• देखिये ट्रेनडिंग न्यूज़ अलर्टस

मनोज वाजपेयी

  • इन्होंने सिखाई थी शाहरुख़ को एक्टिंग, बोले 'उन्हें सिर्फ लड़कियों में इंटरेस्ट था'
    Last Updated: July 19 2016, 00:02 AM

    मुंबई। शाहरुख खान से जैकलीन फर्नांडिस समेत कई बॉलीवुड सेलेब्स को एक्टिंग की बारीकियां सिखाने वाले थिएटर डायरेक्टर जॉन बैरी को दुनिया एक्टिंग गुरू के नाम से जानती है। जॉन यूके के कोवेन्ट्री शहर से 1968 में अंग्रेजी सिखाने के लिए बेंगलुरू आए। इसके बाद वो 1970 में दिल्ली पहुंचे। पिछले 50 सालों से जॉन इंडिया में थिएटर और स्टेज के लिए स्टूडेंट्स को तैयार कर रहे हैं। लैंग्वेज प्रॉब्लम रही बैरी की कमजोरी... स्टूडेंट्स को बॉलीवुड और थिएटर की बारीकियां सिखाने में जॉन को लैग्वेंज की दिक्कतों से भी जूझना पड़ता है। जॉन के मुताबिक मैं अपनी हिंदी अब तक ठीक नहीं कर पाया हूं। उनके मुताबिक स्कूल के दिनों में उन्हें लैटिन और फ्रेंच लैंग्वेज को लेकर प्रॉब्लम होती थी। लैंग्वेज हमेशा से ही मेरा स्ट्रांग प्वाइंट नहीं रहा है हालांकि एक्सप्रेशन है। बैरी नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा (एनएसडी) के कई फैकल्टी के साथ काम कर चुके है। गुरु पूर्णिमा के मौके पर dainikbhaskar.com ने एक्टिंग गुरु बैरी जॉन से बातचीत की। आगे की स्लाइड्स में, बैरी जॉन का पूरा Interview...

  • Movie Review : साइकोलॉजिकल थ्रिलर मूवी है  'कृति'
    Last Updated: June 24 2016, 11:36 AM

    क्रिटिक रेटिंग 2.5/5 स्टार कास्ट मनोज बाजपेयी, राधिका आप्टे, नेहा शर्मा, मनु ऋषि डायरेक्टर शिरीश कुंदर प्रोड्यूसर मूवीज डॉट कॉम NA NA जॉनर सस्पेंस थ्रिलर डायरेक्टर शिरीश कुंदर ने एक अरसे के बाद वापस आकर शार्ट फिल्म कृति को निर्देशित किया है, आइए जानते हैं आखिर कैसी है उनकी ये कृति कहानी... यह कहानी सपन (मनोज बाजपेयी) की है, जो डॉक्टर कल्पना शाह (राधिका आप्टे) से अपनी नई दोस्त कृति (नेहा शर्मा) के बारे में बातचीत करता रहता है। तभी अचानक कहानी में कई सारे उतार-चढ़ाव आते हैं और अंततः एक निष्कर्ष सामने आता है, जिसे जानने के लिए आपको ये शार्ट फिल्म देखनी पड़ेगी। डायरेक्शन... फिल्म की शूटिंग 2 दिनों के भीतर इन-हाउस ही की गई है और बैकड्रॉप को काफी सजाया गया है। इस फिल्म के फ्लेवर का ख़याल ख़ास तौर से रखा गया है। 18 मिनट की ये फिल्म कई बातें कह जाती है। स्टारकास्ट की परफॉर्मेंस... मनोज बाजपेयी ने पहली बार शार्ट फिल्म करते हुए हमेशा की तरह उम्दा प्रदर्शन किया है, वहीं राधिका आप्टे, नेहा शर्मा ने भी अच्छी एक्टिंग की है। मनु ऋषि ने पुलिस ऑफिसर का रोल भी सही निभाया है। फिल्म का म्यूजिक... फिल्म का बैकग्राउंड म्यूजिक है, जो कहानी के साथ जाता है। देखें या नहीं... अगर शार्ट फिल्म्स पसंद करते हैं तो एक बार इंटरनेट के जरिए देख सकते हैं।

  • सलमान खान से माधुरी दीक्षित, जानिए कहां किया है इन 8 स्टार्स ने Investment
    Last Updated: June 18 2016, 00:01 AM

    मुंबई. करोड़ों की कमाई करने वाले स्टार्स अपने शौक पूरे करने के साथ-साथ इन्वेस्टमेंट को लेकर भी गंभीर हैं। ज्यादातर बॉलीवुड सेलेब्स ने कोई न कोई कंपनी शुरू की है या फिर उन्होंने इन्वेस्टमेंट किया है। स्टार्टअप में निवेश करने वाले स्टार्स में सलमान से लेकर माधुरी दीक्षित और अमिताभ बच्चन जैसी हस्तियां शामिल हैं। डालते हैं एक नजर: 1.सलमान खान कहां किया इन्वेस्टमेंट: यात्रा. कॉम में हिस्सेदारी : 5 प्रतिशत सलमान खान ने भी टेक्नालॉजी में इन्वेस्ट किया है। सलमान ने ऑनलाइन ट्रेवल कंपनी यात्रा.कॉम में इन्वेस्ट किया है। यह राशि कितनी है, इसकी घोषणा नहीं की गई है। लेकिन कम्पनी में सलमान 5 प्रतिशत के हिस्सेदार हैं। आगे की स्लाइड्स में जानिए माधुरी और बाकी स्टार्स के बारे में....

  • फिल्म प्रमोशन के दौरान बोले मनोज, 'ट्रैफिक पुलिस बनना मुश्किल काम'
    Last Updated: May 03 2016, 11:53 AM

    मुंबई. अपकमिंग फिल्म ट्रैफिक; में लीड रोल निभा रहे मनोज वाजपेई ने हाल ही में dainikbhaskar.com की टीम से खास बातचीत की। इस बातचीत के दौरान मनोज ने बताया कि उनके लिए ट्रैफिक पुलिस का किरदार निभाना बेहद मुश्किल रहा। साथ ही मनोज ने अपने फैन्स से अपील करते हुए कहा कि वो ट्रैफिक पुलिस वालों की इज्जत करे और उनके काम को समझे, क्योंकि उनका काम बेहद मुश्किल होता है और उन्हें ढंग की सैलरी भी नहीं मिलती है। फिर भी कई बार वो 16-18 घंटे या दो-दो दिनों तक लगातार काम करते हैं। ये फिल्म 6 मई को रिलीज होगी।

  • एक किसान का बेटा ऐसे बना फिल्मों का हीरो, 300 रु में कर चुके हैं गुजारा
    Last Updated: April 24 2016, 12:51 PM

    पटना. फिल्म अलीगढ़ में प्रोफ़ेसर का रोल प्ले करने के लिए मनोज वाजपेयी को नेशनल अवॉर्ड दिया गया है। बहुत कम लोगों को पता है कि मनोज का फैमिली बैकग्राउंड एक किसान परिवार का है। उन्होंने बिहार के एक साधारण इलाके से निकल कर एक्टिंग की बुलंदी हासिल किया। बता दें कि मनोज के जीवन में एक ऐसा वक्त भी आया था, जब उन्हें महज 300 रुपए महीने के खर्च में गुजारा करना पड़ा। बिहार के किस इलाके से हैं मनोज वाजपेयी... - मनोज का घर बिहार के पश्चिमी चंपारण के बेलवा गांव में है। यहां एक्टर बनना अच्छी बात नहीं माना जाता था। - जब मनोज ने अपने घर में एक्टर बनने की बात कही थी, तब पड़ोसियों और उनके रिश्तेदारों ने भी उनका मजाक बनाया था। - उन्होंने चौथी क्लास तक की पढ़ाई गांव के ही प्राइमरी स्कूल से की। बाद में उन्हें बिहार के बेतिया में पढ़ने के लिए भेज दिया गया। - यहां उन्होंने केआर हाईस्कूल से मैट्रिक (10वीं) तक की परीक्षा पास की। - मनोज ने बेतिया के ही महारानी जानकी कॉलेज से 12वीं की पढ़ाई पूरी की। - आगे की पढ़ाई के लिए वे 17 साल की उम्र में दिल्ली पहुंचे, उन्होंने यहां दिल्ली यूनिवर्सिटी के सत्यवती और रामजस कॉलेज से भी पढ़ाई की। (मनोज 23 अप्रैल को 47 साल के हो गए। इस मौके पर dainikbhaskar.com बता रहा है कि कैसे बिहार के एक लड़के ने गांव से मुंबई तक का सफर तय किया।) इस तरह एक्टिंग को करियर बनाने का किया फैसला - मनोज को बचपन से ही एक्टिंग का शौक था, पर इसकी व्यवस्थित शुरुआत के बारे में उन्हें ज्यादा जानकारी नहीं थी। - दिल्ली में पढ़ाई के दौरान एक न्यूज पेपर में छपी नसीरुद्दीन शाह के इंटरव्यू से मनोज को नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा के बारे में पता चला। - इसके बाद उन्होंने एनएसडी में पढ़ाई करने का मन बना लिया। क्यों सुसाइड का मन बना लिया था मनोज ने - जब मनोज दिल्ली में रहते थे तब उन्हें 300 रुपए में गुजारा करना पड़ता था। 150 रुपए उन्हें घर से मिलता था जबकि 150 रुपए वे खुद नुक्कड़ नाटकों में एक्टिंग के जरिए कमाते थे। - दिल्ली में लगातार चार साल तक प्रयास करने के बावजूद एनएसडी ने उन्हें एडमिशन देने से मना कर दिया। - इसके बाद उन्होंने सुसाइड का मन बना लिया था, लेकिन बाद में दोस्तों के समझाने के बाद वे नुक्कड़-नाटक में एक्टिंग करते रहे। - उन्होंने नुक्कड़ नाटकों के साथ थिएटर भी करना शुरू कर दिया। हालांकि, बाद में एनएसडी में उनका एडमिशन भी हुआ। - मनोज के मुताबिक, उन्हें पता चल गया था कि अगर उन्हें एक्टिंग करनी है तो आने वाले दिनों में और और मुश्किलें आएंगी। मां से है ज्यादा लगाव, दोस्तों से साथ भी बिताते हैं छुट्टियां - मनोज ने एक इंटरव्यू में बताया था कि स्ट्रगल के दिनों में वे मुंबई में इतने रम गए थे कि एक बार तीन सालों के बाद बिहार अपने घर गए थे। - यहां पहुंचने के बाद उनकी मां खूब रोई थी। तब मनोज ने कहा था कि अब क्यों रो रही हो मैं आ गया हूं। - मनोज अक्सर शूटिंग से ब्रेक लेकर अपने गांव पहुंच जाते हैं। यहां वे बचपन के दोस्तों के साथ वक्त बिताते हैं। ऐसे मिली थी पहली फिल्म - मनोज दिल्ली से मुंबई पहुंचे। मुंबई में एक साल जैसे-तैसे गुजारने के बाद काम न मिलने से परेशान होकर उन्होंने वापस बिहार लौटने का मन बना लिया था। - पर इसी वक्त उन्हें 1994 में फिल्म द्रोहकाल में एक मिनट का बेहद छोटा रोल मिला। फिर इसी साल उन्हें बैंडिट क्वीन के लिए भी एक छोटा रोल ऑफर किया गया। - इसके बाद मनोज ने 1995 में टीवी सीरियल स्वाभिमान में भी काम किया। - 1995 में महेश भट्ट की फिल्म दस्तक, 1997 में फिल्म दौड़ में परेश रावल के गुर्गे के रोल ने उन्हें पहचान दिला दी। - छोटे-छोटे रोल करने के बाद रामगोपाल वर्मा ने उन्हें सत्या में कास्ट किया। इस फिल्म में भीखू म्हात्रे के कैरेक्टर ने उनकी दुनिया बदल दी। इस रोल के लिए उन्हें कई अवॉर्ड भी मिले। पत्नी फिल्म में कर चुकी हैं काम तो बहन हैं फैशन डिजाइनर - नेहा (जिन्हें शबाना नाम से भी जाना जाता है) मनोज की दूसरी पत्नी हैं। वे एक्ट्रेस के तौर पर फिल्मों में भी काम कर चुकी हैं। - इनकी मुलाकात साल 2000 में हुई थी और दोनों ने 2006 में शादी कर ली। इनकी एक बेटी भी है। - मनोज की इससे पहले भी एक शादी हुई थी, लेकिन स्ट्रगल के दिनों में ही दोनों अलग हो गए थे। - मनोज की बड़ी बहन पूनम दुबे फिल्म इंडस्ट्री में फैशन डिजाइनर हैं। आगे की स्लाइड्स में देखें, मनोज वाजपेयी की फैमिली के साथ कुछ चुनिंदा फोटोज...

  • 'अलीगढ़' विवाद: GAY प्रोफेसर पर बेस्‍ड है मूवी, मेयर ने कहा- बदनाम करने साजिश
    Last Updated: February 29 2016, 09:06 AM

    अलीगढ़. फिल्म अलीगढ़ के नाम पर विवाद खड़ा हो गया है। दरअसल, फिल्म अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) के प्रोफेसर की लाइफ पर बेस्ड है, जिसमें प्रोफेसर को गे दिखाया गया है। इसे लेकर एएमयू के छात्र विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। शहर की बीजेपी मेयर शकुंतला भारती का कहना है, फिल्म का नाम अलीगढ़ रखकर शहर को बदनाम करने की साजिश की गई है। शहर में किसी भी कीमत पर फिल्म नहीं चलने दी जाएगी। वहीं, मिलात बिदारी मुहीम कमेटी के जसीम मोहम्मद ने कहा, हमें फिल्म से नहीं इसके नाम से ऑब्जेक्शन है। इससे आने वाले समय में अलीगढ़ को समलैंगिकता के साथ रिलेट किया जाएगा। डायरेक्टर को भेजा गया नोटिस - अलीगढ़ खिलाफ इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में पिटीशन फाइल हुई है। - इसमें सेंसर बोर्ड, सचिव सूचना प्रसारण मंत्रालय और डायरेक्टर हंसल मेहता को नोटिस भेजी गई है। - बता दें, फिल्म में प्रोफेसर को रोल मनोज वाजपेयी ने किया है। किस विवाद पर बेस्ड है फिल्म... - 8 फरवरी 2010 को एएमयू के प्रोफेसर श्रीनिवास का अलीगढ़ के मेडिकल कॉलोनी स्थित घर पर 2 लोगों ने उनका और एक रिक्शाचालक का सेक्स करते हुए वीडियो बना लिया। - जहां कुछ टीचर्स ने इसे गलत कहा और तो कुछ का कहना था कि ये उनका पर्सनल मामला है। - 9 फरवरी 2010 को वीडियो आने के बाद तत्कालीन प्रो वीसी पीके अब्दुल अजीज ने उन्हें सस्पेंड कर दिया था। - प्रोफेसर सिरास, वीसी के इस फैसले के खिलाफ इलाहाबाद हाईकोर्ट चले गए। - 5 अप्रैल 2010 को उन्होंने केस जीता और उन्हें वापस नौकरी की बहाली का आदेश मिल गया। - हाईकोर्ट ने यूनिवर्सिटी को निर्देश दिया कि सस्पेंड से अब तक का पूरा पैसा प्रोफेसर को भुगतान किया जाए। - प्रो.सिरास ने कहा था, मैंने काफी समय यूनिवर्सिटी में बिताया है। मैं यूनिवर्सिटी से प्यार करता हूं और हमेशा करता रहूंगा। - मुझे सबसे ज्यादा आश्चर्य तब होगा, जब लोग मुझे बस इसलिए पसंद न करें क्योंकि मैं एक समलैंगिक हूं। - वहीं, 28 फरवरी 2016 को लखनऊ के प्रेस क्लब में हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में रिक्शेवाले ने कहा कि वह गे नहीं है। प्रोफेसर पर लगा था छेड़छाड़ का भी आरोप - प्रो. सिरास पर एक महिला ने छेड़छाड़ का भी आरोप लगाया। प्रोफेसर के खिलाफ शिकायत दर्ज हुई। - लेकिन उनके जवाब देने से पहले ही महिला ने शिकायत वापस ले ली। - साल 2002 में प्रो. श्रीनिवास को उनकी लिखी मराठी बुक पाया खालची हिरावयी के लिए महाराष्ट्र साहित्य परिषद अवॉर्ड मिला। अचानक पड़ता था प्रोफेसर को दौरा - प्रो.सिरास यूनिवर्सिटी की प्रोफेसर कॉलोनी के मकान में अकेले रहते थे। - वह पूरी तरह से फिट नहीं थे। उन्हें अचानक दौरे पड़ने लगते थे। - उन्हें डॉक्टर्स ने शादी के लिए अनफिट और मना किया था। - समय बढ़ने के साथ उनकी तबीयत में सुधार आया और उन्होंने शादी कर ली। - शादी के बाद पति-पत्नी में मिलना नहीं होता था। काफी समय तक प्रो. सिरास अपनी पत्नी मानसी से अलग ही रहे। - आखिरकार दोनों का तलाक हो गया। रहस्यमयी तरीके से हुई थी मौत - 7 अप्रैल 2010 को अचानक रहस्समयी ढंग से प्रो. सिरास की मौत हो गई। - वह दुर्गा बाड़ी स्थित अपने फ्लैट में मृत हालत में पाए गए थे। - प्रोफेसर के भाई संजीव सिरास ने कहा था कि 2 अप्रैल 2010 को प्रो. सिरास नागपुर आए थे। - पुलिस ने सुसाइड केस फाइल किया, लेकिन पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में जहर की पुष्टि हुई थी। - तत्कालीन एसएसपी अलीगढ़ ने 4 एएमयू कर्मचारी और 3 कथित वीडियो बनाने वाले पत्रकारों के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया था। - दो पत्रकार वीडियो बनाने के कारण जेल भी गए थे, लेकिन सबूतों के अभाव में सभी दोषमुक्त साबित हुए। कौन हैं प्रोफेसर श्रीनिवास रामचंद्र सिरास? - प्रोफेसर श्रीनिवास का 1948 में महाराष्ट्र के नागपुर में जन्म हुआ था। - उन्होंने नागपुर से स्कूली शिक्षा ग्रहण करने के बाद नागपुर यूनिवर्सिटी से उच्च शिक्षा भी हासिल की। - यहां से साइकोलॉजी और लिंगविस्टिक की पढ़ाई की। - 1985 में उन्हें मराठी भाषा के लिए डॉक्टरेट की उपाधि से नवाजा गया। - 1998 में प्रो. श्रीनिवास को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में मॉडर्न इंडियन लैंग्वेज का चेयरमैन नियुक्त किया गया था।

  • जानिए मनोज वाजपेयी को 100 Flying Kisses क्यों देना चाहती हैं कंगना?
    Last Updated: February 26 2016, 16:42 PM

    मुंबई: अलीगढ़ में मनोज वाजपेयी की परफॉर्मेंस देख कंगना रनोट इतनी खुश हैं कि वे उन्हें सौ फ्लाइंग किसेस देना चाहती हैं। ऐसा हम नहीं बल्कि कंगना ने खुद अलीगढ़ की स्क्रीनिंग के मौके पर कहा। गुरुवार को सचिन और बाबी के पोल्का प्रिंटेड क्रोप टॉप और Midi स्कर्ट कैरी किए कंगना अलीगढ़ की स्क्रीनिंग अटेंड करने पहुंचीं। उन्होंने टीम के साथ डायरेक्टर हंसल मेहता की जमकर तारीफ की। इतना ही नहीं अलीगढ़ की तारीफ में कंगना ने यह तक कह दिया कि पिछले 10 सालों में इससे बेहतरीन फिल्म उन्होंने नहीं देखी। देवर के साथ पहुंचीं ताहिरा कश्यप... आयुष्मान खुराना की वाइफ ताहिरा कश्यप स्क्रीनिंग पर देवर अपारशक्ति खुराना के साथ पहुंचीं। दोनों को फिल्म काफी पसंद आई। इन्होंने लगभग 1 घंटे वेट करने के बाद फिल्म देखी। बता दें, मनोज वाजपेयी और राजकुमार राव स्टारर अलीगढ़ 26 फरवरी को रिलीज हुई है। <a href='http://bollywood.bhaskar.com/news/ENT-REVI-REV-aligarh-movie-review-5257874-PHO.html'>(पढ़ें अलीगढ़ का रिव्यू)</a> आगे की स्लाइड्स पर देखें, अलीगढ़ की स्क्रीनिंग पर मौजूद स्टार्स की फोटोज... <a href='http://bollywood.bhaskar.com/news/ENT-BPAR-kangana-ranaut-praises-manoj-bajpai-aligarh-5259747-PHO.html?seq=3'>(तीसरी स्लाइड पर देखें वीडियो)</a>

  • 'अलीगढ़' में GAY बने हैं मनोज वाजपेयी, जानें क्या है फिल्म की रियल कहानी
    Last Updated: February 26 2016, 15:29 PM

    अलीगढ़. अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के पूर्व प्रोफेसर श्रीनिवास रामचंद्र सिरास की लाइफ पर बेस्ड फिल्म अलीगढ़ शुक्रवार को रिलीज हो गई। इसमें उन्हें गे दिखाया गया है। उनका कैरेक्टर मनोज वाजपेयी प्ले कर रहे हैं। फिल्म पर कंट्रोवर्सी शुरू हो गई है। इसके खिलाफ इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में पिटीशन फाइल हुई है। इसमें सेंसर बोर्ड, सचिव सूचना प्रसारण मंत्रालय और डायरेक्टर हंसल मेहता को नोटिस भेजी गई है। आगे पढ़िए, किस विवाद पर बेस्ड है फिल्म... - 8 फरवरी 2010 को प्रो. सिरास के अलीगढ़ के मेडिकल कॉलोनी स्थित घर पर 2 लोगों ने उनका और एक रिक्शाचालक का सेक्स करते हुए वीडियो बना लिया। - जहां कुछ टीचर्स ने इसे गलत कहा और तो कुछ का कहना था कि ये उनका पर्सनल मामला है। - 9 फरवरी 2010 को वीडियो आने के बाद तत्कालीन प्रो वीसी पीके अब्दुल अजीज ने उन्हें निलंबित कर दिया था। - प्रोफेसर सिरास, प्रो वीसी के इस फैसले के खिलाफ इलाहाबाद हाईकोर्ट चले गए थे। - 5 अप्रैल 2010 को उन्होंने केस जीता और उन्हें वापस नौकरी की बहाली का आदेश भी मिल गया। - हाईकोर्ट ने यूनिवर्सिटी को निर्देश दिया कि निलंबन से अब तक का पूरा पैसा प्रोफेसर को भुगतान किया जाए। - वहीं, गुरुवार को राजधानी के प्रेस क्लब में हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में रिक्शेवाले ने कहा कि वह गे नहीं है। प्रोफेसर पर लगा था छेड़छाड़ का भी आरोप - प्रो. सिरास पर एक महिला ने छेड़छाड़ का भी आरोप लगाया। प्रोफेसर के खिलाफ शिकायत दर्ज हुई। - लेकिन उनके जवाब देने से पहले ही महिला ने शिकायत वापस ले ली। - साल 2002 में प्रो. श्रीनिवास को उनकी लिखी मराठी बुक पाया खालची हिरावयी के लिए महाराष्ट्र साहित्य परिषद अवॉर्ड मिला। अचानक पड़ता था प्रोफेसर को दौरा - प्रो.सिरास यूनिवर्सिटी की प्रोफेसर कॉलोनी के मकान में अकेले रहते थे। - वह पूरी तरह से फिट नहीं थे। उन्हें अचानक दौरे पड़ने लगते थे। - उन्हें डॉक्टर्स ने शादी के लिए अनफिट और मना किया था। - समय बढ़ने के साथ उनकी तबीयत में सुधार आया और उन्होंने शादी कर ली। - शादी के बाद पति-पत्नी में मिलना नहीं होता था। काफी समय तक प्रो. सिरास अपनी पत्नी मानसी से अलग ही रहे। - आखिरकार दोनों का तलाक हो गया। क्या कहा था प्रोफेसर ने? - प्रो.सिरास ने कहा था, मैंने काफी समय यूनिवर्सिटी में बिताया है। मैं यूनिवर्सिटी से प्यार करता हूं और हमेशा करता रहूंगा। - मुझे सबसे ज्यादा आश्चर्य तब होगा, जब लोग मुझे बस इसलिए पसंद न करें क्योंकि मैं एक समलैंगिक हूं। रहस्यमयी तरीके से हुई थी मौत - 7 अप्रैल 2010 को अचानक रहस्समयी ढंग से प्रो. सिरास की मौत हो गई। - वह दुर्गा बाड़ी स्थित अपने फ्लैट में मृत हालत में पाए गए थे। - प्रोफेसर के भाई संजीव सिरास ने कहा था कि 2 अप्रैल 2010 को प्रो. सिरास नागपुर आए थे। - पुलिस ने सुसाइड केस फाइल किया, लेकिन पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में जहर की पुष्टि हुई थी। - तत्कालीन एसएसपी अलीगढ़ ने 4 एएमयू कर्मचारी और 3 कथित वीडियो बनाने वाले पत्रकारों के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया था। - दो पत्रकार वीडियो बनाने के कारण जेल भी गए थे, लेकिन सबूतों के अभाव में सभी दोषमुक्त साबित हुए। कौन हैं प्रोफेसर श्रीनिवास रामचंद्र सिरास? - प्रोफेसर श्रीनिवास का 1948 में महाराष्ट्र के नागपुर में जन्म हुआ था। - उन्होंने नागपुर से स्कूली शिक्षा ग्रहण करने के बाद नागपुर यूनिवर्सिटी से उच्च शिक्षा भी हासिल की। - यहां से साइकोलॉजी और लिंगविस्टिक की पढ़ाई की। - 1985 में उन्हें मराठी भाषा के लिए डॉक्टरेट की उपाधि से नवाजा गया। - 1998 में प्रो. श्रीनिवास को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में मॉडर्न इंडियन लैंग्वेज का चेयरमैन नियुक्त किया गया था। आगे की स्लाइड्स में देखिए, फोटोज...

  • Movie Review: शानदार एक्टिंग और अच्छी कहानी के लिए देखिए 'अलीगढ़'
    Last Updated: February 26 2016, 13:09 PM

    क्रिटिक रेटिंग 4/5 स्टार कास्ट मनोज वाजपेयी, राजकुमार राव डायरेक्टर हंसल मेहता प्रोड्यूसर संदीप शर्मा म्यूजिक डायरेक्टर करण कुलकर्णी जॉनर बायोग्राफिकल ड्रामा ये फिल्म डॉ. श्रीनिवास रामचंद्र सिरास की लाइफ पर बेस्ड है, जो अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में मराठी के प्रोफेसर थे। सिरास को उनके सेक्शुअल ओरिएंटेशन के कारण नौकरी से निकाल दिया गया था। बाद में रहस्यमय हालात में उनकी मौत हो गई। कहानी फिल्म में मनोज वाजपेयी ने प्रोफेसर सिरास का रोल निभाया है। सिरास की जिंदगी उस वक्त बदल जाती है, जब कॉलेज के स्टाफ मेंबर्स सिरास को एक आदमी के साथ संबंध बनाते हुए पकड़ लेते हैं। इस घटना के बाद सिरास को नौकरी से निकाल दिया जाता है और उन्हें हर जगह बेइज्जती झेलनी पड़ती है। इस मुश्किल वक्त में उनका सहारा बनता है जर्नलिस्ट दीपू (राजकुमार राव) जो इस केस की छानबीन करता है। इस दौरान वो सिरास का खास दोस्त बन जाता है। एक्टिंग समलैंगिक प्रोफेसर के रोल में मनोज ने एक बार फिर ये साबित कर दिया है कि वो एक बेहतरीन एक्टर हैं। एक होमोसेक्शुअल शख्स के हाव-भाव, उसकी तकलीफ और जिंदगी की उलझनों को मनोज ने बखूबी परदे पर जिया है। अपने हक की लड़ाई लड़ते हुए सिरास जब अपनी मातृभाषा मराठी में बात करते हैं तो ऐसा लगता ही नहीं कि मनोज एक्टिंग कर रहे हैं। यंग जर्नलिस्ट दीपू के रोल में राजकुमार राव भी अपनी छाप छोड़ते हैं। फिल्म में उन्होंने साउथ इंडियन बैकग्राउंड से बिलॉन्ग करने वाले शख्स का रोल किया है, जिसमें उनकी मेहनत साफ नजर आती है। फिल्म में सिरास के वकील का रोल करने वाले आशीष विद्यार्थी ने भी बढ़िया एक्टिंग की है। डायरेक्शन शाहिद और सिटीलाइट्स जैसी फिल्में बनाने वाले हंसल मेहता ने इस फिल्म में भी अपनी सिग्नेचर स्टाइल को कायम रखा है। ऐसी ब्रेव फिल्म बनाने के लिए हंसल तारीफ के हकदार हैं। फिल्म में एक ही कमी है और वो है इसकी धीमी गति। करीब दो घंटे की इस फिल्म की लंबाई और कम की जा सकती थी। फिल्म में ऐसे कई सीन्स हैं, जिन्हें हटाया जा सकता था। खासकर सिरास के अकेलेपन को दिखाने वाले सीन्स। देखें या नहीं... कुल मिलाकर हंसल ने एक शानदार फिल्म बनाई है। अगर आप बॉलीवुड की टिपिकल मसाला और मार-धाड़ वाली फिल्मों से हटकर कुछ अलग देखना चाहते हैं तो ये फिल्म आपके लिए हैं। बेहतरीन एक्टिंग और शानदार कहानी के लिए ये फिल्म एक बार जरूर देख सकते हैं।

  • ‘अलीगढ़’ के प्रमोशन के दौरान दिखी मनोज-राजकुमार की स्पेशल बॉन्डिंग
    Last Updated: February 25 2016, 16:51 PM

    मुंबई. हाल ही में फिल्म अलीगढ़; की टीम प्रमोशन के सिलसिले में dainikbhaskar.com के ऑफिस पहुंची। यहां फिल्म के लीड एक्टर मनोज वाजपेयी और राजकुमार राव के अलावा डायरेक्टर हंसल मेहता भी मौजूद थे। इस बातचीत के दौरान मनोज और राजकुमार की स्पेशल बॉन्डिंग भी देखने को मिली। मनोज को मिला फैमिली का सपोर्ट... मनोज इस फिल्म में एक होमोसेक्शुअल प्रोफेसर का किरदार निभा रहे हैं, जब उनसे इस रोल के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि उन्हें इस कैरेक्टर को निभाने में कोई प्रॉब्लम नहीं हुई और तो और उनकी फैमिली ने भी इस रोल को करने में उनका सपोर्ट किया। यूरोपीय सिनेमा में ऐसी फिल्में आम... फिल्म में जर्नलिस्ट का रोल कर रहे राजकुमार ने कहा कि उनके लिए ये फिल्म करना एक अच्छा एक्सपीरियंस रहा। डायरेक्टर हंसल मेहता ने कहा कि भले ही बॉलीवुड में इस तरह के सब्जेक्ट्स पर कम फिल्में बन रही हों, लेकिन यूरोपीय सिनेमा में ऐसी फिल्में बनती रहती हैं। जाते-जाते तीनों ने फैन्स से फिल्म देखने की अपील की। आगे की स्लाइड्स में देखिए अलीगढ़; टीम की कुछ और PHOTOS&

  • पब्लिसिटी के लिए निहलानी का नाम लेने की बजाय सड़क पर अंडरवियर बेच लूंगा- मेहता
    Last Updated: February 01 2016, 17:22 PM

    मुंबई. अपकमिंग फिल्म अलीगढ़ के डायरेक्टर हंसल मेहता का कहना है कि वे पब्लिसिटी के लिए पहलाज निहलानी के नाम का सहारा लेने की बजाय सड़क पर अंडरवियर बेचना पसंद करेंगे। ऐसा उन्होंने सेंसर बोर्ड अध्यक्ष पहलाज निहलानी के उस कमेंट के बाद कहा, जिसमें उनपर आरोप लगाया गया था कि वे चीप पब्लिसिटी के लिए पहलाज के नाम का सहारा ले रहे हैं। क्या है पूरा मामला... - सेंसर बोर्ड ने हाल ही में रिलीज हुए अलीगढ़ के ट्रेलर को A- सर्टिफिकेट दिया है। - इस बात से हंसल मेहता ने नाराजगी जाहिर की थी। - उन्होंने ट्विटर पर अपनी नाराजगी जाहिर की थी। - हंसल ने लिखा था, ट्रेलर में ऐसा क्या है, जो इसे A सर्टिफिकेट दिया गया? ऐसे में सेंसर बोर्ड के प्रति मेरी नाराजगी गलत है। - हंसल मेहता की नाराजगी पर पहलाज निहलानी ने कड़ा रिएक्शन दिया था। - उन्होंने कहा था कि ट्रेलर को A- सर्टिफिकेट दिए जाने को मेहता जबरदस्ती मुद्दा बना रहे हैं। यह सिर्फ पब्लिसिटी स्टंट है। हंसल मेहता ने क्या कहा... - एक लीडिंग न्यूज वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में हंसल मेहता पहलाज निहलानी पर जमकर भड़के। - उन्होंने कहा, ये लोग अपनी किसी भी गलती पर सिंपल सा जस्टिफिकेशन दे देते हैं। - जब वे हैदराबाद यूनिवर्सिटी जैसे संस्थानों की बात करते हैं, जहां एक स्टूडेंट ने सुसाइड कर लिया। वहां उसके फ्रस्टेशन को परखने की बजाय यह साबित करने में लगे रहते हैं कि वह दलित नहीं था। - इसी तरह उन्होंने यह जानने की कोशिश नहीं की कि मैं नाराज क्यों , मैं क्या कहना चाहता हूं। बस कह दिया कि मैं सब चीप पब्लिसिटी के लिए कर रहा हूं। - अगर ऐसा है तो फिल्म को जायज सर्टिफिकेट देकर मेरी पब्लिसिटी रोक दो। - और हां, यदि पहलाज निहलानी के कारण मुझे पब्लिसिटी मिल रही है तो मैं फिल्ममेकिंग में सिर्फ अपना समय बर्बाद कर रहा हूं। - मैं पब्लिसिटी के लिए उनके नाम का इस्तेमाल करने से अच्छा सड़क पर अंडरवियर बेचना मानता हूं। U/A सर्टिफिकेट चाहते हैं हंसल मेहता... - पहलाज निहलानी के मुताबिक, उन्होंने अलीगढ़ को A सर्टिफिकेट इसलिए दिया, क्योंकि फिल्म होमोसेक्सुअलिटी जैसे विषय पर बनी है। यह टीनेजर्स के लिए ठीक नहीं है। - वहीं हंसल मेहता का कहना है कि सेक्सुअलिटी वह है, जो आज के दौर में यंगस्टर्स देखना चाहते हैं। - वे कहते है, सेंसर बोर्ड की एक्सामिनिंग कमेटी ने फिल्म देखी और इसे A-सर्टिफिकेट दे दिया। - मैंने यह कहते हुए U/A सर्टिफिकेट की मांग की कि यंगस्टर्स इस फिल्म को देखेंगे और अपनी सेक्सुअलिटी के बारे में जानेंगे। - हंसल मेहता ने अपनी शिकायतों को दूर करने के लिए अब ट्रिब्यूनल जाने का फैसला लिया है। रियल स्टोरी बेस्ड फिल्म है अलीगढ़... - अलीगढ़ अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के प्रोफेसर श्रीनिवास रामचंद्र सीरस के जीवन पर आधारित फिल्म है। - कथित तौर पर श्रीनिवास को होमोसेक्सुअल होने के चलते यूनिवर्सिटी से निकाल दिया गया था। - फिल्म में मनोज बाजपेयी ने इस किरदार को प्ले किया है। - उनके अलावा राजकुमार राव भी फिल्म में अहम किरदार में दिखाई देंगे। आगे की स्लाइड में देखें फोटो...

  • अलीगढ़ के ट्रेलर लॉन्च में फैमिली संग दिखे मनोज, को-स्टार के साथ ली सेल्फी
    Last Updated: January 29 2016, 18:20 PM

    मुंबई. बीते रोज मुंबई में डायरेक्टर हंसल मेहता की फिल्म अलीगढ़; का ट्रेलर लॉन्च हुआ। इस मौके पर फिल्म के लीड स्टार मनोज वाजपेयी अपनी पत्नी नेहा और बेटी के साथ नजर आए। फिल्म में अहम रोल राजकुमार राव इस इवेंट में काफी खुश दिखे और उन्होंने मनोज के साथ ढेर सारी सेल्फीज ली। रियल स्टोरी पर बेस्ड है फिल्म... अलीगढ़; डॉ. श्रीनिवास रामचंद्र सिरास की लाइफ पर बेस्ड है, जो अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर थे। उन्हें उनके सेक्सुअल ओरिएंटेशन के कारण नौकरी के दौरान टर्मिनेट कर दिया गया था। बाद में रहस्यमय ढंग से उनकी मौत हो गई। ट्रेलर लॉन्च के दौरान डायरेक्टर हंसल मेहता, मनोज वाजपेयी और राजकुमार राव ने फिल्म से जुड़ी कई बातें बताई। राजकुमार ने कहा कि वो मनोज के साथ काम करके बेहद खुश हैं और इसे अपनी खुशकिस्मती मानते हैं। आगे की स्लाइड्स में देखिए इस ट्रेलर लॉन्च इवेंट की कुछ और फोटोज...

  • अलीगढ़
    Last Updated: January 05 2016, 17:00 PM

    ये फिल्म अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर श्रीनिवास रामचंद्र सिरस की कहानी पर आधारित है, जिन्हें लैंगिक रुझान के कारण निलंबित कर दिया गया था। बाद में उनकी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। फिल्म में मनोज वाजपेयी और राजकुमार राव लीड रोल निभा रहे हैं। मनोज इसमें प्रोफेसर की भूमिका में हैं, जबकि राजकुमार एक पत्रकार के किरदार में हैं।

Flicker