Home »Chhatisgarh »Raigarh Zila »Janjgeer » राजीव गांधी शिक्षा मिशन के जिला समन्वयक सहित 11 लोगों के खिलाफ होगा जुर्म दर्ज

राजीव गांधी शिक्षा मिशन के जिला समन्वयक सहित 11 लोगों के खिलाफ होगा जुर्म दर्ज

Bhaskar News Network | Oct 19, 2016, 02:25 AM IST

राजीव गांधी शिक्षा मिशन के जिला समन्वयक सहित 11 लोगों के खिलाफ होगा जुर्म दर्ज
भास्कर न्यूज | जांजगीर-चांपा

जिले के पूर्व तथा वर्तमान में रायपुर कलेक्टर ओपी चौधरी व जिला पंचायत के सीईओ विश्वेश कुमार का हस्ताक्षर स्कैन कर 30 लाख रुपए का फर्जीवाड़ा करने का मामला जांच में साबित हो गया है। कलेक्टर ने इस मामले में राजीव गांधी शिक्षा मिशन के जिला समन्वयक, दो एपीसी, तीन क्लर्क, ठेकेदार, दो उपअभियंता व दो बीआरसी सहित ग्यारह लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दिए हैं।

वर्ष 2011- 12 में राज्य सरकार द्वारा जिले के 501 स्कूलों में विद्युतीकरण कराने के लिए 30 हजार प्रति स्कूल के हिसाब से डेढ़ करोड़ से अधिक की मंजूरी दी गई थी। इसके लिए आरईएस को कार्य एजेंसी बनाया गया। आरईएस ने कार्य का ठेका राजेश अग्रवाल को दिया। ठेकेदार ने 349 स्कूलों में विद्युतीकरण कराया तथा सक्ती ब्लॉक के 43 और जैजैपुर के 57 स्कूल सहित 100 स्कूलों में काम नहीं हो पाया। इसके अलावा विभिन्न ब्लॉकों के 52 स्कूलों में भी विभिन्न कारणों से विद्युतीकरण नहीं कराया गया। इस प्रकार 152 स्कूलों का 45 लाख 60 हजार रुपए आरईएस ने राजीव गांधी शिक्षा मिशन को फंड वापस कर कार्य निरस्त कर दिया। इसकी सूचना ठेकेदार को भी दे दी गई। इसके बाद राजीव गांधी शिक्षा मिशन के जिला समन्वयक प्रमोद कुमार आदित्य, तत्कालीन एपीसी वित्त एमडी दीवान व अन्य ने मिलकर मिशन के जिला संचालक कलेक्टर व जिला पंचायत के सीईओ से अनुमति लिए बिना ही 30 लाख रुपए का फर्जी भुगतान ठेकेदार राजेश अग्रवाल को कर दिया। मामले की शिकायत हुई तो जांच के दौरान यह दावा किया गया कि 31 जुलाई 2015 को पूर्व कलेक्टर ओपी चौधरी द्वारा अनुमोदित करने के बाद जिला परियोजना संचालक सीईओ विश्वेश कुमार द्वारा अनुशंसा की गई। जांच के बाद कलेक्टर डॉ. एस भारतीदासन ने संबंधिताें के खिलाफ एफआईअार दर्ज कराने व रकम की रिकवरी कराने के निर्देश डीईओ व आरईएस के कार्यपालन अभियंता को दिए हैं।

जांच में सिद्ध हुआ हस्ताक्षर की हुई स्कैन

कलेक्टर डॉ. एस भारतीदासन ने अपर कलेक्टर डीके सिंह, एसडीएम अजय उरांव व जिला रोजगार अधिकारी केएन पटेल की तीन सदस्यीय जांच दल बनाकर मामले की जांच कराई तो यह जिला समन्वयक प्रमोद कुमार आदित्य मिशन संचालक व जिला परियाेजना संचालक द्वारा अनुमाेदित फाइल की मूल नस्ती ही नहीं प्रस्तुत कर सके। उन्होंने जांच दल को फोटो कॉपी उपलब्ध कराई। डीएमसी द्वारा दिए गए नोटशीट का सत्यापन जांच दल ने परियोजना संचालक सीईओ जिला पंचायत विश्वेश कुमार से कराया तो उन्होंने 28 जुलाई 2015 को अनुमाेदित नोट शीट में हस्ताक्षर करने व अनुशंसा करने से इनकार कर दिया। मूल नस्ती नहीं देने व परियोजना संचालक द्वारा हस्ताक्षर करने से इनकार करने पर जांच दल ने माना है कि मिशन संचालक व परियोजना संचालक का हस्ताक्षर स्कैन किया गया है।

इन लोगों पर दर्ज

होगा मामला

जिला समन्वयक राजीव गांधी शिक्षा मिशन प्रमोद कुमार आदित्य

पूर्व एपीसी वित्त महेंद्र धर दीवान

एपीसी वित्त विनोद कुमार शर्मा

कंप्यूटर ऑपरेटर शेख रफीक, विवेक यादव व पंकज विक्रम

पूर्व खंड समन्वयक राजीव गांधी शिक्षा मिशन जैजैपुर

पूर्व खंड समन्वयक राजीव गांधी शिक्षा मिशन सक्ती

उपयंत्री आरईएस सक्ती

उपयंत्री आरईएस जैजैपुर

विद्युत ठेकेदार राजेश अग्रवाल

डीएमसी व अन्य लोगों द्वारा विद्युतीकरण कार्य में फर्जीवाड़ा किया गया है। हमारे हस्ताक्षर स्कैन कर राशि का भुगतान किया गया है। जांच के बाद डीएमसी, एपीसी, ठेकेदार सहित अन्य संबंधितों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश कलेक्टर के द्वारा दिया गया है। संबंधित विभाग के अधिकारियों को पत्र भेजकर कार्रवाई कराने कहा गया है। विश्वेश कुमार, जिला परियोजना संचालक राजीव गांधी शिक्षा मिशन

7 अक्टूबर को प्रकाशित खबर

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: राजीव गांधी शिक्षा मिशन के जिला समन्वयक सहित 11 लोगों के खिलाफ होगा जुर्म दर्ज
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

    More From Janjgeer

      Trending Now

      Top