Home »Chhatisgarh »Koria» बिजली के खुले तार दे रहे हैं दुर्घटना को दावत, फिर भी ध्यान नहीं

बिजली के खुले तार दे रहे हैं दुर्घटना को दावत, फिर भी ध्यान नहीं

Bhaskar News Network | Oct 19, 2016, 02:35 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
आग लगी तो बुझाने का इंतजाम नहीं

भास्कर संवाददाता |बैकुंठपुर

कोरिया के किसी भी अस्पताल में यदि किसी कारण से आग लग जाए तो उसे बुझाने के लिए कोई इंतजाम नहीं किया गया है। इसे गंभीर खामी ही कहा जाएगा पर इस ओर न तो अस्पताल प्रबंधन द्वारा ध्यान दिया जा रहा है और न ही प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा। इसलिए इस तरह के हादसे होने पर कई लोगों की जान जा सकती है।

गौरतलब है कि शार्ट सर्किट या किसी अन्य कारण से किसी भवन में आग लग जाए तो उसे बुझाने के लिए फायर सेफ्टी का इंतजाम किया जाता है। पर कोरिया जिले के किसी भी अस्पताल में फायर सेफ्टी का इंतजाम नहीं किया गया है। ऐसे में यदि किसी भी कारण से अस्पताल में आग लग जाए तो कई लोगों की जान जा सकती है। जिला अस्पताल में प्रतिदिन सैकड़ों मरीज इलाज के लिए आते हैं। पर यहां भी आग से बचने का कोई उपाय नहीं किया गया है। यही नहीं जानकारी लेने पर पता चला कि अस्पताल में आग लगने पर उसे बुझाने के लिए कोई ट्रेंड ब्यक्ति नहीं है। ऐसे में यदि अस्पताल में आग लग जाए तो कई मरीजों की जान जा सकती है। इस ओर न तो प्रशासनिक अधिकारियों का ध्यान है और न ही अस्पताल प्रबंधन का।

ऑपरेशन थिएटर के पास भी अग्निशमन यंत्र नहीं रखा गया ह

जिला अस्पताल में प्रतिदिन सैकड़ों मरीज आते हैं पर सुरक्षा का कोई इंताजम नहीं है।

सुरक्षा के लिए जरूरी है आग से बचाव का इंतजाम

सुरक्षा के लिए जरूरी है कि हाॅस्पिटल के सभी वार्ड में अग्निशमन यंत्र रखा जाए। जिससे आपात स्थिति में आग पर काबू पाया जा सके और भर्ती मरीजों को बचाया जा सके। इसके लिए बकायदा वार्ड ब्वाय को ट्रेंड किया जाना चाहिए। हाॅस्पिटल में एक मेल वार्ड, फीमेल वार्ड, चाईल्ड वार्ड, आईसीयू, बर्न यूनिट सहित निजी और जेल वार्ड है। सभी जगह अग्निशमन यंत्र होना चाहिए।

अस्पताल में अग्निशमन यंत्र लगवाया जाएगा

जिला अस्पताल में यदि अग्नि शमन यंत्र नहीं लगा है तो इसकी जानकारी लेकर लगवाया जाएगा। यह आवश्यक है। -एस प्रकाश, कलेक्टर

अस्पताल में अग्निशमन यंत्र होना चाहिए

जिला अस्पताल में किसी कारण से आग लग जाए तो उसे बुझाने के लिए अग्निशमन यंत्र होना चाहिए। यदि ऐसा नहीं है तो इस संबंध में अस्पताल प्रभारी से जानकारी लेकर इंतजाम करने को कहा जाएगा। -डाॅ. एसएल.चावला, सीएमएचओ

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: बिजली के खुले तार दे रहे हैं दुर्घटना को दावत, फिर भी ध्यान नहीं
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Koria

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top