Home »Chhatisgarh »Raipur »News» High Tech Made Village With Innovative Plan

सरकारी स्कूल में पढ़कर बने कलेक्टर, इनोवेटिव प्लान से गांव को बना रहे हाइटेक

Bhaskar News | Apr 21, 2017, 08:15 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
सरकारी स्कूल में पढ़कर बने कलेक्टर, इनोवेटिव प्लान से गांव को बना रहे हाइटेक
रायपुर.आज सिविल सर्विस डे है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी विज्ञान भवन नई दिल्ली में इनोवेशन, सिंचाई, एग्रीकल्चर और डिजिटलाइजेश जैसी कई फील्ड में बेहतर काम करने वाले देश के कुछ कलेक्टर को पीएम एक्सीलेंस अवाॅर्ड से सम्मानित करेंगे। इस अवाॅर्ड के लिए स्टैंडअप, इनोवेशन और डिजिटल फील्ड के लिए रायपुर, दंतेवाड़ा और सुकमा जिले के कलेक्टर्स नॉमिनेट हुए थेे। फाइनली डिजिटल फील्ड में दंतेवाड़ा कलेक्टर सौरभ कुमार को अवाॅर्ड के लिए चुना गया। ओपी चौधरी 2014 में ही ये अवॉर्ड हासिल कर चुके हैं।
अपने बेहतर काम और अलग अंदाज के लिए फेमस इन तीनों कलेक्टर्स से सिविल सर्विस डे पर सिटी भास्कर ने बातचीत कर इनके बेस्ट काम जानने की कोशिश की। सरकारी स्कूल से पढ़ाई करने वाले रायपुर कलेक्टर ओपी चौधरी और सुकमा कलेक्टर नीरज बंसोड़ जहां शिक्षा की स्थिति सुधारने की दिशा में काम कर रहे हैं तो सौरभ कुमार लोगों को डिजिटलाइजेश से जोड़ रहे हैं। पढ़िए इनकी स्टोरी।
सौरव ने कार्ड पेमेंट सिखाकर गांव को बनाया कैशलेस, आज पीएम देंगे अवॉर्ड
साल 2009 बैच के सौरभ कुमार दंतेवाड़ा कलेक्टर हैं। घोर नक्सल क्षेत्र के गांव पालनार को कैशलेस बनाने के लिए उन्हें आज पीएम एक्सीलेंस अवॉर्ड से नवाजा जाएगा। डिजिटल इंडिया प्लान को कैंपेन की शक्ल देकर उन्होंने हजारों ट्राइबल और दुकानदारों को डिजिटल सर्विस की ट्रेनिंग दी। पालनार की दुकानों में पीओएस लगाकर ग्रामीणों का इसका यूज करना सिखाया। कुछ ही दिनों में ट्रांजेक्शन भी शुरू हो गया। सौरभ कुमार निजी स्तर पर जरूरतमंदों की मदद भी कर रहे हैं। जिले के टेकनार गांव में साढ़े तीन साल के राकेश को डाउन सिंड्रोम की बीमारी है। परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है। मदद के लिए वे सौरभ के पास पहुंचे। उन्होंने सरकारी योजना से मदद की सहमति भी दे दी, लेकिन ऐसी कोई योजना नहीं थी, जिसके तहत मदद कर सकें। तब से हर महीने उसकी फिजियोथैरेपी का खर्च अपनी सैलरी से देते हैं।
नवोदय के एंट्रेंस में हुए फेल , आईएएस बने तो बच्चों के लिए शुरू की फ्री कोचिंग
रायपुर जिले की कमान संभाल रहे कलेक्टर ओपी चौधरी रायगढ़ डिस्ट्रिक हेडक्वार्टर से 20 किमी दूर ग्राम बायन के रहने वाले हैं। यहीं से उन्होंने 12वीं तक की पढ़ाई की है। नवोदय स्कूल में पढ़ने के लिए उन्होंने एंट्रेस एग्जाम दिया था, लेकिन फेल हो गए। ओपी चौधरी इसका सबसे बड़ा कारण गांव में एजुकेशन के प्रति माहौल न होने को बताते हैं। इसलिए आईएएस बनने के बाद जहां भी जाते हैं वहां उनका फोकस एजुकेशन की स्थिति सुधारने पर होता है। दंतेवाड़ा में कलेक्टर रहने के दौरान उन्होंने कॉम्पिटीशन एग्जाम की पढ़ाई के लिए निशुल्क कोचिंग की व्यवस्था की। नतीजतन, कई बच्चे आईआईटी जैसे संस्थानों में चुने गए। नक्सली घटनाओं के तौर पर पहचाने जाने वाले दंतेवाड़ा को एजुकेशन हब के रूप में पहचान मिली। उन्हें 2014 में पीएम एक्सीलेंस अवॉर्ड भी मिल चुका है।
नक्सलियों ने तोड़े स्कूल, नीरज ने बच्चों काे ढूंढ ढूंढकर फिर से पढ़ने किया प्रेरित
सुकमा कलेक्टर नीरज कुमार बंसोड़ ने नक्सली क्षेत्र गढ़चिरौली के सरकारी स्कूल में पढ़ाई की है। सरकारी स्कूलों की स्थिति और वहां पढ़ने वाले बच्चों की आर्थिक और मानसिक स्थिति को वे बेहद नजदीक से समझते हैं। लिहाजा, आईएएस बनने के बाद उन्होंने शिक्षा की स्थिति सुधारने की दिशा में काम शुरू किया। नक्सली ने सुकमा में जिन सरकारी स्कूलों को तोड़ दिया था अक्टूबर 2014 में कलेक्टर बनते ही नीरज ने दंतेवाड़ा एजुकेशन हब की तर्ज पर सुकमा को डेवलप करना शुरू किया। स्कूल छोड़ चुके बच्चों और उनके पैरेंट्स को ढूंढ-ढूंढकर पढ़ाई के लिए प्रेरित किया। सभी को पढ़ाई के साथ हॉस्टल की सुविधा दी। ज्ञानोदय, शिक्षार्थ और विद्यालय दर्पण जैसी कई योजनाएं लॉन्च कीं। आज इसी कारण स्टेट लर्निंग सर्वे में सुकमा 12वें नंबर पर है।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
DBPL T20
Web Title: High tech made village with innovative plan
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top