» Delhi Gange Rape :Here, Civil Society's Response To This Phenomenon Of Extreme Vandalism

जानिए, चरम बर्बरता की इस घटना पर सभ्य समाज की प्रतिक्रिया

Bhaskar News | Dec 19, 2012, 00:18 IST

  • नई दिल्ली.दिल्ली में रविवार की रात एक लड़की से चलती बस में हुए दुष्कर्म का मामला संसद के दोनों सदनों में मंगलवार को जोर-शोर से उठा।

    सांसदों का आक्रोश चरम पर था। इस बर्बर घटना का निंदा करते हुए कई सदस्यों ने तो दुष्कर्म के दोषियों को फांसी पर चढ़ाने की मांग कर डाली। इनमें लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज प्रमुख थीं।

    सांसदों के गुस्से को देखते हुए केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने राज्यसभा में एलान किया कि दिल्ली की घटना के मामले में फास्ट ट्रैक कार्रवाई होगी। भविष्य में ऐसी घटनाएं रोकने के लिए सरकार सभी जरूरी प्रावधान भी करेगी।


    उधर, दिल्ली की सड़कों पर भी प्रदर्शन हुए। युवतियों और महिलाओं ने आरोपियों पर कड़ी कार्रवाई करने की मांग की। दिल्ली सरकार के खिलाफ भी नारे लगाए। लोकसभा में भाजपा के शाहनवाज हुसैन ने मामला उठाया। उन्होंने प्रश्नकाल रोक कर इस मसले पर चर्चा कराने की मांग की।

    दूसरे सदस्यों ने भी उनका समर्थन किया। मामला अध्यक्ष मीरा कुमार के आश्वासन के बाद शांत हुआ। घटना का जिक्र करते हुए लोकसभा अध्यक्ष भावुक हो गईं। उन्होंने कहा, 'यह जघन्य अपराध है। इसकी जितनी निंदा की जाए कम है। मैं आपको शून्य काल में यह मामला उठाने का मौका दूंगी।'


    राज्यसभा में भाजपा के एम. वेंकैया नायडू ने मसला उठाया। कहा कि उनकी पार्टी ने प्रश्नकाल रोकने का नोटिस दिया है। ताकि चर्चा कराई जा सके। इसके बाद सभापति हामिद अंसारी की इजाजत से भाजपा सदस्य माया सिंह ने बयान दिया। उन्होंने गृह मंत्री के बयान की मांग की। कहा कि घटना से सभी सीमाएं पार हो गई हैं।

    आगे पढ़िए, चरम बर्बरता की इस घटना पर सभ्य समाज की प्रतिक्रिया...

  • रो पड़ीं जया बच्चन :


    राज्यसभा में सपा सांसद जया बच्चन दिल्ली की घटना का जिक्र करते हुए रो पड़ीं। उन्होंने कहा कि दुष्कर्म की घटनाओं पर सरकार कुछ नहीं कर सकती तो जनता को सौंप दें। यह घटना पूरे समाज का सिर शर्म से झुका देने वाली है।

    परमिट देने से पहले बस स्टाफ के चाल-चलन की जांच कराई जानी चाहिए। सड़कों पर पुलिस पेट्रोलिंग वैन और पुलिस जांच केंद्रों की संख्या भी बढ़ाई जाए।
    कृष्णा तीरथ, केंद्रीय मंत्री

    सख्त सजा के पक्ष में छात्र-छात्राएं

    ऐसे दरिंदों के साथ भी वैसा ही बर्ताव करना चाहिए जैसे उसने उस मासूम लड़की के साथ किया।
    अनुपम, एमफिल की छात्रा, मिरांडा हाउस
    महिलाओं के साथ लगातार हो रहे मानसिक और शारीरिक अपराध के खिलाफ या तो सरकार कठोर से कठोर दंड दे, वर्ना नक्सली कानून राजधानी में भी चलेगा।
    मधु सिन्हा, पीएचडी की छात्रा, एलएसआर
    ऐसे दरिंदों के लिए तो मौत की सजा भी कम है। सजा की ऐसी मिसाल पेश की जाए कि भविष्य में कोई भी लड़की पर गलत नीयत डालने की हिम्मत न करे।
    रोहित चहल, डीयू छात्रसंघ
    हर सजा पब्लिक में मिलना चाहिए जिससे ऐसी घटना दोबारा करने से पहले कोई भी अपराधी लाख बार सोचे।
    गायत्री दीक्षित, छात्रा, डीयू
    जरूरी यह है कि रेप केस को कैसे रोका जाए इस पर सख्त कानून बनाए जाएं और जल्द निर्णय हो।
    लेनिन कुमार, जेएनयू यूनियन अध्यक्ष
    अपराधियों को ऐसी सजा मिले कि वह जिंदगी तो जिएं लेकिन जिंदा लाश बनकर। तिल-तिल कर जिएं और मरते दम तक अपनी करनी की सजा भुगते।
    अभिषेक, छात्र हिंदू कॉलेज
    अपराधियों को ऐसी जिंदगी दो कि उसके लिए एक एक मिनट जीना भारी पड़े। मौत तो बहुत छोटी सजा है इनके लिए।
    राखी, छात्रा, जेएनयू
    अपराधियों को सार्वजनिक रूप से 15 दिन के भीतर सख्त सजा दी जाए। लड़की के साथ र्दुव्‍यवहार करने की सजा अपराधियों के जेहन से न निकल सके।
    देवाशीष, छात्र, सेंट स्टीफेंस कॉलेज
    अमानवीय लोगों के साथ मानवता दिखाना पीड़िता के साथ अन्याय होगा। कानून प्रक्रिया में बदलाव हो और सरकार ऐसे मामलों पर सख्त से सख्त कदम उठाए।
    पल्लवी शुक्ला, शिक्षिका
  • शिंदे के मुताबिक दिल्ली में महिलाओं की सुरक्षा के लिए ये होंगे इंतजाम...

    • सभी सड़कों पर पीसीआर वैन तैनात की जाएगी।
    • बीपीओ और कॉल सेंटर में काम करने वाली महिलाओं के लिए विशेष मार्गों का इस्तेमाल किया जाएगा।
    • सभी कॉल सेंटरों व बीपीओ को निर्देश दिए गए हैं कि नाइट शिफ्ट में अपने यहां काम करने वाली महिलाओं के लिए कैब की व्यवस्था करें।
    • कैब से महिलाकर्मियों को उनके घर के दरवाजे तक छोड़ा जाए।
    • महिलाओं के लिए तीन नई हेल्प लाइन शुरू की जा रही है।
  • पुलिस की गलती हुई तो कार्रवाई होगी: शिंदे


    शिंदे ने कहा, 'सामूहिक दुष्कर्म मामले में समूची कार्रवाई फास्ट ट्रैक पर होगी। पुलिस के स्तर पर कोई गलती पाई गई तो उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।'

    शिंदे ने कहा कि दिल्ली में महिलाओं की सुरक्षा के उपाय किए जा रहे हैं। केंद्रीय गृहसचिव के नेतृत्व में एक स्पेशल टास्क फोर्स का गठन किया जा रहा है। इसके लिए सदस्य अपने सुझाव दे सकते हैं।

  • पीडि़त युवती की हालत अब भी गंभीर :


    पीडि़ता की हालत अब भी गंभीर है। उसका सफदरगंज अस्पताल में इलाज चल रहा है। अस्पताल अधीक्षक बीडी नथानी ने बताया कि छात्रा को अगले 72 घंटों के लिए डॉक्टरों की देखरेख में रखा गया है। उसकी हालत सोमवार से बेहतर है। लेकिन उसकी चोटों को देखते हुए यह नहीं कहा जा सकता है कि वह खतरे से बाहर है।

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: Delhi gange rape :Here, civil society's response to this phenomenon of extreme vandalism
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top