Home »Bihar »Patna» Students Are Anger In Bihar

PHOTOS: बच्चों को देख क्यों भाग खड़े हो रहे हैं बिहार के गुरु जी, जानें

अजय कुमार | Jan 25, 2013, 10:55 IST

  • पटना। बिहार का शायद ही कोई कोना बच गया हो जहां सरकारी स्कूलों के छात्र-छात्राओं का हंगामा न हो रहा हो। इन स्कूलों में पढ़ाई नहीं हो रही है। छात्र-छात्राएं सड़कों पर हैं और वे टीचरों- अधिकारियों का माथा फोड़ रहे हैं। अब तो वे मंत्रियों को बख्शने के मूड में नहीं है। उनका वे घेराव कर रहे हैं। यानी पूरी तरह अराजक माहौल हुआ है।
    बिहार के सभी सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाली लड़कियों को पोशाक, छात्र-छात्राओं को साइकिल और छात्रवृत्ति के तहत करीब 2800 करोड़ रुपये दिये जाने हैं। पोशाक योजना तीन-चार साल पहले से चल रही है। पर सरकार ने इस बार कायदा बना दिया कि जिन छात्राओं की उपस्थिति 75 प्रतिशत होगी, पोशाक के पैसे उन्हें ही मिलेंगे। क्लास के हिसाब से पोशाक के पैसे तय हैं। यह 400 से 1000 रुपये तक है।
    स्कूलों में उपस्थिति की शर्त मानने को छात्र-छात्राएं और उनके अभिभावक तैयार नहीं हैं। उनका कहना है कि स्कूलों में कई सब्जेक्ट के टीचर नहीं हैं। ऐसे में वे स्कूलों में क्यों जाएं? कई स्कूलों में बैठने की जगह नहीं है। एक-एक कमरे में दो-दो क्लास की कौन कहे, दो-दो स्कूल चल रहे हैं। ऐसे में उनकी अलग परेशानी है। सरकार ने योजना के साथ यह शर्त इसलिए लगायी कि इससे भ्रष्टाचार पर अंकुश लगेगा।
  • जानकारी के अनुसार पोशाक, साइकिल और छात्रवृत्ति के पैसे बांटने के फेर में जिलों में काम ठप हो गये हैं। सरकार ने इस प्रयोजन को सामाजिक उत्सव के तौर पर मनाने को कहा है। पर हर जगह हंगामा ही देखने को मिल रहा है। 15 से 30 जनवरी के बीच सभी स्कूलों में सामाजिक उत्सव आयोजित होना है। मगर हर जगह लॉ एंड आर्डर की समस्या पैदा हो गयी है। कहीं पुलिसवालों पर हमले हो रहे हैं तो कहीं बीडीओ पीटे जा रहे हैं। कई स्कूलों में टीचरों ने पोशाक बांटने से मना कर दिया।
  • निकलने के पहले सोचें
    कोई भी ऐसा दिन नहीं बित रहा जब छात्र-छात्राओं का हुजूम सड़क पर नहीं उतर रहा है। कहीं 5 कहीं सड़क जाम में फंसने का खतरा है। कल ही सहकारिता मंत्री रामाधार सिंह को समस्तीपुर जाना था। लेकिन रास्ते में उन्हें वैशाली के लालगंज में छात्र-छात्राओं ने घेर लिया। उनकी गाड़ी के शीशे तोड़ दिये और टायर से हवा निकाल दी। वे समस्तीपुर नहीं जा सके। मंत्री का कहना है कि इसकी आड़ में विरोधी खेल कर रहे हैं।
  • योजना ठीक पर सिस्टम की समस्या: केदार पांडेय
    जाने-माने शिक्षक नेता केदार पांडेय ने कहा कि सरकार की योजना तो अचछी है पर योजना लागू करने से पहले उसे स्कूलों की दशा ठीक करनी चाहिए थी। 4000 से अधिक स्कूलों में यह कार्यक्रम होना है। पर स्कूलों में आधारभूत संरचना नहीं है। इसके चलते बखेड़ा खड़ा हुआ है। सरकार को चाहिए था कि वह पहले स्कूलों की दशा ठीक करे। ऐसा लगता है कि सरकार ने योजना के व्यवहारिक पहलू पर गौर ही नहीं किया। टीचरों की कमी अलग समस्या है। इतने प्रतिकूल मौसम में सामाजिक उत्सव मनाने की जरूरत पर भी विचार किया जाना चाहिए था। पर सरकार तो सरकार होती है।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: students are anger in Bihar
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Patna

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top