• देखिये ट्रेनडिंग न्यूज़ अलर्टस

Ravindra Gaikwad (रवींद्र गायकवाड़)

Read Ravindra Gaikwad Latest News in Hindi. पढ़ें शिवशेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ की ताज़ा खबरें दैनिक भास्कर के इस पेज पर

ATM में पैसा न होने पर गायकवाड़ की पुलिस से बहस, सपोर्टर्स का हंगामा

ATM में पैसा न होने पर गायकवाड़ की पुलिस से बहस, सपोर्टर्स का हंगामा

Last Updated: April 20 2017, 11:41 AM

लातूर. शिवसेना के सांसद रवींद्र गायकवाड़ एक बार फिर विवादों में हैं। इस बार वे लातूर में एटीएम के काम नहीं करने के मामले पर पुलिस वालों से भिड़ गए। दरअसल, गायकवाड़ एसबीआई के एटीएम से कुछ पैसे निकालने गए थे, लेकिन एटीएम में कैश नहीं था। गायकवाड़ ने वहां सरकार के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। हंगामे के दौरान रवींद्र की पुलिस से तीखी बहस भी हुई। बता दें कि गायकवाड़ पर 23 मार्च को एअर इंडिया के स्टाफर को 25 बार सैंडल मारने का आरोप है। इस घटना का वीडियो वायरल हो रहा है... - रवींद्र गायकवाड़ का जो वीडियो वायरल हो रहा है उसमें वे पुलिस अफसर के साथ बहस कर रहे हैं। गायकवाड़ ने कहा- एटीएम में पिछले 15 दिनों से पैसे नहीं है। हमें क्या करना चाहिए? - गायकवाड़ के साथ शिवसेना वर्कर्स भी मौजूद थे। नारेबाजी के दौरान इन लोगों ने बैंक मैनेजर को बुलाने की मांग की। मामला बढ़ने पर पुलिस को बीच में आना पड़ा। 23 मार्च को की थी एअर इंडिया स्टाफ से मारपीट - गायकवाड़ पर 23 मार्च को एअर इंडिया के स्टाफर को 25 बार सैंडल मारने का आरोप है। खुद उन्होंने मीडिया के सामने इसे कबूल भी किया था। माफी मांगने के सवाल पर उन्होंने कहा था, मैं माफी नहीं मांगूगा, गलती मेरी नहीं उनकी है। माफी उन्हें मांगनी चाहिए। - एअर इंडिया के ड्यूटी मैनेजर से मारपीट के बाद AI समेत 6 एयरलाइंस ने गायकवाड़ को नो फ्लाई लिस्ट में डाल दिया था। हालांकि, बाद में सरकार के कहने पर सभी ने बैन हटा लिया। प्रोफेसर बनकर की टिकट बुक करने की कोशिश - गायकवाड़ ने नो फ्लाई लिस्ट में आने के बाद एअर इंडिया, स्पाइस और इंडिगो से टिकट बुक कराने की कोशिश की थी, लेकिन हर बार उनकी टिकट कैंसल कर दी गई। - गायकवाड़ ने अलग-अलग नाम से भी टिकट बुक करवाने की कोशिशी की, लेकिन कामयाब नहीं हो पाए। एअर इंडिया की हैदराबाद-दिल्ली फ्लाइट (AI551) में प्रोफेसर वीआर. गायकवाड़ के नाम से टिकट बुक कराया गया, लेकिन एयरलाइंस ने कैंसल कर दिया। कार से गए थे दिल्ली - कई बार टिकट बुक कैंसल होने के बाद गायकवाड़ 29 मार्च को कार से दिल्ली रवाना हुए थे। इससे पहले वो ट्रेन से दिल्ली से वापस आए थे। इस दौरान जब मीडिया ने एअर इंडिया स्टॉफ के साथ मारपीट पर सवाल पूछा था, तो गायकवाड़ फिर भड़क गए थे। भीड़ से बचने के लिए हमशक्ल भी खोजा - गायकवाड़ पिछले दिनों अपने हमशक्ल के साथ नजर आए। 14 अप्रैल को मुंबई के छत्रपति शिवाजी टर्मिनस पर पर गायकवाड़ जींस और टीशर्ट में नजर आए। साथ हूबहू गायकवाड़ की तरह दिखने वाला एक शख्स था। गायकवाड़ ने कहा कि पिछले कई दिनों से भीड़ बहुत परेशान कर रही थी, इसलिए ऐसा स्टेप लिया। कौन हैं रविंद्र गायकवाड़? - 2014 में उस्मानाबाद लोकसभा सीट से इलेक्शन जीतने से पहले गायकवाड़ दो बार महाराष्ट्र के विधायक भी चुने गए। - 57 साल के गायकवाड़ 2015 से संसद की सिक्युरिटी के लिए बनी ज्वाइंट कमेटी के मेंबर भी हैं। - गायकवाड़ के खिलाफ अफसरों के साथ बुरा बर्ताव करने, उन्हें धमकियां देने और दंगा भड़काने के 8 केस दर्ज हैं। - महाराष्ट्र सदन में 2014 में कैटरिंग सर्विस के मुस्लिम इम्प्लॉई के मुंह में जबरन रोटी ठूंसी गई, तब वह रोजे पर था। इसमें गायकवाड़ समेत 11 शिवसेना सांसदों का नाम आया।

भीड़ कर रही थी सांसद गायकवाड़ को परेशान, बचने के लिए खोज लाए डुप्लीकेट

भीड़ कर रही थी सांसद गायकवाड़ को परेशान, बचने के लिए खोज लाए डुप्लीकेट

Last Updated: April 15 2017, 15:43 PM

मुंबई. फ्लाइट में एअर इंडिया स्टाफर की सेंडिल से पिटाई कर सुर्खियों में आये शिवसेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ इन दिनों जहां भी जाते हैं, मीडिया के कैमरे और सेल्फी लेने वाले उन्हें घेर लेते हैं। इनसे बचने के लिए गायकवाड़ अब साथ में अपना डुप्लीकेट लेकर घूम रहे हैं। कौन हैं गायकवाड़ का डुप्लीकेट... - शुक्रवार को गायकवाड़ मुंबई के छत्रपति शिवाजी टर्मिनस(सीएसटी स्टेशन पर) टी-शर्ट और पेंट में नजर आए। उनके साथ एक शख्स खड़ा था जो हूबहू गायकवाड़ जैसा नजर आ रहा था। - इस शख्स का नाम रत्नाकांत सागर है। रत्नाकांत भी गायकवाड़ के गांव उमरगा के रहने वाले हैं। वे भी गायकवाड़ की तरह शिवसेना से कई साल से जुड़े हुए हैं। - पहली बार देखने पर कोई सागर और गायकवाड़ के बीच फर्क नहीं कर सकता। गायकवाड़ ने रत्नाकांत को यह कह रखा है कि वे हमेशा उनके आसपास रहें और उनकी तरह कुर्ता पायजामा और चश्मा पहने। - रत्नाकांत का कहना है कि, वे पिछले कई साल से गायकवाड़ की तरह कपड़े पहनते हैं और उनकी स्टाइल को कॉपी कर रहे हैं। कई बार तो उनके टाउन के लोग भी उनके और सांसद के बीच अंतर नहीं कर पाते। भीड़ से बचने के लिए उठाया ये स्टेप - उन्हें जब भी कोई सेल्फी के लिए रोकता है तो वे रत्नाकांत को आगे कर देते हैं। लोग गायकवाड़ के धोखे में रत्नाकांत संग फोटो खिंचवा लेते हैं। - गायकवाड़ का कहना है कि, पिछले कुछ दिनों से उन्हें लगातार भीड़ का सामना करना पड़ रहा था। इससे बचने के लिए उन्होंने ये तरीका ढूंढ निकाला। - एक अंग्रेजी अखबार गायकवाड़ ने बताया कि, पिछले हफ्ते वे ट्रेन से सफर कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कैजुअल ड्रेस पहनी हुई थी। उनके साथ सागर भी थे और उन्होंने कुर्ता- पैजामा पहना हुआ था। टीटीई ने उन्हें देख उनके साथ सेल्फी लेने की इच्छा जताई और फोटो खिंचवा वहां से चला गया। कौन हैं रविंद्र गायकवाड़? - 2014 में उस्मानाबाद लोकसभा सीट से इलेक्शन जीतने से पहले गायकवाड़ दो बार महाराष्ट्र के विधायक भी चुने गए। - 57 साल के गायकवाड़ 2015 से संसद की सिक्युरिटी के लिए बनी ज्वाइंट कमेटी के मेंबर भी हैं। - गायकवाड़ के खिलाफ अफसरों के साथ बुरा बर्ताव करने, उन्हें धमकियां देने और दंगा भड़काने के 8 केस दर्ज हैं। - महाराष्ट्र सदन में 2014 में कैटरिंग सर्विस के मुस्लिम इम्प्लॉई के मुंह में जबरन रोटी ठूंसी गई, तब वह रोजे पर था। इसमें गायकवाड़ समेत 11 शिवसेना सांसदों का नाम आया। - हाल ही में उन पर एअर इंडिया के एक इम्प्लॉई को 25 बार सैंडल से मारने का आरोप लगा। 7 एयरलाइन्स ने उन्हें बैन कर दिया था। इस पर संसद में भी हंगामा हुआ। बाद में एविएशन मिनिस्टर से लिखित में माफी मांगने के बाद बैन हटा लिया गया।

सरकार के दबाव में हटा शिवसेना MP से बैन; AI ने नहीं ली थी FIR पर सलाह

सरकार के दबाव में हटा शिवसेना MP से बैन; AI ने नहीं ली थी FIR पर सलाह

Last Updated: April 10 2017, 18:47 PM

नई दिल्ली. एअर इंडिया के स्टाफर से मारपीट करने वाले शिवसेना सांसद रविंद्र गायकवाड़ के ऊपर लगा फ्लाइंग बैन सरकार के दबाव में हटाया गया था। न्यूज एजेंसी ने एयर लाइन के एक अफसर के हवाले से यह खबर दी है। हालांकि, इस अफसर ने यह भी माना कि सांसद पर एफआईआर दर्ज कराने से पहले सरकार से कोई सलाह नहीं ली गई थी। बता दें कि गायकवाड़ ने दो हफ्ते पहले एयरक्राफ्ट में एक स्टाफर से मारपीट की थी। उन्हें नो फ्लाई लिस्ट में डाल दिया गया था। कुछ दिनों पहले ही ये बैन हटाया गया है। माफी नहीं मांगी, फिर भी हटाया बैन... - इस अफसर के मुताबिक- सांसद ने हमारे स्टाफर या एअर इंडिया से कोई माफी नहीं मांगी। लेकिन, सरकार के कहने पर शुक्रवार को हमने ये बैन हटा लिया। - सिविल एविएशन मिनिस्ट्री की तरफ से एअर इंडिया को लिखे लेटर में ऑर्डर को फॉलो करने को कहा गया था। - इस लेटर में लिखा गया था- गायकवाड़ ने बेहतर बर्ताव का वादा लिखित में किया है। लिहाजा, एअर इंडिया और दूसरी एयर लाइन्स को बैन हटाने की सलाह दी जाती है। गायकवाड़ ने ये लेटर सिविल एविएशन मिनिस्टर अशोक गजपति राजू को लिखा था। क्या है मामला? - गायकवाड़ पर 23 मार्च को एअर इंडिया के स्टाफर को 25 बार सैंडल मारने का आरोप था। खुद उन्होंने मीडिया के सामने इसे कबूल भी किया था। माफी मांगने के सवाल पर उन्होंने कहा था, मैं माफी नहीं मांगूगा, गलती मेरी नहीं, उनकी है। माफी उन्हें मांगनी चाहिए। गायकवाड़ को एअर इंडिया समेत 7 एयरलाइन्स ने नो-फ्लाई लिस्ट में डाल रखा है। संसद में क्या कहा था? - गायकवाड़ ने संसद में कहा था, लोकतंत्र के इस सदन में खड़ा हूं, इसलिए नहीं कि मैं निर्दोष हूं या नहीं। लाखों लोगों के चुनकर भेजे गए जनप्रतिनिधि से एयरलाइन्स के कर्मचारियों ने कैसा खराब व्यवहार किया और सारे संसद को गुनहगार ठहराने की कैसे कोशिश हो रही है, यह बताने के लिए मैं खड़ा हूं। अपेक्षा है कि सत्य की विजय इस संसद में तो हो, साथ ही संसद जो गुस्सा दिखा रही है, उसे भी न्याय मिलना चाहिए, यह मेरी अपील है। - मैंने क्या गुनाह किया है? मेरा क्या अपराध है? उसकी जांच किए बिना मीडिया ट्रायल जारी है। 23 मार्च 2017 को मैं पुणे से दिल्ली आ रहा था। मेरा बिजनेस क्लास टिकट था। लेकिन मुझे इकोनॉमी क्लास में बैठाया गया। मेरा ये झगड़ा नहीं था। मेरा वन एफ टिकट था। एक सीनियर सिटिजन को टिकट दे दिया। मैंने एअर इंडिया के स्टाफ के साथ झगड़ा किया, यह गलत बात है। - एअर इंडिया की एयर होस्टेस ने घटना के दो दिन बाद बयान दिया कि मामला अफसर के गलत बर्ताव की वजह से बढ़ा था। ट्रैवल बैन लगाने से मेरे संवैधानिक अधिकारों का हनन हो रहा है। मेरी सरकार से गुजारिश है कि मेरे खिलाफ दर्ज दिल्ली पुलिस की एफआईआर को वापस लिया जाए। मैं बाला साहेब का शिवसैनिक हूं। मीडिया मुझे एक हफ्ते तक खोज नहीं पाई। मैं आपसे मांग करता हूं कि एअर इंडिया और बाकी एयरलाइन्स के खिलाफ जांच के बाद कार्रवाई की जाए। - हालांकि, सदन में दिए अपने पूरे बयान में गायकवाड़ ने ड्यूटी मैनेजर को चप्पल मारने की बात नहीं कबूली थी। जबकि, मीडिया के सामने उन्होंने इसे खुले तौर पर कबूल किया था। तब कहा था- मैंने उसने 25 बार सैंडल से मारा। कौन हैं रविंद्र गायकवाड़? - 2014 में उस्मानाबाद लोकसभा सीट से इलेक्शन जीतने से पहले गायकवाड़ दो बार महाराष्ट्र के विधायक भी चुने गए। - 57 साल के गायकवाड़ 2015 से संसद की सिक्युरिटी के लिए बनी ज्वाइंट कमेटी के मेंबर भी हैं। - एमकॉम करने के बाद बीएड की डिग्री भी ली, जिसके चलते इलाके के लोग उन्हें रवि सर के नाम से बुलाते हैं। - गायकवाड़ के खिलाफ अफसरों के साथ बुरा बर्ताव करने, उन्हें धमकियां देने और दंगा भड़काने के 8 केस दर्ज हैं। - महाराष्ट्र सदन में 2014 में कैटरिंग सर्विस के मुस्लिम इम्प्लॉई के मुंह में जबरन रोटी ठूंसी गई, तब वह रोजे पर था। इसमें गायकवाड़ समेत 11 शिवसेना सांसदों का नाम आया।

बैन हटने के बावजूद प्लेन में नहीं गए सांसद गायकवाड़, लास्ट मिनट में कैंसिल करवाया टिकट

बैन हटने के बावजूद प्लेन में नहीं गए सांसद गायकवाड़, लास्ट मिनट में कैंसिल करवाया टिकट

Last Updated: April 10 2017, 11:46 AM

पुणे. एअर इंडिया इम्प्लॉई को सैंडल से पीटने वाले शिवसेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ बैन हटने और टिकट कन्फर्म होने के बावजूद प्लेन से दिल्ली नहीं गए। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, लास्ट मोमेंट पर गायकवाड़ ने अपना प्लेन का टिकट कैंसिल करवाकर राजधानी एक्सप्रेस पकड़ ली। गौरतलब है कि शनिवार को एअर इंडिया ने गायकवाड़ पर लगी पाबंदी हटाई थी। बिजनेस क्लास में मिली थी कन्फर्म सीट... - AI-852 के बिजनेस क्लास में बैठ गायकवाड़ सोमवार सुबह 7.40 बजे पुणे से दिल्ली के लिए रवाना होने वाले थे। - सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, गायकवाड़ ने कुछ दिन पहले ओपन टिकट बुक करवाया था। यानी इस टिकट में वो किसी भी दिन इस उड़ान में सफर करने के हकदार थे। - एअर इंडिया के मुताबिक, 26 मार्च को एयरलाइन का गर्मियों का शेड्यूल जारी हुआ है। इसके तहत अब पुणे-दिल्ली रूट पर बिजनेस क्लास वाले A-320 प्लेन की सेवाएं ली जा रही हैं। - गायकवाड़ इसी बात से नाराज हुए थे कि प्लेन में बिजनेस क्लास की सीटें नहीं थी और उन्हें इकनॉमी क्लास में ही सफर करने के लिए मजबूर होना पड़ा था। - लेकिन लास्ट समय गायकवाड़ ने अपना टिकट कैंसिल करवा लिया। हालांकि, एयरइंडिया ने उनके टिकट कैंसिल करवाने की पुष्टि नहीं की है। क्या है मामला? - गायकवाड़ पर 23 मार्च को एअर इंडिया के स्टाफर को 25 बार सैंडल से मारने का आरोप है। - खुद उन्होंने मीडिया के सामने इसे कबूल भी किया था। माफी मांगने के सवाल पर उन्होंने कहा था, मैं माफी नहीं मांगूगा, गलती मेरी नहीं, उनकी है। माफी उन्हें मांगनी चाहिए। जिसके बाद गायकवाड़ को एअर इंडिया समेत 7 एयरलाइन्स ने नो-फ्लाई लिस्ट में डाल दिया था। - मामले में संसद में भी हंगामा हुआ था। इसके बाद गायकवाड़ ने एविएशन मिनिस्टर अशोक गजपति राजू से लिखित में माफी मांगी थी।

AI स्टाफर पागल है, क्यों माफी मांगूं: गायकवाड़; 6 एयरलाइन्स ने भी बैन हटाया

AI स्टाफर पागल है, क्यों माफी मांगूं: गायकवाड़; 6 एयरलाइन्स ने भी बैन हटाया

Last Updated: April 08 2017, 16:32 PM

मुंबई/नई दिल्ली. शिवसेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ ने शनिवार को एअर इंडिया के ड्यूटी मैनेजर से माफी मांगने से साफ इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि, वो आदमी (एयरलाइन्स स्टाफर) पागल है। उसके खिलाफ झगड़ा करने के ऐसे 8 केस दर्ज हैं। गलती उसकी थी और मैं क्यों माफी मांगूं? मेरे नाम से 7 बार टिकट बुक हुईं। नहीं जानता किसने कीं। इस मुद्दे को भी संसद में उठाया है। संसद में खेद जताने पर एविएशन मिनिस्टर के ऑर्डर के बाद एअर इंडिया के बाद अब 6 एयरलाइन्स ने भी गायकवाड़ से बैन हटा लिया है।मेरी शिकायत नहीं सुनी गई... - गायकवाड़ ने कहा, झगड़ा एअर इंडिया के स्टाफर ने शुरू किया। वो आदमी पालग है। ये छोटा-मोटा विवाद था। मैं भी आम आदमी हूं। मेरी शिकायत पर सुनवाई नहीं हुई। अगर जनता के प्रतिनिधि के लिए उनका ऐसा बर्ताब है तो आम आदमी के लिए कैसा होगा? - बता दें कि, 23 मार्च को महाराष्ट्र के उस्मानाबाद से सांसद गायकवाड़ एअर इंडिया की फ्लाइट से दिल्ली पहुंचे थे। ट्रैवल के दौरान हुईं असुविधाओं की शिकायत अफसरों से की। लेकिन जब कोई कार्रवाई नहीं हुई तो उन्होंने हंगामा किया। सांसद ने खुद कबूला था कि, मैंने एक स्टाफर को 25 बार सैंडल मारी हैं। उसने मुझसे बदसलूकी की। - एअर इंडिया ने एयरपोर्ट पुलिस थाने में दो रिपोर्ट दर्ज कराई हैं। दिल्ली पुलिस इस मामले की जांच कर रही है। ट्रैवल बैन गलत, मैंने कोई टिकट बुक नहीं की: सांसद - विवाद के बाद एयरलाइन्स के बैन को गायकवाड़ ने गलत बताया। उन्होंने कहा कि, एयरलाइन्स किसी पैसेंजर को ट्रैवल करने से नहीं रोक सकती है। एविएशन मिनिस्टर गजपति राजू की सिफारिश पर एअर इंडिया, जेट एयरवेस, स्पाइस जेट, गोएअर और इंडिगो ने भी बैन हटा लिया है। - गुरुवार को एयरलाइन्स ने सांसद की 17 और 24 अप्रैल की टिकट कैंसल करने की बात कही थी। गायकवाड़ ने इसे भी गलत करार दिया। कहा कि, ये सिर्फ मीडिया की बनाई हवा है। मुझे भी उसने ही मालूम हुआ। मैंने किसी एयरलाइन्स में इन दोनों तारीखों के लिए कोई टिकट बुक नहीं कराया। - राज्य मंत्री जयंत सिन्हा ने कहा कि, शिवसेना सांसद ने माफी मांग ली है और आगे ऐसा नहीं करने का भरोसा दिया है। इसीलिए एअर इंडिया ने बैन हटा लिया। AICCA माफी मंगवाने पर अड़ा - ऑल इंडिया केबिन क्रू एसोसिएशन (AICCA) ने शुक्रवार को कहा था, गायकवाड़ को एअर इंडिया के इम्प्लॉइज से बिना शर्त माफी मांगनी चाहिए। उन्हें फ्लाइट में ले जाने में रिस्क है और रहेगा। - वहीं, AICCA ने एअर इंडिया को लिखे लेटर में कहा था कि गायकवाड़ के मसले पर सरकार को कड़ा रुख अख्तियार करना चाहिए। - ये भी कहा, एसोसिएशन पूरी तरह से एअर इंडिया के सपोर्ट में है। शिवसेना सांसद को बिना किसी शर्त के सभी इम्प्लॉइज से माफी मांगनी चाहिए। - AICCA के मुताबिक, गायकवाड़ को ये लिखित में देना होगा कि वे सभी नियमों का पालन करेंगे। - इंडियन कमर्शियल पायलट एसोसिएशन ने भी एअर इंडिया से गायकवाड़ मामले में सपोर्ट करने को कहा है।

एविएशन मिनिस्ट्री के ऑर्डर पर एअर इंडिया ने MP गायकवाड़ से बैन हटाया

एविएशन मिनिस्ट्री के ऑर्डर पर एअर इंडिया ने MP गायकवाड़ से बैन हटाया

Last Updated: April 07 2017, 17:36 PM

नई दिल्ली. एअर इंडिया ने शिवसेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ पर लगाया गया ट्रैवल बैन दो हफ्ते बाद हटा लिया है। एअर इंडिया का कहना है कि यह फैसला एविएशन मिनिस्ट्री की ओर से मिले रिटन ऑर्डर के बाद किया गया। गायकवाड़ ने गुरुवार को एविएशन मिनिस्टर को लेटर लिखकर 23 मार्च को हुई घटना पर अफसोस जताया था। बता दें कि उन पर एअर इंडिया के एक कर्मचारी को सैंडल से पीटने का आरोप था। इस घटना के बाद एअर इंडिया समेत 7 एयरलाइंस ने अपनी फ्लाइट्स में गायकवाड़ के बैठने पर बैन लगा दिया था। दूसरी एयरलाइंस भी जल्द हटा सकती हैं बैन... - माना जा रहा है कि एअर इंडिया के बाद अब बाकी एयरलाइंस भी जल्द ही गायकवाड़ पर लगाया गया बैन हटा सकती हैं। - इससे पहले एयर इंडिया ने शुक्रवार को एक बार फिर गायकवाड़ का टिकट रद्द कर दिया था। वेबसाइट से शुक्रवार सुबह 5 बजे बुकिंग की गई थी। - गायकवाड़ की 2 टिकट रद्द की गईं। इनमें से एक 17 अप्रैल का दिल्ली से मुंबई का टिकट था और दूसरा 24 अप्रैल का मुंबई से दिल्ली का टिकट था। - हालांकि, गायकवाड़ ने कहा कि उन्होंने फ्लाइट का टिकट बुक ही नहीं किया। AICCA अड़ा रहा माफी मंगवाने पर - इससे पहले ऑल इंडिया केबिन क्रू एसोसिएशन (AICCA) ने कहा, गायकवाड़ को एअर इंडिया के इम्प्लॉइज से बिना शर्त माफी मांगनी चाहिए। उन्हें फ्लाइट में ले जाने में रिस्क है और रहेगा। - वहीं, AICCA ने एअर इंडिया को लिखे लेटर में कहा था कि गायकवाड़ के मसले पर सरकार को कड़ा रुख अख्तियार करना चाहिए। - ये भी कहा, एसोसिएशन पूरी तरह से एअर इंडिया के सपोर्ट में है। शिवसेना सांसद को बिना किसी शर्त के सभी इम्प्लॉइज से माफी मांगनी चाहिए। - AICCA के मुताबिक, गायकवाड़ को ये लिखित में देना होगा कि वे सभी नियमों का पालन करेंगे। - इंडियन कमर्शियल पायलट एसोसिएशन ने भी एअर इंडिया से गायकवाड़ मामले में सपोर्ट करने को कहा है। शिवसेना सांसदों ने मिनिस्टर को घेरा था - गायकवाड़ ने गुरुवार को संसद में कहा था, विनम्रता मेरे स्वभाव में है, मैं सदन से माफी मांगता हूं, लेकिन अफसर से माफी नहीं मांगूंगा। - गायकवाड़ के बयान के बाद शिवसेना सांसदों ने सिविल एविएशन मिनिस्टर अशोक गजपति राजू को घेर लिया। उन्होंने मुंबई से एयरलाइन्स की उड़ानों को रोकने की भी धमकी दी। - शिवसेना सांसदों ने कहा, फ्लाइट में पैसेंजर की सिक्युरिटी सबसे पहले है और उससे कतई समझौता नहीं किया जा सकता, सांसद पर बैन कानून के मुताबिक लगा है, जो सबके लिए बराबर है। इसके बाद ही अनंत गीते राजू की सीट के पास पहुंच गए और जोर-जोर से बोलने लगे। उन्हें यह कहते सुना गया, आपको (बैन का) आदेश वापस लेना होगा। - लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने गायकवाड़ के मुद्दे पर राजनाथ, राजू और शिवसेना सांसदों के साथ एक मीटिंग भी की। बाद में राजनाथ ने कहा कि एविशयन मिनिस्टर और शिवसेना के सांसद इस मुद्दे पर जल्द ही हल निकालेंगे। ड्यूटी मैनेजर को चप्पल मारने की बात नहीं कबूली - गायकवाड़ ने कहा, लोकतंत्र के इस सदन में खड़ा हूं, इसलिए नहीं कि मैं निर्दोष हूं या नहीं। लाखों लोगों के चुनकर भेजे गए जनप्रतिनिधि से एयरलाइन्स के कर्मचारियों ने कैसा खराब व्यवहार किया और सारे संसद को गुनहगार ठहराने की कैसे कोशिश हो रही है, यह बताने के लिए मैं खड़ा हूं। अपेक्षा है कि सत्य की विजय इस संसद में तो हो, साथ ही संसद जो गुस्सा दिखा रही है, उसे भी न्याय मिलना चाहिए, यह मेरी अपील है। - मैंने क्या गुनाह किया है? मेरा क्या अपराध है? उसकी जांच किए बिना मीडिया ट्रायल जारी है। 23 मार्च 2017 को मैं पुणे से दिल्ली आ रहा था। मेरा बिजनेस क्लास टिकट था। लेकिन मुझे इकोनॉमी क्लास में बैठाया गया। मेरा ये झगड़ा नहीं था। मेरा वन एफ टिकट था। एक सीनियर सिटिजन को टिकट दे दिया। मैंने एअर इंडिया के स्टाफ के साथ झगड़ा किया, यह गलत बात है। - एअर इंडिया की एयर होस्टेस ने घटना के दो दिन बाद बयान दिया कि मामला अफसर के गलत बर्ताव की वजह से बढ़ा था। ट्रैवल बैन लगाने से मेरे संवैधानिक अधिकारों का हनन हो रहा है। मेरी सरकार से गुजारिश है कि मेरे खिलाफ दर्ज दिल्ली पुलिस की एफआईआर को वापस लिया जाए। मैं बाला साहेब का शिवसैनिक हूं। मीडिया मुझे एक हफ्ते तक खोज नहीं पाई। मैं आपसे मांग करता हूं कि एअर इंडिया और बाकी एयरलाइन्स के खिलाफ जांच के बाद कार्रवाई की जाए। - सदन में दिए अपने पूरे बयान में गायकवाड़ ने ड्यूटी मैनेजर को चप्पल मारने की बात नहीं कबूली। क्या है मामला? - गायकवाड़ पर 23 मार्च को एअर इंडिया के स्टाफर को 25 बार सैंडल मारने का आरोप था। खुद उन्होंने मीडिया के सामने इसे कबूल भी किया था। माफी मांगने के सवाल पर उन्होंने कहा था, मैं माफी नहीं मांगूगा, गलती मेरी नहीं, उनकी है। माफी उन्हें मांगनी चाहिए। - गायकवाड़ को एअर इंडिया समेत 7 एयरलाइन्स ने नो-फ्लाई लिस्ट में डाल रखा था।

विनम्रता मेरे स्वभाव में: AI स्टाफर को चप्पल मारने के आरोपी MP का बयान

विनम्रता मेरे स्वभाव में: AI स्टाफर को चप्पल मारने के आरोपी MP का बयान

Last Updated: April 06 2017, 19:17 PM

नई दिल्ली. एअर इंडिया के स्टाफर को चप्पल से पीटने के आरोपी शिवसेना के लोकसभा सांसद रवींद्र गायकवाड़ ने गुरुवार को संसद में इस मुद्दे पर कहा, विनम्रता मेरे स्वभाव में है, मैं सदन से माफी मांगता हूं, लेकिन अफसर से माफी नहीं मांगूंगा। गायकवाड़ के बयान के बाद शिवसेना सांसदों ने सिविल एविएशन मिनिस्टर अशोक गजपति राजू को घेर लिया।शिवसेना सांसदों ने मुंबई से एयरलाइन्स की उड़ानों को रोकने की भी धमकी दी। एअर इंडिया मैनेजमेंट ने शिवसेना की धमकी के बाद मुंबई और पुणे समेत महाराष्ट्र के सभी एयरपोर्ट पर सिक्युरिटी बढ़ाए जाने की मांग की है। अहलूवालिया और राजनाथ ने हालात को संभाला​... - न्यूज एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से खबर दी कि गायकवाड़ के बयान के बाद हालात थोड़े बिगड़ गए, जिसे बीजेपी सांसद एसएस अहलूवालिया और राजनाथ सिंह ने संभाला। अहलूवालिया गजपति राजू को अपने चैम्बर में ले गए और राजनाथ ने गीते को समझा-बुझाकर शांत किया। - बीजेपी-शिवसेना नेताओं के बीच बहस के दौरान कुछ सांसदों को यह भी कहते सुना गया, मुंबई से एयरलाइन्स की उड़ानें नहीं होने देंगे। - लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने गायकवाड़ के मुद्दे पर राजनाथ, राजू और शिवसेना सांसदों के साथ एक मीटिंग भी की। बाद में राजनाथ ने कहा कि एविशयन मिनिस्टर और शिवसेना के सांसद इस मुद्दे पर जल्द ही हल निकालेंगे। गायकवाड़ से जल्द हट सकता है बैन - संसद में हुए हंगामे के बाद अब माना जा रहा है कि गायकवाड़ पर से एयरलाइन्स का बैन जल्द ही हट सकता है। मीडिया सूत्रों के मुताबिक सरकार एयरलाइन्स को गायकवाड़ की टिकट बुकिंग का सम्मान करने को कह सकती है। गायकवाड़ को एअर इंडिया समेत 7 एयरलाइन्स ने नो-फ्लाई लिस्ट में डाल रखा है। - एएनआई ने सूत्रों के हवाले से खबर दी है कि एअर इंडिया गायकवाड़ पर से बैन तभी हटाएगी जब वो एयरलाइन्स से माफी मांग लेंगे। - उधर, शिवसेना सांसद संजय राउत ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि अगर 10 अप्रैल तक इस मसले का हल नहीं निकला तो पार्टी एनडीए की मीटिंग में हिस्सा नहीं लेगी। क्यों भड़के शिवसेना सांसद? - शिवसेना सांसदों ने एविएशन मिनिस्टर को सदन में उस वक्त घेर लिया, जब उन्होंने कहा, फ्लाइट में पैसेंजर की सिक्युरिटी सबसे पहले है और उससे कतई समझौता नहीं किया जा सकता, सांसद पर बैन कानून के मुताबिक लगा है जो सबके लिए बराबर है। इसके बाद ही अनंत गीते राजू की सीट के पास पहुंच गए और जोर-जोर से बोलने लगे। उन्हें यह कहते सुना गया, आपको (बैन का) आदेश वापस लेना होगा। - शिवसेना सांसदों को भड़कते देख अनंत कुमार, अहलूवालिया, स्मृति ईरानी और जयंत सिन्हा समेत कई मंत्रियों और बीजेपी सांसदों ने राजू के पास पहुंचकर घेरा बना लिया। ड्यूटी मैनेजर को चप्पल मारने की बात नहीं कबूली - गायकवाड़ ने कहा, लोकतंत्र के इस सदन में खड़ा हूं, इसलिए नहीं कि मैं निर्दोष हूं या नहीं। लाखों लोगों के चुनकर भेजे गए जनप्रतिनिधि से एयरलाइन्स के कर्मचारियों ने कैसा खराब व्यवहार किया और सारे संसद को गुनहगार ठहराने की कैसे कोशिश हो रही है, यह बताने के लिए मैं खड़ा हूं। अपेक्षा है कि सत्य की विजय इस संसद में तो हो, साथ ही संसद जो गुस्सा दिखा रही है, उसे भी न्याय मिलना चाहिए, यह मेरी अपील है। - मैंने क्या गुनाह किया है? मेरा क्या अपराध है? उसकी जांच किए बिना मीडिया ट्रायल जारी है। 23 मार्च 2017 को मैं पुणे से दिल्ली आ रहा था। मेरा बिजनेस क्लास टिकट था। लेकिन मुझे इकोनॉमी क्लास में बैठाया गया। मेरा ये झगड़ा नहीं था। मेरा वन एफ टिकट था। एक सीनियर सिटिजन को टिकट दे दिया। मैंने एअर इंडिया के स्टाफ के साथ झगड़ा किया, यह गलत बात है। - एअर इंडिया की एयर होस्टेस ने घटना के दो दिन बाद बयान दिया कि मामला अफसर के गलत बर्ताव की वजह से बढ़ा था। ट्रैवल बैन लगाने से मेरे संवैधानिक अधिकारों का हनन हो रहा है। मेरी सरकार से गुजारिश है कि मेरे खिलाफ दर्ज दिल्ली पुलिस की एफआईआर को वापस लिया जाए। मैं बाला साहेब का शिवसैनिक हूं। मीडिया मुझे एक हफ्ते तक खोज नहीं पाई। मैं आपसे मांग करता हूं कि एअर इंडिया और बाकी एयरलाइन्स के खिलाफ जांच के बाद कार्रवाई की जाए। - सदन में दिए अपने पूरे बयान में गायकवाड़ ने ड्यूटी मैनेजर को चप्पल मारने की बात नहीं कबूली। चार्टर्ड प्लेन से दिल्ली पहुंचे गायकवाड़ - गायकवाड़ बुधवार को चार्टर्ड प्लेन से दिल्ली पहुंचे। सूत्रों के मुताबिक, नो फ्लाई लिस्ट में डाले जाने के बाद भी वह प्लेन से सफर करने पर अड़े थे। पिछले दिनों उन्होंने एअर इंडिया में 5, इंडिगो और स्पाइस जेट में एक-एक बार टिकट बुक करने की कोशिश की, लेकिन हर बार कैंसल कर दी गई। उन्होंने डॉक्टर और प्रोफेसर के नाम टिकट बुक कराना चाहा, लेकिन तब भी नहीं मिली। इसके बाद सांसद ने चार्टर्ड प्लेन से जाने का फैसला किया। हालांकि, ये पता नहीं चला है कि प्लेन किसका था। इस विवाद के बाद गायकवाड़ को कार और ट्रेन से भी सफर करना पड़ा। क्या है मामला? - गायकवाड़ पर 23 मार्च को एअर इंडिया के स्टाफर को 25 बार सैंडल मारने का आरोप है। खुद उन्होंने मीडिया के सामने इसे कबूल भी किया था। माफी मांगने के सवाल पर उन्होंने कहा था, मैं माफी नहीं मांगूगा, गलती मेरी नहीं, उनकी है। माफी उन्हें मांगनी चाहिए। गायकवाड़ को एअर इंडिया समेत 7 एयरलाइन्स ने नो-फ्लाई लिस्ट में डाल रखा है। आगे की स्लाइड्स में पढ़ें, क्या कहते हैं नियम, क्या होती है नो-फ्लाई लिस्ट?

एअर इंडिया के स्टाफर की थी पिटाई, अब कहा- मैं टीचर सबसे ज्यादा विनम्र

एअर इंडिया के स्टाफर की थी पिटाई, अब कहा- मैं टीचर सबसे ज्यादा विनम्र

Last Updated: April 06 2017, 15:33 PM

पुणे. एअर इंडिया स्टाफर को पीटने के आरोपी शिवसेना के लोकसभा सांसद रवींद्र गायकवाड़ 2 हफ्ते बाद गुरुवार को संसद पहुंचे। उन्होंने एयरलाइन्स पर कई आरोप लगाते हुए संसद के सामने माफी मांगी। सांसद गायकवाड़ अपने एग्रेसिव मूड के लिए हमेशा से ही फेमस रहे हैं। उनके इलाके में लोग उन्हें नॉट रीचेबल सांसद भी कह कर बुलाते हैं। लेकिन उन्होंने संसद में कहा कि वे टीचर हैं और बहुत विनम्र हैं। इसलिए बुलाया जाता है नॉट रीचेबल सांसद... - अपने इलाके में बेहद पॉपुलर गायकवाड़ उस्मानाबाद से सांसद हैं। वे जिले की उमारगा सीट से दो बार एमएलए भी रहे हैं। - इलाके के लोगों उन्हें अपनी छोटी-छोटी समस्याओं के लिए फोन किया करते थे, जिसके बाद उन्होंने अपने फोन पर एक अनोखी कॉलर ट्यून लगाई। - इसके बाद जो भी उन्हें फोन करता था, उसे सिर्फ यही सुनाई देता था कि,यह नंबर अभी नॉट रीचेबल है, कृपया थोड़ी देर बाद कोशिश करें। - उनके करीबी लोगों का कहना है कि, इस टोन के बाद उनके पास आम लोगों के फोन आने कम हो गए। - 2014 में सांसद चुने जाने के बाद तीन से चार महीने तक उनके पास दिल्ली में मोबाइल नहीं था। महाराष्ट्र सदन के फोन वो लोगों से संपर्क करते थे। कौन हैं रविंद्र गायकवाड़ - फ्लाइट स्टाफ को पीटने वाले 58 वर्षीय रविंद्र गायकवाड़ ने आज तक एक भी विदेश यात्रा नहीं की है। - उनके दादा उमरगा तहसील के जमीनदार थे। उनके पिता वकील थे और उन्होंने उमरगा के छत्रपति शिवाजी महाविद्यालय से बीकॉम और एमकॉम किया। - वे 1990 में पहली बार बीजेपी के टिकट पर विधायक का चुनाव लड़े और तीसरे नंबर पर रहे। 1993 के किल्लारी भूकंप के दौरान गायकवाड़ ने स्थानीय लोगों की बहुत हेल्प की और लोगों में खूब पॉपुलर हुए। - गायकवाड़ पर अभी तक आठ केस दर्ज हैं। उनके करीबी बताते हैं कि सभी मामले राजनीतिक रंजिश के चलते दर्ज कराए गए। स्कूटी पर घूमते हैं गायकवाड़ - गायकवाड़ के पास एक एसयूवी कार है। लेकिन अपने इलाके में वे स्कूटी पर ही घूमते हैं। विधायक रहते हुए उन्होंने अक्सर बस से मुंबई का सफर किया था। - उनके करीबी लोगों ने बताया कि, उमरगा में कई बार आग लगने की घटना हुई। गायकवाड़ ने खुद बकेट से पानी डालकर आग बुझाने में मदद की। पहले भी दर्ज हुए हैं कई केस - गायकवाड़ पर अभी तक आठ केस दर्ज हैं। उनके करीबी बताते हैं कि सभी मामले राजनीतिक रंजिश के चलते दर्ज कराए गए। - 2004 में उनके खिलाफ दंगा भड़काने का केस दर्ज हुआ। हालांकि बाद में वो बरी कर दिए गए। - कुछ साल पहले उस्मानाबाद की एक तहसील में इनका पोस्टर लगाया गया था। पोस्टर में लिखा था, इस नेता को तलाशो और एक हजार रुपए जीतो। आगे की स्लाइड्स में देखिए सांसद गायकवाड़ की कुछ और फोटोज ...

एयरलाइन्स ने टिकट नहीं दिया तो चार्टर्ड प्लेन से दिल्ली पहुंचे सांसद गायकवाड़

एयरलाइन्स ने टिकट नहीं दिया तो चार्टर्ड प्लेन से दिल्ली पहुंचे सांसद गायकवाड़

Last Updated: April 06 2017, 08:28 AM

मुंबई. एअर इंडिया स्टाफर से मारपीट के आरोपी शिवसेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ बुधवार को चार्टर्ड प्लेन से दिल्ली रवाना हुए। सूत्रों के मुताबिक, 7 एयरलाइन्स की नो फ्लाई लिस्ट में डाले जाने के बाद भी वह प्लेन से सफर करने पर अड़े थे। पिछले दिनों उन्होंने एअर इंडिया में 5, इंडिगो और स्पाइस जेट एक-एक बार टिकट बुक करने की कोशिश की, लेकिन हर बार कैंसल कर दी गई। फिर सांसद ने चार्टर प्लेन से जाने का फैसला किया। हालांकि, ये पता नहीं चला है कि प्लेन किसका था और गायकवाड़ दिल्ली में कहां पहुंचे हैं। इस विवाद के बाद गायकवाड़ को कार और ट्रेन में भी सफर करना पड़ा। Dr-प्रोफेसर के नाम से भी टिकट नहीं मिली... - एयरलाइन्स के सूत्रों के मुताबिक, कुछ दिन पहले शिवसेना नेता के एक स्टाफ मेंबर ने एअर इंडिया के कॉल सेंटर में फोन करके 29 मार्च को मुंबई-दिल्ली आने वाली फ्लाइट (AI806) में सीट बुक कराने की कोशिश की। फोन करने वाले शख्स ने पैसेंजर का नाम रवींद्र गायकवाड़ बताया था। यह टिकट तुरंत ही कैंसल हो गई। - दूसरी बार हैदराबाद-दिल्ली आने वाली फ्लाइट (AI551) में एक सीट बुक कराई गई। इस दौरान पैसेंजर का नाम प्रोफेसर वीआर. गायकवाड़ बताया गया। एयरलाइन्स ने फिर टिकट कैंसल कर दी। - 30 मार्च को नागपुर-मुंबई के रास्ते दिल्ली आने वाली फ्लाइट में टिकट बुक कराने के लिए सांसद के स्टाफ मेंबर ने एक ट्रैवल एजेंट से कॉन्टैक्ट किया। एजेंट ने फौरन लोकल स्टेशन मैनेजर को बताया और इन्फॉर्मेशन एयर इंडिया के हेडक्वार्टर भेज दी गई। - एअर इंडिया के एक अफसर ने कहा, हम टिकट बुक करते वक्त गायकवाड़ के मिलते-जुलते नामों और उन्हें संसद की ओर से जारी किए कूपन पर नजर रख रहे हैं। क्या है मामला? - गायकवाड़ पर 23 मार्च को एअर इंडिया के स्टाफर को 25 बार सैंडिल मारने का आरोप है। खुद उन्होंने मीडिया के सामने इसे कबूल भी किया था। माफी मांगने के सवाल पर उन्होंने कहा था, मैं माफी नहीं मांगूगा, गलती मेरी नहीं उनकी है। माफी उन्हें मांगनी चाहिए। क्या कहते हैं नियम? - एयर एक्ट 1972 के चैप्टर-4 के तहत एयरलाइन्स किसी को भी टिकट देने से मना कर सकती है। एयरक्राफ्ट रुल्स 1937 का नियम-22 और 23 रोक को सही ठहराता है। क्या होती है नो-फ्लाई लिस्ट? - दुनिया के कई देशों में यह सिस्टम है जिसमें बदसलूकी या हिंसा करने वाले एयर पैसेंजर्स को इस लिस्ट में डाल दिया जाता है। इस लिस्ट में आने के ये मायने हैं कि आप दोबारा उस एयरलाइन से ट्रैवल नहीं कर सकते। यह बैन आप पर हमेशा के लिए या कुछ साल या महीनों के लिए हो सकता है। यूएस में अगर कोई नो-फ्लाई लिस्ट में है तो उसके बारे में एयरलाइन्स को अपने आप अलर्ट कर दिया जाता है। - मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भारत में भी एविएशन मिनिस्ट्री पिछले कुछ समय से इस पर विचार कर रही है। यहां भी बदसलूकी करने वाले पैसेंजर्स पर कुछ महीनों या कुछ साल के लिए एयरलाइन में ट्रैवल करने पर बैन लगाया जा सकता है। हो सकती है 7 साल तक की सजा - शिवसेना सांसद के खिलाफ आईपीसी 308 और 355 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। - बता दें कि आईपीसी 308 (गैर-इरादतन हत्या की कोशिश है, यानी किसी शख्स पर हमला करने से उसकी जान को खतरा हो जाए, जबकि इरादा जान लेने का ना हो) इसमें 3 से 7 साल तक की सजा हो सकती है। जबकि आईपीसी 355 (बदसलूकी और बलपूर्वक हमला करना) में 2 साल की सजा हो सकती है। सांसद पर बैन संविधान के खिलाफ: शिवसेना - शिवसेना सांसद आनंदराव अडसूल ने एयरलाइन्स द्वारा गायकवाड़ को बैन करने का मामला लोकसभा में उठाया था। उन्होंने कहा, एयरलाइन्स का सांसद पर बैन लगाना गलत है। यह संविधान और कानून के खिलाफ है और सरकार को इसमें तुरंत हस्तक्षेप करना चाहिए। - शिवसेना स्पोक्सपर्सन मनीषा कायंदे ने कहा था, एअर इंडिया के बाद 4 और एयरलाइन्स का गायकवाड़ को नो-फ्लाई लिस्ट में डालने का फैसला बेतुका है, वो क्रिमिनल नहीं हैं।

स्पाइस जेट ने भी कैंसल किया गायकवाड़ का टिकट, अब तक 7 बार कोशिश नाकाम

स्पाइस जेट ने भी कैंसल किया गायकवाड़ का टिकट, अब तक 7 बार कोशिश नाकाम

Last Updated: April 01 2017, 21:13 PM

नई दिल्ली. एअर इंडिया स्टाफर से मारपीट करने वाले शिवसेना के सांसद रवींद्र गायकवाड़ ने स्पाइस जेट की फ्लाइट में टिकट बुक कराया, जिसे एयरलाइंस ने कैंसल कर दिया। रिपोर्ट्स के मुताबिक अब तक एअर इंडिया 5 और इंडिगो एक बार उनका टिकट कैंसल कर चुकी है। बता दें कि एअर इंडिया के ड्यूटी मैनेजर से मारपीट के बाद AI समेत 6 एयरलाइंस ने गायकवाड़ को नो फ्लाई लिस्ट में डाल दिया था। तीसरी एयरलाइंस ने कैंसल किया टिकट... - एअर इंडिया, इंडिगो के बाद स्पाइस जेट तीसरी एयरलाइंस है, जिसने गायकवाड़ का टिकट कैंसल किया है। - सोर्सेस के मुताबिक, गायकवाड़ ने 3 अप्रैल को पुणे से अहमदाबाद जाने वाली स्पाइसजेट की फ्लाइट SG 542 में टिकट बुक कराया था। प्रोफेसर बनकर की टिकट बुक करने की कोशिश - शुक्रवार को न्यूज एजेंसी को एयरलाइन्स के सोर्सेस ने बताया, कुछ दिन पहले शिवसेना नेता के एक स्टाफ मेंबर ने एअर इंडिया के कॉल सेंटर में फोन करके बुधवार को मुंबई-दिल्ली आने वाली फ्लाइट (AI806) में सीट बुक कराने की कोशिश की। फोन करने वाले शख्स ने पैसेंजर का नाम रवींद्र गायकवाड़ बताया था। यह टिकट तुरंत ही कैंसल हो गई। - दूसरी बार हैदराबाद-दिल्ली आने वाली फ्लाइट (AI551) में एक सीट बुक कराई गई। इस दौरान पैसेंजर का नाम प्रोफेसर वीआर. गायकवाड़ बताया गया। एयरलाइन्स ने फिर टिकट कैंसल कर दी। - इसके अगले दिन नागपुर-मुंबई के रास्ते दिल्ली आने वाली फ्लाइट में टिकट बुक कराने के लिए सांसद के स्टाफ मेंबर ने एक ट्रैवल एजेंट से कॉन्टैक्ट किया। एजेंट ने फौरन लोकल स्टेशन मैनेजर को बताया और इन्फॉर्मेशन एयर इंडिया के हेडक्वार्टर भेज दी गई। - एअर इंडिया के एक अफसर ने कहा, हम टिकट बुक करते वक्त गायकवाड़ के मिलते-जुलते नामों और उन्हें संसद की ओर से जारी किए कूपन पर नजर रख रहे हैं। क्या है मामला? - गायकवाड़ पर 23 मार्च को एअर इंडिया के स्टाफर को 25 बार सैंडल मारने का आरोप है। खुद उन्होंने मीडिया के सामने इसे कबूल भी किया था। माफी मांगने के सवाल पर उन्होंने कहा था, मैं माफी नहीं मांगूगा, गलती मेरी नहीं उनकी है। माफी उन्हें मांगनी चाहिए। क्या कहते हैं नियम? - एयर एक्ट 1972 के चैप्टर-4 के तहत एयरलाइन्स किसी को भी टिकट देने से मना कर सकती है। एयरक्राफ्ट रूल्स 1937 का 22 और 23 नियम इस रोक को सही ठहराता है। क्या होती है नो-फ्लाई लिस्ट? - दुनिया के कई देशों में यह सिस्टम है जिसमें बदसलूकी या हिंसा करने वाले एयर पैसेंजर्स को इस लिस्ट में डाल दिया जाता है। इस लिस्ट में आने के ये मायने हैं कि आप दोबारा उस एयरलाइन से ट्रैवल नहीं कर सकते। यह बैन आप पर हमेशा के लिए या कुछ साल या महीनों के लिए हो सकता है। यूएस में अगर कोई नो-फ्लाई लिस्ट में है तो उसके बारे में एयरलाइन्स को अपने आप अलर्ट कर दिया जाता है। - मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भारत में भी एविएशन मिनिस्ट्री पिछले कुछ समय से इस पर विचार कर रही है। यहां भी बदसलूकी करने वाले पैसेंजर्स पर कुछ महीनों या कुछ साल के लिए एयरलाइन में ट्रैवल करने पर बैन लगाया जा सकता है।

Dr-प्रोफेसर के नाम से भी टिकट बुक नहीं करा पाए गायकवाड़, AI ने 3 बार रद्द किया

Dr-प्रोफेसर के नाम से भी टिकट बुक नहीं करा पाए गायकवाड़, AI ने 3 बार रद्द किया

Last Updated: March 31 2017, 18:07 PM

नई दिल्ली. शिवसेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ ने तीन बार मिलते-जुलते नामों से एयर इंडिया में टिकट बुक कराने की कोशिश की। अफसरों को चकमा देने के लिए पहले उन्होंने अपने असली नाम, दूसरी बार प्रोफेसर वीआर गायकवाड़ और तीसरी बार डॉक्टर गाईकवाड़ (स्पेलिंग बदलकर) के नाम से टिकट बुक करनी चाही, लेकिन एयलाइन्स की अलर्टनेस के चलते वह कामयाब नहीं हो सके। बता दें कि सांसद पर एयरलाइन्स के 60 साल के ड्यूटी मैनेजर से मारपीट का आरोप है। इसके बाद एअर इंडिया समेत 6 एयरलाइन्स ने उन्हें नो फ्लाई लिस्ट में डाल दिया। सांसद के दो टिकट पहले ही कैंसल किए जा चुके हैं। फिलहाल, वो ट्रेन और कार से सफर कर रहे हैं। मिलते-जुलते नामों पर नजर रख रही एयरलाइन्स... - न्यूज एजेंसी के मुताबिक, एयरलाइन्स के सूत्रों ने बताया कि, कुछ दिन पहले शिवसेना नेता के एक स्टाफ मेंबर ने एअर इंडिया के कॉल सेंटर में फोन करके बुधवार के लिए मुंबई-दिल्ली आने वाली फ्लाइट (AI806) में सीट बुक कराने की कोशिश की। फोन करने वाले शख्स ने पैसेंजर का नाम रवींद्र गायकवाड़ बताया था। यह टिकट तुरंत ही कैंसल हो गई। - दूसरी बार हैदराबाद-दिल्ली आने वाली फ्लाइट (AI551) में एक सीट बुक कराई गई। इस दौरान पैसेंजर का नाम प्रोफेसर वीआर. गायकवाड़ बताया गया। एयरलाइन्स इस बार भी यही सलूक किया। टिकट कैंसल कर दी। - अगले दिन उन्होंने नागपुर-मुंबई के रास्ते दिल्ली आने वाली फ्लाइट में टिकट बुक कराने के लिए सांसद के स्टाफ मेंबर ने एक ट्रैवल एजेंट से कॉन्टैक्ट किया। एजेंट ने फौरन लोकल स्टेशन मैनेजर को बताया और इन्फॉर्मेशन एयर इंडिया के हेडक्वार्टर भेज दी गई। - एअर इंडिया के एक अफसर ने कहा, हम टिकट बुक करते वक्त गायकवाड़ के मिलते-जुलते नामों और उन्हें संसद की ओर से जारी किए कूपन पर नजर रख रहे हैं। - बता दें कि एयरलाइन्स के मैनेजर को सैंडल से मारने के बाद 7 दिन में गायकवाड़ ने 5 बार टिकट बुक किए, लेकिन हर बार निराशा ही हाथ लगी। क्या है मामला? - गायकवाड़ पर 23 मार्च को एअर इंडिया के स्टाफर को 25 बार सैंडिल मारने का आरोप है। खुद उन्होंने मीडिया के सामने इसे कबूल भी किया था। माफी मांगने के सवाल पर उन्होंने कहा था, मैं माफी नहीं मांगूगा, गलती मेरी नहीं उनकी है। माफी उन्हें मांगनी चाहिए। क्या कहते हैं नियम? - एयर एक्ट 1972 के चैप्टर-4 के तहत एयरलाइन्स किसी को भी टिकट देने से मना कर सकती है। एयरक्राफ्ट रुल्स 1937 का नियम-22 और 23 रोक को सही ठहराता है। क्या होती है नो-फ्लाई लिस्ट? - दुनिया के कई देशों में यह सिस्टम है जिसमें बदसलूकी या हिंसा करने वाले एयर पैसेंजर्स को इस लिस्ट में डाल दिया जाता है। इस लिस्ट में आने के ये मायने हैं कि आप दोबारा उस एयरलाइन से ट्रैवल नहीं कर सकते। यह बैन आप पर हमेशा के लिए या कुछ साल या महीनों के लिए हो सकता है। यूएस में अगर कोई नो-फ्लाई लिस्ट में है तो उसके बारे में एयरलाइन्स को अपने आप अलर्ट कर दिया जाता है। - मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भारत में भी एविएशन मिनिस्ट्री पिछले कुछ समय से इस पर विचार कर रही है। यहां भी बदसलूकी करने वाले पैसेंजर्स पर कुछ महीनों या कुछ साल के लिए एयरलाइन में ट्रैवल करने पर बैन लगाया जा सकता है। हो सकती है 7 साल तक की सजा - शिवसेना सांसद के खिलाफ आईपीसी 308 और 355 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। - बता दें कि आईपीसी 308 (गैर-इरादतन हत्या की कोशिश है, यानी किसी शख्स पर हमला करने से उसकी जान को खतरा हो जाए, जबकि इरादा जान लेने का ना हो) इसमें 3 से 7 साल तक की सजा हो सकती है। जबकि आईपीसी 355 (बदसलूकी और बलपूर्वक हमला करना) में 2 साल की सजा हो सकती है। सांसद पर बैन संविधान के खिलाफ: शिवसेना - शिवसेना सांसद आनंदराव अडसूल ने एयरलाइन्स द्वारा गायकवाड़ को बैन करने का मामला लोकसभा में उठाया था। उन्होंने कहा, एयरलाइन्स का सांसद पर बैन लगाना गलत है। यह संविधान और कानून के खिलाफ है और सरकार को इसमें तुरंत हस्तक्षेप करना चाहिए। - शिवसेना स्पोक्सपर्सन मनीषा कायंदे ने कहा था, एअर इंडिया के बाद 4 और एयरलाइन्स का गायकवाड़ को नो-फ्लाई लिस्ट में डालने का फैसला बेतुका है, वो क्रिमिनल नहीं हैं।

गायकवाड़ सरनेम गुनाह है? BJP MP; शिवसेना बोली-एयरलाइंस का बर्ताव गुंडों जैसा

गायकवाड़ सरनेम गुनाह है? BJP MP; शिवसेना बोली-एयरलाइंस का बर्ताव गुंडों जैसा

Last Updated: March 30 2017, 17:40 PM

नई दिल्ली. एक बीजेपी सांसद ने गायकवाड़ सरनेम के चलते सिक्युरिटी चेकिंग के लिए एयरपोर्ट पर रोके जाने का आरोप लगाया है। सांसद सुनील गायकवाड़ ने कहा, मुझे एयरपोर्ट पर सिक्युरिटी प्वाइंट्स पर कई बार रोका गया क्योंकि मेरा सरनेम गायकवाड़ है और मैं एक सांसद हूं। उन्होंने सवाल किया, क्या गायकवाड़ सरनेम होना गुनाह है? साथ ही यह भी कहा, मैंने इस बारे में मिनिस्टर ऑफ स्टेट फॉर सिविल एविएशन जयंत सिन्हा को बता दिया है। उधर, शिवसेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ के मामले को लेकर शिवसेना भड़क गई है। गुरुवार को पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय राउत ने कहा, फ्लाइट में आतंकियों को ले जाने वाली एयरलाइन कंपनियां गुंडों की तरह बर्ताव कर रही हैं, वे आम आदमी पर रोक लगाती हैं। बता दें कि एअर इंडिया के स्टाफर की पिटाई करने वाले गायकवाड़ को 6 एयरलाइंस ने नो फ्लाई लिस्ट में डाल रखा है। एयरलाइंस माफी मांगे... - न्यूज एजेंसी के मुताबिक शिवसेना लीडर राउत ने गुरुवार को लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन से मुलाकात से पहले कहा, तानाशाही अब तक देश में शुरू नहीं हुई है, एअर इंडिया को सांसद से पहले माफी मांगनी चाहिए क्योंकि उसके स्टाफ ने ही पहले मिसबिहेव किया था। गायकवाड़ ने क्या किया है? एयरलाइन कंपनियां आपकी कुर्सी के पीछे क्या कर रही हैं, ये आपको देखना चाहिए। मैं इस मामले में ज्यादा कुछ नहीं कहूंगा क्योंकि हम लोकसभा स्पीकर से मिलने जा रहे हैं। - बता दें कि गायकवाड़ ने माफी मांगने से इनकार कर दिया है। टेररिस्ट, अंडरवर्ल्ड डॉन उड़ान भर सकते हैं, सांसद क्यों नहीं? - राउत ने पार्लियामेंट के बाहर रिपोर्टर्स से बातचीत में कहा, सांसद के खिलाफ एक FIR दर्ज कराई गई है, सांसद ने भी एक FIR दर्ज कराई है, जांच जारी है। - यह पूछने पर कि क्या गायकवाड़ पर बैन लगाना सही है, राउत ने कहा, उन्हें फ्लाई से बैन नहीं किया जाना चाहिए था, क्या वह आतंकवादी है। आतंकवादी, अंडरवर्ल्ड डॉन, करप्ट लोग आपकी एयरलाइंस में उड़ान भर सकते हैं, लेकिन एक सांसद जो कि एक आम आदमी है, वह उड़ान नहीं भर सकता। - एफआईआर दर्ज की जा चुकी है और जांच अभी पूरी नहीं हुई है। किसने क्या किया, यह जांच पूरी होने के बाद ही पता चलेगा। देश में अब तक तानाशाही शुरू नहीं हुई है, अगर एयरलाइंस ने किसी दबाव में यह काम किया है तो यह दबाव लंबे वक्त तक काम नहीं करने वाला। ट्रेन और कार से दिल्ली आ-जा रहे हैं गायकवाड़ - महाराष्ट्र के उस्मानाबाद से लोकसभा सांसद गायकवाड़ अब ट्रेन और कार से दिल्ली आ-जा रहे हैं। उन्होंने गायकवाड़ ने बुधवार को भी एअर इंडिया से टिकट बुक कराया था, लेकिन एयरलाइन ने उनका टिकट कैंसल कर दिया। - बुधवार को कुछ टीवी चैनल्स ने दिखाया कि गायकवाड़ का नाम मुंबई सेंट्रल रेलवे स्टेशन से नई दिल्ली जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस के चार्ट में था। वीडियो फुटेज में चार्ट में उनका नाम ए-3 कोच में दिखाया गया। - उधर, गायकवाड़ के करीबी सोर्स ने बताया, उन्होंने कार से दिल्ली जाने का फैसला किया है। कब-कब कैंसल किया गया टिकट? - 24 मार्च को भी गायकवाड़ ने दिल्ली से पुणे के लिए एअर इंडिया और इंडिगो से टिकट बुक की, लेकिन दोनों ने इसे कैंसल कर दिया था। - आज गायकवाड़ ने हैदराबाद से दिल्ली के लिए फ्लाइट AI 551 का टिकट बुक किया, लेकिन इसे कैंसल कर दिया गया। - उन्होंने बुधवार को भी 8 बजे सुबह मुंबई से दिल्ली के लिए AI 806 से टिकट बुक किया, लेकिन इसे भी AI ने कैंसल कर दिया। क्या है मामला? - शिवसेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ पर 23 मार्च को एअर इंडिया के स्टाफर से मारपीट करने और 25 बार सैंडिल मारने का आरोप है। गायकवाड़ (56) इस मामले में माफी नहीं मांगने पर अड़े हैं। गायकवाड़ ने पिछले दिनों मीडिया से कहा था, मैं माफी नहीं मांगूगा, गलती मेरी नहीं उनकी है। माफी उन्हें मांगनी चाहिए। क्या कहते हैं नियम? एयर एक्ट 1972 के चैप्टर-4 के तहत एयरलाइन्स किसी को भी टिकट देने से मना कर सकती है। इसके अलावा एयरक्राफ्ट रुल्स 1937 का नियम-22 और 23 गायकवाड़ पर रोक को सही ठहराता है। क्या होती है नो-फ्लाई लिस्ट? - दुनिया के कई देशों में यह सिस्टम है जिसमें बदसलूकी या हिंसा करने वाले एयर पैसेंजर्स को इस लिस्ट में डाल दिया जाता है। इस लिस्ट में आने के ये मायने हैं कि आप दोबारा उस एयरलाइन से ट्रैवल नहीं कर सकते। यह बैन आप पर हमेशा के लिए या कुछ साल या महीनों के लिए हो सकता है। यूएस में अगर कोई नो-फ्लाई लिस्ट में है तो उसके बारे में एयरलाइन्स को अपने आप अलर्ट कर दिया जाता है। - मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भारत में भी एविएशन मिनिस्ट्री पिछले कुछ समय से इस पर विचार कर रही है। यहां भी बदसलूकी करने वाले पैसेंजर्स पर कुछ महीनों या कुछ साल के लिए एयरलाइन में ट्रैवल करने पर बैन लगाया जा सकता है। हो सकती है 7 साल तक की सजा - शिवसेना सांसद के खिलाफ आईपीसी 308 और 355 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। - बता दें कि आईपीसी 308 (गैर-इरादतन हत्या की कोशिश है, यानी किसी शख्स पर हमला करने से उसकी जान को खतरा हो जाए, जबकि इरादा जान लेने का ना हो) इसमें 3 से 7 साल तक की सजा हो सकती है। जबकि आईपीसी 355 (बदसलूकी और बलपूर्वक हमला करना) में 2 साल की सजा हो सकती है।

शिवसेना MP गायकवाड़ कार से दिल्ली रवाना, AI ने दोबारा कैंसल किया टिकट

शिवसेना MP गायकवाड़ कार से दिल्ली रवाना, AI ने दोबारा कैंसल किया टिकट

Last Updated: March 30 2017, 13:04 PM

उस्मानाबाद. शिवसेना एमपी रवींद्र गायकवाड़ बुधवार को कार से दिल्ली के लिए रवाना हुए। गायकवाड़ दिल्ली में पार्लियामेंट सेशन में शामिल होने के लिए दिल्ली रवाना हुए। बता दें कि गायकवाड़ पर एअर इंडिया के स्टाफ से बदतमीजी और मारपीट का आरोप है। इसके बाद उन्हें AI समेद 6 एअरलाइंस ने नो फ्लाई लिस्ट में डाल दिया। गायकवाड़ ने बुधवार और गुरुवार को भी एअर इंडिया से टिकट बुक कराया, लेकिन दोनों बार एयरलाइन ने उनका टिकट कैंसिल कर दिया। राजधानी में भी था टिकट... - बुधवार को कुछ टीवी चैनल्स ने दिखाया कि गायकवाड़ का नाम मुंबई सेंट्रल रेलवे स्टेशन से नई दिल्ली जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस के चार्ट में भी था। वीडियो फुटेज में चार्ट में उनका नाम ए-3 कोच में दिखाया गया। - गायकवाड़ के करीबी सोर्स ने न्यूज एजेंसी को बताया, उन्होंने कार से दिल्ली जाने का फैसला किया है, वो गुरुवार को किसी भी वक्त दिल्ली पहुंच सकते हैं। हालांकि, वो आज होने वाली संसद की कार्यवाही में हिस्सा नहीं ले पाएंगे। - अगर शिवसेना के आला नेताओं ने इजाजत दी तो गायकवाड़ कल होने वाली संसद की कार्यवाही में हिस्सा ले सकते हैं। कब-कब टिकट किया गया कैंसिल - 24 मार्च को भी गायकवाड़ ने दिल्ली से पुणे के लिए एअर इंडिया और इंडिगो से टिकट बुक की, लेकिन दोनों ने इसे कैंसल कर दिया था। - आज गायकवाड़ ने हैदराबाद से दिल्ली के लिए फ्लाइट AI 551 का टिकट बुक किया, लेकिन इसे कैंसल कर दिया गया। - उन्होंने बुधवार को भी 8 बजे सुबह मुंबई से दिल्ली के लिए AI 806 से टिकट बुक किया, लेकिन इसे भी AI ने कैंसल कर दिया। शिवसेना ने किया था गायकवाड़ का बचाव... - शिवसेना ने यह मुद्दा सोमवार को लोकसभा में उठाया था। कहा, कपिल शर्मा (कॉमेडियन) ने फ्लाइट में नशे में बदसलूकी की थी, लेकिन उन पर बैन नहीं लगा, तो हमारे सांसद पर बैन क्यों लगाया गया? एयरलाइन्स का सांसद पर बैन गलत है। - हालांकि सरकार ने बैन हटाने को लेकर कोई पॉजिटिव रिस्पॉन्स नहीं दिया। सिविल एविएशन मिनिस्टर अशोक गजपति राजू ने कहा, नियम सबके लिए बराबर है। DGCA ने सेफ्टी गाइडलाइंस के मुताबिक कदम उठाया है। सांसद पर बैन संविधान के खिलाफ: शिवसेना - शिवसेना सांसद आनंदराव अडसूल ने एयरलाइन्स द्वारा गायकवाड़ को बैन करने का मामला लोकसभा में उठाया था। उन्होंने कहा, एयरलाइन्स का सांसद पर बैन लगाना गलत है। यह संविधान और कानून के खिलाफ है और सरकार को इसमें तुरंत हस्तक्षेप करना चाहिए। - शिवसेना स्पोक्सपर्सन मनीषा कायंदे ने कहा था, एअर इंडिया के बाद 4 और एयरलाइन्स का गायकवाड़ को नो-फ्लाई लिस्ट में डालने का फैसला बेतुका है, वह क्रिमिनल नहीं हैं। क्या है मामला? - शिवसेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ पर 23 मार्च को एअर इंडिया के स्टाफर से मारपीट करने और 25 बार सैंडिल मारने का आरोप है। गायकवाड़ (56) इस मामले में माफी नहीं मांगने पर अड़े हैं। गायकवाड़ ने पिछले दिनों मीडिया से कहा था, मैं माफी नहीं मांगूगा, गलती मेरी नहीं उनकी है। माफी उन्हें मांगनी चाहिए। क्या कहते हैं नियम? एयर एक्ट 1972 के चैप्टर-4 के तहत एयरलाइन्स किसी को भी टिकट देने से मना कर सकती है। इसके अलावा एयरक्राफ्ट रुल्स 1937 का नियम-22 और 23 गायकवाड़ पर रोक को सही ठहराता है। क्या होती है नो-फ्लाई लिस्ट? - दुनिया के कई देशों में यह सिस्टम है जिसमें बदसलूकी या हिंसा करने वाले एयर पैसेंजर्स को इस लिस्ट में डाल दिया जाता है। इस लिस्ट में आने के ये मायने हैं कि आप दोबारा उस एयरलाइन से ट्रैवल नहीं कर सकते। यह बैन आप पर हमेशा के लिए या कुछ साल या महीनों के लिए हो सकता है। यूएस में अगर कोई नो-फ्लाई लिस्ट में है तो उसके बारे में एयरलाइन्स को अपने आप अलर्ट कर दिया जाता है। - मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भारत में भी एविएशन मिनिस्ट्री पिछले कुछ समय से इस पर विचार कर रही है। यहां भी बदसलूकी करने वाले पैसेंजर्स पर कुछ महीनों या कुछ साल के लिए एयरलाइन में ट्रैवल करने पर बैन लगाया जा सकता है। हो सकती है 7 साल तक की सजा - शिवसेना सांसद के खिलाफ आईपीसी 308 और 355 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। - बता दें कि आईपीसी 308 (गैर-इरादतन हत्या की कोशिश है, यानी किसी शख्स पर हमला करने से उसकी जान को खतरा हो जाए, जबकि इरादा जान लेने का ना हो) इसमें 3 से 7 साल तक की सजा हो सकती है। जबकि आईपीसी 355 (बदसलूकी और बलपूर्वक हमला करना) में 2 साल की सजा हो सकती है। आगे की स्लाइड में देखिए- गायकवाड़ की कार से दिल्ली यात्रा कार्टूनिस्ट की नजर से....

शिवसेना MP ने फिर बुक किया एअर इंडिया का टिकट; एयरलाइन ने कैंसल किया

शिवसेना MP ने फिर बुक किया एअर इंडिया का टिकट; एयरलाइन ने कैंसल किया

Last Updated: March 28 2017, 18:28 PM

नई दिल्ली. शिवसेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ ने एक बार फिर मुंबई से दिल्ली के लिए एअर इंडिया का टिकट बुक किया, लेकिन AI ने ये टिकट कैंसिल कर दिया। बता दें कि रवींद्र गायकवाड़ ने एअर इंडिया इम्प्लॉई के साथ मारपीट की थी और माफी मांगने से भी इनकार कर दिया था। एअर इंडिया समेत 6 एयरलाइन्स ने शिवसेना सांसद को नो फ्लाई लिस्ट में डाल दिया है। 24 मार्च को भी गायकवाड़ ने दिल्ली से पुणे के लिए एअर इंडिया और इंडिगो से टिकट बुक की, लेकिन दोनों ने इसे कैंसल कर दिया था। शिवसेना ने किया था गायकवाड़ का बचाव... - शिवसेना ने यह मुद्दा सोमवार को लोकसभा में उठाया था। कहा, कपिल शर्मा (कॉमेडियन) ने फ्लाइट में नशे में बदसलूकी की थी, लेकिन उन पर बैन नहीं लगा, तो हमारे सांसद पर बैन क्यों लगाया गया? एयरलाइन्स का सांसद पर बैन गलत है। - हालांकि सरकार ने बैन हटाने को लेकर कोई पॉजिटिव रिस्पॉन्स नहीं दिया। सिविल एविएशन मिनिस्टर अशोक गजपति राजू ने कहा, नियम सबके लिए बराबर है। DGCA ने सेफ्टी गाइडलाइंस के मुताबिक कदम उठाया है। सांसद पर बैन संविधान के खिलाफ: शिवसेना - शिवसेना सांसद आनंदराव अडसूल ने एयरलाइन्स द्वारा गायकवाड़ को बैन करने का मामला लोकसभा में उठाया। उन्होंने स्पीकर सुमित्रा महाजन से कहा, हमें उम्मीद है कि आप यह मुद्दा सरकार के साथ उठाएंगी। अडसूल ने यह भी कहा, एयरलाइन्स का सांसद पर बैन लगाना गलत है। यह संविधान और कानून के खिलाफ है और सरकार को इसमें तुरंत हस्तक्षेप करना चाहिए। अडसूल ने सांसदों के विशेषाधिकारों का भी हवाला दिया। - शिवसेना स्पोक्सपर्सन मनीषा कायंदे बोलीं, एअर इंडिया के बाद 4 और एयरलाइन्स का गायकवाड़ को नो-फ्लाई लिस्ट में डालने का फैसला बेतुका है, वह क्रिमिनल नहीं हैं। क्या है मामला? - शिवसेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ पर 23 मार्च को एअर इंडिया के स्टाफर से मारपीट करने और 25 बार सैंडिल मारने का आरोप है। गायकवाड़ (56) इस मामले में माफी नहीं मांगने पर अड़े हैं। गायकवाड़ ने पिछले दिनों मीडिया से कहा था, मैं माफी नहीं मांगूगा, गलती मेरी नहीं उनकी है। माफी उन्हें मांगनी चाहिए। क्या कहते हैं नियम? एयर एक्ट 1972 के चैप्टर-4 के तहत एयरलाइन्स किसी को भी टिकट देने से मना कर सकती है। इसके अलावा एयरक्राफ्ट रुल्स 1937 का नियम-22 और 23 गायकवाड़ पर रोक को सही ठहराता है। क्या होती है नो-फ्लाई लिस्ट? - दुनिया के कई देशों में यह सिस्टम है जिसमें बदसलूकी या हिंसा करने वाले एयर पैसेंजर्स को इस लिस्ट में डाल दिया जाता है। इस लिस्ट में आने के ये मायने हैं कि आप दोबारा उस एयरलाइन से ट्रैवल नहीं कर सकते। यह बैन आप पर हमेशा के लिए या कुछ साल या महीनों के लिए हो सकता है। यूएस में अगर कोई नो-फ्लाई लिस्ट में है तो उसके बारे में एयरलाइन्स को अपने आप अलर्ट कर दिया जाता है। - मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भारत में भी एविएशन मिनिस्ट्री पिछले कुछ समय से इस पर विचार कर रही है। यहां भी बदसलूकी करने वाले पैसेंजर्स पर कुछ महीनों या कुछ साल के लिए एयरलाइन में ट्रैवल करने पर बैन लगाया जा सकता है। हो सकती है 7 साल तक की सजा - शिवसेना सांसद के खिलाफ आईपीसी 308 और 355 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। - बता दें कि आईपीसी 308 (गैर-इरादतन हत्या की कोशिश है, यानी किसी शख्स पर हमला करने से उसकी जान को खतरा हो जाए, जबकि इरादा जान लेने का ना हो) इसमें 3 से 7 साल तक की सजा हो सकती है। जबकि आईपीसी 355 (बदसलूकी और बलपूर्वक हमला करना) में 2 साल की सजा हो सकती है।

जारी रह सकता है शिवसेना MP पर बैन, सरकार बोली- सभी के लिए नियम बराबर

जारी रह सकता है शिवसेना MP पर बैन, सरकार बोली- सभी के लिए नियम बराबर

Last Updated: March 27 2017, 19:58 PM

नई दिल्ली. शिवसेना ने एअर इंडिया के इम्प्लॉई को पीटने वाले अपने सांसद रवींद्र गायकवाड़ का बचाव किया है। पार्टी ने यह मुद्दा सोमवार को लोकसभा में उठाया। कहा, कपिल शर्मा (कॉमेडियन) ने फ्लाइट में नशे में बदसलूकी की थी, लेकिन उन पर बैन नहीं लगा, तो हमारे सांसद पर बैन क्यों लगाया गया? एयरलाइन्स का सांसद पर बैन गलत है। हालांकि सरकार ने बैन हटाने को लेकर कोई पॉजिटिव रिस्पॉन्स नहीं दिया। सिविल एविएशन मिनिस्टर अशोक गजपति राजू ने कहा, नियम सबके लिए बराबर है। DGCA ने सेफ्टी गाइडलाइंस के मुताबिक कदम उठाया है। बता दें कि एअर इंडिया समेत 6 एयरलाइन्स ने शिवसेना सांसद को नो फ्लाई लिस्ट में डाल दिया है। बैन संविधान और कानून के खिलाफ: शिवसेना... - शिवसेना सांसद आनंदराव अडसूल ने एयरलाइन्स द्वारा गायकवाड़ को बैन करने का मामला लोकसभा में उठाया। उन्होंने स्पीकर सुमित्रा महाजन से कहा, हमें उम्मीद है कि आप यह मुद्दा सरकार के साथ उठाएंगी। अडसूल ने यह भी कहा, एयरलाइन्स का सांसद पर बैन लगाना गलत है। यह संविधान और कानून के खिलाफ है और सरकार को इसमें तुरंत हस्तक्षेप करना चाहिए। अडसूल ने सांसदों के विशेषाधिकारों का भी हवाला दिया। - शिवसेना स्पोक्सपर्सन मनीषा कायंदे बोलीं, एअर इंडिया के बाद 4 और एयरलाइन्स का गायकवाड़ को नो-फ्लाई लिस्ट में डालने का फैसला बेतुका है, वह क्रिमिनल नहीं हैं। सपा भी शिवसेना के सपोर्ट में - इस मामले में सपा भी शिवसेना के सपोर्ट में नजर आई। राज्यसभा में सपा सांसद नरेश अग्रवाल ने कहा, एयरलाइन्स द्वारा गायकवाड़ को बैन करना दादागिरी है। क्या अपनी ड्यूटी के लिए ट्रेवल कर रहे सांसद को कोई एयरलाइन बैन कर सकती है? सही मैसेज नहीं गया: स्पीकर - लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने कहा, इस मामले से सही मैसेज नहीं गया है। उम्मीद है कि बातचीत से मामले का हल निकल आएगा, किससे गलती हुई, क्या हुआ वो अलग बात है, सांसद को सदन में आना होता है, हर बार ट्रेन से नहीं, कभी प्लेन से भी आना होता है। कपिल शर्मा ने क्या किया था? - आरोप है कि पिछले दिनों जब कपिल शर्मा ऑस्ट्रेलिया से मुंबई लौट रहे थे, तब फ्लाइट में उन्होंने कलीग सुनील ग्रोवर के साथ झगड़ा किया था। वे सुनील को गालियों पर गालियां दिए जा रहे थे। बताया जा रहा है कि एअर इंडिया कपिल के खिलाफ वॉर्निंग जारी सकता है। सिविल एविएशन मिनिस्टर ने और क्या कहा? - सिविल एविएशन मिनिस्टर गजपति राजू ने लोकसभा में कहा, हमारे देश में सेफ्टी के अच्छे नियम हैं, लेकिन मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि कोई सांसद कभी इस तरह की घटना में फंसेगा। किसी भी तरह की हिंसा एयरलाइन्स के लिए डिजास्टर साबित हो सकती है। नियम सभी के लिए बराबर हैं। - राजू ने पिछले साल हुई एक घटना का जिक्र करते हुए कहा कि उस मामले में DGCA ने सेफ्टी गाइडलाइंस के मुताबिक कदम उठाया था। गायकवाड़ के मामले में भी वही गाइडलाइंस लागू की गई है। कपिल शर्मा का जिक्र होने पर राजू ने कहा कि हम अनइक्वल अप्रोच नहीं रखते, उस बारे में डिटेल से कोई जानकारी नहीं है। शिवसेना का बंद - शिवसेना ने अपने सांसद के सपोर्ट में महाराष्ट्र के उस्मानाबाद में बंद का भी एलान किया। गायकवाड़ उस्मानाबाद से ही सांसद हैं। सोमवार को उस्मानाबाद में सभी दुकानें बंद रहीं। पार्टी वर्कर्स ने उमरगा में गायकवाड़ के सपोर्ट में बाइक रैली निकाली। क्या है मामला? - शिवसेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ पर 23 मार्च को एअर इंडिया के स्टाफर से मारपीट करने और 25 बार सैंडिल मारने का आरोप है। गायकवाड़ (56) इस मामले में माफी नहीं मांगने पर अड़े हैं। गायकवाड़ ने पिछले दिनों मीडिया से कहा था, मैं माफी नहीं मांगूगा, गलती मेरी नहीं उनकी है। माफी उन्हें मांगनी चाहिए। क्या कहते हैं नियम? एयर एक्ट 1972 के चैप्टर-4 के तहत एयरलाइन्स किसी को भी टिकट देने से मना कर सकती है। इसके अलावा एयरक्राफ्ट रुल्स 1937 का नियम-22 और 23 गायकवाड़ पर रोक को सही ठहराता है। क्या होती है नो-फ्लाई लिस्ट? - दुनिया के कई देशों में यह सिस्टम है जिसमें बदसलूकी या हिंसा करने वाले एयर पैसेंजर्स को इस लिस्ट में डाल दिया जाता है। इस लिस्ट में आने के ये मायने हैं कि आप दोबारा उस एयरलाइन से ट्रैवल नहीं कर सकते। यह बैन आप पर हमेशा के लिए या कुछ साल या महीनों के लिए हो सकता है। यूएस में अगर कोई नो-फ्लाई लिस्ट में है तो उसके बारे में एयरलाइन्स को अपने आप अलर्ट कर दिया जाता है। - मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भारत में भी एविएशन मिनिस्ट्री पिछले कुछ समय से इस पर विचार कर रही है। यहां भी बदसलूकी करने वाले पैसेंजर्स पर कुछ महीनों या कुछ साल के लिए एयरलाइन में ट्रैवल करने पर बैन लगाया जा सकता है। हो सकती है 7 साल तक की सजा - शिवसेना सांसद के खिलाफ आईपीसी 308 और 355 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। - बता दें कि आईपीसी 308 (गैर-इरादतन हत्या की कोशिश है, यानी किसी शख्स पर हमला करने से उसकी जान को खतरा हो जाए, जबकि इरादा जान लेने का ना हो) इसमें 3 से 7 साल तक की सजा हो सकती है। जबकि आईपीसी 355 (बदसलूकी और बलपूर्वक हमला करना) में 2 साल की सजा हो सकती है। आगे की स्लाइड्स में पढ़ें, 7 महीने में ऐसे 53 मामले सामने आए...

Flicker