Home »Abhivyakti »Editorial » Bhaskar Editorial

टेलीकॉम के क्षेत्र में भारी उथल-पुथल की आहट

bhaskar news | Mar 21, 2017, 07:20 IST

कुमार मंगलम बिरला की मोबाइल कंपनी आइडिया सेल्यूलर और वोडाफोन की भारतीय इकाई के विलय की घोषणा के साथ 40 करोड़ ग्राहकों वाला यह संयुक्त उपक्रम न सिर्फ देश का सबसे बड़ा टेलीकॉम उपक्रम बनेगा बल्कि इससे देश के दूरसंचार बाजार में भूकंप आने की भी आशंका है। इसके संकेत आइडिया सेल्यूलर कंपनी के शेयर में 15 प्रतिशत की उछाल के बाद हुई 8 प्रतिशत की गिरावट से मिले हैं। यह विलय वोडाफोन के बढ़ते आर्थिक संकट का सूचक है और बाजार में बढ़ती प्रतिस्पर्धा का भी।
टेलीकॉम कंपनियां न सिर्फ अपने आर्थिक संकट को दूर करने में जुटी हैं बल्कि बाजार प्रतिस्पर्धा से निजात पाने के लिए उसकी गुंजाइशें कम कर रही हैं। वोडाफोन और आइडिया के बीच रिलायंस के जियो नेटवर्क के लांच होने के साथ ही पिछले छह माह से विलय की बात चल रही थी। दरअसल, वोडाफोन और आइडिया दोनों कर्ज में हैं, जिससे निकलने के लिए उन्होंने विलय का विकल्प चुना। दोनों कंपनियों पर 1.07 लाख करोड़ का कर्ज है तो भारत के दूरसंचार उद्योग पर 4.5 लाख करोड़ का कर्ज है।
यह स्थिति बताती है कि टू जी जैसा दो लाख करोड़ का घोटाला कर चुकी दूरसंचार कंपनियों के विकास में कहीं कुछ गड़बड़ जरूर है। या तो इन कंपनियों ने क्षमता से कहीं ज्यादा विस्तार कर लिया है या फिर बाजार में उतने खिलाड़ी आ गए, जितनी जरूरत नहीं है। यही वजह है कि देश की सभी दूरसंचार कंपनियां कर्ज का बोझ कम करने की कोशिश में संसाधन घटाने में लगी हैं। आइडिया और वोडाफोन इस विलय के माध्यम से स्टाफ इन्फ्रास्ट्रक्चर, स्पेक्ट्रम को साझा करेंगी और चार साल बाद 14,000 करोड़ रुपए की बचत कर सकेंगी।
इसी फॉर्मूले को अपनाते हुए अभी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी भारती एअरटेल भी टेलीनार की परिसंपत्तियों को खरीदने वाली है लेकिन, टेलीकॉम कंपनियों के बीच मची इस उथल-पुथल का असर न सिर्फ इस क्षेत्र के उपभोक्ताओं पर पड़ेगा बल्कि काम करने वाले कर्मचारियों पर भी पड़ेगा। जहां बाजार में प्रतिस्पर्धा घटने से काल दरें बढ़ सकती हैं वहीं इस क्षेत्र के तीन लाख कर्मचारियों में से 25 हजार तक की छंटनी हो सकती है। देखना है सरकार टेलीकॉम क्षेत्र के इस संकट से निपटने के लिए कर्ज माफी से लेकर सस्ते स्पेक्ट्रम बेचने जैसा कौन-सा कदम उठाती है।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: bhaskar editorial
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From Editorial

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top