• देखिये ट्रेनडिंग न्यूज़ अलर्टस

Mahavir Jayanti (महावीर जयंती)

महावीर जयंती पर ड्राई डे, ठेकों में बने छेद से बेच रहे थे शराब

महावीर जयंती पर ड्राई डे, ठेकों में बने छेद से बेच रहे थे शराब

Last Updated: April 10 2017, 07:52 AM

सीकर. महावीर जयंती पर ड्राई डे के बावजूद शराब बेची गई। इसके लिए ठेका संचालकाें ने नया तरीका निकाला। ठेकों में बनाए छेद के जरिए शराब की बाेतल ग्राहकों को दी जा रही थी, रुपए भी छेद से ही लिए जा रहे थे। हर बोतल पर निर्धारित कीमत से 25 से 30 रुपए ज्यादा वसूले जा रहे थे। भास्कर ने पूरे मामले का सच जानने के लिए कई शराब ठेकों पर स्टिंग ऑपरेशन किया। फतेहपुर रोड स्थित ठेके पर भी शराब बेची जा रही थी। भास्कर टीम ने पुलिस को सूचना दी। इसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची और ठेका बंद कराया। लेकिन 10 मिनट बाद फिर ठेके से शराब बिक्री शुरू हो गई। कलेक्ट्रेट के सामने ठेके पर सेल्समैन ने शराब के ज्यादा रुपए मांगे। कारण पूछा तो दूसरसेल्समैन बोला-आज छुट्टी है, 30 रुपए ज्यादा लगेंगे, लेनी है तो पूछ वरना बाहर भगा दे। ड्राई डे के बावजूद शराब कैसे बिक रही थी, इस सवाल का जवाब ढूंढ़ने के लिए पड़ताल की तो सामने आया कि आबकारी विभाग ने रविवार को दिनभर में एक भी कार्रवाई नहीं की, यह जानने के लिए कि ड्राई डे पर कहीं शराब तो नहीं बिक रही। मामले में भास्कर ने बात की तो जिला आबकारी अधिकारी सत्यनारायण परेवा ने भी यह स्वीकार किया कि विभाग की ओर से रविवार को एक भी कार्रवाई नहीं की। केस 1 : फतेहपुर रोड, दोपहर 1:00 बजे पड़ताल में सामने आया कि फतेहपुर रोड पर अंबेडकर सर्किल के पास स्थित ठेके पर शराब बिक रही है। इस पर भास्कर ने पुलिस को सूचना दी। दोपहर करीब 1 बजे एक पुलिसकर्मी ठेके पर पहुंचा। शराब खरीद रहे लोगों को वहां से हटाया और ठेके का दरवाजा बंद कराया। इसके बाद हिदायत देकर चला गया। पुलिसकर्मी के जाने के बाद 10 मिनट बाद ही फिर शराब की बिक्री शुरू हो गई। फिर वही हालात हो गए और लोगों ने जमकर शराब खरीदी। दोपहर 2.40 बजे भास्कर टीम दोबारा ठेके पर पहुंची। ठेका बाहर से बंद था। बगल का दरवाजा खाेलकर टीम अंदर गई। जहां देखा कि दुकान के पीछे दीवार में बने बड़े छेद के जरिए लोगों से रुपए लिए जा रहे थे और उसी छेद से ग्राहक को बोतल दी जा रही थी। टीम ने भी पुष्टि के लिए शराब खरीदी। टीम पूरे मामले काे कैमरे में कैद कर रही थी। इसी दौरान दो जनों ने पहचान लिया। जिसके चलते टीम को बीच में लौटना पड़ा। केस 2 : कलेक्ट्रेट के सामने, दोपहर 3:00 बजे करीब 3 बजे भास्कर टीम कलेक्ट्रेट के सामने शराब ठेके पर पहुंची। जहां बाहर खड़े सेल्समैन ने बगल के दरवाजे से अंदर जाने के लिए कहा। अंदर दूसरे सेल्समैन ने बाहर वाले सेल्समैन के कहने पर दरवाजा खोला। टीम जब अंदर पहुंची तो सेल्समैन ने गली में रोक लिया। टीम ने शराब मांगी तो पहले सेल्समैन ने 100 रुपए की बोतल के बदले 110 रुपए मांगे। टीम ने कहा कि रेट ज्यादा है, इस पर नाले के बाहर बैठे सेल्समैन ने कहा कि 130 रुपए लगेंगे। टीम ने कहा कि इतनी देर में 20 रुपए फिर बढ़ा दिए। इस पर सेल्समैन के साथ मौजूद व्यक्ति ने कहा कि आज छुट्टी है, ज्यादा रुपए लगेंगे। टीम ने रुपए ज्यादा लेने पर सवाल किया तो अंदर बैठे सेल्समैन ने बाहर बैठे सेल्समैन से कहा कि 30 रुपया ज्यादा लागला, लेनी है तो पूछ ल, नही तो बार् भगा दे। इस पर टीम ने पूरी रकम देकर शराब खरीदी और पूरे घटनाक्रम को कैमरे में रिकॉर्ड किया। भास्कर से बोले-आपसे जानकारी मिली है, अभी कार्रवाई करता हूं सवाल : आज महावीर जयंती पर अधिकांश स्थानों पर शराब बिक रही है, आपने क्या कार्रवाई की? जवाब : पक्का शराब बिक रही है क्या, इस मामले में अभी सीआई से बात करता हूं। सवाल: आपको मालूम कैसे नहीं चला, जो आपने कार्रवाई नहीं की? जवाब: इस संबंध में विभागीय टीम से जानकारी नहीं मिली। आपसे मिली है, कार्रवाई करेंगे। सवाल: क्या आपको पता है ठेकों की दीवारों में छेद बनाकर शराब बेची जा रही है? जवाब: मुझे इस बारे में बिल्कुल कोई जानकारी नहीं है। मामले की जांच कराई जाएगी।

महावीर जयंती पर 4.5 किमी की दूरी तय की, 2.25 किमी लंबी थी शोभायात्रा

महावीर जयंती पर 4.5 किमी की दूरी तय की, 2.25 किमी लंबी थी शोभायात्रा

Last Updated: April 10 2017, 07:07 AM

कोटा. जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी, को वर्तमान शासन नायक कहा जाता है, क्योंकि ये युग उन्हीं के शासनकाल में चल रहा है। भगवान महावीर का अनेकांत का सिद्धांत वैचारिक संयम का सिद्धांत है। हम अमीर भी हैं और गरीब भी। हम सुखी भी हैं और दुखी भी। यह केवल देखने का नजरिया है। अनेकांत का सिद्धांत इसी नजरिए को बताता है। महावीर का धर्म वैज्ञानिक है। उनका धर्म सिद्धांत वैज्ञानिकता की तरह सरल है। सिद्धांत सदा काल और क्षेत्र की सीमाओं से परे होता है। जो बदल जाए वह धर्म नहीं होता है। धर्म जीने का तरीका हो, सिर्फ बोलने का नहीं। विश्व एवं पर्यावरण की संरक्षा के लिए भगवान महावीर के अमर संदेश जियो और जीने दो की आवश्यकता है। इसमें जीव स्वयं भी आनंद से जीवन यापन करें साथ ही दूसरे के प्रति भी सद्भाव एवं परोपकार भाव के साथ आगे बढ़ें। सत्य, अहिंसा, अचौर्य, अपरिग्रह और ब्रह्मचर्य भगवान महावीर स्वामी के 5 सिद्धांत हैं।

महावीर जयंती पर रथयात्रा का संचालन, सातवीं पीढ़ी ने निभाई  परंपरा

महावीर जयंती पर रथयात्रा का संचालन, सातवीं पीढ़ी ने निभाई परंपरा

Last Updated: April 10 2017, 05:57 AM

अजमेर. जैन धर्म के 24 वें तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी का 2615 वां जन्मोत्सव चैत्र शुक्ला तेरस संवत 2074 पर रविवार को मनाया गया। जयंती पर विशाल शोभायात्रा निकाली गई, जिसका रास्ते भर में जगह जगह भव्य स्वागत किया गया। श्रीजी के रथ का संचालन विनम्र सोनी ने किया। सोनी परिवार की सातवीं पीढ़ी ने इस परंपरा का निर्वाह किया है। सेठ मूलचंद सोनी के बाद नेमीचंद सोनी, टीकमचंद सोनी, भागचंद सोनी, कैप्टन प्रभात चंद सोनी, प्रमोद चंद इस वंश परंपरा का निर्वाह कर चुके हैं। मंत्री विनीत कुमार जैन ने बताया कि इस अवसर पर सर्वप्रथम सुबह जैन मन्दिर केसरगंज में राजा सिद्धार्थ के दरबार में ब्राह्मी महिला मण्डल द्वारा बधाइयां गाई। उसके बाद केसरगंज जैन मन्दिर से भगवान महावीर स्वामी की विभिन्न मार्गों से होकर प्रभात फेरी निकाली गई। मंदिरजी पर ध्वजारोहण कपूरचंद जैन साहबजाज ने किया। इस मौके पर शिक्षा एवं पंचायतीराज मंत्री वासुदेव देवनानी और ध्वजारोहण कर्ता का मन्दिर कमेटी की ओर से स्वागत किया गया। उसके बाद महावीर स्वामी की रथयात्रा का जुलूस पार्श्वनाथ दिगंबर जैसवाल जैन मन्दिर महावीर मार्ग केसरगंज से शुरू होकर विभिन्न मार्गों से होता हुआ केसरगंज जैन मन्दिर पर समाप्त हुआ। बैंड बाजे के साथ झांकियां जुलूस में जैन धर्म व महावीर स्वामी के जीवन पर आधारित लगभग 40 झांकियां, श्रीजी स्वर्णमयी सफेद घोड़ों का रथ, कुचामनी रथ, ऐरावत हाथी, 11 घोड़े, उद्घोषक रथ, 7 बैंड, 21 ढोल, सवारियां, ढोल बैंड बाजे, संगीत मंडली सहित हजारों धर्मावलंबी सम्मिलित हुए। बच्चे धर्म ध्वजा लेकर जीओ और जीने दो; महावीर स्वामी के जयकारे लगाते चल रहे थे। दरगाह के बाहर स्वागत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह के बाहर गरीब नवाज सूफी मिशन सोसायटी द्वारा जैन समाज के प्रमुख लोगों को गोटे की माला पहनाकर दस्तारबंदी की गई। इस मौके पर संस्था के अध्यक्ष शेखजादा जुल्फिकार चिश्ती, फिरोजउद्दीन चिश्ती, अंजुमन सदस्य आलेबदर आबू तालिब चिश्ती, हाजी सरवर सिद्दीकी, काजी मुनव्वर, उस्मान घडिय़ाली, अब्दुल नईम खान आदि मौजूद थे। नया बाजार चौपड़ पर कांग्रेस अध्यक्ष विजय जैन, अतुल पाटनी, सुनील गंगवाल, कमल गंगवाल, पंकज गंगवाल, पूर्व पार्षद अशोक राठी आदि ने शोभायात्रा का स्वागत किया। कांग्रेसी नेता हेमंत भाटी ने मोइनिया इस्लामिया स्कूल के बाहर स्वागत किया। इस दौरान मनोज भाटी, राजकुमार पाण्ड्या, निर्मल बैरवाल, पार्षद चंदन सिंह, द्रोपदी कोली, हरिप्रसाद जाटव, वेदप्रकाश चौधरी, संतोष टेलर आादि मौजूद थे। महिला कांग्रेस द्वारा नगर निगम एवं चूड़ी बाजार में फल बांटे। इस मौके पर महिला कांग्रेस अध्यक्ष सबा खान, रजनी कहार, अरुणा कच्छावा, कमरुनिसां, वर्षा टांक, नूरजहां, विमला नारावत आदि मौजूद थी।

यहां मंदिरों में रात तक लगी रही कतारें, कहीं सोने से तो कहीं चांदी से शृंगार

यहां मंदिरों में रात तक लगी रही कतारें, कहीं सोने से तो कहीं चांदी से शृंगार

Last Updated: April 23 2016, 03:38 AM

कोटा. हनुमान जयंती पर शहर के मंदिरों में शुक्रवार को बजरंगबली का स्वर्ण-रजत शृंगार हुआ। सुबह से ही दर्शन के लिए भक्तों की कतारें लगी रहीं। मंदिरों में मंगलाआरती, अभिषेक और भंडारे का भी आयोजन किया गया। तलवंडी में 1100 दीपों से भगवान की महाआरती की गई। वहीं, शहर में निकली शोभायात्रा में भक्तों ने जयकारे लगाए। किसने निकाली पदयात्रा शाम को कई स्थानों पर भजन संध्या, सामूहिक सुंदरकांड, महाआरती, रक्तदान सहित अन्य कार्यक्रमों में बड़ी संख्या में भक्तों ने भाग लिया। वानर सेना की ओर से रंगबाड़ी बालाजी मंदिर से गोदावरी धाम तक पदयात्रा निकाली गई। विधायक प्रहलाद गुंजल, वाराणसी के विश्वनाथ नारायण पालंदे महाराज, पंचगव्य विशेषज्ञ राजू महाराज और गोदावरी धाम के व्यवस्थापक शैलेंद्र भार्गव ने ध्वज पूजन कर इसे रवाना किया। हाड़ौती व्यायामशाला के उस्ताद अखाड़ों के साथ ध्वज लेकर चल रहे थे। भजन मंडलियों के अलावा तीन झांकियां, घुड़सवार, बैंड-बाजे भी इसमें शामिल हुए। मंच पर दी प्रस्तुतियां पटेबाजों ने बल्लम, तलवार, चक्कर और लाठी से प्रदर्शन किया। गोदावरी धाम पर शाम 7 बजे बालाजी का ढाई तोला सोने से शृंगार किया गया। रात्रि 8 बजे चंडीगढ़ के भजन गायक उमेश ने... आज हनुमान जयंती है... श्री राम जानकी बैठे है सीने में... भजन सुनाया। मुंबई के आए छोटे-छोटे बच्चों ने कृष्ण-अर्जुन, दुर्गा और हनुमान जी के रूपों की मंच पर प्रस्तुतियां दी। रात 12 बजे महाआरती के बाद प्रसादी वितरण की। वहीं, रंगबाड़ी बालाजी मंदिर में शाम को महाआरती हुई। मोरी हनुमान मंदिर में विशेष शृंगार और भजन संध्या हुई। गीता भवन में सालासर सेवा समिति की ओर से मुंबई से आए भजन गायक रवि श्रीमाल ने भजन सुनाए। यहां 400 किलो फूलों से बालाजी का शृंगार किया गया। टीलेश्वर भवन में मानव विकास समिति के राजेंद्र अग्रवाल ने बताया कि यहां 17 यूनिट रक्तदान किया गया। श्रीराम मंदिर से निकाली शोभायात्रा हनुमान जयंती महोत्सव पर चांदमारी बालाजी में सुबह 11 पंडितों ने महारुद्राभिषेक किया। शाम को श्रीराम मंदिर स्टेशन से चांदमारी बालाजी तक शोभायात्रा निकाली गई। इसमें शिव-पार्वती, माताजी और रामजी की झांकियां शामिल रहीं। बालाजी मंदिर में भंडारे का आयोजन किया। छावनी स्थित मंशापूर्ण हनुमान मंदिर में बालाजी का सुबह अभिषेक हुआ। दोपहर को छावनी क्षेत्र में अखाड़ा निकाला। पटेबाजों ने इसमें तलवार और लाठी के करतब दिखाए। शाम को यहां भजन गायकों ने भजन सुनाए। सचिव देवेश तिवारी ने बताया कि शनिवार सुबह 9 बजे से सर्वजातीय सामूहिक विवाह सम्मेलन होगा। इसमें 21 जोड़े परिणय सूत्र में बंधेंगे। प्राण-प्रतिष्ठा और महाआरती हुई मारुति नंदन मंदिर विकास समिति तलवंडी सेक्टर-1 में चल रहे प्राण-प्रतिष्ठा में शुक्रवार को पूर्णाहुति हुई। रात को महिला मंडल की ओर से दीप ज्योति का आयोजन किया। इसमें महिलाओं ने 1100 दीपों से महाआरती की। यहां भजन संध्या भी हुई। वहीं, रामपुरा स्थित बड़ी समाध में स्थित वीर हनुमान मंदिर में सुबह रामायण पाठ की पूर्णाहुति हुई। संयोजक राकेश शर्मा ने बताया कि 300 स्वर्ण-रजत वर्क से हनुमानजी का शृंगार किया। केशवपुरा स्थित श्रीराम जानकी मंदिर में हनुमान जी का अभिषेक किया गया। समिति प्रवक्ता परमानंद महावर ने बताया कि यहां सोने और चांदी वर्क का चोला चढ़ाया। शाम को संगीतमय सुंदरकांड पाठ हुआ। तलवंडी सेक्टर-बी स्थित सुन्दर कांड पाठ हुआ आयोजन समिति के पूर्व पार्षद नरेन्द्र खिचीं ने बताया कि शिव मंदिर में संगीतमय सुंदरकांड हुआ। सूरजपोल स्थित हनुमान मंदिर में विशेष शृंगार, कुन्हाड़ी स्थित काली टेक हनुमान मंदिर में महाआरती, धोकड़े वाले, दो चोंच के बालाजी, बोट के बालाजी सहित अन्य मंदिरों में भक्तों की भीड़ लगी रही। गोविंदधाम पर भजन संध्या हुई। दरा स्थित किशोरसागर धाम पर भी महाआरती हुई। आगे की स्लाइड्स में देखें भक्तों के फोटोज...

MYTH: यहां मन्नत पूरी होने पर बच्चों को बनाया जाता है लंगूर, ये है मान्यता

MYTH: यहां मन्नत पूरी होने पर बच्चों को बनाया जाता है लंगूर, ये है मान्यता

Last Updated: April 21 2016, 09:39 AM

चंडीगढ़। ऐसी मान्यता है कि अमृतसर के बड़ा हनुमान मंदिर में मन्नत मांगने पर निसंतान महिलाओं को संतान की प्राप्ति होती है। बच्चों के बड़े होने पर माता-पिता को उन्हें मंदिर में लगने वाले मेले में लंगूर बनाकर लाना पड़ता है। आगे पढ़ें मंदिर की पूरी कहानी... -यहां पर हजारों साल पुराना वट वृक्ष है। मान्यता है कि लव-कुश ने हनुमान को इसी वट वृक्ष से बांध दिया था। इस वट वृक्ष पर धागे बांध कर लोग मन्नत मांगते हैं। -इस अति प्राचीन मंदिर में स्थापित हनुमानजी की मूर्ति बैठी हुई मुद्रा में है। -मान्यता है कि मंदिर उस पवित्र धरती पर बना हुआ है, जहां भगवान राम की सेना और लव-कुश के बीच युद्ध हुआ था। - युद्ध के समय हनुमानजी को वट वृक्ष से बांध दिया गया था, क्योंकि हनुमानजी लव-कुश से अश्वमेध यज्ञ का घोड़ा छुड़वाने के लिए आगे बढ़े थे। -यहां प्रतिवर्ष लंगूरों का मेला लगता है और इस मेले में देश-विदेश से बच्चे लंगूर बनने के लिए आते हैं। पुत्र प्राप्ति के लिए आती हैं महिलाएं... -जिन महिलाओं को पुत्र प्राप्ति नहीं होती वे हनुमानजी के इस मंदिर में आकर मन्नत मांगती हैं। इसके बाद अगर पुत्र प्राप्ति होती है तो वे उस बच्चे को हनुमानजी का लंगूर बना कर लाती हैं। फोटोः सतीश कपूर आगे की स्लाइड्स में देखें तस्वीरें...

महावीर जयंती पर आस्था और सेवा का उमड़ा सैलाब, लोगों ने किया 367 यूनिट रक्तदान

महावीर जयंती पर आस्था और सेवा का उमड़ा सैलाब, लोगों ने किया 367 यूनिट रक्तदान

Last Updated: April 20 2016, 05:27 AM

कोटा. 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर जयंती पर सकल जैन समाज की ओर से मंगलवार को रामपुरा से दशहरा मैदान तक मुनि विश्रांत सागर, गणिनी आर्यिका संगममति माताजी के सानिध्य में शोभायात्रा निकाली गई। विधायक प्रहलाद गुंजल ने जियो और जीने दो संदेश के साथ आकाश में गुब्बारे छोड़ते हुए शोभायात्रा को रवाना किया। ड्राेन से पुष्प वर्षा की गई रामपुरा हिन्दू धर्मशाला से भगवान महावीर के जयकारों के साथ निकली शोभायात्रा सब्जीमंडी टिपटा, कैथूनीपोल, गढ़ पैलेस होते हुए कार्यक्रम स्थल पर पहुंची। इसमें हाथी, ऊंट गाड़ी, बैंड-डीजे, बग्घी के अलावा टोंक, बूंदी और रिद्धि-सिद्धि नगर से आए जयघोष शामिल रहे। दशहरा मैदान में ड्राेन से पुष्प वर्षा की गई। यहां श्रीजी का अभिषेक हुआ और महिलाओं ने अर्घ्य अर्पित किए। यहां एमबीएस अस्पताल में मरीजों के लिए ऑटोमैटिक रोटी मशीन लगाने की घोषणा हुई। जो एक सप्ताह में वहां लगवा दी जाएगी। इसके अलावा मंच से समाज की दो विधवाओं को पेंशन देकर पेंशन योजना का शुभारंभ किया गया। वहीं, दो जरूरतमंद छात्रों को उच्च शिक्षा के लिए 20-20 हजार रुपए की छात्रवृत्ति सौंपी गई। कौन-कौन थे मौजूद कार्यक्रम में सांसद ओम बिरला, विधायक प्रहलाद गुंजल, संदीप शर्मा, महापौर महेश विजय, पूर्व महापौर डॉ. रत्ना जैन, यूआईटी पूर्व चेयरमैन रविंद्र त्यागी सहित अन्य बतौर अतिथि मौजूद रहे। यहां सकल दिगंबर जैन समाज के अध्यक्ष अजय बाकलीवाल, महामंत्री विनोद जैन, उपाध्यक्ष जेके जैन, दादाबाड़ी जैन समाज के प्रकाशचंद जैन बज, राकेश जैन चपल मन सहित अन्य ने अतिथियों का स्वागत किया। इस अवसर पर जैन सोश्यल ग्रुप अध्यक्ष नरेश पांडया, सचिव संजय जैन, जैन सोश्यल ग्रुप मैत्री अध्यक्ष मनीष जैन, सचिव महावीर जैन, नरेश जैन बेद आदि मौजूद रहे। दिव्यांगों को लगाए कृत्रिम अंग दिगंबर जैन सोश्यल ग्रुप अनुभव अध्यक्ष वीसी जैन ने बताया कि यहां कैंप में हाड़ाैती सहित यूपी के 108 दिव्यांगों को कृत्रिम अंग, ट्राइसाइकिल, व्हीलचेयर, कैलीपर्स और बैसाखी दी गई। यहां हेल्थ चेकअप कैंप और नेत्रदान संकल्प शिविर लगाया गया। सफाई के लिए उपकरण दिए स्वच्छ भारत अभियान के तहत जयंती पर जैन समाज के अभिनंदन ग्रुप की ओर से रामपुरा, गुलाबबाड़ी क्षेत्र की सफाई व्यवस्था के लिए सफाई उपकरण भेंट किए गए। वरिष्ठ पार्षद ब्रजेश शर्मा नीटू ने बताया कि ग्रुप ने विधायक प्रहलाद गुंजल को लोहे के हाथ ठेले, तगारी, फावड़े सहित अन्य आयटम निगम सफाई समिति द्वितीय अध्यक्ष इंदर कुमार जैन को भेंट किए। झांकियों से दिया संदेश : शोभायात्रा में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, पॉलीथिन हटाओ-गाय बचाओ, एक घाट पर शेर और गाय पानी पीते हुए, आतंकवाद सहित अन्य सामाजिक मुद्दों पर झांकिया निकाली गई। इनमें माध्यम से समाज के लोगों ने शहरवासियों को जागरुकता का संदेश दिया महावीर की शान कम न होने दें प्रवचन में मुनि विश्रांत सागर महाराज ने कहा कि हमें भगवान महावीर के सिद्धांतों को अंगीकार करना होगा। भले ही जीवन में कितनी विपत्तियां आए। भगवान महावीर की शान में कभी कमी न होने दें। उनके अहिंसा और जियो और जीने दो के सिद्धांत पर अमल करें। उन्होंने कहा कि पानी से शरीर की प्यास बुझती है और जिनवाणी से आत्मा की। इसलिए सभी को जिनवाणी श्रवण करना चाहिए। यहां मुनि विश्रांत सागर, क्षुल्लक विश्वोत्तम सागर और आर्यिका संगममति माताजी का आशीर्वाद लेने के लिए भक्तों की भीड़ लगी रही।

भगवान महावीर की जयंती पर निकली शोभायात्रा में उमड़े श्रद्धालु

भगवान महावीर की जयंती पर निकली शोभायात्रा में उमड़े श्रद्धालु

Last Updated: April 20 2016, 05:23 AM

अजमेर. जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी के 2614वें जन्मोत्सव पर मंगलवार को निकाली गई शोभायात्रा का गरीब नवाज सूफी सोसायटी की ओर से दरगाह के मुख्य द्वार पर भव्य स्वागत किया गया। इस अवसर पर जुलूस में शामिल प्रमुख लोगों की दस्तारबंदी में देखने को मिली सांप्रदायिक सदभाव की झलक।

महावीर जयंती पर जैन मंदिर में हुआ श्रीजी का अभिषेक, धूमधाम से निकली पालकी

महावीर जयंती पर जैन मंदिर में हुआ श्रीजी का अभिषेक, धूमधाम से निकली पालकी

Last Updated: April 19 2016, 17:30 PM

मेरठ. तीर्थंकर भगवान महावीर की जयंती मंगलवार को हर्ष और उल्लास के साथ धूमधाम से मनाई गई। इस अवसर पर श्री जी की पालकी तीरगरान स्थित जैन मंदिर से बैंड बाजों के साथ निकाली गई। इससे पहले अभिषेक पूजन और अन्य कार्यक्रम हुए। जैन मंदिर परिसर में श्रीजी का मंगल अभिषेक धार्मिक विधि विधान से किया गया। शोभायात्रा में श्री जी की पालकी एवं भगवान महावीर की प्रेरणादायी झांकियों को शामिल किया गया। बंद रहे प्रतिष्ठान... - कमेटी के आह्वान पर जैन समाज के लोगों ने मंगलवार को अपने प्रतिष्ठान बंद रखे। - मंदिर परिसर में विभिन्न धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। इस अवसर पर सुरेंद्र जैन, सुरेश जैन रितुराज, अनिल जैन, हंस जैन, आदि गणमान्य लोग उपस्थित रहे। - यह शोभायात्रा शारदा रोड स्थित महावीर जयंती भवन पर पहुंचकर संपन्न हुई। - जहां महावीर कीर्ति स्तंभ पर नया पचरंगा जैन ध्वज आरोहित किया गया। - रथ यात्रा में अहिंसा परमो धर्म का बैनर पंचरंगे जैन ध्वज, तासे, नपीरी घोडों, बैंड बाजे व स्वर्ण रथ यात्रा की शोभा बढ़ा रहे थे। - शोभा यात्रा का शहर में जगह-जगह विभिन्न संस्थाओं और नगर के गणमान्य नागरिकों द्वारा स्वागत किया गया। गंगानगर में भी धूमधाम से मनी जयंती - गंगानगर स्थित श्री दिगंबर जैन मंदिर में भी भगवान महावीर जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया गया। - मंदिर से निकली श्रीजी की पालकी में मुख्य पात्र के रूप में दीपक जैन रहे। - पालकी में सारथी के रूप में अभिषेक जैन व जयंत जैन रहे। - कुबेर के रूप में गौरव जैन विराजमान रहे। - वहीं दाएं व बाएं इंद्र के रूप में नमन जैन व राजीव जैन रहे। - पालकी के मुख्य आकर्षण बैंड बाजे, शहनाई रही। - श्री जी की पालकी यात्रा मंदिर से प्रारंभ होकर एनएच-19 व मेन डिवाइडर रोड होते हुए वापस मंदिर पहुंचकर संपन्न हुई। - इस अवसर पर अध्यक्ष सुंदरलाल जैन, मनोज जैन, विनीत जैन, एससी जैन आदि मौजूद रहे। आगे की स्लाइड्स में देखिए झांकी की अन्य तस्वीरें...

लखनऊ: DM के आदेश को स्कूलों ने नहीं किया फॉलो, महावीर जयंती पर खुले रहे स्कूल

लखनऊ: DM के आदेश को स्कूलों ने नहीं किया फॉलो, महावीर जयंती पर खुले रहे स्कूल

Last Updated: April 19 2016, 16:32 PM

लखनऊ. यूपी में महावीर जयंती के मौके पर मंगलवार को छुट्टी घोषित की गई थी। इसके बावजूद राजधानी के कई स्कूलों ने डीएम के आदेश की धज्जियां उड़ाते हुए अपने स्कूल खुले रखे। डीएम ने जारी किया नोटिस, स्कूल खोलने वालों पर होगी कार्रवाई - बता दें, डीएम राजशेखर ने सोमवार को ही मंगलवार को महावीर जयंती के चलते अवकाश रखने का आदेश जारी किया था। - लेकिन इसका पालन सिर्फ गिने-चुने स्कूलों ने ही किया। - लॉमार्टिनियर गर्ल्स और ब्वॉयज स्कूल, केंद्रीय विद्यालय, चित्रांश इंटर कॉलेज, रामस्वरूप सहित कई स्कूल और कॉलेज खुले रहे। - डीएम ने बताया कि आदेश का पालन न करने और स्कूल खोलने पर लॉमार्टिनियर को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। - इसके अलावा जहां से भी कम्पलेन आ रही है, वहां से स्पष्टीकरण मांगा जाएगा। - स्कूलों-कॉलेजों के स्पष्टीकरण को संतोषजनक न पाए जाने पर उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। क्या कहना है केंद्रीय विद्यालय के प्रिंसिपल का? - केंद्रीय विद्यालय गोमतीनगर के प्रिंसिपल ने बताया कि हम डीएम के सारे अादेशों को फॉलो करते हैं। - लेकिन हमारे हॉलीडे कैलेंडर में महावीर जयंती के 20 अप्रैल को होने के चलते हम उस दिन अवकाश करेंगे। आगे की स्लाइड्स में देखिए, फोटोज...

पूजा, अभिषेक और अनुष्ठानों के बीच मनाई जा रही है महावीर जयंती

पूजा, अभिषेक और अनुष्ठानों के बीच मनाई जा रही है महावीर जयंती

Last Updated: April 19 2016, 16:31 PM

भोपाल। भगवान महावीर जयंती मंगलवार को धार्मिक अनुष्ठानों के बीच धूमधाम से मनाई जा रही है। जिनालयों में सुबह से ही भगवान महावीर की पूजा, अभिषेक के साथ ही शांतिधारा आदि अनुष्ठान शुरू हो गई थी, जो देर शाम तक चलेंगे। श्वेतांबर जैन मंदिरों में भी अनुष्ठानों के लिए खास इंतजाम किए गए हैं। सागर जिले में भी धूमधाम से भगवान महावीर की जयंती मनाई गई। वही, प्रिटी पेटल्स स्कूल के नन्हें बच्चों ने भी भगवान महावीर के बारे में जाना और जयंती मनाई। दिगंबर जैन मंदिर पंचायत कमेटी के अध्यक्ष प्रमोद हिमांशु ने बताया कि चौक जैन मंदिर से संत निर्भय सागर महाराज के सान्निध्य में सुबह 7.30 बजे शोभायात्रा निकाली गई थी, जिसमें सैकड़ों भक्त शामिल हुए। यात्रा विभिन्न मार्गों से होते हुए वापस मंदिर पहुंची। वहीं, टीटी नगर जैन मंदिर से भी सुबह 7 बजे शोभायात्रा निकाली गई। इसी तरह नंदीश्वर दीप जिनालय लालघाटी व पिपलानी और साकेत नगर के जैन मंदिर में भी महावीर जयंती धूमधाम से मनाई गई। प्रवक्ता अंशुल जैन ने बताया कि दोपहर 3 बजे इकबाल मैदान में उपाध्याय सागर महाराज के प्रवचन होंगे। आगे की स्लाइड्स पर देखें तस्वीरें...

आज मनाई जा रही है महावीर जयंती, राज्य सरकार के सभी ऑफिस रहेंगे बंद

आज मनाई जा रही है महावीर जयंती, राज्य सरकार के सभी ऑफिस रहेंगे बंद

Last Updated: April 19 2016, 08:24 AM

लखनऊ. राजधानी में मंगलवार को महावीर जयंती मनाई जा रही है। इस मौके पर कई जगहों पर प्रोग्राम आयोजित किए जा रहे हैं। इसके लिए तैयारियां चल रही हैं। इस मौके पर यूपी भर में सार्वजनिक अवकाश है। राज्य सरकार के सभी ऑफिस बंद रहेंगे। डीएम राजशेखर ने भी स्कूल बंद रखने के निर्देश दिए हैं।

महावीर जयंती आज, दिगंबर व श्वेतांबर जैन समाज पहली बार एक साथ मनाएंगे पर्व

महावीर जयंती आज, दिगंबर व श्वेतांबर जैन समाज पहली बार एक साथ मनाएंगे पर्व

Last Updated: April 19 2016, 06:23 AM

रांची. राजधानी में मंगलवार को श्रीमहावीर जयंती का भव्य आयोजन किया जा रहा है। अपर बाजार स्थित श्री दिगंबर जैन मंदिर और डोरंडा जैन मंदिर को रंग-बिरंगी रोशनी से सजाया गया है। पहली बार दोनों समाज एक-साथ मिलकर महावीर जयंती मना रहे हैं। अपर बाजार स्थित श्री दिगंबर जैन मंदिर और रातू रोड के श्री वासुपूज्य जिनालय में सुबह 5.30 बजे से 1008 सामूहिक कलशाभिषेक होंगे। डोरंडा जैन मंदिर से 5.45 बजे जैन श्वेतांबर मूर्तिपूजक सोसाइटी द्वारा प्रभातफेरी निकाली जाएगी। श्री दिगंबर जैन पंचायत के मंत्री कमल कुमार जैन विनायक्या ने इस संबंध में बताया कि शोभायात्रा से पहले भगवान महावीर को रथ पर विराजित किया जाएगा। शोभा यात्रा जेजे रोड, कार्टसराय रोड, हरमू रोड, न्यू मार्केट चौक से रातू रोड होते हुए वासुपूज्य जिनालय पहुंचेगी। इस दौरान जगह-जगह विभिन्न सामाजिक संस्थाओं द्वारा शोभायात्रा का स्वागत किया जाएगा। स्पीकर करेंगे शुभारंभ श्री दिगंबर जैन पंचायत के मंत्री कमल कुमार जैन विनायक्या के अनुसार, अभिषेक के बाद जैन मंदिर से निकलनेवाली शोभायात्रा का विधानसभा अध्यक्ष डॉ. दिनेश उरांव सुबह 8 बजे उदघाटन करेंगे। इस दौरान वे उपस्थित अितथियों और समाज के विशिष्ट लोगों के साथ दीप प्रज्वलित कर शोभायात्रा का शुभारंभ करेंगे। विशिष्ट अतिथि के रूप में उप महापौर संजीव विजयवर्गीय समेत अन्य लोग भी मौजूद रहेंगे। बालिका हाईस्कूल, डाेरंडा में होगा सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजन के संबंध में प्रचार-प्रसार संयोजक सुरेश कासलीवाल ने बताया कि शाम में 6.30 बजे श्री दिगंबर जैन मंदिर में सामूहिक आरती होगी। इससे पहले 4 बजे अनाथ आश्रम में रह रहे लोगों को भोजन वितरण किया जाएगा। शाम 7.30 बजे दिगंबर जैन समाज और श्वेतांबर जैन समाज द्वारा संयुक्त रूप से डोरंडा के बालिका उच्च विद्यालय में रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम होगा। इसमें छात्र-छात्राओं की ओर से कई कार्यक्रम पेश किए जाएंगे। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में नगर विकास मंत्री चंद्रेश्वर प्रसाद सिंह उपस्थित रहेंगे। इन रास्तों से गुजरेगी शोभायात्रा जैन मंदिर में महाभिषेक के बाद निकाली जाने वाली शोभायात्रा मैकी रोड, महाबीर चौक, गांधी चौक, शहीद चौक, फिरायालाल चौक, मेन रोड, राधेश्याम लेन से टेलीफोन एक्सचेंज रोड होते हुए वापस मंदिर पहुंचेगी। शोभायात्रा में जैन समुदाय के महिला-पुरुष और बच्चे भारी संख्या में शामिल होंगे। उल्लेखनीय है कि शोभायात्रा जिन मार्गों से होकर गुजरेगी, वहां साफ-सफाई की जाएगी। शोभायात्रा के स्वागत के लिए जगह-जगह स्टाॅल लगाए जाएंगे, जहां समाज के लोग मौजूद रहेंगे।

महावीर जयंती पर शोभायात्रा आज, कई जगह होंगे भजन

महावीर जयंती पर शोभायात्रा आज, कई जगह होंगे भजन

Last Updated: April 19 2016, 06:00 AM

अजमेर. जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी का 2614वें जन्मोत्सव पर मंगलवार को आचार्य कंचन सागर मुनिराज एवं उत्तम सागर महाराज ससंघ सानिध्य में शोभायात्रा निकाली जाएगी। जुलूस में जैन धर्म पर आधारित व भगवान महावीर स्वामी के जीवन पर आधारित लगभग 30 झांकियां, श्रीजी स्वर्णमयी सफेद घोड़ों का रथ, कुचामनी रथ, ऐरावत हाथी, घोड़े, टैम्पो ट्रोले, ढोल बैंड बाजे, संगीत मंडली के साथ हजारों धर्मावलंबी सम्मिलित होंगे। जुलूस का जगह जगह स्वागत किया जाएगा। निकाली जाएगी प्रभात फेरी प्रचार प्रसार संयोजक राजकुमार पांड्या ने बताया कि मंगलवार सुबह 5.30 बजे प्रभात फेरी निकाली जाएगी, जो मंदिर से शुरू होकर बाबू मोहल्ला सेंट एन्सलम्स स्कूल, गोल चक्कर, लाल कोठी, टीकम गंज, महावीर मोहल्ला होती हुई मंदिर पर संपन्न होगी। सुबह 6.30 बजे भगवान महावीर स्वामी का अभिषेक, पूजा अर्चना संगीत के साथ होगी। सुबह 7.30 बजे समाज के वयोवृद्ध श्रेष्ठी ज्ञानचंद दनगसिया ध्वजारोहण करेंगे। रथयात्रा का यह रहेगा मार्ग सुबह 8.30 बजे जुलूस पार्श्वनाथ दिगंबर जैसवाल जैन मंदिर केसरगंज से शुरू होकर राजकीय महाविद्यालय, गोल चक्कर, आर्य समाज मार्ग, स्टेशन रोड, मदार गेट, गांधी भवन, चूड़ी बाजार, नया बाजार, चौपड़, कडक्का चौक, धान मंडी, दरगाह बाजार, नला बाजार, जाटियावास, मदारगेट, पड़ाव, आदिनाथ मार्ग, लाल कोठी होता हुआ केसरगंज जैन मंदिर पर समाप्त होगा। प्रवचन और सामूहिक वात्सल्य दोपहर 3 बजे से आचार्य कंचन सागर एवं उत्तम सागर के प्रवचन के बाद श्रीजी के कलशाभिषेक एवं सकल दिगंबर जैन समाज का भोज मोइनिया इस्लामिया स्कूल में होगा एवं शाम 6.30 बजे मंदिर में महाआरती की जाएगी। महावीर जयंती पर विविध कार्यक्रम आज भगवान महावीर जन्म कल्याणक पर मंगलवार सुबह 6 बजे श्री जैन श्वेतांबर तपागच्छ संघ की ओर से साध्वी कल्पज्ञा श्रीजी महाराज आदि ठाणा 6 के सानिध्य में प्रभात फेरी ऋषभ देव मंदिर से शुरू होगी। मंत्री रिखबचंद संचेती के अनुसार प्रभात फेरी महावीर सर्किल, नसियांजी, आगरा गेट, कड़क्का चौक धानमंडी होते हुए लाखन कोटड़ी स्थित भगवान महावीर चौमुख मंदिर पहुंचेगी। यहां पूजा की जाएगी। संघों की ओर से विभिन्न कार्यक्रम सकल श्वेतांबर जैन समाज की ओर से मंगलवार को धर्मेश मुनि महाराज आदि ठाणा -5 के सानिध्य में महावीर स्वामी का जन्म कल्याणक सामूहिक रूप से मनाया जाएगा। विभिन्न संघों की ओर से मंगलवार काे सुबह 5.30 बजे प्रभात फेरी निकाली जाएगी। सुबह 10 बजे संघ अध्यक्षों द्वारा ध्वजारोहण, महावीर इंटरनेशनल द्वारा 10.5 बजे रक्तदान, 10.15 बजे से सांस्कृतिक कार्यक्रम व सामूहिक जाप, 11 बजे से प्रवचन व उसके बाद सामूहिक भजन का आयोजन किया जाएगा। भजन संध्या का आयोजन सोमवार को सम्मति परिषद की ओर से भजन संध्या का आयोजन किया गया। परिषद मंत्री नवीन सोगानी ने बताया कि इसमें मेहंदी, गोपाल व मनोद आदि कलाकारों ने तथा समिति सदस्य रौनक सोगानी ने संगीतमय भजन प्रस्तुत किए। इस अवसर पर वृद्धिचंद बाकलीवाल, राजकुमार गोधा, कमल बाकलीवाल, उर्मिला सोगानी, शांता जैन सहित अन्य मौजूद थे। विशेष बच्चों को भाेजन कराया दिगंबर जैन सोश्यल ग्रुप की ओर से महावीर जयंती की पूर्व संध्या पर वैशालीनगर स्थित बधिर विद्यालय में विशेष बच्चों को भाेजन, मिठाई, फल वितरित किए गए। अध्यक्ष विजय जैन के अनुसार कार्यक्रम में नितिन पाटनी, संस्थापक राजेश सोनी, विनोद गंगवाल, राकेश दोसी, विनोद काला, नितिन दोसी, धर्मेंद्र जैन, मुकेश जैन, संजय जैन,अर्चना गंगवाल, अलका सोनी व किरण जैन सहित मौजूद थे। 1008 दीपकों से महाआरती आज मंगलवार शाम 7.30 बजे सरावगी मोहल्ला स्थित भगवान महावीर मंदिर (पद्मावती माता मंदिर) में 1008 दीपकों से आरती की जाएगी। जैन यूथ ग्रुप के वीरेंद्र कासलीवाल ने बताया कि सुशील पाटनी के निर्देशन में दिगंबर जैन संगीत मंडल के कलाकार भजन प्रस्तुत करेंगे। दिगंबर जैन संगीत मंडल द्वारा सुभाष बाग के सामने स्थित पार्श्वनाथ कॉलोनी स्थित महावीर जिनालय प्रांगण में सुशील पाटनी के निर्देशन में मंडल के कलाकारों ने भजनों की प्रस्तुति दी।

110 साल पहले बना श्रीजी भगवान का रथ, महावीर जयंती की शोभायात्रा में दिखेगी

110 साल पहले बना श्रीजी भगवान का रथ, महावीर जयंती की शोभायात्रा में दिखेगी

Last Updated: April 19 2016, 03:49 AM

सीकर. महावीर जयंती पर इस बार शहर में कुछ खास होगा। 110 साल पहले बना श्रीजी भगवान का रथ पहली बार महावीर जयंती की शोभायात्रा में शामिल होगा। इससे पूर्व 18 साल पहले इस रथ से सुधासागर महाराज के चातुर्मास के दौरान शोभायात्रा निकाली गई थी। कब बना विशाल रथ दीवानजी की नसियां के अध्यक्ष शशि दीवान ने बताया कि 120 साल पहले सुखलाल, हीरालाल, बेगूलाल व परतुलाल जैन ने दीवानजी की नसियां में श्री दिगंबर जैन तेरह पंथ मंदिर बनवाया था। करीब 10 साल बाद सुखलाल दीवान ने यह विशाल रथ तैयार करवाया। क्या है रथ की खासियत - सुनहरे रंग के रथ पर सोने की पॉलिश है। इसके शाही लवाजमे में धर्म चक्र, दो हाथी, झांकी, सत्यमेव जयते लिखी चांदी की पताका है। सुरक्षा गार्ड भी रहते हैं। -18 फीट ऊंचे रथ में एक सारथी, दो सेवक व चार सहायक होते हैं। रथ में लगी मशीन को हाथों से चलाकर भारी भरकम रथ को आगे बढ़ाया जाता है। -रथ में तीन मंजिल हैं। सबसे ऊपर श्रीजी भगवान की प्रतिमा, नीचे छोटे बच्चे और आखिरी मंजिल पर सारथी बैठता है। ऐसा दूसरा रथ सिर्फ अजमेर में है। 18 साल पहले चातुर्मास में शामिल हुआ था रथ यह रथ आखिरी बार 18 साल पहले चातुर्मास के दौरान निकाली गई शोभायात्रा में शामिल हुआ था। फिर संकरे होते रास्तों, क्षतिग्रस्त सड़कें और नीचे होते बिजली वायर की परेशानी के कारण रथ संचालन बंद करने का फैसला लिया गया। अब पहली बार यह रथ भगवान महावीर के जयंती पर्व की शोभायात्रा में शामिल होगा। चरित्र और संस्कार ही मनुष्य को ऊंचा उठाता है मुनि प्रमाण सागर महाराज ने कहा, चरित्र से व्यक्तित्व निखरता है। चरित्र और संस्कार ही व्यक्ति को ऊंचा उठाते हैं। आज व्यक्ति की बातंे ऊंची और चरित्र छोटा होता जा रहा है। महाराज सोमवार को धर्म सभा में प्रवचन कर रहे थे। उन्होंने कहा, आज व्यक्ति मर्यादाओं का उल्लंघन करने पर गर्व महसूस करता है । शहर के मुख्य मार्गों से निकलेगी शोभायात्रा महावीर जयंती पर मंगलवार सुबह शाेभायात्रा 7.30 बजे जैन स्कूल से रवाना होगी। इसमें झांकियां सजाई जाएगी। प्राचीन रथ पर भगवान जिनेन्द्र की प्रतिमा विराजमान रहेगी। शोभायात्रा जैन स्कूल से बजाज रोड, स्टेशन रोड, बावड़ी गेट, सुभाष चौक होते हुए जैन भवन पहुंचेगी। श्री दिगंबर जैन स्कूल की प्रधानाध्यापिका डाॅ. ममता परिहार ने बताया कि स्कूल परिसर में प्रमाण सागर महाराज के प्रवचन व विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होंगे। व्यवस्था समिति के विकास लुहाडिय़ा ने बताया कि दोपहर 2 बजे से जैन भवन में मुनि प्रमाण सागर महाराज का 29वां दीक्षा दिवस मनाया जाएगा। इसमें पांडाल उद्घाटन, चित्र अनावरण, दीप प्रज्जवन, पाद प्रक्षालन, शास्त्र भेंट, आरती, पूजन आदि कार्यक्रम होंगे।

310 साल पुराने इस मंदिर में लगा है 80 KG सोना, नक्काशी में लगे थे 45 साल

310 साल पुराने इस मंदिर में लगा है 80 KG सोना, नक्काशी में लगे थे 45 साल

Last Updated: April 19 2016, 03:00 AM

ग्वालियर. भगवान महावीर स्वामी की जयंती के अवसर पर मंगलवार को मध्य प्रदेश के ग्वालियर में बने 310 साल पुराने जैन मंदिर में विशेष पूजा का आयोजन किया जाएगा। इस मंदिर में एक इंच से लेकर छह इंच की कुल 193 मूर्तियां हैं। इस मंदिर की नक्काशी में पूरे 45 साल लगे थे। बनाने से ज्यादा नक्कशी में लगा था समय... - इस जैन मंदिर के संबंध में लोगों का कहना है कि इसे बनने में जितना समय नहीं लगा, उससे अधिक इसमें मौजूद नक्काशी में लगा। - बताया जाता है कि इसके दीवारों पर वॉल पेंटिंग और सोने की नक्काशी में करीब 45 साल लगे थे, जबकि इसे बनाने में सिर्फ 10 साल लगे थे। - इस मंदिर में बनी पेंटिंग में सोने की पॉलिश के साथ ही सबसे ज्यादा मूर्तियां हैं। - इस मंदिर की दीवारों पर सोने की पॉलिश के साथ आकर्षक नक्काशी की गई है। - इस मंदिर में 80 किलो सोने का उपयोग किया गया है और कलर के लिए रत्न एवं नगों का उपयोग किया गया है। - ग्वालियर का यह ऐेतिहासिक मंदिर डीडवाना ओली में मौजूद हैं। - जैन समाज का यह मंदिर देशभर में एक मात्र है, जिसे स्वर्ण मंदिर का नाम दिया गया है। - इस मंदिर पिछले लंबे समय रिनोवेशन का काम चला रहा था, जिसे जयपुर और अागरा के कारीगरों ने किया है। रत्नों की मूर्तियां शहर के डीडवाना ओली में स्थित जैन स्वर्ण मंदिर में कुल 193 मूर्तियां हैं, जिनमें चांदी, मूंगा, स्फटिक, मणि, स्लेट, पाषाण, कसौटी, संगमरमर तथा श्याम-श्वेत पाषाण की एक इंच से लेकर छह इंच तक की शामिल हैं। आगे की स्लाइड्स में देखें, बड़ा स्वर्ण जैन मंदिर की अन्य फोटोज...

Flicker