Home »Gujarat »News» Live Photos From Narendra Modi Swearing In Ceremony

PHOTOS: नरेंद्र मोदी के शपथग्रहण की झलकियां

Dainikbhaskar.com | Dec 26, 2012, 11:55 IST

  • नई दिल्‍ली.गुजरात में लगातार चौथी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद पहली बार दिल्ली पहुंचे नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री को देश का दुर्भाग्य बताया और कहा कि मेरी जीत का कारण संगठन और गुजरात का सुशासन है। बीजेपी मुख्यालय में आयोजित स्वागत समारोह में उन्होंने कहा कि मैं दिल्ली के लोगों को निमंत्रण देता हूं कि वह एक सप्ताह के लिए गुजरात आए और देखें गुजरात ने किस मॉडल पर तरक्की की है। उन्होंने पीएम मनमोहन पर निशाना साधते हुए कहा कि आप देश को निराशा के गर्त में ढकेल रहे हैं। देश के विकास का कोई रोड मेप आपके पास नहीं है।

    गैंगरेप के खिलाफ उबाल (पढ़ें- नेताओं के अजीबोगरीब बयान) के बीच गुरुवार को दिल्‍ली में एनडीसी की बैठक हुई। गुजरात के मुख्‍यमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर निशाना साधते हुए कहा कि देश नीति और लीडरशिप की कमी झेल रहा है। मोदी ने पीएम पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रधानमंत्री और मोंटेक सिंह का भाषण निराशाजनक रहा। सरकार के पास विकास का कोई रोडमैप नहीं है। सरकार एनर्जी सेक्‍टर पर गंभीर नहीं है। सरकार के प्रोजेक्‍ट में सालों से देरी हो रही है।

    मोदी गुरुवार को दिल्‍ली पहुंचे। वह आए तो राष्‍ट्रीय विकास परिषद (एनडीसी) की बैठक में शामिल होने के लिए, लेकिन बीजेपी ने यहां उनके स्‍वागत की शानदार तैयारी की। उन्‍हें एयरपोर्ट से गुजरात भवन तक बाइक रैली के साथ ले जाया गया। वह यहां लालकृष्‍ण आडवाणी से भी मिले। लेकिन बिहार के मुख्‍यमंत्रीनीतीश कुमार से मुलाकात को लेकर अटकलों का दौर चलता रहा। नीतीश भी एनडीसी की बैठक (पढ़ें, इस बैठक का एजेंडा) में आए हैं। उनसे मोदी का 36 का रिश्‍ता है। बुधवार को अपने शपथ ग्रहण समारोहके लिए भी मोदी ने उन्‍हें न्‍योता नहीं भेजा।

    नरेंद्र मोदी ने बुधवार को लगातार चौथी बार गुजरात के सीएम पद की शपथ ली थी। शपथ ग्रहण समारोहके बहाने मोदी ने अपनी सियासी ताकत दिखाने की भरपूर कोशिश की थी। समारोह में हर राज्य से बीजेपी के अलावा वहां के किसी क्षेत्रीय दल के मजबूत नेता को आमंत्रित करने की रणनीति पर काम किया गया। बिहार में बीजेपी के साथ गठजोड़ की सरकार चला रही जेडी(यू) का कोई नेता मोदी के शपथ ग्रहण में नहीं पहुंचा।

    आगे क्लिक करके देखिए शपथ ग्रहण समारोह की तस्‍वीरें और जानिए इसमें कौन-कौन नेता हुए शामिल और क्‍या हो सकते हैंइसकेराजनीतिक मायने?

    पढ़ें- मां के सामने नरेंद्र मोदी ने ली शपथ

    देखें- शपथ ग्रहण का लाइव वीडियो

    आगे क्या? पीएम बनने और मोदी बनाम राहुल की संभावनाओं सहित कुछ आगे की बातों पर नजर डालिए

    गुजरात: इन पांच कारणों से लगातार तीसरी बार जीत पाए मोदी

    पीएम बनने की मांग पर बोले मोदी, दिल्ली जाऊंगा

    VIDEO: मैं हूं नरेंद्र मोदी की पत्‍नी

    इन 5 कारणों से मोदी बन सकते हैं बीजेपी के लिए खतरा

    In-depth: चुनावी नतीजों के 3 मायने

    गुजरात: कौन कहां से जीता, देखें लिस्‍ट

    PHOTOS: गुजरात के चुनावी रंग

    मोदी के इस दबंग मंत्री का कांस्टेबल से विधायक तक का सफर

    बचपन में मगरमच्छ लेकर घर पहुंच गए थे मोदी

  • राजनीतिज्ञों के अलावा फिल्म स्टार, बॉलीवुड एवं गुजरात फिल्म जगत के लोगों को भी आमंत्रित किया गया। फिल्‍म और उद्योग जगत से जुड़ी कई हस्तियां यहां पहुंचीं। सुब्रत राय सहारा भी इनमें शामिल थे। मोदी ने उनसे गर्मजोशी से मुलाकात की। भाजपा नेता सुषमा स्‍वराज ने भी गले लगा कर सहारा का स्‍वागत किया।
     

  • शुरू में माना जा रहा था कि शिव सेना के कार्यकारी अध्‍यक्ष उद्धव ठाकरे शायद मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल न हों लेकिन इसके उलट हुआ। सबसे अहम तो यह रहा कि उनके चचेरे भाई राज ठाकरे भी मोदी के शपथ ग्रहण में आए। गौरतलब है कि पिछले साल गुजरात दौरे पर आए राज ठाकरे ने मोदी के विकास कार्यों की सराहना की थी।
     

  • राज ठाकरे की मोदी से करीबी के दो मायने निकाले जा सकते हैं। पहला यह कि 2014 में यदि उद्धव की शिव सेना एमएनएस के साथ सीटें शेयर नहीं करना चाहे तो भी मोदी की अगुवाई में बीजेपी राज ठाकरे की महाराष्‍ट्र नवनिर्माण सेना से गठजोड़ कर सकती है। या फिर यह त्रिकोणीय गठजोड़ हो सकता है।
     

  • शपथ ग्रहण समारोह में जयललिता की मौजूदगी का मतलब यह हो सकता है कि यदि बीजेपी केंद्र में सरकार बनाने की स्थिति में आती हे तो जयललिता कम से कम बाहर से ही सही मोदी को सपोर्ट तो कर ही सकती हैं। तमिलनाडु की राजनीति में बीजेपी कोई फैक्‍टर नहीं है और इस वजह से जयललिता की मौजूदगी मोदी के साथ उनके समीकरण की खास कहानी बयान करती है।
     

  • पंजाब के सीएम प्रकाश सिंह बादल भी मोदी के शपथ ग्रहण के दौरान मौजूद रहे। इसका मतलब यह है कि बीजेपी की कमान चाहे किसी के हाथ में हो, पंजाब में बीजेपी-अकाली गठबंधन बना रहेगा।
     

  • ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक हालांकि मोदी के शपथ ग्रहण में नहीं आए। इसका मतलब यह निकाला जा रहा है कि उन्‍होंने अपने विकल्‍प खुले रखे हैं। हालांकि इस मतलब यह भी नहीं है कि पटनायक का रुख मोदी-विरोधी है।
     

  • पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी भी मोदी के शपथ ग्रहण में नहीं थीं। हालांकि यह भी जानकारी नहीं है कि उन्‍हें न्‍योता दिया गया था या नहीं। वैसे मुस्लिम वोटरों में अच्‍छी खासी पैठ वाली तृणमूल अगले आम चुनाव से पहले मोदी गठबंधन को सपोर्ट देने के बारे में कोई कदम नहीं उठाना चाहेंगी।
     

  • महाराष्‍ट्र के दलितों के कद्दावर नेता और रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया के प्रमुख रामदास अठावले की मौजूदगी बेहद दिलचस्‍प रही। अठावले महाराष्‍ट्र में शिव सेना-बीजेपी गठबंधन का हिस्‍सा रहे हैं लेकिन उनकी मौजूदगी मोदी की भावी सोच की तरफ इशारा कर रही है।
     

  • बीजेपी के आला नेताओं में से जितनों की उम्‍मीद की जा रही थी, उसकी तुलना में कम नेता ही मौजूद रहे। लाल कृष्‍ण आडवाणी की मौजूदगी को लेकर कोई संदेह नहीं था लेकिन मध्‍य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान की मौजूदगी पर सबकी निगाहें रहीं। यदि मोदी को सहयोगी दल पसंद नहीं करते हैं तो शिवराज को एनडीए के पीएम पद के उम्‍मीदवारों में सबसे बड़ा दावेदार माना जा रहा है। चौहान की मौजूदगी से ऐसा लगा कि वह खुद को 'मोदी-विरोधी' के तौर पर पेश नहीं करना चाहते और वह अपने पत्‍ते बेहद सावधानी से खेल रहे हैं। मध्‍य प्रदेश में विधानसभा चुनाव सामने हैं और शिवराज का पूरा फोकस फिलहाल इसी पर होगा।  
     

  • मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर, छत्‍तीसगढ़ के रमन सिंह और राजस्‍थान की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे भी मौजूद रहे। राजस्‍थान में अगले विधानसभा में राजे की जीत पक्‍की मानी जा रही है, ऐसे में मोदी के साथ उनके समीकरण पर सियासी पंडितों की निगाहें हैं।
     

  • कर्नाटक के सीएम जगदीश शेट्टार भी मोदी के शपथ ग्रहण में मौजूद रहे। हालांकि इसे लेकर कोई कयास नहीं लगा रहा है कि अगले चुनाव के बाद वह सीएम बने रहेंगे या नहीं, जहां बीएस येदियुरप्‍पा के पार्टी छोड़ने से बीजेपी को निश्चित तौर पर नुकसान होगा। मोदी के येदियुरप्‍पा के अच्‍छे रिश्‍ते रहे हैं और जब येदियुरप्‍पा सीएम थे तो मोदी ने कर्नाटक बीजेपी की दो विशेष बैठकों को संबोधित भी किया था। यदि कर्नाटक से सपोर्ट की जरूरत पड़ी तो मोदी येदियुरप्‍पा से संपर्क कर सकते हैं।
     

  • इनके अलावा सुषमा स्‍वराज से लेकर नितिन गडकरी, राजनाथ सिंह से लेकर अरुण जेटली तक मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में मौजूद रहे। इससे यह संकेत मिलता है कि मोदी को बड़ी भूमिका दिया जाना आलाकमान को भी स्‍वीकार्य है, भले ही सार्वजनिक तौर पर ये नेता मोदी के पक्ष में खुलकर नहीं बोलते हैं।
     

  • हालांकि इन सभी कयासों के दौर में एक शख्‍स जो शपथ ग्रहण समारोह में मंच पर मौजूद रह कर भी खुश नहीं दिख रहा था, वो गवर्नर कमला बेनीवाल थीं। गवर्नर और सीएम के बीच खटास सर्वविदित है। इसकी झलक दोनों के 'बॉडी लैंग्‍वेज' से साफ दिख रही थी।
     

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: Live Photos from Narendra Modi Swearing In Ceremony
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top