Home »Chhatisgarh »Mahasamund » रबी के लिए पानी नहीं देने के आदेश का विरोध

रबी के लिए पानी नहीं देने के आदेश का विरोध

Bhaskar News Network | Oct 19, 2016, 02:35 AM IST

जिला प्रशासन ने आगामी रबी सीजन में बांधों से पानी नहीं देने और किसानों द्वारा धान फसल लेने पर उनके पंपों के कनेक्शन काटने का मौखिक आदेश जारी किया है। इस आदेश का विरोध करते हुए प्रदेश किसान कांग्रेस के उपाध्यक्ष दाऊलाल चंद्राकर और किसान कांग्रेस के जिलाध्यक्ष लक्ष्मण पटेल ने इसे तुगलकी फरमान बताते कहा कि यदि किसानों को फसल लेने में जबरन रोकने का प्रयास किया गया तो किसान कांग्रेस आंदोलन करेगी।चौकबेड़ा में पटेवा क्षेत्र के करीब 20 गांव के किसानों की बैठक हुई। बैठक में उपस्थित दाऊलाल चंद्राकर, लक्ष्मण पटेल, ब्लाक किसान कांग्रेस के अध्यक्ष द्रोण चंद्राकर, बावनकेरा सेक्टर के सदस्यता प्रभारी राजेंद्र चंद्राकर, सोहन यादव, कृष्णा चंद्राकर ने राज्य शासन के बिना लिखित आदेश के कलेक्टर द्वारा मौखिक फरमान जारी करने का विरोध किया।

चंद्राकर ने कहा कि सरकार द्वारा पहले जिले के बागबाहरा एवं बसना में रबी फसल लेने किसानों पर प्रतिबंध लगाया था, लेकिन जिला प्रशासन ने पूरे जिले में बांधों से पानी नहीं देने एवं बिजली काटने का आदेश जारी कर दिया है। जब किसानों को पानी की आवश्यकता थी, तब नहीं दिया गया। अब जलाशयों में पानी की कमी बताते हुए रबी फसल में पानी नहीं देने का फरमान जारी किया जा रहा है। जो किसान ट्यूबवेल व अन्य स्रोतों से सिंचाई कर रबी फसल लेना चाहते हैं, उनकी बिजली काटने की धमकी दी जा रही है।

खरीदी केंद्रों का निरीक्षण करेगी किसान कांग्रेस

जिला किसान कांग्रेस अध्यक्ष लक्ष्मण पटेल ने कहा कि सरकार 2100 रुपए समर्थन मूल्य एवं 300 रुपए बोनस देकर अपना चुनावी वादा पूरा करे। उन्होंने बताया कि धान खरीदी केंद्रों में किसान कांग्रेस के प्रतिनिधि निरंतर निरीक्षण करेंगे। ताकि पिछले वर्षों की तरह भ्रष्टाचार न हो सके। बावनकेरा सेक्टर के संगठन प्रभारी राजेंद्र चंद्राकर ने संगठन की गतिविधियों पर प्रकाश डाला। बावनकेरा से नारायण साहू, राहुल, डोगेश, जमीह खान, बेलपारा से श्रीराम यादव आदि उपस्थित थे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: रबी के लिए पानी नहीं देने के आदेश का विरोध
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Mahasamund

        Trending Now

        Top