Home »Gujarat »Ahmedabad » Political Chanakya Amit Shah History

जानें, एक शेयर ब्रोकर किस तरह से बन गया भारत की वर्तमान राजनीति का ‘चाणक्य’

dainikbhaskar.com | Oct 26, 2016, 12:43 PM IST

अमित शाह मोदी के संकटमोचन।

अहमदाबाद। भारत के इतिहास में रणनीतिकारों में चाणक्य का नाम सबसे ऊपर लिया जाता है। चाणक्य के विषय में सभी जानते हैं कि उन्होंने भरी सभा में नंदवंश के खात्मे का संकल्प लिया था और चंद्रगुप्त मौर्य को शासन बनाकर उसे कर दिखाया। इसके बाद भारतीय राजनीति में चाणक्य के रूप में वल्लभ भाई पटेल का नाम लिया जाता है। उनकी ही सूझबूझ से देश के 500 से अधिक स्व-शासी प्रांतों का भारत में विलय हुआ था। इस रक्तहीन विलय संधि वैश्विक इतिहास में कभी देखने को नहीं मिली। सरदार पटेल नहीं बन पाए आजाद भारत के चाणक्य...
सरदार पटेल आजाद भारत या आधुनिक भारत के चाणक्य नहीं बन पाए। क्योंकि आजादी के तीसरे साल में ही उनका निधन हो गया। वे चाणक्य की तरह नीतियों-सिद्धांतो से कहीं अधिक व्यावहारिकता पर जोर देते थे। इससे सरदार पटेल आधुनिक भारत के बिस्मार्क कहलाए।
वर्तमान राजनीति में धूमकेतू की तरह उभरता नाम
वर्तमान राजनीति में एक धूमकेतू की तरह उभरता नाम अमित शाह का है। जो कुशल राजनीतिक रणनीतिकार भी हैं। उनमें संगठन भी क्षमता भी है। अभी तक अमित शाह की चुनाव रणनीति असरकारक साबित हुई हैं। बेशक वे 2014 के चुनाव के नायक नहीं थे, पर आगे जाने पर वे लोगों के नायक बन गए, इसमें कोई दो मत नहीं। वे स्वयं को नरेंद्र मोदी का सिपाही मानते हैं। अमित शाह भाजपा के सफल अध्यक्ष हैं। लोकसभा चुनाव में भाजपा को बहुमत दिलाने वाले नरेंद्र मोदी के संकटमोचन अमित शाह के खिलाफ जितने षड्यंत्र रचे गए, शायद ही किसी के खिलाफ रचे गए होंगे। बहुत कम लोगों को मालूम होगा कि वाराणसी से नरेंद्र मोदी को चुनाव लड़ाने का निर्णय अमित शाह का ही था। वे नरेंद्र मोदी सरकार में सबसे छोटी उम्र के गृह राज्य मंत्री बने। अभी तक वे छोटे-बड़े 42 चुनाव लड़ चुके हैं। इसमें से एक में भी उन्हें हार का सामना नहीं करना पड़ा है।
मुम्बई के एक व्यापारी के यहां हुआ जन्म
अमित शाह का जन्म 22 अक्टूबर 1964 को महाराष्ट्र के मुम्बई में एक व्यापारी के घर हुआ था। गुजरात के एक सम्पन्न परिवार से हैं। उनका पैतृक गांव माणसा है। महेसाणा में प्राथमिक शिक्षा के बाद वे अहमदाबाद आए। यहां से उन्होंने बायोकेमिस्ट्री की पढ़ाई की। पढ़ाई पूरी करने के बाद वे पिता का व्यवसाय संभालने लगे। 20 साल की छोटी उम्र में उन्होंने पीवीसी पाइप बनाने की छोटी-सी फैक्टरी शुरू की। वे गुजरात में सिंचाई के लिए पाइप बनाने वाले पहले उद्यमी थे। इसके बाद उन्होंने शेयर बाजार में पैसा लगाया।
पहली बार जुड़े आरएसएस से
आरएसएस की कार्यप्रणाली से वे काफी प्रभावित थे। आरएसएस के वरिष्ठ स्वयंसेवक रतिभाई पटेल 80 के दशक की शुरुआत में अमित शाह को साइकिल पर बिठाकर ले जाते थे। अमित शाह हमेशा अपने साथी कार्यकर्ताओं की मदद करने के लिए तैयार रहते। नरेंद्र मोदी से अमित शाह की पहली मुलाकात आरएसएस की शाखा में ही हुई। यहीं उन्होंने नरेंद्र मोदी से भाजपा में जोड़ लेने की इच्छा व्यक्त की। तब नरेंद्र मोदी उन्हें तत्कालीन प्रदेशाध्यक्ष शंकर सिंह वाघेला के पास ले गए। उनका परिचय देते हुए मोदी ने कहा था- ये अमित शाह हैं, प्लास्टिक के पाइप बनाने का धंधा करते हैं। अच्छे बिजनेसमेन हैं। इन्हें पार्टी का थोड़ा काम दो। इस तरह से अमित शाह भाजपा से जुड़ गए। 1990 के चुनाव में अमित शाह ने चुनाव की जवाबदारी निभाने की इच्छा व्यक्त की। उन्होंने कहा कि यहां आडवाणी जी भले ही कदम न रखें, पर मैं उन्हें जितवा दूंगा। उनके इस आत्मविश्वास से नरेंद्र मोदी काफी प्रभावित हुए। उस सीट की चुनावी बागडोर अमित शाह के हाथ में आ गई। इस चुनाव के बाद अमित शाह का कद बढ़ गया।
1996 में फिर मिला अवसर
1996 में एक बार फिर अमित शाह को फिर यह अवसर मिला। इसके बाद अमित शाह एक छोटे नेता की छवि से बाहर आ गए। अब वे एक ऐसे नेता के रूप में सामने आए, जो चुनाव-प्रबंधन में माहिर है। गुजरात में बैंकों से लेकर दूध तक जुड़ी को-ऑपरेटिव्ह संस्थाओं पर कांग्रेस का कब्जा था। अमित शाह ने इन संस्थाओं पर भगवा फहराने की शुरुआत की। 1998 में अमित शाह अहमदाबाद जिला को-ऑपरेटिव्ह बैंक के चेयरमेन बने। 2004 में अहमदाबाद के बाहर के क्षेत्र में एक फर्जी एनकाउंटर में 19 वर्षीय इशरत जहां, जीशान जोहर और अमजद अली राणा के साथ प्रणेश की हत्या हो गई। गुजरात पुलिस ने यह दावा किया कि गोधरा के दंगों का बदला लेने के लिए ये लोग गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को मारने के लिए आए थे। इस मामले में गोपीनाथ पिल्लई ने कोर्ट से अपील की कि अमित शाह को भी आरोपी बनाया जाए। इसके बाद 15 मई 2014 को सीबीआई ने पर्याप्त सबूत के अभाव में पिल्लई के आवेदन को अस्वीकार कर दिया। एक समय ऐसा भी आया, जब सोहराबुद्दीन शेख के फर्जी एनकाउंटर के मामले में उन्हें 25 जुलाई 2010 को अरेस्ट भी कर लिया गया। उन पर आरोप था कि इस फर्जी एनकाउंटर में उनका भी हाथ है। इस संबंध में सबसे बड़ा खुलासा उनके खास रह चुके गुजरात पुलिस के सस्पेंडेड अधिकारी डीजी वंजारा ने किया।
दिल्ली का रास्ता लखनऊ से होकर जाता है
भारतीय राजनीति में एक कहावत है कि दिल्ली का रास्ता लखनऊ से होकर जाता है। नेहरू से लेकर अटल बिहार वाजपेयी के शासनकाल तक यह कहावत भारतीय राजनीति में सही साबित हुई। देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू स्वयं इलाहाबाद से जीतकर आए थे। अमित शाह ने 12 जून 2013 को भाजपा का उत्तर प्रदेश का प्रभारी बनाया गया। तब उत्तर प्रदेश में भाजपा की केवल 10 सीटें थीं। अमित शाह के संगठन का कौशल और नेतृत्व क्षमता का पता तब चला जब सोलहवीं लोकसभा का चुनाव परिणाम आया, जिसमें उत्तर प्रदेश की 71 सीटों पर भगवा फहराया गया। यह भाजपा की अब तक की सबसे बड़ी जीत थी। इस जादुई जीत के शिल्पकार थे, अमित शाह। इससे उनका कद इतना बढ़ गया कि उन्हें पार्टी प्रमुख की कमान दे दी गई। इससे सभी को लगा कि हमें राजनीति का नया चाणक्य मिल गया।
शोले के जय-वीरु
इस तरह से अमित शाह राजनीति की शुरुआत से अभी तक चाणक्य की भूमिका में ही दिखाई दिए हैं। अमित शाह को नरेंद्र मोदी का चाणक्य के रूप में पहचान मिली है। दोनों की दोस्ती प्रगाढ़ है और दिनों-दिन और प्रगाढ़ होती जा रही है। कुछ लोग इस जोड़ी को शोले की जय-वीरु की जोड़ी बताने में भी संकोच नहीं करते। मोदी और शाह एक सिक्के के दो पहलू हैं। नरेंद्र मोदी की राजनीति की परीक्षा में वे हमेशा खरे उतरे हैं। सभी बड़े निर्णयों में दोनों की सहमति आवश्यक होती है। अमित शाह को फर्श से अर्श तक पहुंचाने में नरेंद्र मोदी की अहम भूमिका है। नरेंद्र मोदी एक मध्यम परिवार से आते हैं और शाह एक सुखी सम्पन्न परिवार के साथ संबंध रखते हैं।

आगेकी स्लाइड्स में देखेंPHOTOS...

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: Political Chanakya Amit Shah History
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Ahmedabad

        Trending Now

        Top