Home »Chhatisgarh »Kanker » जनदर्शन टलने की सूचना नहीं मिली कलेक्टोरेट में भटकते रहे फरियादी

जनदर्शन टलने की सूचना नहीं मिली कलेक्टोरेट में भटकते रहे फरियादी

Bhaskar News Network | Oct 19, 2016, 02:30 AM IST

जनदर्शन टलने की सूचना नहीं मिली कलेक्टोरेट में भटकते रहे फरियादी
मंगलवार को जिले में अचानक जनदर्शन कार्यक्रम स्थगित कर दिया गया। इससे दूर-दराज से आए ग्रामीणों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। जानकारी के अभाव में ग्रामीण पूरे दिन कलेक्टोरेट में भटकते रहे। अध्ूरी जानकारी के चलते कई लोग कलेक्टर का इंतजार करते रहे।

जनदर्शन स्थगित होने की जानकारी मंगलवार को ही प्रकाशित की गई जिससे अंदरूनी व संवेदनशील गांवों में इसकी जानकारी नहीं पहुंच पाई और वे अपनी समस्या लेकर कलेक्टोरेट पहुंच गए। हालांकि इस स्थिति में कमरा नंबर 15 में आवेदन जमा किए जाते हैं लेकिन कई लोगों को इसकी भी जानकारी नहीं थी। लोग घंटों जनदर्शन शुरू होने व कलेक्टर के आने का इंतजार करने परेशान होते रहे। ऐसा पहली बार नहीं हुआ है। कई बार अधिकारी बैठक या अन्य कारणों के चलते भी नहीं मिलते हैं और लोग परेशान होते हैं।

पीवी 9 का दिव्यांग विजय तालुकदार गेट में कलेक्टर के आने का करता रहा इंतजार।

केस-3

केस-2

केस-1

बच्ची को नहीं मिली मदद

चारामा केे ग्राम ढोड़कावाही की करंट से झुलसी अंजली सुरोजिया पिता अजीत कलेक्टोरेट पहुंची थी। वे भी काफी देर तक कलेक्टोरेट में यहां-वहां भटकते रहे। उन्हें भी स्थगित होने की जानकारी नहीं थी। जिन्हें बाद में कमरा नंबर-15 में आवेदन देने भेजा गया। करंट की चपेट में आने के कारण अंजली का दांया हाथ काफी हद तक काम करना बंद कर चुका है। उसे सहायता राशि व विकलांग राशन कार्ड बनवाना है।

बच्चाें के साथ भटकती रही विधवा

दुर्गूकोंदल विकासखंड के ग्राम हानपतरी की विधवा पूर्णिमा मोहन भी अपने तीन छोटे बच्चों के साथ सुबह से कलेक्टारेट पहुंच गई थी। वह भी काफी देर तक कलेक्टर के आने का इंतजार करती रही। महिला ने बताया कि सड़क हादसे में उसके पति की मौत हो गई है। तीन बच्चों की जिम्मेदारी उस पर है, लेकिन भरण पोषण के लिए कोई रोजगार नहीं है। आखिर में उसने भी कमरा नंबर-15 में आवेदन किया।

गेट पर कलेक्टर का इंतजार

पखांजुर क्षेत्र के पीवी 9 निवासी दिव्यांग विजय तालुकदार के दोनों पैर कमजोर हैं, जिसके कारण वह चल नहीं सकता। वह िघसटते हुए चलता है। वह तीन पहिया स्कूटी की मांग लेकर जिला कार्यालय पहुंचा था। उसे जनदर्शन स्थगित होने की जानकारी नहीं थी। वह काफी समय तक गेट पर ही बैठकर कलेक्टर के आने का इंतजार करता रहा। बाद में उसे कमरा नंबर-15 में भेजा गया, जहां उसने अपना आवेदन दिया।

हानपतरी की पूर्णिमा जानकारी के अभाव में बच्चों के साथ बैठी रही ।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: जनदर्शन टलने की सूचना नहीं मिली कलेक्टोरेट में भटकते रहे फरियादी
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

    More From Kanker

      Trending Now

      Top