Home »Election 2013 »Rajasthan »News» Election Poll Result

survey: अगर है नियत में खोट तो जनता नहीं देगी वोट, जाने सच!

dainikbhaskar.com | Nov 12, 2013, 00:01 IST

  • इलेक्शन डेस्क। पांच राज्य और चुनावी गहमा-गहमी। सभी राजनीतिक दल वोटर्स को लुभाने के भरसक प्रयास कर रहे हैं। लुभावने वादों की फेहरिस्त जनता के सामने पेश कर रहे हैं। हर राजनीतिक दल अपने नेताओं को जनता का सबसे बड़ा मसीहा बताने में लगा है। लेकिन इस बार जनता बहकावों में आने वाली नहीं है। जनता तय कर चुकी है कि वह वोट किस आधार पर देगी। दैनिक भास्कर डॉट कॉम ने पांचों राज्यों (मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, दिल्ली और मिजोरम) के चुनावी महासंग्राम पर आधारित पोल डिबेट करवाया।
    इनमें पांचों राज्यों में चुनावी मुद्दों पर आधारित सवाल पूछे गए जिसके जवाब यह स्पष्ट करते हैं कि जनता को विकास चाहिए। जनता किसी भी तरह से राजनीतिक मुद्दों और विवादों को आधार मानकर वोट नहीं देना चाहती, वह वोट सिर्फ उसी को देगी जो मूलभूत सुविधाओं को पूरा करने का पक्का वादा करे।
    पोल डिबेट शनिवार से शुरू किया था जिसके सोमवार तक के नतीजों के आधार पर हम आपको बता रहे हैं कि आखिर जनता अपने एक वोट के बदले क्या चाहती है। आगे की स्लाइड में क्लिक कीजिए और जानिए किस राज्य के लिए क्या है जनता की राय...
  • मध्यप्रदेश
    पिछले दो चुनावों से मध्यप्रदेश में भाजपा की सरकार आ रही है। इस बार भी भाजपा पूरा जोर लगा रही है सत्ता में बने रहने का वहीं कांग्रेस की कोशिश सत्ता में लौटने की है। हालांकि पिछले दो सालों में भाजपा के नेता, विधायक और मंत्री कई तरह कई तरह के स्कैण्डल्स में फंसे। लिहाजा आगामी चुनाव को लेकर कांग्रेस के पास यह बहुत बड़ा मुद्दा है। इसे वह जनता के सामने बार-बार पेश कर बीजेपी को सत्ता से निकाल फेंकने की अपील कर रही है। लेकिन जब हमने जब पोल के माध्यम से सवाल पूछा कि ‘मध्यप्रदेश में सबसे बड़ा चुनावी मुद्दा किसे मनाते हैं?’। इसके तीन विकल्पों में सबसे ज्यादा 61 प्रतिशत वोल लोगों ने मूलभूत समस्याओं को बताया। यानी जो मूलभूत समस्याओं से छुटकारा दिलाने में सक्षम है वहीं सरकार प्रदेश के लायक है। दूसरे नंबर पर 32 प्रतिशत लोगों ने भूमाफिया पर वोट किया यानी प्रदेश में भूमाफियाओं की बढ़ती गतिविधियों से जनता परेशान है और 32 प्रतिशत लोग ये मानते हैं कि वोट पाने का अधिकार उसी पार्टी को है जो इस समस्या से निजात दिला सके। वहीं महज 7 प्रतिशत लोग ये मानते हैं कि नेताओं का सेक्स स्कैंडल में फंसना चुनावी निर्णय पर प्रभाव डाल सकता है।
  • दिल्ली
    देश की राजधानी दिल्ली में वर्तमान में कांग्रेस की सरकार है। शीला दीक्षित 1998 से दिल्ली की मुख्यमंत्री हैं। दिल्ली की जनता ने लंबे समय से कांग्रेस पर अपना भरोसा जताया है। लेकिन पिछले दो सालों में भ्रष्टाचार और महंगाई का मुद्दा गर्मा गया है। चारो ओर से महंगाई कम करने और भ्रष्टाचार को मिटाने की आवाज उठ रही है। इसी मुद्दे को सबसे उपर रखते हुए आम आदमी पार्टी दिल्ली विधानसभा चुनाव से अपनी राजनीतिक शुरुआत कर रही है। हमने पोल में सवाल किया ‘आपकी नजर में इस बार दिल्ली में कौनसा मुद्दा हो सकता है टर्निग प्वाइंट’। इसके जवाब में करीब 44 प्रतिशत लोगों ने महंगाई को बताया वहीं 42 प्रतिशत लोगों ने भ्रष्टाचार को बताया। करीब 14 प्रतिशत लोगों ने बिजली व पानी को टर्निग प्वाइंट बताया।
  • राजस्थान
    राजस्थान में वर्तमान में कांग्रेस की सरकार है। अशोक गहलोत वहां के मुख्यमंत्री हैं। इस चुनाव को जीतकर बीजेपी सत्ता में वापसी करना चाहती है। लिहाजा जनता के सामने कांग्रेस की कमी और सुनहरे वादे कर रही है। वहीं कांग्रेस अपनी उपयोगिताओं को गिनाने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है। लेकिन जनता इन सबसे परे मूलभूत सुविधाओं को प्राथमिकता देगी। हमने पोल में सवाल किया था कि ‘राजस्थान की जनता के रूप में आपके लिए सबसे अधिक क्या महत्वपूर्ण है’। इसके जवाब में करीब 48 प्रतिशत लोगों ने महंगाई से छुटकारा को चुना वहीं 44 प्रतिशत लोग रोजगार को प्राथमिकता दे रहे हैं। वहीं 11 प्रतिशत लोगों के लिए सड़क और पानी सबसे महत्वपूर्ण है।
  • छत्तीसगढ़
    छत्तीसगढ़ में भाजपा का शासन है। रमन सिंह यहां के मुख्यमंत्री हैं। हमने पोल में पूछा था कि ‘कांग्रेस की सरकार आई तो इनमें से कौन बनेगा मुख्यमंत्री?’ इसके जवाब में करीब 43 प्रतिशत लोग मानते हैं कि अजीत जोगी मुख्यमंत्री बनेंगे वहीं 43 प्रतिशत लोग मानते हैं कि चरणदास महंत की होगी ताजपोशी। महज 14 प्रतिशत लोगों का मानना है कि मोतीलाल वोरा मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठेंगे।
  • मिजोरम
    यहां पर वर्तमान में कांग्रेस की सरकार है। पोल डिबेट के हमने पूछा था कि ‘मिजोरम में कौन सा मुद्दा तय करेगा किसकी बनेगी सरकार ?’ इसके जवाब में करीब 43 प्रतिशत लोगों ने अवैध आप्रवास को चुना। वहीं 31 प्रतिशत लोगों ने भ्रष्टाचार और 26 प्रतिशत लोगों ने बेरोजगारी को चुनावी मुद्दा बताया।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: election poll result
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top