Home »Chhatisgarh »Dhamtari » बच्चों में देशभक्ति का जज्बा जगाने शहीदों को स्कूल जाकर दी श्रद्धांजलि

बच्चों में देशभक्ति का जज्बा जगाने शहीदों को स्कूल जाकर दी श्रद्धांजलि

Bhaskar News Network | Oct 19, 2016, 02:20 AM IST

बच्चों में देशभक्ति का जज्बा जगाने शहीदों को स्कूल जाकर दी श्रद्धांजलि
देश की रक्षा में शहीद होने वाले पुलिस जवानों के स्कूलों में मंगलवार को पुलिस पहुंची। शहीदों के फोटो पर माल्यार्पण कर श्रद्धासुमन अर्पित किए गए। शहर सहित जिले भर में पुलिस विभाग द्वारा यह कार्यक्रम स्कूलों में किया गया। जिला मुख्यालय के म्युनिसिपल स्कूल में शहीद भूषण मंडावी, रामेश्वर ध्रुव, नोहरूराम नेताम की शहादत को नमन किया गया। एसपी मनीष शर्मा ने इस अवसर पर शहीदों को नमन करने के बाद कहा कि ऐसे छात्र जो कहीं पर भी रहकर देशसेवा में अपनी जान दी, इन छात्रों के स्कूलों में जाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी जा रही है।

उन्होंने बताया कि स्कूलों में यह आयोजन करने का उद्देश्य बच्चों में देशभक्ति के लिए जज्बा जगाने तथा शहीदों के प्रति सम्मान की सोच पैदा करने किया जा रहा है। जिलेभर के स्कूलों में संबंधित थाने की पुलिस जाकर छात्र-छात्राओं को जागरूक कर रही है।

अतिथियों के बाद स्कूल के शिक्षकों, छात्र-छात्राओं ने भी पुष्प चढ़ाकर शहादत को सलाम किया। प्राचार्य अशोक पवार ने कहा कि जिंदगी तो सब जिए, पर जो मरकर भी जिए उसे शहादत कहते हैं। हमारे स्कूल के तीनों शहीद छात्रों में ऐसा ही जज्बा था, जिनके बलिदान को भूला नहीं जा सकता। इस अवसर पर टीआई संतोष जैन, कविंद्र जैन, योगेश लाल, शंकर ग्वाल, चंद्रशेखर शर्मा, आरएन साहू, उषा श्रीवास्तव, विनीता पवार, सीएम टेंभुरकर, नीलमणि आदि उपस्थित थे।

नक्सल विरोधी अभियान में शामिल थे जवान

शहीद आरक्षक भूषण मंडावी ग्राम विश्रामपुर रूद्री थाना क्षेत्र के निवासी थे। 2007 में जिला पुलिस बल दंतेवाड़ा में आरक्षक पद पर पदस्थ हुए थे। 26 जून 2011 को किरंदुल क्षेत्र में नक्सलियों से लड़ते-लड़ते वे शहीद हो गए।

शहीद आरक्षक रामेश्वर ध्रुव ग्राम नवागांव रूद्री थाना क्षेत्र के थे। 11 जून 1986 को जिला पुलिस बल बस्तर में पदस्थ हुए। 13 सितंबर 2003 को कुआकोंडा, भेज्जी, कुसुर, कट्टेकल्याण क्षेत्र में नक्सल विरोधी अभियान के तहत सर्चिंग के दौरान वे शहीद हो गए। इसी तरह शहीद आरक्षक नोहरूराम नेताम ग्राम सांकरा अर्जुनी थाना क्षेत्र के निवासी थे।

13 जनवरी 2006 को जिला पुलिस बल बीजापुर में भर्ती हुए। 7 अप्रैल 2009 को बासागुड़ा क्षेत्र में एंटी नक्सल विरोधी अभियान के तहत बारूदी सुरंग विस्फोट में उनकी जान चली गई।

स्कूल में बनेगा स्मारक

जनभागीदारी से तीनों शहीदों का स्मारक स्कूल परिसर में ही बनाने का निर्णय भी लिया गया। ऐसा हुआ, तो जिले का यह पहला स्कूल बन जाएगा, जहां स्कूल में पढ़े शहीद छात्र की प्रतिमा सुशोभित होगी।

धमतरी. म्युनिसिपल स्कूल के बच्चों ने शहीदों को दी श्रद्धांजलि।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: बच्चों में देशभक्ति का जज्बा जगाने शहीदों को स्कूल जाकर दी श्रद्धांजलि
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

    More From Dhamtari

      Trending Now

      Top