» Delhi Gang Rape: Assault On Accused Of Gang Rape In Tihar Jail

दिल्ली गैंगरेप: दुष्कर्म के आरोपी पर तिहाड़ जेल में हमला!

Bhaskar News | Dec 21, 2012, 03:50 IST

  • नई दिल्ली.दिल्ली में रविवार की रात चलती बस में गैंगरेप की शिकार लड़की के इलाज से दिल्‍ली हाईकोर्ट संतुष्‍ट नहीं है। हाईकोर्ट ने पुलिस द्वारा सौंपी गई स्‍टेटस रिपोर्ट पर नाराजगी जताते हुए 9 जनवरी तक विस्‍तृत रिपोर्ट मांगी है। शुक्रवार को कोर्ट ने कहा कि लड़की को प्राइवेट अस्‍पताल में भर्ती कराया जाए। लड़की फिलहाल सफदरजंग अस्‍पताल में भर्ती है। अस्‍पताल के डॉक्‍टरों ने शुक्रवार को बताया कि अब उसकी हालत पहले जैसी नहींहै। उसकी हालत सुधर रही है। उसे वेंटीलेटर से हटा दिया गया है और संक्रमण पर भी काबू पाया जा रहा है। उसके पल्‍स रेट सामान्‍य हैं, लेकिन लिवर की हालत ठीक नहीं है। डॉक्‍टरों ने सबसे लड़की के लिए दुआ करने और अस्‍पताल के बाहर प्रदर्शन नहीं करने की अपील की। (पढ़ें, प्रदर्शनकारियों को मारीं लाठियां...शनिवार का लाइव अपडेट)

    हाईकोर्ट ने जहां दिल्‍ली पुलिस के रवैये पर सख्‍त तेवर दिखाए, वहीं देश भर में लोग इस घटना के खिलाफ सड़कों पर उतर गए। बस में गैंगरेप के खिलाफ दिल्‍ली सहित देश के कई शहरों में प्रदर्शन हुए। प्रदर्शन में सैकड़ों महिलाएं शामिल हुईं। दिल्‍ली में शुक्रवार को फिररेल भवन से लेकर राष्‍ट्रपति भवन तक प्रदर्शन किए गए। जंतर-मंतर पर और नॉर्थ ब्‍लॉक के बाहर भी प्रदर्शनकारियों ने मोर्चा निकाला। राष्‍ट्रपति भवन के समीप प्रदर्शन के दौरान पश्चिम बंगाल के गर्वनर एम के नारायणन की कार का भी घेराव हुआ। खबर है कि प्रदर्शनकारियों में शामिल एक स्‍टूडेंट राष्‍ट्रपति भवन के भीतर घुस गई और उसने कहा कि वह प्रणब मुखर्जी से मिले बिना यहां नहीं हिलेगी। हालांकि पुलिस ने इस स्‍टूडेंट को वहां से निकाला और प्रदर्शनकारियों को राजपथ की ओर मोड़ने में कामयाब रही। लेकिन कुछ देर बाद महिलाएं वापस लौट गईं। वे 'बलात्‍कारियों को फांसी दो' जैसे नारे लगा रही थीं। सफदरजंग अस्‍पताल (जहां गैंगरेप की शिकार लड़की भर्ती है) के बाहर प्रदर्शन की वजह से ट्रैफिक जाम जाम हो गया। प्रदर्शनकारियों गैंगरेप की शिकार लड़की के लिए इंसाफ की मांग करते हुए दिल्‍ली पुलिस और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। इस घटना के खिलाफ इलाहाबाद, इंदौर, लखनऊ, पटना सहित देश के कई शहरों में प्रदर्शन हो रहे हैं। (जुड़ें गैंगरेप के खिलाफ हमारे अभियान से) लड़की को इंसाफ दिलाने के मकसद से आप पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल ने भी जंतर मंतर पर प्रदर्शन किया।

    यह भी पढ़ें

    प्रदर्शनकारियों को मारीं लाठियां...शनिवार का लाइव अपडेट

    युवराज ने गैंगरेप की शिकार लड़की को समर्पित किया 'मैन ऑफ द मैच'

    दिल्ली गैंग रेप: 'ब्लैक आउट इमेज', जुड़ें और विरोध में करें अपनी आवाज बुलंद

    जुड़ें गैंगरेप के खिलाफ हमारे अभियान से

    गैंगरेप: केजरीवाल करेंगे प्रदर्शन, हुई आरोपी की पहचान परेड

    गृह मंत्रालय से राष्‍ट्रपति भवन तक हाय-हाय के नारे

    गैंगरेप तो आम बात है,जरूरत से ज्‍यादा दे रहे तूल:काटजू

    दिल्ली गैंगरेप:इलाज कर रही डॉक्टर ने बयां की दरिंदगी की असली कहानी!

    हर40मिनट में एक बलात्‍कार, 25मिनट में छेड़छाड़

    गुस्से से बॉलीवुड, 'रेपिस्ट को मारो गोली,बना डालो'नपुंसक'

  • शुक्रवार को इस मामले मेंफरार बाकी आरोपियों को भी पुलिस ने पकड़ लिया। पुलिस को पीडि़त लड़की की घड़ी, उसके दोस्‍त का मोबाइल फोन भी मिल गया है। केंद्रीय गृह सचिव और दिल्‍ली पुलिस के कमिश्‍नर शुक्रवार को मीडिया से मुखातिब हुए। हालांकि वे कुछ ठोस जानकारी नहीं दे पाए।

    गृह सचिव आरके सिंह ने कहा कि इस मामले में जल्‍द से जल्‍द चार्जशीट दाखिल करने की कोशिश की जाएगी और आरोपियों के लिए उम्रकैद की सजा मांगी जाएगी। इसके बाद दिल्‍ली पुलिस आयुक्‍त नीरज कुमार ने मामले में अब तक की जांच और उठाए गए कदमों के बारे में बताया।

    केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने गुरुवार को कहा था, 'सरकार चाहती है कि आरोपियों को ऐसी सजा मिले जो अन्य लोगों के लिए सबक हो। इस तरह की घटनाओं को जल्दी कैसे भुलाया जा सकता है। ऐसी घटना मेरी बेटियों के भी साथ हो सकती थी।'

  • तीन आरोपियों के दांतों के निशान के नमूने लिए गए

    सफदरजंग अस्पताल के मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉ. बीडी अथानी ने बताया, 'लड़की के मुंह में ट्यूब लगी हुई है। उसकी आंतें निकाली जा चुकी हैं। वह मुंह से खाना नहीं खा पा रही है। ट्यूब की वजह से वह बोल भी नहीं पा रही है। वह इस वक्त आईसीयू में ही है।'

    उन्होंने बताया कि लड़की को जल्दी ही टोटल पैरेंटरल न्यूट्रीशन (टीपीएन) देना शुरू किया जाएगा। इसके जरिए नसों से पोषण दिया जाता है। डॉक्टरों के मुताबिक ठीक होने के बाद भी लंबे समय तक वह टीपीएन पर ही निर्भर रहेगी। संभावना यह भी है कि यदि छोटी आंत 100 सेंटीमीटर भी बची हो तो वह आगे चलकर सामान्य ढंग से खा-पी सकेगी।

    गैंगरेप की शिकार 23 वर्षीय लड़की उत्तराखंड के एक कॉलेज में फिजियोथैरेपी की स्टूडेंट है। दिल्ली के एक निजी अस्पताल में इंटर्नशिप कर रही है। उसके इलाज की निगरानी के लिए पांच डॉक्टरों की टीम बनाई गई है। इसके अध्यक्ष एम्स के डॉ. एससी शर्मा है।

    इस मामले की जांच कर रही पुलिस गुरुवार को टीम तीन आरोपियों को लेकर सफदरजंग अस्पताल पहुंची और वहां उनके दांतों के निशान और जबड़े के आकार के नमूने लिए गए। पुलिस इनका मिलान युवती के शरीर पर मिले दांतों के निशान से करेगी और फिर अदालत में रिपोर्ट सौंपेगी।

  • तिहाड़ में कैदियों ने की आरोपी की पिटाई

    दुष्कर्म के एक आरोपी की तिहाड़ जेल में साथी कैदियों द्वारा पिटाई करने की खबर है। जेल प्रशासन ने उसे अलग सेल में भेज दिया। पीडि़त लड़की के दोस्त ने मुकेश नामक इस आरोपी की पहचान की थी। गैंगरेप के छह आरोपियों में से मुकेश और राम सिंह के चाल-चलन से उसके माता-पिता भी आजिज आ चुके थे। मामले की जांच से जुड़े पुलिस अधिकारी के अनुसार मुकेश और राम सिंह का चाल-चलन लंबे समय से आपत्तिजनक रहा है। दोनों अक्सर शराब के नशे में अपनी मां की पिटाई करने से भी बाज नहीं आते थे। दोनों बेटों के इस बर्ताव से दुखी होकर इनके माता-पिता दिल्ली छोड़कर वापस राजस्थान चले गए थे। पुलिस अधिकारी के अनुसार हैवानियत भरे इस कृष्य को अंजाम देने वाले राम सिंह के चेहरे पर गिरफ्तार किए जाने के बाद से लेकर तिहाड़ जेल भेजे जाने तक किसी तरह का पछतावा नहीं दिखा।

  • नौ वर्ष तक दुष्कर्म का होती रही शिकार

    नई दिल्ली के नबुराड़ी थाना अंतर्गत स्थित तिमारपुर इलाके में एक ३२ वर्षीय युवती से बीते नौ वर्षों से दुष्कर्म किए जाने का मामला प्रकाश में आया। पीडि़ता का कहना है कि आरोपी माइकल जोसफ (37) ने पहले नौकरी दिलाने और फिर बाद में शादी करने का झांसा देकर लगातार उसके साथ शारीरिक संबंध बनाए। बाद में उसे पता चला कि आरोपी पहले से शादीशुदा है। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। एक अधिकारी ने बताया कि पीडि़ता का कहना है कि वर्ष 2003 में नौकरी की तलाश करते वक्त वह जोसफ से मिली थी। इस दौरान उसने कुछ नशीली चीज पिलाकर एक फ्लैट में उसके साथ दुष्कर्म किया। होश आने पर उसे युवक ने धमकी दी कि यदि वह इस बारे में किसी को बताएगी तो उसके परिवार वालों को जान से मार देगा। पीडि़ता ने पुलिस को आगे बताया कि उसने इस बारे में किसी को नहीं बताया। बाद में आरोपी ने उसे जल्द शादी करने का भरोसा दिया और लगातार उसके साथ संबंध बनाता रहा। कुछ समय पहले उसे पता चला कि वह शादीशुदा है।

  • स्कूल जाने वाली लड़कियों का ज्यादा उत्पीडऩ

    राजधानी दिल्ली में सबसे ज्यादा शारीरिक और मौखिक उत्पीडऩ की शिकार स्कूल जाने वाली मासूम लड़कियां बनती हैं। महिला अधिकारों पर काम करने वाली अंतरराष्ट्रीय संस्था यूएनवीमन ने अपनी ताजा रिपोर्ट में खुलासा किया है कि लगभग 86 प्रतिशत स्कूल जाने वाली लड़कियों को मौखिक उत्पीडऩ का सामना करना पड़ता है। राजधानी में सबसे ज्यादा शारीरिक उत्पीडऩ की शिकार भी स्कूली छात्राएं ही बन रही हैं। भले वसंत विहार रेप केस में पीडि़ता को एक खाली सड़क से उठाकर कुकर्म किया गया हो, लेकिन दिल्ली में सबसे ज्यादा उत्पीडऩ के मामले भीड़-भाड़ वाले मार्केट और मेट्रो स्टेशनों में ही होता है। 'सेफ सिटीस फ्री ऑफ वायलेंस अगेंस्ट वीमन एंड गल्र्स इनिशिएटिव' नाम से जारी इस रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली में 15-19 वर्ष की स्कूल जाने वाली लड़कियां सबसे ज्यादा विभिन्न उत्पीडऩ की शिकार होती हैं। औसतन 41 प्रतिशत स्कूली छात्राएं शारीरिक उत्पीडऩ की शिकार हो रही हैं। ये संख्या दिल्ली में अन्य महिलाओं के साथ होने वाले शारीरिक उत्पीडऩ दर से कहीं ज्यादा है। रिपोर्ट के अनुसार, दिल्ली के स्कूल और कॉलेज जाने वाली औसतन 87 प्रतिशत किशोरियां पर अश्लील इशारे और टिप्पणियां की जाती हैं।

  • प्रताडि़त महिलाओं के लिए कम ही बढ़ते हैं मदद के हाथ

    दिल्ली की महिलाएं पुलिस पर विश्वास करना लगभग खत्म कर चुकी हैं। यूएनवीमन रिपोर्ट के अनुसार मात्र 0.8 प्रतिशत महिलाएं ही पुलिस के मदद के लिए बुलाती है। जबकि 50-60 फीसदी महिलाएं अपने परिवार या दोस्तों को मदद के लिए बुलाती है। सबसे दर्दनाक बात यह है कि छेडख़ानी की वारदात देखते हुए भी दिल्ली के लगभग 66 प्रतिशत लोग मदद के लिए सामने आने की बजाए मामले को नजरअंदाज करने को तरजीह देते हैं।

  • भास्कर मुद्दा देश को इस गुस्से का अंजाम चाहिए

    देशभर से लोग आए साथ। दैनिक भास्कर को मिले 5 हजार से ज्यादा एसएमएस। फेसबुक पर 14 हजार से ज्यादा लोग इसमें शामिल हुए। पंजाब, हरियाणा, मप्र, छत्तीसगढ़, दिल्ली, झारखंड, महाराष्ट्र और राजस्थान के बड़े अफसरों ने कहा बदलाव का बड़ा मौका।

    8 राज्य बड़े कदम उठाने की तैयारी में :

    दिल्ली की घटना पर भास्कर महाअभियान को आठ राज्यों का साथ मिला है। मध्यप्रदेश, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, झारखंड, छत्तीसगढ़, दिल्ली और महाराष्ट्र ने महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों को लेकर गंभीरता दिखाई है। इन घटनाओं को रोकने के लिए सरकारी तंत्र और पुलिस में विभिन्न स्तरों पर विचार और प्रक्रिया शुरू कर दी है। दिल्ली सरकार ने वसंत विहार गैंगरेप के बाद उपजे जनाक्रोश के बाद कार्रवाई के लिए कई कदम उठाए हैं। दिल्ली सरकार मुसीबत में फंसी महिलाओं के लिए 24 घंटे का नियंत्रण कक्ष स्थापित करेगी। जो एक खास नंबर के साथ दिल्ली सचिवालय के मुख्यमंत्री कार्यालय में शुरू होगा। 31 दिसंबर से पहले इसे चालू करने की डेडलाइन तय की गई है। अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल इंदिरा जयसिंह को महिलाओं के यौन उत्पीडऩ और दुव्र्यवहार के खिलाफ कानून को और सख्त बनाने का मसौदा तैयार करने का जिम्मा सौंपा गया है। इस मसौदे को अंतिम रूप देकर कानून बनाने से पहले सभी संबंधित पक्षों से परामर्श करने का फैसला भी लिया गया है। सरकार राजधानी में महिलाओं की सुरक्षा और गरिमा की रक्षा के लिए जोरदार अभियान छेड़ेगी इसके लिए दिल्ली महिला आयोग को नोडल एजेंसी के तौर पर काम करने का जिम्मा सौंपा गया है। इस अभियान को विश्वविद्यालय स्तर पर पहुंचाने के लिए सरकार एनएनएस को अपने साथ जोड़ेगी। पुलिस को ज्यादा जवाबदेह बनाने की दिशा में कार्रवाई करते हुए सरकार ने पुलिस को अपना प्रोटोकॉल वेबसाइट और जिला प्रशासन कार्यालयों में उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।

  • राजस्थानमें स्कूल-कॉलेजों के बाहर पुलिसकर्मी तैनात किए जाएंगे। सरकारी बसों में सशस्त्र गार्ड को तैनात किया जाएगा। मध्यप्रदेश में महानगरों में आईजी के नेतृत्व में महिला सेल बनाए गए हैं। महिलाओं के अपराधों को रोकने के लिए एडीजीपी के नेतृत्व में अलग से सेल बनाया है। हरियाणा में महिलाओं के विरुद्ध अपराध रोकने के लिए एडीजीपी रैंक के अधिकारी को नियुक्त किया गया है। पंजाब में तीन हजार महिलाओं की भर्ती की गई है।

    वहीं, छत्तीसगढ़में सरकार ने सादे ड्रेस में पुलिसकर्मियों को प्रमुख चौराहों और बाजारों में तैनात करने के निर्देश दिए हैं। झारखंड में जिन जिलों में छेडख़ानी रोकने के लिए सेल हैं, उन्हें सक्रिय किया जाएगा। उधर, महाराष्ट्र सरकार ने केंद्र से दुष्कर्म संबंधी कानून को सख्त बनाने की मांग की है।

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: Delhi Gang rape: assault on accused of gang rape in tihar jail
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top