू की वजह से मैं वेरिएशन कर पाया। चेतेश्वर पुजारा: इंग्लैंड का स्कोर ज्यादा था लेकिन हमने तय कर लिया था कि इसे बराबर करेंगे। लोकेश राहुल: पिछले कुछ महीने मुश्किल थे। मैंने तय किया था कि मौका मिला तो मैं हिसाब बराबर करूंगा। रफ से बॉल टर्न हो रही थी। जडेजा और अश्विन को हमने ये बात बता दी थी। उन्होंने प्लान के मुताबिक बॉलिंग की। मुरली विजय: मैंने दो शतक लगाए। लेकिन ये प्लान के मुताबिक हुआ। लोअर ऑर्डर पर भी ध्यान दिया। अनिल कुंबले: ये शानदार क्रिकेट है। टॉस हार के लीड लेना बड़ी बात थी। लंच में हमने डिस्कस किया कि अगर एक विकेट मिल जाता है तो खेल हमारे हक में हो जाएगा। करुण ने डोमेस्टिक क्रिकेट में शानदार पारियां खेलीं। उसके नाम पर पहले से ही इस लेवल पर ट्रिपल सेन्चुरी है। वो बहुत आगे जाएगा। सीरीज से यह फायदा मिला कि कई इन्जुरीज के बाद भी हमारी टीम ने वो कर दिखाया जो बहुत मुश्किल था। करुण नायर: थकान है लेकिन उसमें कुछ दिन लगेंगे। टीम की जीत में योगदान देना हमेशा अच्छा लगता है। सबने मुझे बधाई दी। इस सीरीज से काफी सीखने मिला। विराट, जड्डू के साथ ड्रेसिंग रूम शेयर करना बेहतरीन अनुभव है। एलिस्टर कुक: हमारे पास हार का कोई बहाना नहीं है। यहां रफ से बॉल टर्न हो रही थी। लंच पर लग रहा था कि हम मैच बचा लेंगे। लेकिन हम अहम मौकों पर सही ग्रिप नहीं कर सके। हम प्रोफेशनल क्रिकेटर हैं, इससे उबर जाएंगे। इंग्लैंड ने कई कैच छोड़े वो महंगे पड़े। हमने कोशिश की लेकिन कामयाबी दूर रही। मूमेंटम भी ठीक नहीं रहा। विराट कोहली: ये दिखाता है कि टीम ने टेस्ट मैचों के लिए कैसी तैयारी की थी। हम चाहते थे कि यंग टीम सामने आए। राहुल और करुण ने ये कर दिखाया। उनके अंदर ये कर दिखाने की भूख थी। 400 के ऊपर के स्कोर का पीछा करके लीड लेना बहुत बड़ी बात थी। खासकर ऐसे विकेट पर जहां बॉलर्स को मदद नहीं थी। लेकिन जड्डू ने भी कर दिखाया। हमने दो बार बड़े स्कोर का पीछा करते हुए जीत हासिल की। ये बहुत बड़ी बात है। हम नहीं जानते कि लोग बाहर क्या बातें करते हैं। लेकिन ड्रेसिंग रूम में एक-दूसरे से प्यार और आदर करते हैं। इस सीरीज में लोअर ऑर्डर ने बेहतरीन खेल दिखाया। ये नतीजे भी दिखाते हैं। हमारे पेस बॉलर्स उनसे बेहतर थे। उनकी रफ्तार और लैंथ देखने लायक थी। मैच समरीः इंग्लैंडः 477 और 207 रन भारतः 759/7 (डिक्लेयर) भारत ने बनाया अपना सबसे बड़ा स्कोर - इस मैच में भारत ने पहली इनिंग में 759/7 (डिक्लेयर) रन बनाकर एक इनिंग में सबसे बड़े स्कोर का अपना पुराना रिकॉर्ड तोड़ दिया। - इससे पहले भारत ने दिसंबर 2009 में मुंबई टेस्ट में श्रीलंका के खिलाफ 726/9 (डिक्लेयर) रन बनाए थे। (चौथे दिन के खेल और करुण नायर की इनिंग के बारे में डिटेल में जानने के लिए <a href='m.bhaskar.com/news-ht/SPO-CRI-live-update-india-v-england-5th-test-day-4-at-chennai-ma-chidambaram-stadium-new-5484681-PHO.html'>यहां क्लिक</a> करें) आगे की स्लाइड्स में देखें, आखिरी दिन कैसे गिरे इंग्लैंड के विकेट साथ ही मैच के फोटोज...

  • जब 303 बनाने के बाद ड्रेसिंग रूम लौटे करुण, जानें विराट ने क्या-क्या किया
    Last Updated: December 20 2016, 12:57 PM

    स्पोर्ट्स डेस्क. करियर की पहली टेस्ट सीरीज में ट्रिपल सेन्चुरी लगाने वाले टीम इंडिया के यंग बैट़समैन करुण नायर का ड्रेसिंग रूम में जोरदार वेलकम हुआ। इस ऐतिहासिक इनिंग के बाद करुण जैसे ही ड्रेसिंग रूम के बाहर पहुंचे, बाहर बैठी हुई टीम ने खड़े होकर उनका स्वागत किया, वहीं कप्तान विराट कोहली ने सबसे आगे आकर उनकी पीठ थपथपाई। खास बात ये कि इस मोमेंट को टीम इंडिया के कोच अनिल कुंबले अपने कैमरे से कैप्चर कर रहे थे। इसके पहले इंग्लैंड टीम के प्लेयर्स ने भी करुण से मिलकर उन्हें बधाई दी। करुण के लिए प्राउड मोमेंट और भी खास हो गया जब उनके पेरेंट्स भी उनसे मिलने पहुंचे। आगे की स्लाइड्स में देखें कैसे हुआ करुण नायर का ड्रेसिंग रूम में वेलकम...

  • लोकेश राहुल को टक्कर देना चाहते हैं नायर, खोला अपने फेवरेट शॉट का राज
    Last Updated: December 20 2016, 12:06 PM

    स्पोर्ट्स डेस्क. चेन्नई टेस्ट में 303 रन की इनिंग खेलने के बाद से ही करुण नायर चर्चा में हैं। मात्र तीसरा टेस्ट खेल रहे नायर ने इस यादगार इनिंग के बाद बताया कि वो बिल्कुल भी प्रेशर में नहीं थे। जब सीनियर खिलाड़ी जडेजा उनके साथ बैटिंग कर रहे थे, तो उन्होंने कहा था कि तुम ऐसा कर सकते है। नायर अब केएल राहुल से कॉम्पिटिशन करना चाहते हैं। ये हैं नायर का फेवरेट शॉट... - नायर के अनुसार उनका फेवरेट शॉट स्वीप शॉट है। इस इनिंग में भी उन्होंने कई स्वीप शॉट लगाए। - मैं ये शॉट अपने पूरे क्रिकेट करियर में खेलता आया हूं। इसपर मैंने बहुत मेहनत की है, इसलिए बेहतर तरीके से खेल पाया।; ट्रिपल सेन्चुरी का नहीं था दबाव - नायर के कहा, पहले मैच में मैं रन आउट हो गया था। दूसरे में भी ज्यादा स्कोर नहीं कर सका। बावजूद इसके इस मैच में ज्यादा प्रेशर में नहीं था।; - मैंने सिर्फ अपना नेचुरल गेल खेला। जब आप 150 रन के ऊपर पहुंच जाते हैं तो उम्मीदें बढ़ जाती हैं। इस गेम में भी कोई अलग से दबाव नहीं था।; आगे की स्लाइड्स में पढ़ें लोकेश राहुल से क्यों कॉम्पिटिशन करना चाहते हैं नायर....

  • ट्रिपल सेन्चुरी लगाने वाले करुण नायर, पर्सनल लाइफ में हैं कुछ ऐसे: PHOTOS
    Last Updated: December 20 2016, 11:51 AM

    स्पोर्ट्स डेस्क. चेन्नई टेस्ट मैच में इंग्लैंड के खिलाफ भारत के लिए करुण नायर ने 303* रन की इनिंग खेली। भारत की ओर से ट्रिपल सेन्चुरी लगाने वाले वे वीरेंद्र सहवाग के बाद दूसरे बैट्समैन बने। इस दौरान उन्होंने भारत की ओर से टेस्ट हिस्ट्री में तीसरी ट्रिपल सेन्चुरी लगाई। बड़ी बात ये है कि ये कमाल उन्होंने करियर का तीसरा टेस्ट खेलते हुए किया। इस खबर में dainikbhaskar.com आपको नायर की क्रिकेट लाइफ से जुड़े कुछ ऐसे ही स्पेशल फैक्ट्स बता रहा है। आगे की स्लाइड्स में देखें, करुण नायर की पर्सनल लाइफ के फोटोज और उनकी लाइफ से जुड़े खास फैक्ट्स...

  • 105 के स्कोर पर टूट गया था करुण का बैट, लेकिन उसी से लगाई ट्रिपल सेन्चुरी; 5 महीने पहले बोट पलटने के बाद डूबने से बचे थे
    Last Updated: December 20 2016, 11:46 AM

    चेन्नई. इंग्लैंड के खिलाफ आखिरी टेस्ट की पहली इनिंग में 303 रन बनाकर कई रिकॉर्ड तोड़ चुके करुण नायर असल में टूटे हुए बैट से खेल रहे थे। जब वे 105 के स्कोर पर थे, तब उनका बैट का ऊपरी हिस्सा टूट गया था। लेकिन उन्होंने बैट नहीं बदला। 303 रन की नाबाद पारी के बाद रवि शास्त्री ने उनका एक शॉर्ट इंटरव्यू दिया। इसमें रवि ने करुण से उस घटना के बारे में पूछा जिसे सुनकर वो आज भी कांप जाते हैं। दरअसल, इसी साल 17 जुलाई को करुण एक नाव में जा रहे थे और वो डूब गई थी। करुण को रेस्क्यू टीम ने बचाया था। करुण ने खुद माना कि उन्हें तैरना नहीं आता। मंदिर जाते वक्त हुआ था हादसा.... - 17 जुलाई की सुबह करीब 11.45। करुण एक बड़ी बोट में सवार होकर श्री पार्थसार्थी मंदिर जा रहे थे। इस मंदिर तक पहुंचने के लिए केरल की पम्पा नदी पार करनी पड़ती है। श्रद्धालू केरल में चलने वाली पारंपरिक बड़ी बोट (snake boat) के सहारे ये नदी पार करते हैं। - करुण जिस नाव में थे उसमें करीब 100 लोग और भी थे। पार्थसार्थी मंदिर में उस दौरान केरल का त्योहार वल्ला सैद्या; मनाया जा रहा था। नायर इसी में शामिल होने जा रहे थे। - बोट धीमे-धीमे आगे बढ़ रही थी। पार्थसार्थी मंदिर के पहले अर्नममुलाला मंदिर पड़ता है। यहीं नाव पलट गई और डूबने लगी। - चूंकि मंदिर में भारी भीड़ थी। इसलिए रेस्क्यू टीमें भी अलर्ट पर थीं। जैसे ही बोट पलटी। रेस्क्यू टीम चीख-पुकार सुनकर मौके पर पहुंची। 98 लोगों को बचा लिया। इनमें करुण भी शामिल थे। हालांकि दो लोगों का पता उस वक्त नहीं लग पाया था। टूटे बैट से भी कमाल - नायर 105 पर थे। बेन स्टोक्स की एक शार्टपिच बॉल ने उनके बैट का बाहरी किनारा लिया और विकेट कीपर के ऊपर से बाउंड्री लाइन के बाहर चली गई। - बॉल तेज भी थी और नई भी। बैट का ऊपरी हिस्सा लगा था। ये टूट गया। - नायर ओवर खत्म होने के बाद अंपायर के पास पहुंचे और वो टूटा हुआ हिस्सा उन्हें रखने दे दिया। लेकिन बैट नहीं बदला। बाद में इसी बैट से इस यंगस्टर ने नॉट आउट 303 रन बना दिए। माता-पिता ने क्या कहा? - करुण की ट्रिपल सेंचुरी के बाद पिता ने कहा- वो ये सोच रहा था कि सेंचुरी बनाउंगा। लेकिन उसने तिहरा शतक लगाया। मां ने कहा- पहले दो मैचों में कामयाबी ना मिलने पर वो बिल्कुल निराश नहीं था। मैंने पहली बार उसे स्टेडियम में खेलते देखा। और मैं उसके लिए लकी रही। - पिता ने कहा- जब पिछले टेस्ट में वो एलबीडब्ल्यू आउट हुआ तो उसे लगा था कि क्या पता आगे मौका मिलेगा या नहीं। लेकिन जब मिला तो उसने इसे कैश कर लिया। - मां ने बताया, उसे चिकन, डोसा और उत्पम पसंद है। हालांकि वो मिठाई का भी बहुत शौकीन है। वो बहुत कूल लड़का है। सेलिब्रेट करना उसे पसंद नहीं है। शतक के बाद भी उसके एक्सप्रेशन नॉर्मल थे। ट्रिपल सेन्चुरी के बाद करुण ने क्या कहा? - करुण ने कहा, 100 के बाद मैं नॉर्मल था और फ्री होकर खेल रहा था। मेरा खेल नहीं बदला, सिर्फ एप्रोच चेंज हुई। क्योंकि टेस्ट में अलग तरीके से खेलना पड़ता है। मैं शाईनिंग जैसे शब्दों में यकीन नहीं रखता। हो सकता है ये मेरी किस्मत में है।

  • पहली ही सेन्चुरी को 300 में बदलने वाले पहले भारतीय बने नायर, सचिन-लक्ष्मण-द्रविड़ के करियर बेस्ट को पीछे छोड़ा
    Last Updated: December 20 2016, 11:45 AM

    चेन्नई. इंग्लैंड के खिलाफ यहां पांचवें टेस्ट का चौथा दिन 25 साल के करुण नायर के नाम रहा। वे एक ही मैच में करियर की पहली सेन्चुरी को डबल सेन्चुरी और ट्रिपल सेन्चुरी में कन्वर्ट करने वाले पहले भारतीय और दुनिया के तीसरे क्रिकेटर बन गए। नायर ने 381 बॉल में 303* रन बनाए। इस तरह उन्होंने सचिन (248*), लक्ष्मण (281) और द्रविड़ (270) के करियर बेस्ट को पीछे छोड़ दिया। वे वीरेंद्र सहवाग के बाद ट्रिपल सेन्चुरी बनाने वाले दूसरे भारतीय बन गए। हालांकि, इनिंग डिक्लेयर होने के चलते वे भारत की ओर से टेस्ट में 319 रन का सहवाग का हाईएस्ट स्कोर का रिकॉर्ड नहीं तोड़ पाए। नायर ने बनाए 6 रिकॉर्ड्स... 1. पहली सेन्चुरी को डबल सेन्चुरी और ट्रिपल सेन्चुरी में बदला - <a href='http://www.bhaskar.com/news-campaign/karun-nair/'>नायर</a> पहली सेन्चुरी को सबसे ज्यादा स्कोर में बदलने वाले दुनियाभर के टेस्ट क्रिकेटरों में तीसरे बैट्समैन और पहले भारतीय हैं। - मेडन सेन्चुरी पर हाईएस्ट स्कोर का रिकॉर्ड सर गैरी सोबर्स के नाम है। उन्होंने 1958 में पाकिस्तान के खिलाफ किंग्स्टन टेस्ट में 365 रन बनाए थे। - बॉब सिम्प्सन ने 1964 में इंग्लैंड के खिलाफ मैनचेस्टर टेस्ट में 311 रन बनाए थे। - इन दोनों के बाद तीसरे नंबर पर अब नायर 303* हैं। 2. कांबली का 23 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ा - नायर से पहले कोई भी भारतीय करियर की पहली सेन्चुरी काे ट्रिपल सेन्चुरी में नहीं बदल सका था। - उनसे पहले 1993 में इंग्लैंड के खिलाफ विनोद कांबली ने पहली सेन्चुरी लगाकर कुल 224 रन बनाए थे। - वहीं, दिलीप वेंगसरकर ने न्यूजीलैंड के खिलाफ 1965 में अपनी पहली सेन्चुरी को डबल सेन्चुरी में तब्दील किया था। वे 200 पर नॉटआउट रहे थे। 3. ट्रिपल सेन्चुरी लगाने वाले नायर दूसरे भारतीय - वीरेंद्र सहवाग : मार्च 2008 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ चेन्नई टेस्ट में सहवाग ने 319 रन बनाए थे। - सहवाग : मार्च 2004 में पाक के खिलाफ मुल्तान टेस्ट में उन्होंने 309 रन बनाए थे। - करुण नायर : दिसंबर 2016 में चेन्नई टेस्ट में इंग्लैंड के खिलाफ 303 नॉट आउट। वे टेस्ट में ट्रिपल सेन्चुरी बनाने वाले 6th यंगेस्ट क्रिकेटर हैं। - सहवाग : दिसंबर 2009 में मुंबई टेस्ट में उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ 293 रन बनाए थे। 4. एकसाथ तीन दिग्गज क्रिकेटरों के करियर बेस्ट को पीछे छोड़ा - नायर ने तीन दिग्गज क्रिकेटरों के करियर बेस्ट को अपने तीसरे ही टेस्ट में पीछे छोड़ दिया। - सचिन ने 200 टेस्ट खेले और उनका करियर बेस्ट 248 नाॅट आउट था। उन्होंने दिसंबर 2004 में ढाका टेस्ट में बांग्लादेश के खिलाफ यह इनिंग खेली थी। - वीवीएस लक्ष्मण ने मार्च 2001 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ कोलकाता टेस्ट में 281 रन की इनिंग खेली थी। - राहुल द्रविड़ ने अप्रैल 2004 में रावलपिंडी टेस्ट में पाक के खिलाफ 270 रन बनाए थे। 5. पांचवें नंबर पर आकर सबसे ज्यादा रन बनाने वाले पहले भारतीय बने - नायर ऐसे पहले भारतीय बन गए जिसने पांचवें नंबर पर आकर इतने रन बनाए हों। - इससे पहले ये रिकॉर्ड वीवीएस लक्ष्मण के नाम था जिन्होंने पांचवें नंबर पर बैटिंग करते हुए 200 रन बनाए थे। 6. नायर ने बनवाया भारत का अब तक का हाईएस्ट टोटल - 84 साल की टेस्ट हिस्ट्री में टीम इंडिया का यह सबसे बड़ा स्कोर रहा। इंग्लैंड के खिलाफ चेन्नई टेस्ट में भारत ने 759 रन बनाए। - इससे पहले भारत का टेस्ट में हाईएस्ट टोटल दिसंबर 2009 में बना था। तब मुंबई टेस्ट में श्रीलंका के खिलाफ भारत ने 726 रन बनाए थे। - ओवरऑल रिकॉर्ड की बात करें तो टेस्ट में हाईएस्ट टोटल का रिकॉर्ड श्रीलंका के पास है जो उसने कोलंबो टेस्ट में भारत के खिलाफ बनाया था। 1997 के इस टेस्ट में श्रीलंका ने 952 रन बनाए थे। नायर के दिलचस्प आंकड़े - नायर ने रविवार को 136 बॉल में 71 रन बनाए थे। सोमवार को उन्होंने 245 बॉल में 232 रन और जोड़े। - पहले 100 रन उन्होंने 185 बॉल में, दूसरे 100 रन 121 बॉल में और तीसरे 100 रन सिर्फ 75 बॉल में बनाए। - करियर के पहले टेस्ट में नायर ने 4 रन, दूसरे टेस्ट में 13 रन बनाए। तीसरे टेस्ट में सीधे ट्रिपल सेन्चुरी बना डाली। दोस्त की कसर पूरी की - केएल राहुल और करुण नायर दोस्त हैं। दोनों साथ में लंबे वक्त तक क्रिकेट खेले हैं। दोनों 11 साल की उम्र से साथ खेलते रहे हैं। - इत्तेफाक है कि राहुल इसी मैच में 199 रन पर आउट हो गए और पहली डबल सेन्चुरी नहीं बना पाए। - राहुल और नायर दोनों जूनियर लेवल से स्टेट लेवल तक कई पार्टनरशिप की हैं। इस टेस्ट मैच में भी दोनों ने 161 रनों की पार्टनरशिप की। अश्विन ने भी बनाया रिकॉर्ड - आर अश्विन ने भी चेन्नई में रिकॉर्ड बनाया। - अश्विन टेस्ट क्रिकेट इतिहास के पांचवें ऐसे ऑलराउंडर बन गए हैं जिन्होंने एक सीरीज में 300+ रन और 25+ विकेट लिए हों। (<a href='http://www.bhaskar.com/news/SPO-CRI-live-update-india-v-england-5th-test-day-4-at-chennai-ma-chidambaram-stadium-new-5484681-PHO.html?ref=ht'>इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें टेस्ट मैच के चौथे दिन क्या हुआ- यहां पढ़ें मैच रिपोर्ट</a>)

  • मोदी से अमिताभ बच्चन तक, जानें नायर की इनिंग पर 13 दिग्गजों ने क्या कहा
    Last Updated: December 20 2016, 11:36 AM

    स्पोर्ट्स डेस्क. करियर की पहली टेस्ट सीरीज में 303 रन की नॉटआउट पारी के बाद करुण नायर सिर्फ देश में ही नहीं पूरी दुनिया में छा गए हैं। इस ऐतिहासिक पारी के बाद राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, प्रधानमंत्री नेरंद्र मोदी समेत क्रिकेट, राजनीति और बॉलीवुड के तमाम दिग्गजों ने उन्हें बधाई दी। प्रधानमंत्री के ट्विटर अकाउंट ने लिखा, इस ऐतिहासिक ट्रिपल सेन्चुरी के लिए बधाई। पूरा देश आपकी इस शानदार पारी पर खुश और गौरवान्वित महसूस कर रहा है। आगे की स्लाइड्स में पढ़े राष्ट्रपति से लेकर क्रिकेट के दिग्गजों ने करुण को दी ऐसे बधाई...

  • नायर और नंबर 3 का है खास कनेक्शन, एक साथ शायद ही हों इतने इत्तेफाक
    Last Updated: December 20 2016, 10:40 AM

    स्पोर्ट्स डेस्क. करुण नायर ने चेन्नई में अपने करियर के तीसरे टेस्ट की तीसरी इनिंग में 300 रन की इनिंग खेली। इस एक ट्रिपल सेन्चुरी से उनका नंबर 3 से खास कनेक्शन हो गया है। ट्रिपल सेन्चुरी लगाना किसी भी टेस्ट क्रिकेटर का सपना होता है और नायर ने इसे अपने तीसरे टेस्ट में ही पूरा कर लिया। dainikbhaskar.com यहां नायर और नंबर 3 के खास कनेक्शन के बारे में बता रहा है। आगे की स्लाइड्स में जानें नायर का 13 से 303 रन तक का सफर...

  • 303 रन बनाने वाले करुण के बचपन की फोटो, 2 की उम्र बदलना पड़ा था शहर
    Last Updated: December 20 2016, 03:28 AM

    जोधपुर. यहां जन्मे करुण नायर ने इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें टेस्ट के चौथे दिन 303* रन की पारी खेली। यह उनका तीसरा टेस्ट था। वे अपने पहले शतक को तिहरे शतक में बदलने वाले पहले भारतीय और ओवरऑल तीसरे बल्लेबाज हैं। बता दें की करुण जब केवल दो साल के थे तो उनके पिता परिवार के साथ बेंगलुरू शिफ्ट हो गए थे। 4 साल जोधपुर में रहा करुण का परिवार... - जोधपुर में 6 दिसंबर 1991 को करुण का जन्म हुआ। - उनके पिता एमडी कलाधरन यहां एक निजी कंपनी में एरिया मैनेजर थे। - 4 साल भगत की कोठी क्षेत्र में रहने के बाद उनका परिवार बेंगलुरु शिफ्ट हो गया। तब करुण दो साल के थे। - वे भगत की कोठी निवासी देवकरण गुर्जर के गोद में खेले हैं। गुर्जर उनके पड़ोसी थे व उनके पिता के साथ ही काम करते थे। - आईपीएल में जब करुण राजस्थान रॉयल्स से खेल रहे थे तब 11 मई 2014 को उन्होंने गुर्जर को अपना मैच देखने के लिए बेंगलुरु भी बुलाया था। जोधपुर के देवनारायण से पारिवारिक रिश्ता - जोधपुर निवासी देवकरण गुर्जर से नायर परिवार का पारिवारिक रिश्ता है। - करुण के पिता जब बेंगलूर शिफ्ट हुए थे, तब देवकरण को भी अपने साथ ले गए। वहां दोनों ने कई बरसों तक साथ काम किया। आगे की स्लाइड्स में देखिए करुण की कुछ चुनिंदा फोटोज।

Flicker