• देखिये ट्रेनडिंग न्यूज़ अलर्टस

उत्तर प्रदेश में योगीराज

उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव 2017 चुनाव के नतीजों में BJP को मिला भारी बहुमत और सीएम बने योगी आदित्यानाथ: अब जानिए योगी कैसे ले रहे हैं एक-एक एक्शन: हर ख़बर दैनिक भास्कर के इस पेज पर |

  • एक ट्वीट से चर्चा में ये IPS, ब्लैकमेल करते हुए पत्नी बोली- 10 Cr. दो
    Last Updated: March 23 2017, 12:48 PM

    लखनऊ. यूपी पुलिस ने आईपीएस हिमांशु कुमार के खिलाफ जांच के आदेश दिए हैं। हिमांशु ने बुधवार को सोशल मीडिया के जरिए DGP ऑफिस पर कास्ट के आधार पर भेदभाव करने के संगीन आरोप लगाए। बता दें कि हिमांशु पर दहेज उत्पीड़न का मामला भी दर्ज है। IPS ने ट्वीट कर बताया है कि उसकी पत्नी 10 करोड़ रुपए के लिए उसे ब्लैकमेल कर रही है। यादव सरनेम वालों को सस्पेंड करो... - 2010 बैच के IPS हिमांशु कुमार ने बिसरख, नोएडा में पत्नी के खिलाफ चल रहे केस से रिलेटेड FIR दर्ज करवाई थी। - हिमांशु ने बुधवार को नोएडा डीजीपी पर भेदभाव का आरोप लगाते हुए ट्वीट किया, डीजीपी ने मेरी FIR की सही ढंग से इन्वेस्टिगेशन क्यों नहीं होने दी? - उन्होंने बुधवार सुबह 11.48 बजे ट्वीट किया था, क्यों डीजीपी ऑफिस अफसरों को लोगों की जात के आधार पर सजा देने के लिए फोर्स कर रहा है? - हिमांशु ने आरोप लगाया था कि अब सीनियर अफसर यादव सरनेम वाले पुलिसकर्मियों को सस्पेंड करने या उन्हें रिजर्व लाइन्स में ट्रांसफर करने में जुट गए हैं। - हिमांशु ने अपनी कुछ ट्वीट्स में CM आदित्यनाथ योगी को भी टैग किया है। आगे की स्लाइड्स में पढ़ें, पत्नी मांग रही है 10 करोड़ का हर्जाना...

  • योगी आदित्यनाथ के मठ में हैं 'राम-रहीम' की दुकानें,यहां कभी नहीं लगता ताला
    Last Updated: March 23 2017, 16:13 PM

    गोरखपुर. सीएम योगी आदित्यनाथ के मठ गोरक्षनाथ में राम और रहीम का सम्मान बराबर होता है। इनमें आपस में कोई विवाद नहीं होता और यदि कोई समस्या इनके पास आ भी गई तो उसका निपटारा ऑन द टाइम योगी के दरबार में हो जाता है। मंदिर परिसर में वर्तमान में 100 से अधिक दुकानें हैं। इनमें से तकरीबन 11 दुकानें मुस्लिम की हैं। यहां 10 साल से ऊपर से दुकान लगाने वाले कुछ दुकानदारों से dainikbhaskar.com ने बातचीत की। 6th स्लाइड में देखें VIDEO... मेरा स्थान नहीं होता कभी दूसरे को एलाट - मंदिर में दुकान लगाने वाले रसूलपुर निवासी मोहम्मद मुस्तकीम कहते हैं कि वे 35 साल से यहां दुकान लगा रहे हैं। उनके साथ कभी कोई भेदभाव नहीं हुआ। - छोटे महराज जी (योगी आदित्यनाथ) सुबह 5 से 7 बजे के बीच साफ-सफाई व्यवस्था देखने आते हैं तो वे उनका हालचाल भी ले लेते हैं। - उन्होंने बताया कि हम कभी ताला नहीं लगाते। फिर भी कोई सामान कभी चोरी नहीं हुआ। - छोटे महराज के सीएम बनने से हमें खुशी है, मन कर रहा है कि वे कितनी जल्दी आते और उन्हें हम देख लेते। आगे की स्लाइड्स में पढ़ें क्या बोले मुस्लिम दुकानदार...

  • किसान से लेकर आर्मी मैन तक, ऐसी है CM योगी की फैमिली-PHOTOS
    Last Updated: March 23 2017, 09:51 AM

    लखनऊ. गोरखपुर से 5 बार सांसद रहे योगी आदित्यनाथ यूपी के 32वें सीएम चुने गए हैं। वो मूलत: उत्तराखंड के गढ़वाल के रहने वाले हैं। 22 साल की उम्र में ही घर छोड़कर वो संन्यास लेने के लिए गोरखपुर आ गए थे। dainikbhaskar.com अपने रीडर्स को योगी की कुछ रेयर फोटोज के साथ फैमिली ट्री बताने जा रहा है। कोई है आर्मी में तो कोई करता है किसानी... - योगी के पिता आनंद सिंह बिस्ट उत्तराखंड गढ़वाल में किसानी करते हैं। मां सावित्री देवी हाउस वाइफ हैं। - सीएम के बड़े भाई मानेंद्र सिंह बिस्ट किसानी करते हैं। - दो भाई योगी से छोटे हैं। इनमें से बड़े शैलेंद्र मोहन बिस्ट आर्मी में हैं और छोटे महेंद्र सिंह बिस्ट पत्रकारिता करते हैं। योगी ने 22 साल की उम्र में छोड़ दिया था घर - आदित्यनाथ ने 22 साल की उम्र में ही परिवार छोड़ दिया था और गोरखपुर आ गए थे। - उन्होंने सांसारिक जीवन त्यागकर संन्यास ग्रहण कर लिया। - 1994 की फरवरी में नाथपंथ के विश्व प्रसिद्धमठ गोरक्षनाथ मंदिर गोरखपुर में महंत अवैद्यनाथ ने अपने उत्तराधिकारी योगी आदित्यनाथ का दीक्षाभिषेक किया। अजय सिंह से योगी आदित्यनाथ तक का सफर - 5 जून, 1972 को उत्तराखंड के गढ़वाल में राजपूत बिष्ट परिवार में पैदा हुए योगी आदित्यनाथ का पहले नाम अजय सिंह बिष्ट था। - लेकिन नाथ संपद्राय में दीक्षित होने और सन्यास लेने के बाद उनका नाम योगी आदित्यनाथ हो गया। आगे की स्लाइड्स में इन्फोग्राफिक की मदद से जानें योगी की फैमिली ट्री...

  • CM बने योगी तो कैफ ने किया कमेंट, सोशल मीडिया पर मिले ऐसे जवाब
    Last Updated: March 22 2017, 12:37 PM

    इलाहाबाद. योगी आदित्यनाथ के यूपी सीएम बनाए जाने पर कांग्रेस नेता और पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद कैफ ने बधाई दी। कैफ ने अपने फैन्स को योगी की तरफ पॉजिटिव एटीट्यूड रखने की सलाह भी दी। उनके इस मैसेज पर लोगों ने मिलेजुले रिएक्शन दिए हैं। कुछ ने कैफ की तारीफ की तो कुछ ने इसे मक्खनबाजी करार दिया। जानें कैफ ने किया क्या मैसेज... कैफ ने ट्विटर पर लिखा है... सभी की अपनी राय होती है, लेकिन अटकलें लगाने से बेहतर है कि हम नई सरकार को देश की प्रोग्रेस के लिए गुड लक विश करें। मैं योगी आदित्यनाथ जी को यूपी को डेवलपमेंट की राह पर ले जाने और जनता को बेहतर कल देने की शुभकामनाएं देता हूं। ऐसे आए कमेंट्स #Devi Prasad Mishra‏ @mishraji1956 - sir इसे कहते हैं टीम स्पिरिट, आइए साथ मिलकर नया इंडिया बनाएं। #Md Danish Haider‏ @786danishhaider - आप से ऐसी उम्मीद नहीं थी भाईजान। सत्ताधारी लोगों को मक्खन लगाना बंद करो। #Vaishakh Singh‏ @ImVaishakh2 - सच्ची-सच्ची बताना... आपने संघ परिवार ज्वाइन कर लिया क्या? आगे की स्लाइड्स में देखें और कमेंट्स...

  • पीठाधीश्वर की भूमिका निभाने CM बनने के बाद पहली बार 25 मार्च को गोरखपुर जाएंगे योगी
    Last Updated: March 22 2017, 16:04 PM

    गोरखपुर. सीएम का ताज पहनने के बाद महंत योगी आदित्यनाथ पहली बार 25 मार्च 2017 को गोरखपुर पहुंचेंगे। सीएम 26 मार्च को योगीराज बाबा गंभीरनाथ की पुण्यतिथि शताब्दी वर्ष समारोह के समापन के कार्यक्रम में शामिल होकर पीठाधीश्वर की भूमिका का निर्वहन करेंगे। हालांकि इसकी अभी तक अधिकारिक रूप से कोई घोषणा नहीं हुई है। लेकिन सीएम के आगमन को लेकर मंदिर परिसर को सजाया जा रहा है और सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम भी किए जा रहे हैं। रात मंदिर में ही रुकेंगे योगी... - गोरखपुर के महाराणा प्रताप डिग्री कॉलेज के प्राचार्य डॉ. प्रदीप राव ने बताया कि सीएम के गोरखपुर में अन्य कार्यक्रमों का अभी मिनट-टू-मिनट प्रोग्राम नहीं मिला है। - उनके 25 मार्च की शाम को गोरखपुर पहुंचने की उम्मीद है। वे रात यहीं रुकेंगे और दूसरे दिन बाबा गंभीरनाथ की पुण्यतिथि शताब्दी वर्ष समापन समारोह में पीठाधश्वर की भूमिका में रहेंगे। मंदिर की बढ़ी सुरक्षा - मंदिर की सुरक्षा में पहले एक इंस्पेक्टर, पांच सब इंस्पेक्टर, 13 दीवान और 70 सिपाही तैनात होते थे। - ये सुरक्षा अब बढ़ा दी गई है। मंदिर में अब 4 सीओ, 12 इंस्पेक्टर, 50 सब इन्सपेक्टर, 300 सिपाही, दो सेक्शन पीएसी, डॉग स्क्वायड, बम निरोधी दस्ता, फायर ब्रिगेड भी लगा दी गई है। - योगी आदित्यनाथ को सांसद के तौर पर पहले से ही वाई श्रेणी की सुरक्षा मिली हुई है। - इसके तहत CISF के दो ऑफिसर, 11 जवान 5 एमपी गन के साथ रहते हैं। अब वो सीएम हैं। दूसरे जिलों से मांगी गई फोर्स - सीएम बनने के बाद योगी आदित्यनाथ के गोरखपुर आने के मद्देनजर दूसरे जिलों से पहले ही फोर्स की मांग एसएसपी रामलाल वर्मा ने की है। - आईजी जोन मोहित अग्रवाल गोरखनाथ मंदिर का निरीक्षण भी कर चुके हैं। सीएम की फ्लीट के लिए 16 गाड़ियां भी तैयार हैं, जिनकी जांच हो चुकी है। - माना जा रहा है कि एअरपोर्ट से सीएम सड़क मार्ग से गोरखनाथ मंदिर पहुंचेंगे। इसके लिए अतिक्रमण हटाने के लिए नगर निगम को पहले ही नोटिस दिया जा चुका है।

  • योगी की 400 गायों की देखभाल करता है ये मुस्लिम शख्स, बताईं ये बातें
    Last Updated: March 23 2017, 09:51 AM

    गोरखपुर. यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के गौशाला सेवा केंद्र की गाएं बेहद लाजवाब हैं। इनकी संख्या जो 400 की तादात में है। जितना सीएम इन्हें मानते हैं, उतना ही ये गाय भी उनके करीब है। आपको जानकार ताज्जुब होगा कि सीएम की इन चहेती गायों की देखभाल मान मोहम्मद अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर करते हैं। बताई ये बातें... - गोरखपुर में स्थित गोरक्षनाथ मंदिर के अंदर मुख्य मंदिर के ठीक पीछे ये गौशाला सेवा केंद्र स्थित है। - मान मोहम्मद ने बताया कि यहां मौजूद गायों में देशी, हरियाणा, साहिवाल और गुजरात की गिरि नस्ल की गाय और सांड हैं। - योगी से सांसद फिर महंत और अब यूपी के सीएम बने आदित्यनाथ गोरखपुर में रहने के दौरान खुद सुबह-शाम इनके बीच एक घंटे तक रहकर इन्हें गुड़, बिस्किट और चारा खिलाते हैं। - इसके बाद गौशाला के प्रबंधक शिव यादव की देखरेख में मान मोहम्मद उनके पिता इनयतुल्लाह, विजय, पिंटू, सीताराम और सुरेन्द्र इन गायों की सेवा करते हैं। 50 गाय देती हैं दूध - सुरेंद्र राय ने बताया कि वर्तमान में इनमें से तकरीबन 50 की संख्या में गाय दूध देने वाली हैं। इनसे प्रतिदिन भंडारी के मुताबिक, दूध तकरीबन 50 से 60 लीटर तक निकाला जाता है। - दूध कहीं बाहर बेचा नहीं जाता है। बल्कि उससे दही, घी और मट्ठा बनता है। मट्ठा योगी भवन में आने वाले हर आम-आ-खास को दिया जाता है। - इसके साथ ही पेड़ा और लड्डू प्रसाद स्वरूप मिलता है। शाम का दूध यहां रहने वाले साधु-सन्यासियों के लिए होता है। - उन्होंने बताया कि गायों के गोबर से जैविक खाद तैयार की जाती है। महीने में कभी 500 तो कभी 1000 बोरी खाद निकलती हैं। इसका इस्तेमाल गोरखनाथ मंदिर परिसर में लगे पेड़-पौधों में किया जाता हैं। योगी ही खिलाते हैं पहला निवाला - गायों की देखभाल करने वाले महराजगंज चौक के रहने वाले मान मोहम्मद के पिता इनायतुल्लाह बचपन से ही यहां गायों की देखभाल कर रहे हैं। - वे यहीं मंदिर में बने एक कमरे में परिवार के साथ पहले रहते थे। वे अब बुजुर्ग हो गए हैं इसलिए ज्यादा समय अपने गांव में बिताते हैं। - योगी जी द्वारा पहला निवाला खिलाए जाने के बाद हम अपने सभी साथियों के साथ मिलकर चारा खिलाने, दूध निकालने का कार्य करते हैं। गायों की सेवा करके मिलता है सुकून - मान मोहम्मद ने कहा कि हमें और हमारे परिवार को ये कार्य करके बहुत सुकून मिलता है। यहां कोई भी गाय दान दे सकता है और उनकी सेवा करने के लिए आ सकता है। - लॉ के स्टूडेंट पन्ना लाल शर्मा यहां हर रोज आकर गायों की सेवा करते हैं। उन्होंने बताया कि गाय बहुत शांत रहती है। कोई भी उनके पास आ-जा सकता है। - कार्तिक, प्रदीप कुमार मौर्य ने बताया कि दिन-भर गायों के साथ रहना नया अनुभव कराता है। आगे की स्लाइड्स में देखें रिलेटेड फोटोज...

  • 9 दिन तक भवन से नीचे नहीं आते हैं CM योगी, ये ड्रेस पहन करते हैं आरती
    Last Updated: March 24 2017, 08:51 AM

    गोरखपुर. सीएम गोरक्षपीठाधीश्वर महंत योगी आदित्यनाथ गोरक्षपीठ में अपने निवास भवन से साल में नौ दिन तक नीचे नहीं आते। वो दिन होता है शारदीय नवरात्र का नौ दिन। दसवें दिन योगी आदित्यनाथ भवन से नीचे आते हैं और गुरु गोरक्षनाथ की विशेष पोशाक में विशेष पूजा-अर्चना करते हैं। मंदिर के मुख्य पुजारी कमलनाथ बाबा ने dainikbhaskar.com से शारदीय और चैत्र के नवरात्र का योगी आदित्यनाथ का शेड्यूल शेयर किया। शारदीय नवरात्र में नौ दिन तक भवन से नहीं आते नीचे - योगी आदित्यनाथ शारदीय और चैत्र दोनों ही नवरात्र में नौ दिन तक व्रत रहते हैं। शारदीय नवरात्र (अकटूबर में पड़ने वाला) उनके लिए विशेष होता है। इसमें वे नौ दिन तक अपने निवास भवन गोरक्षपीठ से नीचे नहीं आते हैं। - वे नौ दिन तक व्रत रहकर पूजा-पाठ करते हैं। इस दौरान आचार्यों द्वारा मां शक्ति (दुर्गा) की विशेष पूजा सुबह-शाम होती है। - दोनों समय की विशेष आरती वो खुद योगी करते हैं। मां का मंदिर भवन के ऊपरी तल पर है। अष्टमी में होता है शस्त्र पूजन - कमलनाथ बाबा ने बताया कि योगी अष्टमी के दिन शस्त्र पूजन करते हैं। इसमें मंदिर से जुड़े कुछ खास लोग ही शामिल हो सकते हैं जो योगी के सेवक होते हैं। - नवमी के दिन योगी हवन-पूजन के बाद नौ कुवांरी कन्याओं और एक भैरव का पांव धोकर पूजन करते हैं, फिर उन्हें प्रेम से भोजन कराकर दक्षिणा देकर विदा करते हैं। आगे की स्लाइड्स में पढ़ें योगी कैसी ड्रेस में करते हैं पूजा...

  • बरेली के सरकारी ऑफिसों में जींस-टी शर्ट बैन, महिलाओं को साड़ी-सूट में आने का ऑर्डर
    Last Updated: March 23 2017, 20:44 PM

    बरेली. बरेली के डीएम सुरेंद्र सिंह ने गवर्नमेंट इम्प्लाईज के लिए एक ऑर्डर जारी किया है। इसके मुताबिक- पुरुष कर्मचारी जींस और टी शर्ट पहनकर ऑफिस नहीं आ सकेंगे। वहीं, महिलाओं को साड़ी और शूट में आने के लिए कहा गया है। ऑर्डर में कहा गया है कि अगर कोई इसको नजरअंदाज करेगा तो उसके खिलाफ सख्त काईवाई की जाएगी। ये है ऑर्डर में... - आदेश में लिखा है, समस्त अधिकारियों/कर्मचारियों को निर्देशित किया जाता है कि वह प्रत्येक कार्यालय दिवस में शालीन परिधान में ही कार्यालय आना सुनिश्चित करें।; - किसी भी अधिकारी/कर्मचारी का जींस अथवा टी-शर्ट पहन कर आना वर्जित होगा। आदेश का उल्लंघन करने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।; - शालीन परिधान का मतलब भी बताया गया है। पुरुषों को पैंट शर्ट जबकि महिलाओं को साड़ी या सूट पहनने के लिए कहा गया है। इम्प्लाॅईज नाखुश - डीएम के फरमान से कई कर्मचारी नाखुश भी हैं। एक कर्मचारी ने नाम ना बताने की शर्त पर कहा, इस देश में सभी को अधिकार है कि वो क्या पहनें? जो पसंद होगा वो वही पहनेगा। इस शख्स ने इसे अपने अधिकारों का हनन बताया। डीएम ने क्या कहा? - डीएम सुरेंद्र सिंह ने कहा, दफ्तरों में औपचारिक वेशभूषा पहनकर आने के निर्देश दिए हैं। जीन्स टी-शर्ट औपचारिक ड्रेस कोड में नहीं हैं। सभी विभागों के अधिकारी और कर्मचारियों को औपचारिक ड्रेस में आने को कहा है। - अधिकारियों ने इसपर अमल शुरू कर दिया है। ये आदर्श प्रशासन की शर्त में शामिल है।

  • योगी ने किया थाने का इंस्पेक्शन; यूपी में अबतक 100 से ज्यादा पुलिसवाले सस्पेंड
    Last Updated: March 23 2017, 18:52 PM

    लखनऊ. योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार सुबह राजधानी के हजरतगंज थाने का इंस्पेक्शन किया। योगी ने एक विंग से दूसरी विंग तक चेकिंग की। यहां योगी ने सीनियर पुलिस ऑफिसर्स से बातचीत भी की। साथ ही, यह समझने की कोशिश भी की कि डिपार्टमेंट काम कैसे करता है। जाते-जाते उन्होंने कहा कि यह उनका आखिरी दौरा नहीं है। सारे डिपार्टमेंट में दौरे किए जाएंगे। इसके बाद सीएम एनेक्सी के लिए रवाना हो गए। योगी के सीएम पोस्ट संभालने के बाद से अब तक 100 से ज्यादा पुलिसवालों को सस्पेंड किया गया है। उधर, एन्वायरन्मेंट मिनिस्टर उपेंद्र तिवारी ने गुरुवार को अपने ऑफिस में खुद ही झाड़ू लगाई। सीएम के पहुंचने से पहले हुई साफ-सफाई... - योगी ने सीएम बनते ही अफसरों और मंत्रियों को साफ-सफाई के ऑर्डर दिए हैं। जैसे ही हजरतगंज थाने को सीएम के पहुंचने की सूचना मिली, आनन-फानन में वहां साफ-सफाई कराई गई। - थाने के बाहर फर्श की धुलाई की गई और फाइलों से धूल हटाई गई। - इस दौरान सीएम के साथ डीजीपी जावीद अहमद, एसएसपी मंजिल सैनी समेत कई ऑफिसर्स मौजूद रहे। सस्पेंड पुलिसवालों को बताया दागी - यूपी पुलिस ने योगी के सीएम बनने के बाद से अब तक काम में ढिलाई बरतने वाले 100 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है। - न्यूज एजेंसी के मुताबिक डिपार्टमेंट केस्पोक्सपर्सन राहुल श्रीवास्तव ने बताया, डीजीपी जावीद अहमद के निर्देश पर 100 से ज्यादा पुलिसवालों को सस्पेंड किया गया है। इन पुलिसवालों की पहचान दागियों के रूप में हुई है और इनके खिलाफ एक्शन लिया जाएगा। - इन दागियों में ज्यादातर पुलिसवाले गाजियाबाद, मेरठ और नोएडा के हैं। लखनऊ में 7 इंस्पेक्टर्स को सस्पेंड किया गया है। एन्वायरन्मेंट मिनिस्टर ने दफ्तर में खुद लगाई झाड़ू - यूपी सरकार के मंत्रियों को बुधवार को मंत्रालय अलॉट कर दिए गए। इसके बाद सभी मंत्री अपने-अपने ऑफिस गुरुवार सुबह वक्त से पहले पहुंच गए। - एन्वायरन्मेंट मिनिस्टर उपेंद्र तिवारी अपने दफ्तर में गंदगी देख काफी नाराज हुए। उन्होंने अफसरों को ऑर्डर देने के पहले खुद ही झाड़ू उठा ली और रूम को साफ करने लगे। - उन्होंने यहां का हाल जाना और ऑफिस में फैसिलिटीज बढ़ाने के ऑर्डर दिए। साथ ही, दिनेश शर्मा ने सेक्रेटेरिएट के पब्लिक टॉयलेट्स की भी जांच की। सरकारी दफ्तरों में गुटखा-पान के इस्तेमाल पर रोक - बता दें कि सीएम बनने के बाद योगी आदित्यनाथ ने अफसरों के साथ पहली मीटिंग में ही उन्हें स्वच्छता शपथ दिलाई थी। इसके बाद उन्होंने बुधवार को सेक्रेटेरिएट का दौरा किया। - इसी के बाद उन्होंने सरकारी दफ्तरों में गुटखा-पान और प्लास्टिक के इस्तेमाल पर रोक लगाने का ऑर्डर दिया है। कौन हैं उपेंद्र तिवारी? - उपेंद्र तिवारी बलिया के फेफना विधानसभा सीट से विधायक हैं। - वे 2 बार इस सीट से जीत चुके हैं। दोनों ही बार उन्होंने सीनियर लीडर अंबिका चौधरी को हराया था। - यहां से चुनाव जीतने के बाद उन्हें योगी सरकार में राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार बनाया गया है।

  • राम मनोहर लोहिया की जयंती पर सीएम-राज्यपाल ने दी श्रद्धांजलि
    Last Updated: March 23 2017, 18:17 PM

    लखनऊ. समाजवादी चिंतक व स्वतंत्रता सेनानी डॉ. राममनोहर लोहिया की जयंती पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने उन्हें याद करते हुए ट्वीट किया। वहीं, राज्यपाल रामनाईक, सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव और पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने लोहिया पार्क जाकर उनकी मूर्व पर माल्यार्पण किया। योगी ने किया ट्वीट - सीएम योगी ने गुरुवार को अपने निजी ट्विटर हैंडल से डॉ. लोहिया की एक तस्वीर के साथ लिखा कि वो एक ओजस्वी वक्ता, महान स्वतंत्रता सेनानी, समाजवाद, एक वीर योद्धा, साहसी आलोचक, स्वतंत्र विचारक, मननशील व सर्वाधिक महान मानवतावादी थे। - इसके साथ ही उन्होंने ही शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को भी अपने ट्विटर हैंडल से श्रद्धांजलि अर्पित की। बता दें, 23 मार्च को शहीद-ए-आजम भगत सिंह के बलिदान दिवस के रूप में मनाया जाता है।

  • मेडिकल सेवाओं के लिए ये हैं मास्टर प्लान, स्वास्थ्य मंत्री ने किया एलान
    Last Updated: March 23 2017, 18:10 PM

    लखनऊ. यूपी में मंत्रियों को बुधवार को मंत्रालय अलॉट कर दिए गए। इसी कड़ी में स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने गुरुवार को विभाग के अफसरों को शपथ दिलवाई। साथ ही कहा कि एम्बुलेंस से समाजवादी शब्द हटा लिया जाएगा। पेशेंट को स्वास्थ्य संबंधी जानकारी पाने के लिए अब ज्यादा भटकना नहीं पड़ेगा। उन्हें एक क्लिक पर ही ट्रीटमेंट से संबंधित सभी इनफार्मेशन मुहैया कराई जाएगी। इसके लिए जल्द ही एक खास तरह का एप तैयार किया जाएगा। करप्शन के लिए नहीं होगी छूट... - स्वास्थ्य मंत्री के मुताबिक, उनकी सरकार पीएम मोदी के सबका साथ सबका विकास; नारे को ध्यान में रखते हुए काम कर रही है। - सरकार की ये प्रायोरिटी होगी कि सभी को एक सामान बेहतर ट्रीटमेंट मिले। इसके लिए जो भी जरुरी कदम होगा। - यूपी में स्वास्थ्य विभाग अभी तक भ्रष्टाचार के लिए सबसे ज्यादा जाना जाता है। एनआरएचएम घोटाले में कुछ मंत्री जेल भी जा चुके हैं, लेकिन बीजेपी की सरकार में भ्रष्टाचार की छूट नहीं होगी। फेक मेडिसिन रैकेट होंगे खत्म - उन्होंने कहा कि उनके पास इस बात की पक्की सूचना आई है कि प्रदेश में फेक मेडिसिन्स का काला कारोबार खूब फल-फुल रहा है। - ड्रग माफिया, हॉस्पिटल्स के अधिकारियों से सांठ-गाठ करके लोगों की सेहत से खिलवाड़ कर रहे हैं। इस रैकेट को अब खत्म किया जाएगा। - जानबूझकर गलती करने वाले को किसी भी कीमत पर बक्शा नहीं जाएगा। ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल से मनमानी वसूली पर लगेगी रोक - यूपी के सभी सरकारी हॉस्पिटल्स में पेशेंट के एक सामान ट्रीटमेंट और फीस के लिए ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल लागू किया जाएगा। साथ ही प्राइवेट हॉस्पिटल में भी लागू होगा। - कुछ हॉस्पिटल और पैथोलॉजी वाले टेस्ट ओर ट्रीटमेंट के नाम पर पेशेंट से मनमाना चार्ज वसूलते है। ऐसे लोगों को चिन्हित कर उनके खिलाफ एक्शन लिया जाएगा। ये होगी हेल्थ एप की क्वालिटी - सभी वर्गों को एक समान ट्रीटमेंट मिले, इस दिशा में काम चल रहा है। जल्द ही एक खास तरह का एप लांच किया जाएगा, जिसके जरिए 10 सीरियस डिजीज के बारे में जानकारी मुहैया कराई जाएगी। - इसके लिए जरुरी दिशा निर्देश जारी कर दिए गए हैं। साथ ही कहा कि इलेक्शन कमीशन के आदेश पर 108 और 102 एम्बुलेंस पर से समाजवादी नाम पहले ही हटाया जा चुका है। - इसके टेप लगाकर समाजवादी का नाम भी ढक दिया गया है। इसके नाम और रंग बदलने का फैसला सरकार को करना है। इस पर विचार किया जा रहा है। गोरखपुर को इन्सेफ्लाईटिस से मुक्त बनाने पर रहेगा जोर - गोरखपुर के लोगों के लिए इन्सेफ्लाईटिस एक बड़ी प्रोब्लम है। हर साल सैकड़ों बच्चों की मौते हो जाती है। - अब जबकि योगी आदित्यनाथ के हाथ में प्रदेश की कमान है। ऐसे में गोरखपुर को इससे मुक्त बनाने के लिए उनकी सरकार से जो कुछ भी भी बन पड़ेगा।

  • यहां हुआ BAR बालाओं का डांस, पैसे दिखा हुई पास आने की डिमांड-VIDEO
    Last Updated: March 23 2017, 17:27 PM

    इलाहाबाद. राजधानी में जब सीएम योगी आदित्यनाथ अपने मंत्रियों को डिपार्टमेंट बांट रहे थे, उसी टाइम इलाहाबाद में स्टेट एजुकेशन डायरेक्टरेट में अश्लील डांस हो रहा था। नजारा ऐसा था कि बार बालाओं का डांस देख रहे सरकारी कर्मचारी-अधिकारी पैसे दिखाकर बालाओं को अपने पास आने की डिमांड कर रहे थे। (2nd स्लाइड में देखें VIDEO) पढ़ें क्या है मामला... - बुधवार शाम 4 से 8 बजे के बीच यूपी एजिकेशन डायरेक्ट्रेट ने होली मिलन समारोह का आयोजन किया। - प्रोग्राम को अटैंड करने MLA हर्षवर्धन बाजपेई भी पहुंचे थे। हालांकि, वे डांस प्रोग्राम तक नहीं रुके और जल्दी ही निकल गए। - प्रोग्राम में अधिकारी शराब के नशे में चूर नजर आए। कर्मचारियों के हाथों में नोट थे जो वो बार बालाओं पर उड़ा रहे थे। - कैमरे में कैद हुए प्रोग्राम में एक अधिकारी बार बाला को नोट दिखाकर दूसरे अधिकारी के पास जाने का इशारा करता भी नजर आया। जवाब में बार बाला ने भी पास आने का भरोसा जताया। - ऑफिस कैंपस में अश्लीलता मचाने के बाद अब अधिकारी सफाई देते नजर आ रहे हैं। अगली स्लाइड में देखें डांस का वीडियो...

  • इस नेता ने मोदी से पूछा- सर आपने 'सिलसिला' देखी है, PM ने दिया ये जवाब
    Last Updated: March 23 2017, 17:22 PM

    लखनऊ. बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और पार्टी के जाने माने चेहरे सिद्धार्थ नाथ सिंह को भी योगी गर्वनमेंट में कैबिनेट मिनिस्टर का दर्जा मिला है। सिद्धार्थ वित्त मंत्री अरुण जेटली और पीएम नरेंद्र मोदी के करीबी माने जाते हैं। DainikBhaskar.com आपको सिद्धार्थ और पीएम मोदी से जुड़ा एक ऐसा किस्सा बता रहा है, जब सिद्धार्थ ने मोदी से पूछा था- सर, क्या आपने सिलसिला मूवी देखी है? पढ़ें, इस सवाल का पीएम ने क्या दिया था जवाब... - यह किस्सा 2007 गुजरात विधानसभा से जुड़ा हुआ है। उस समय गुजरात में मोदी की इमेज एक कट्टर हिंदू नेता के तौर पर बनी थी। - क्योंकि, 2002 में गुजरात में दंगे हुए थे, जिसके बाद मोदी को मीडिया में काफी आलोचना झेलनी पड़ी थी। - इतना ही नहीं, तात्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने नरेंद्र मोदी से राजधर्म निभाने की बात भी कही थी। - इसके बाद से 2007 के चुनाव को लेकर मोदी काफी परेशान थे। उन्हें समझ नहीं आ रहा था कि कैंपेन किस दिशा में की जाए। क्या कट्टर हिंदू नेता के तौर पर कैंपेन को आगे बढ़ाया जाए, या फिर इस इमेज को खत्म करने की कोशिश की जाए। - इसी बात को लेकर एक कमरे में चर्चा चल रही थी, जिसमें अरुण जेटली, सिद्धार्थ नाथ सिंह और गुजरात के दो बीजेपी नेता मौजूद थे। - इस मीटिंग में सबने मोदी को सलाह दी कि कैंपेनिंग में उनकी कट्टर नेता की छवि से नुकसान हो सकता है। इस लिए सब इस इमेज को खत्म करने की बात कह रहे थे। सिद्धार्थ ने मोदी पूछा- सर, क्या आपने सिलसिला मूवी देखी है? - अभी यह चर्चा चल ही रही थी कि बीच में सिद्धार्थ ने मोदी से कहा- सर मैं कुछ कहना चाहता हूं। - मोदी ने सिद्धार्थ से कहा- अच्छा तुम भी बताओ, क्या कहना है? - इसके बाद सिद्धार्थ ने मोदी से पूछा- सर, क्या आपने सिलसिला मूवी देखी है? - इतने हॉट टॉपिक के बीच इस तरह की बात सुन मोदी भड़क गए और बोले- ये कैसा सवाल है। - सिद्धार्थ बोले- सर मैं तो बस पूछ रहा हूं कि क्या आपने देखी है? मोदी ने कहा- हां, देखी है तो? सिद्धार्थ ने मोदी से बताया- क्यों फ्लॉप हुई थी सिलसिला - सिद्धार्थ ने आगे कहा- आप लोगों को पता होगा कि सिलसिला फ्लॉप हो गई थी। इसका सबसे बड़ा कारण ये था कि अमिताभ बच्चन की इमेज एंग्री यंग मैन की थी। लेकिन इस मूवी में उन्हें एक लवर बॉय के तौर पर दिखाया गया। जनता इस बात को पचा नहीं पाई और यह मूवी फ्लॉप हो गई। - सिद्धार्थ मोदी से- सर, इस कमरे में भी कुछ ऐसी ही बातें हो रही हैं। आपकी इमेज जो है, वो बेस्ट है। हमें चुनाव में इसे लेकर ही जाना चाहिए। - इस जवाब को सुन मोदी और कमरे में मौजूद लोगों ने यह डिसाइड किया कि मोदी की कट्टर नेता की इमेज ही बेस्ट है। - साथ ही मोदी को यह बात इतनी पसंद आई कि उन्होंने सिद्धार्थ नाथ सिंह को गुजरात चुनाव के मीडिया कैंपेनिंग का जिम्मा सौंप दिया। पूर्व पीएम लाल बहादुर शास्त्री के नाती हैं सिद्धार्थ - सिद्धार्थ नाथ सिंह पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के नाती हैं। वे इलाहाबाद पश्चिम विधानसभा सीट से विधायक चुने गए हैं। - सिद्धार्थ के अंकल चौधरी नौनिहाल सिंह इसी विधानसभा क्षेत्र से 3 बार विधायक रह चुके हैं। आगे की स्लाइड्स में देखें रिलेटेड फोटोज...

  • करोड़ों के बंगले में रहती है क्रिकेटर की ग्लैमरस वाइफ, कमाई है 4 लाख
    Last Updated: March 23 2017, 16:53 PM

    इलाहाबाद. क्रिकेटर से पॉलिटीशियन बने मोहम्मद कैफ योगी आदित्यनाथ के सीएम बनने पर किए ट्वीट के बाद चर्चा में हैं। संगम नगरी से 225 किमी बसे फूलपुर से 2014 में क्रिकेटर मोहम्मद कैफ ने इलेक्शन लड़ा था। अक्सर लोग क्रिकेटर्स की प्रॉपर्टी से जुड़ी बातों को इंटरनेट पर सर्च करते हैं। dainikbhaskar.com इलाहाबाद के इसी स्टार की प्रॉपर्टी से जुड़ी डीटेल्स अपने रीडर्स को बता रहा है। साल में कुल 4 लाख कमाती हैं कैफ की वाइफ... - मोहम्मद कैफ ने 2014 में 18.42 करोड़ रुपए की संपत्ति शो की थी। - तब तक कैफ आईपीएल से बाहर हो चुके थे। - इसके बावजूद उनकी सालाना कमाई 1 करोड़ रुपए से ज्यादा की थी। - कैफ ने अपनी इवेंट मैनेजर वाइफ पूजा यादव की ईयरली इनकम 4 लाख रुपए शो की थी। - एफिडेविट के मुताबिक कैफ और उनकी वाइफ पूजा के पास 28 लाख रुपए की ज्वैलरी है। - इसमें 2 डायमंड रिंग, डायमंड बैंगल और 3 गोल्ड चेन शामिल हैं। ऑडी से घूमते हैं कैफ, घर में हैं 5 Car - कैफ के कलेक्शन में 5 कारें शुमार हैं। - उन्होंने लास्ट कार ऑडी 2010 में खरीदी थी। इस कार कीमत 35.7 लाख रुपए है। - ऑडी के अलावा कैफ के पास हॉन्डा सीआरवी, हॉन्डा सिटी, टोयोटा और मटीज कार हैं। - कैफ की सभी कारों की कीमत 57.6 लाख रुपए है। 4 साल की डेटिंग के बाद की थी शादी - मोहम्मद कैफ ने 2011 में दिल्ली के रिटायर्ड नेवी अफसर की बेटी पूजा यादव से शादी की थी। - दोनों की मुलाकात एक कॉमन फ्रेंड के जरिए हुई थी। - 4 साल की डेटिंग के बाद कैफ ने पूजा को अपना हमसफर बनाया था। - दोनों ने 26 मार्च 2011 को दिल्ली में शादी की थी। - कैफ ने पूजा के नाम महज 95.7 लाख रुपए की संपत्ति शो की थी। - वहीं खुद के नाम उन्होंने 17.5 करोड़ की संपत्ति दिखाई थी। आगे की स्लाइड्स में देखिए कितने अमीर हैं पूजा और मोहम्मद कैफ...

  • ये है योगी की चहेती गाय, जीभ से यूं खोल देती है गेट की कुंडी
    Last Updated: March 23 2017, 09:51 AM

    गोरखपुर. यूपी के गोरखपुर में गोरक्षनाथ मंदिर में रह रही सीएम योगी आदित्यनाथ की गाय और सांड कोई मामूली नहीं हैं। योगी की तरह ही इनमें भी एक से बढ़कर एक खूबियां हैं। वो इन्हें बहुत प्रेम करते हैं और ये सभी उन्हें अपना मानती हैं। इनमें से एक है सोकनी गाय, जो गौशाला के गेट में लगी कुंडी खुद अपनी जीभ और दांतों के सहारे खोलकर बाहर निकल लेती है। योगी ने सभी का रखा है नाम... 6th स्लाइड में देखें VIDEO... - गोरक्षपीठ, गायों की रक्षा का केंद्र मानी जाती है। सीएम योगी यहीं के पीठाधीश्वर हैं। इनके मठ में गौशाला सेवा केंद्र है, जिसमें गायों की संख्या 400 हैं। - योगी गोरखपुर में रहने के दौरान रोजाना सुबह इनको चारा खिलाते हैं। योगी की एक आवाज पर ये गाय उनके पास पहुंच जाती हैं। - गायों के बच्चे तो योगी को अतिप्रिय हैं। उन्होंने सभी का कुछ न कुछ उनकी आदतों के आधार पर नामकरण किया हुआ है। गायों में हैं ये खासियत - सोकनी गाय की खासियत ये है कि वो गौशाला में लगे गेट की कुंडी अपनी जीभ और दांतों के सहारे खोलकर सहेलियों के साथ मंदिर परिसर में भ्रमण के लिए निकल जाती है। - सनकहिया गाय वैसे तो काफी सीधी है, लेकिन जैसे ही वो बच्चे को जन्म देती है, उसके पास कोई जा नहीं सकता। - उसके खुले रहने पर योगी के अलावा कोई अन्य नहीं जा सकता है। वही उसे कंट्रोल करते हैं। हाव-भाव और आंखें देखकर योगी जान जाते हैं इनकाा दर्द - पाकड़ के पेड़ के नीचे जैसे ही योगी सुबह 5 बजे के बाद पहुंचते हैं। वे गायों को उनके नाम से पुकारते हैं। - गायों के सेवक मान मोहम्मद बताते हैं कि योगी जी गाय के छोटे बच्चे को दुलारते हुए जान जाते हैं कि किसने दूध नहीं पिया है और कौन भूखा है। आगे की स्लाइड्स में देखें रिलेटेड फोटोज...

Flicker