Home »Celebs »Brand Value» Amitabh Bachchan Is Pleased To See A Woman Win The Five-Crore Jackpot On His Game Show KBC

दिल्ली गैंगरेप: मैं खुश हूं कि मेरा शो एक महिला ने जीता- अमिताभ बच्चन

dainikbhaskar.com | Jan 07, 2013, 09:59 IST

  • पिछले दिनों दिल्ली में हुए सामूहिक बलात्कार के विरोध में जब पूरा देश उबल रहा है, ऐसे समय में अमिताभ बच्चन यह देखकर काफी खुश हैं कि ‘कौन बनेगा करोड़पति’ (केबीसी) नाम के उनके शो में एक महिला ने पांच करोड़ रुपए जीतने में कामयाबी हासिल की है और उनका कहना है कि महिलाएं किसी भी मायने में पुरुषों से कम नहीं होतीं।

    गौरतलब है कि सनमीत कौर साहनी नाम की एक गृहिणी ने ‘केबीसी’ में पांच करोड़ रुपए जीतने वाली पहली महिला भागीदार बनने का गौरव हासिल किया है।

    अपने ब्लॉग पर अमिताभ ने लिखा कि मुझे यह देखकर खुशी हो रही है कि पुरुषों के दबदबे वाली इस दुनिया में दर्द भरे तजुर्बे से लैस एक महिला आती है और बड़ी जीत हासिल करती है।


    तस्वीरों में जानिए दिल्ली गैंगरेप और अमिताभ से जुड़ी कई बातें।

  • जब अमिताब बच्चन ने दिल्ली गैंगरेप की खबर सुनी थी तो उन्होंने आहत होकर फेसबुक पर अपनी प्रतिक्रिया कुछ इस तरह व्यक्त की थी।

    'ये दर्द जाता नहीं...और न ही जाता है उन दरिंदों का कांड हमारी सोच में से...
    'वो किसे दोषी ठहराए, और किसको दिखाए, सुनाए, जबकि मिट्टी साथ मिट्‍टी करे अन्याय'
    - बच्चन


  • सजा तो मिलनी चहिए, और वो भी कड़ी से कड़ी, उन जानवरों को, जिन्होंने ये साबित कर दिया कि उनके चेहरे समाज के कीचड़ में तो सने हुए हैं ही, लेकिन साथ में ये भी कि जिस कोख से वे जन्मे, उसका कितना निरादर किया।



  • न जाने क्यूं पुलिस ने जब उनमें से कुछ को पकड़ा, तो उन्हें पुलिस स्टेशन, उनके चेहरे पर कपड़ा डालकर ले गए। खोलिए मुंह उनका... हम उन वहशी जानवरों का चेहरा देखना चाहते हैं और चाहते हैं कि वो भी हमारी सूरत देखें और जानें की हम उन्हें किन नजरों से देखते हैं। देश का कानून यदि अवसर देता, तो उन्हें बाजार में खुला छोड़ देना चाहिए था। फिर हम सब स्वयं उन्हें अपना कानून चखा देते। उन पर जब वही हरकत होती, जो उन्होंने उस बेचारी बच्ची के साथ किया, तब उन्हें पता चलता और समाज के और दरिंदों को भी कि बलात्कार के मायने क्या होते हैं।





  • यूट्यूब और फेसबुक पर लगी क्लिक करें इस कविता को अमिताभ ने अपनी आवाज दी है और कविता इस तरह है:

    समय चलते मोमबत्तियां, जल कर बुझ जाएंगी..

    श्रद्धा में डाले पुष्प, जलहीन मुरझा जाएंगे..

    स्वर विरोध के और शांति के अपनी प्रबलता खो देंगे..

    किंतु निर्भयता की जलाई अग्नि हमारे हृदय को प्रज्जवलित करेगी..

    जलहीन मुरझाए पुष्पों को हमारी अश्रु धाराएं जीवित रखेंगी...

    दग्ध कंठ से 'दामिनी' की 'अमानत' आत्मा विश्व भर में गूंजेगी..

    स्वर मेरे तुम, दल कुचल कर पीस न पाओगे..

    मैं भारत की मां बहन या या बेटी हूं,

    आदर और सत्कार की मैं हकदार हूं..

    भारत देश हमारी माता है,

    मेरी छोड़ो अपनी माता की तो पहचान बनो !!

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: Amitabh Bachchan is pleased to see a woman win the five-crore jackpot on his game show KBC
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Brand Value

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top