Home »Khabre Zara Hat Ke »Weird World» 10 Weirdest Medical Syndromes

सेक्सोमेनिया डिसऑर्डर: ऐसी 10 समस्याएं, जो बनी हुई हैं जिंगदगी की बड़ी परेशानी!

dainikbhaskar.com | Jul 21, 2013, 00:07 IST

  • जिंदगी है, तो समस्याएं भी हैं और यह जीवन जितना तेजी से बढ़ता जा रहा है समस्याएं भी उतनी बड़ी होती जाती हैं। हकीकत यह है कि हमने भी तो अपनी जिंदगी को क्रत्रिम बना लिया है। वक्त पर सोना न खाना ऐसे सैकड़ों काम हैं, जिनके रुटीन बिगड़ने का कारण पनप गए हैं इंसान में कई तरह के डिसऑर्डर। आज हम रात को फोन पर बात करके सोते हैं, लैपटॉप पर नेट और फेसबुक की दुनिया में खोने के बाद गुड नाइट कहते हैं और पलंग पर खाते हैं और गाड़ियों में फोन पर बतियाते हैं, तो ऐसे में तो यह होना ही था।
    आइए आपको ऐसे कुछ डिसऑर्डर के बारे में बारे बताते हैं, जिनसे कोई न कोई कहीं न कहीं जूझ ही रहा है। कहीं आप भी तो इनमें से किसी के शिकार नहीं चैक कीजिए अगली स्लाइड में..

    ये भी पढि़ए

    जब कैलेंडर में हों ऐसी तस्वीरें, तो फिर कौन देखेगा तारीख

    19 तस्वीरों में: 600 साल का दूल्हा, जबकि दुल्हन 60 की भी नहीं!

    आंखें चौंधियां जाएंगी देखकर यहां की अजीबोगरीब दुनिया!

    आती हैं डरावनी आवाजें, बजता है संगीत: इस झील में कुछ तो है!

    17 तस्वीरों में: नहाते हुए खिंची जब इनकी तस्वीरें, तो हुए शर्म से पानी-पानी

  • सेक्सोमेनिया डिसऑर्डर
    इस तरह के डिसऑर्डर में लोग रात को गहरी नींद में अकेले या किसी पार्टनर के साथ सेक्स क्रिया में मशगूल रहते हैं याद रखिए हकीकत में नहीं सपने में। ये भी उसी तरह से जिस तरह से किसी को नींद में चलने और बात करने की बीमारी होती है ठीक इस तरह स्वप्र में सेक्स भी होता है। इसे एक नए तरह के सिंड्रोम के रूप में माना गया है और आधिकारिक तौर पर 2003 में पहली बार इसे पहचाना गया था और रेप आदि मामलों के लिए भी ये जिम्मेदार माना जाए तो गलत नहीं होगा।
  • फिश ऑडर सिंड्रोम
    फिश ऑडर यानी मछली की दुर्गंध आने की एक समस्या जो बहुत ही दुर्लभ मेटाबॉलिक डिसऑर्डर की श्रेणी में आता है और शरीर में एक विशिष्ट एंजाइम ट्राइमेंथीलेमाइन के प्रोडक्शन में विसंगति का नतीजा होता है। यह भोजन के ठीक से न पचने के कारण भी होता है और एक कंपाउंड इस कारण से बनता है और पीडि़त के पसीने के रूप में बाहर निकलता है। मूत्र, सांस आदि में भी फिर पीडि़त को मछली जैसी गंध आने लगती है और उसकी स्थिति पागलों जैसी हो जाती है।
  • दिमाग फटने का सिंड्रोम
    इसे तकनीकी भाषा में एक्सप्लोडिंग हेड सिंड्रोम कहा जाता है और यह ठीक नींद की भयानक गड़बडिय़ों से जुड़ी समस्या से मिलता जुलता है। इसके तहत पीडि़त को किसी धमाके जैसी आवाजें नींद के दौरान आती हैं। इस तरह की आवाजों में शेर के दहाडऩे जैसी आवाजें, बंदूक की गोली चलने का आभास होना, चीखने की आवज आना कुछ बजना और इलेकिट्रकल बजिंग भी पीडि़त के लिए समस्या का बड़ा कारण होती हैं। इसमें पीडि़त शारीरिक रूप से किसी चोट का शिकार नहीं होता, लेकिन उसमें चोट लगने या किसी हमले का डर भी बैठ जाता है। यह किसी काम के दाबाव या तनाव से जुड़ी हुई स्थिति भी मानी जाती है।
     
  • फॉरेन एसेंट सिंड्रोम
    यह एक स्पीच डिसऑर्डर होता है और प्राय: यह नतीजा होता है किसी दिमागी चोज का जैसे की किसी स्ट्रोक या ट्रॉमा में ऐसा होता है। इसे छोटे रूप में एफएएस भी कहा जाता है और इसमें पीडि़त का स्पीच पैटर्न बदल जाता है और इसके बोलने व उच्चारण करने की क्षमता बुरी तरह से प्रभावित होती है। पीडि़त अचाक विदेशियों की तरह फॉरेन एसेंट में बोलने लगता है। यह किसी दिमागी चोट के लगभग दो साल बाद पीडि़त में जन्म लेने वाली बीमारी है।
     
  • नॉन-24-हॉवर स्लीप-वेक सिंड्रोम
    नॉन-24-हॉवर स्लीप-वेक सिंड्रोम नींद के बिगडऩे से जुड़ी समस्या कानाम है।  यह एक पुराना रोग कहा जा सकता है, जिसमें पीडि़त की नींद में 2 घंटे का अंतर आ जाता है और जागने पर भी यही होता है। वह अन्य लोगों की तुलना में 2 घंटे देरी से सोता है और 2 घंटे देरी से जागता है। यही नहीं उसकी बॉडी क्लॉक भी गड़बड़ा जाती है। यह दिन में अधिक परिश्रम करने थकान और नींद के झोंके आने का नतीजा भी होती हैं। यह न्यूरोलॉजिकल स्लीप डिसऑर्डर भी माना जाता है और आनुवांशिक कारणों से भी इस समस्या में दिमाग पर असर होता है। यह नेत्रहीन लोगों की तुलना में आंखों वालों को ज्यादा होने वाली समस्या है।
     
  • गुप्तांगों का सिंड्रोम
    गुप्तांगों के छोटे होने का सिंड्रोम भी कई लोगों में व्याप्त हो जाता है और पुरुषों की बात करें, तो उनमें अपने लिंग को लेकर इस तरह का डर व्याप्त हो जाता हंै। उन्हें लगने लगता है कि उनका लिंग पीछे की ओर धंस रहा है। वे अपने आपको सबसे अलग-थलग मानने लगते हैं। वहीं महिलाओं में अपने स्तनों के आकार को लेकर यह परेशानी आती है और छोटे आकार के स्तनों वाली महिलाएं या तो खुद को आईने में देखती रहती हैं या फिर अपने स्तनों को टटोलती रहती हैं। इस समस्या को जेनेटल रिट्रेक्शन सिंड्रोम कहा जाता है। ऐशिया और अफ्रीका में पेनिस पेनिक सिंड्रोम बहुत ज्यादा चर्चित है। यह एक मेंटल कंडीशन होती है और प्राय: इसके तहत लोग काले जादू और अन्य तरह के अंधविश्वासों में भी पड़ जाते हैं।
     
  • लगती है जब बहुत ज्यादा भूख
    इस तरह की विकृति में आदमी को बहुत ज्यादा भूख लगती है और हमेशा कुछ अच्छा और स्वादिष्ट खाने को मन करता रहता है। प्राय: यह उन लोगों को होती है जिनके दिमाग के दाएं हिस्से में कोई चोट लगी हो। इस चोट के बाद ये अधिकतर लजीज व्यंजनों के लिए जुनूनी हो जाते हैं। यह ज्यादा नुकसानदायक तो नहीं है, लेकिन पीडि़त के बटुए पर भारी पड़ती है। 
     
  • मुर्दा होने का भ्रम
    इस सिंड्रोम के तहत पीडि़त को ऐसा विश्वास हो जाता है कि जैसे वह मर चुका है और मुर्दा है। साथ ही पीडि़त को ऐसा लगता है जैसे, उसका कोई अस्तित्व ही नहीं हो। यहां तक की उसको लगने लगता है कि उसके शरीर के अंग ही नहीं बचे और तन में खून ही नहीं है। इसे वॉकिंग कोप्र्स सिंड्रोम तकनीकी भाषा में कहा जाता है। यह अवस्था पीडि़त में रुक-रुक कर प्रकट होती है। 
     
  • बिजी लाइफ सिंड्रोम
    इससे हर कोई पीडि़त हो सकता है, क्योंकि आजकल इतनी ज्यादा व्यस्तताएं बढ़ गई हैं कि इस तरह का सिंड्रोम होना आम है। इसके तहत व्यक्ति चीजों को भूलने लगता है और परेशान होता रहता है। घर-दफ्तर हर 
    जगह इसके कारण उसकी समस्याएं बढ़ती जाती हैं और उसका परफॉर्मेंस भी दोनों स्तर पर बिगडऩे लगता है।
     
  • चेहरा नहीं घुमा पाते
    इस तरह का सिंड्रोम जन्मजात होता है और इससे पीडि़त अपने चेहरे को घुमा पाने में असमर्थ होते हैं। यहां तक की वे हंसने, पलकों को झपकाने किसी चीज को चूसने आदि क्रियाओं में भी असमर्थ होते हैं। श्वसन तंत्र की समस्याएं, उच्चारण और कुछ निगलने की परेशानी, दृष्टि दोष, अंगों की संवेदानाओं में कमी, नींद बिगडऩा और शरीर के ऊपरी हिस्से में कमजोरी भी ऐसे पीडि़तों में मौजूद हाती है और इसे तकनीकी भाषा में मोएबियस सिंड्रोम कहते हैं।
     
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: 10 Weirdest Medical Syndromes
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Weird World

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top