Home »Chhatisgarh »Raipur »News » नोटबंदी के साथ ही 10 रुपए के सिक्के को लेकर अजीबोगरीब हालात पैदा हो गए हैं

10 का सिक्का नहीं लेने पर देशद्रोह का केस के आदेश, लेकिन कहां करें शिकायत?

Bhaskar News | Dec 02, 2016, 07:32 AM IST

symbolic image.

सिम्बॉलिक इमेज।

रायपुर.नोटबंदी के साथ ही 10 रुपए के सिक्के को लेकर अजीबोगरीब हालात पैदा हो गए हैं। दुकानदारों से लेकर ग्राहक तक 10 रुपए का सिक्का लेने से मना कर रहे हैं। आटो रिक्शा और बस वालों ने भी सिक्का लेना बंद कर दिया है। इसके लिए न तो रिजर्व बैंक से कोई निर्देश जारी किया गया है और न ही शासन ने घोषणा की। अचानक अफवाह उड़ी और सिक्का मार्केट में बैन कर दिया गया है। लोग परेशान हैं।
- शिकायत के बाद प्रशासन की ओर से बाकायदा संदेश जारी किया गया है कि सिक्के देश के करेंसी हैं। लेने से इनकार करने वाले पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी, लेकिन लोग कहां शिकायत करें? यह अब तक साफ नहीं है।
- बाजार में हालांकि सिक्का लेने-देने को लेकर विवाद हो रहा है। ग्राहक बहस कर रहे हैं, लेकिन दुकानदार भी अड़े हैं। साफ कह दिया जा रहा है कि सिक्का नहीं लिया जाएगा। दुकानदारों के साथ भी यही स्थिति है।
- जिन दुकानदारों के पास 10 के सिक्के हैं, उनसे ज्यादातर ग्राहक सिक्के नहीं ले रहे हैं। दोनों ओर से लेन-देन का इनकार होने के कारण ही यह स्थिति पैदा हो रही है।
- कई परेशान ग्राहक पुलिस कंट्रोल रूम में शिकायत कर रहे हैं, लेकिन वहां भी कोई गाइडलाइन नहीं होने के कारण समस्या का हल नहीं हो पा रहा है।
रिजर्व बैंक ने दी थी सफाई, 10 के सिक्के पर बैन नहीं

- रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की ओर से सितंबर में स्पष्ट किया जा चुका है कि 10 का सिक्का राष्ट्रीय करेंसी है। किसी के पास इसे लेने से मना करने का अधिकार नहीं है क्योंकि भारत सरकार ने इसे मान्यता दी है।
- आरबीआई के नियमों के अनुसार अगर कोई चलन में मौजूद करेंसी को लेने से मना करता है तो उस पर देशद्राेह का मुकदमा दर्ज किया जा सकता है।
- उसके बावजूद राजधानी सहित राज्य के ज्यादातर शहरों में 10 का सिक्का एक तरह से बैन कर दिया गया। स्थिति लगातार बिगड़ रही लेकिन अब तक फील्ड में लोगों को राहत देने के लिए कोई व्यवस्था नहीं की गई।
- दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान, मध्यप्रदेश समेत कई राज्यों में भी 10 के सिक्के बंद होने को लेकर अफवाह फैल चुकी है।
- इसके बाद आखिरकार यूपी के पीलीभीत जिले के कलेक्टर को देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करने का फरमान जारी करना पड़।
टोल फ्री नंबर पर फोन करें

- जिले के कलेक्टर ओपी चौधरी का कहना है कि प्रशासनिक तौर पर स्पष्ट किया जा चुका है कि 10 का सिक्का किसी तरह से बैन नहीं किया गया है।
- इसके बावजूद अगर कोई नहीं ले रहा है तो उसके खिलाफ नियमानुसार कदम उठाया जाएगा। लोगों के लिए जल्द ही टोल फ्री नंबर जारी किया जाएगा। उसमें सीधे शिकायत की जा सकेगी।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: नोटबंदी के साथ ही 10 रुपए के सिक्के को लेकर अजीबोगरीब हालात पैदा हो गए हैं
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

    More From News

      Trending Now

      Top