Home »Bihar »Patna» Liquor Tragedy Increase In Bihar

भास्कर डॉट कॉम ने किया था आगाह, मान जाते तो नहीं होता ये 'खौफनाक हादसा'

विशेष संवाददाता | Dec 12, 2012, 09:45 IST

  • पटना। बिहार में इस साल अवैध शराब से 53 लोगों की मौत हो गयी। राज्य में नयी शराब नीति लागू होने के बाद सरकार का रेवेन्यू तो बढ़ ही रहा है, मौतें भी धड़ाधड़ होने लगी हैं। हाल में आरा शहर में जहरीली शराब पीने से 25 लोग मारे गये थे। बीती रात से लेकर अब तक गया में 11 लोगों की मौत जहरीली शराब से हो गयी। मरने वालों में अधिकतर महादलित समुदाय के हैं।

    इस साल जहरीली शराब से अरवल जिले में चार लोगों की मौत हुई थी। मुजफ्फरपुर के पारू में पिछले अक्टबूर में दस लोग मारे गये थे। छपरा में भी तीन लोगों की मौत जहरीली शराब से हो गयी थी। आरा में जहरीली शराब से मरने वालों की तादाद सर्वाधिक हो गयी है। वहां 8 से 10 दिसंबर के बीच कुल 25 मौतें हुईं। आरा का विष अभी पूरी तरह उतरा भी नहीं था कि गया में 10 दिसंबर की रात अस्पताल में जहरीली शराब पीने वाले कुल 11 लोगों ने दम तोड़ दिया। डीएम वंदना प्रेयसी ने अवैध शराब कारोबबारियों पर नकेल कसने को कहा है।

    गया में अस्पताल से छह भागे

    गया में जहरीली शराब से बीमार हुए छह लोग अस्पाताल से भाग गये। पुलिस उन्हें तलाश रही है। बताया जाता है कि बीती रात कै-दस्त और आंखों की रोशनी कम होने की शिकायत के बाद सात लोगों को स्थानीय अस्पताल में दाखिल कराया गया था। उनमें से एक आदमी की मौत हो गयी जबकि छह भाग गये। बाद में उनमें से चार की मौत अनके घर पर हो गयी।

    माफियाओं का उत्पाद विभाग पर कब्जा: तत्कालीन मंत्री

    उत्पाद विभाग पर माफियाओं का कब्जा है। यह बात तत्कालीन मद्य निषेध विभाग के मंत्री जमशेद अशरफ ने कही थी। उनके इस बयान के बाद सरकार की किरकिरी हुई और अशरफ को मंत्री पद गंवाना पड़ा था।

    माफियाओं ने सरेआम पूर्व मंत्री को धुना

    मुजफ्फरपुर के पारू में जहरीली शराब से दस लोगों की मौत का विरोध करने वाले पूर्व मंत्री हिंद केसरी यादव को आयुक्त कार्यालय के गेट पर शराब माफियाओं ने लाठियों से पीट-पीट कर अधमरा कर दिया था। 70 वर्षीय यादव अवैध शराब के धंधे को बंद करने और इस धंधे को मिल रहे पुलिस संरक्षण के विरोध में सड़क पर उतरे थे।

    सरकार का रेवेन्यू छह गुना बढ़ा

    राज्य में नयी शराब नीति लागू होने के बाद रेवेन्यू में छह गुना इजाफा हुआ है। वर्ष 2005-06 में नीतीश सरकार जब सžा में आयी उस वक्त शराब से रेवेन्यू 329 करोड़ रुपये मिल रहा था। वर्ष 2011-12 में यह बढ़कर 2045 करोड़ पर पहुंच गया। इस समय राज्य में 5624 लाइसेंसी दुकानें हैं।

    आगे की स्लाइड्स में जानें क्या कहते हैं नीतीश कुमार, साथ में दैनिक भास्कर डॉट कॉम ने कैसे किया था आगाह...

  • पूर्ण शराबबंदी मुश्किल: नीतीश

    राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जहरीली शराब से हो रही मौतों के संदर्भ में कहा कि शराबबंदी लागू करना आसान नहीं है। सरकार ने उन राज्यों का भी अध्ययन कराया है जहां शराब की बिक्री पर रोक है। बिहार में पहले शराबबंदी की नीति लागू हो चुकी है। लेकिन उसके नतीजों पर भी गौर किया जाना चाहिए। उनका कहना है कि अवैध शराब के कारोबार को सख्ती से ध्वस्त करना और इस पर बयान देना, दो बातें हैं। बयान देना आसान है।

  • भास्कर डॉट कॉम ने रिपोर्ट छाप किया था आगाह

    बिहार में अवैध शराब के कारोबार के बारे में भास्कर डॉट कॉम ने पहले ही रिपोर्ट छापी थी। रिपोर्ट में बताया गया था कि किस प्रकार राज्य में वैध-अवैध शराब के कारोबार ने पांव पसार लिया है। नेशनल एलायंस ऑफ वीमेन आर्गेनाइजेशन और वीमेन नेटवर्क नामक एक एनजीओं ने अपनी सर्वे रिपोर्ट में बताया है कि राज्य के 15 गांवों में अवैध दारू की 116 दुकानें चलती हैं। यहां के लोग शिक्षा पर अपनी कमाई का तीन फीसदी और दारू पर 25 फीसदी खर्च कर रहे हैं।

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: liquor tragedy increase in bihar
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Patna

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top