Home »Abhivyakti »Editorial» Need To Increase Global Alertness Against Terror

आतंक के खिलाफ वैश्विक चौकसी बढ़ाने की जरूरत

bhaskar news | Apr 21, 2017, 06:34 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
उत्तर प्रदेश एटीएस (एंटी टेररिस्ट स्क्वॉड) ने पांच राज्यों की पुलिस के सहारे मुंबई, लुधियाना और बिजनौर से छह संदिग्ध आतंकियों को गिरफ्तार किया है लेकिन, इससे निश्चिंत होकर बैठने की बजाय चौतरफा सतर्कता की जरूरत और बढ़ गई है। आरंभिक जानकारियां इन संदिग्ध आतंकियों के कार्य का दायरा व्यापक होने और उनके देश और विदेश से रिश्ते होने की ओर संकेत कर रही हैं। इनमें एक तरफ तो आईएसआईएस की ओर संदेह जा रहा है तो दूसरी तरफ यूरोप के बेल्जियम में बैठकर आतंकी माड्यूल चलाने वाले शमिंदा सिंह का नाम भी है। वैश्वीकरण के सकारात्मक पहलू कम नहीं हैं लेकिन, आतंकवाद इसका सर्वाधिक नकारात्मक पहलू है।
भारत की बढ़ती तरक्की के साथ उसकी तबाही चाहने वाली ताकतें भी दुनिया में सक्रिय हैं और वे हमारी आंतरिक कमजोरियों को भड़काकर उनका इस्तेमाल करना चाहती हैं। जिन इलाकों से आतंकियों के पकड़े जाने की खबरें मिली हैं वे ऐसे क्षेत्र हैं जो या तो सीमा से करीब हैं या जहां कभी दंगे हो चुके हैं। आतंकियों ने इन इलाकों में स्लीपिंग सेल स्थापित करने का प्रयास शुरू किया था। भारत पहले आश्वस्त हुआ करता था कि हम आईएसआईएस के निशाने पर इसलिए नहीं आएंगे, क्योंकि इस देश में रहने वाले विभिन्न सामाजिक तबके देशभक्त हैं और वे किसी को देश के साथ घात करने की इजाजत नहीं देंगे। किंतु, पिछले कुछ दिनों में हवाई अड्‌डों पर विमान अपहरण का अलर्ट और बाद में छह आतंकियों का पकड़ा जाना उसी सिलसिले की कड़ी है, जिसके तहत उत्तर प्रदेश चुनाव के आखिरी दिन लखनऊ में एक आतंकी लंबी मुठभेड़ में मारा गया था। यह सही है कि आतंक का कोई धर्म नहीं होता और विभिन्न धर्म को मानने वाले आतंकियों के बीच भी आपस में सांठगांठ होती है।
इसके बावजूद जब भी किसी अल्पसंख्यक तबके को अपने साथ न्याय होता नहीं लगता तो उसके अवैध रास्तों को अख्तियार करने की आशंका रहती है। इसी की मदद लेकर आतंकी अपना जाल फैलाते हैं। इसलिए जहां हमें राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सुरक्षा संबंधी चौकसी और तालमेल के साथ आतंकी माड्यूल को नष्ट करना चाहिए, वहीं समाज में व्यापक तौर पर न्याय और भाईचारे का कार्यक्रम चलाना चाहिए ताकि किसी के मन में आतंकियों का मुखबिर बनने या उनका स्लीपिंग सेल बनने का खयाल तक न आए।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: Need to increase global Alertness against terror
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From Editorial

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top