Home »Gujarat »Politicians» No Comparison Of Rahul Gandhi With Narendra Modi

नरेंद्र मोदी के आगे कहीं नहीं ठहर पाते राहुल गांधी?

divyabhaskar network | Feb 19, 2013, 11:34 IST

  • नई दिल्ली. अगले साल होने जा रहे लोकसभा चुनावों में राहुल गांधी बनाम नरेंद्र मोदी के कयास काफी पहले से लगाए जा रहे हैं। हालांकि भाजपा या कांग्रेस ने इन्हें अपना पीएम उम्मीदवार घोषित नहीं किया है और न ही दोनों के गठबंधनों एनडीए और यूपीए ने इन पर अपनी मुहर लगाई है। लेकिन फिर भी दोनों नेताओं को लेकर लोगों में उत्साह है इसलिए भी इनकी तुलना अक्सर की जाती है। दोनों नेताओं के अपने-अपने समर्थक हैं जो इलाकों, उम्र, आय, लिंग और विचारधारा के हिसाब से बंटे हुए हैं।

    ओपन मैगजीन और सी-वोटर के सर्वे में कांग्रेस के युवा और बीजेपी के वरिष्ठ नेता के लिए लोगों की अलग-अलग पसंद सामने आई है। इसमें कई चौंकाने वाले संकेत देखने को मिल रहे हैं। इस सर्वे में देश भर से 10,136 लोगों को रैंडम तरीके से शामिल किया गया था। इसमें से पहली बार में 14 जनवरी से 5 फरवरी के बीच कुछ लोगों का इंटरव्यू किया गया। इसके बाद 6 फरवरी से 9 फरवरी के बीच 1,715 लोगों का डिटेल में इंटरव्यू लिया गया। ओवरऑल सर्वे में मोदी राहुल से बाजी मारते हैं।

    सर्वे कराने वाले संगठनों का कहना है कि इस सर्वे के रिजल्ट में नेशनल लेवल पर 3 फीसदी और रीजनल लेवल पर 5 फीसदी का अंतर आ सकता है। पुरुषों के बीच कराए सर्वे में मोदी और राहुल के बीच में 19 फीसदी मतों का अंतर आ जाता है तो महिलाओं के बीच यह अंतर सिमटकर 6 प्रतिशत रह जाता है। मोदी सवर्ण हिंदुओं और ओबीसी कैटेगरी में राहुल से बाजी मार ले जाते हैं जबकि जनजातीय और मुस्लिम वर्ग के बीच अपेक्षा के अनुरूप राहुल गांधी ज्यादा लोकप्रिय हैं। सबसे चौंकाने वाली बात तो यह है कि सर्वे के मुताबिक दक्षिण भारत में भी मोदी की आंधी है और राहुल गांधी से युवा भी नाउम्‍मीद हैं।
    दूसरी ओर, दैनिक भास्‍कर डॉट कॉम की ओर से कराए गए ऑनलाइन पोल में अधिकांश लोग नरेंद्र मोदी को ही अगले प्रधानमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं। 89 फीसदी पाठकों का मानना है कि नरेंद्र मोदी ही अगले प्रधानमंत्री होने चाहिए। जबकि राहुल गांधी के पक्ष में सिर्फ 5 फीसदी लोगों ने वोट किया। वहीं, नीतीश कुमार और मायावती को दो प्रतिशत लोग ही प्रधानमंत्री बनना देखना चाहते हैं। मुलायम सिंह यादव के पक्ष में सिर्फ एक फीसदी वोट पड़े।
    आगे की स्लाइडों में अन्य पैमानों पर सर्वे में राहुल गांधी और नरेंद्र मोदी को मिले समर्थन के बारे में पढ़िए:
  • शासन चलाने के शीर्ष 10 मुद्दों के आधार पर

    सरकार चलाने से जुड़े 10 बड़े मुद्दों पर जब लोगों से उनकी राय मांगी गई तो नरेंद्र मोदी ही ज्यादातर लोगों की पसंद बनकर उभरे। जहां करीब 27 फीसदी पुरुषों ने राहुल गांधी अपनी पसंद बताया वहीं, 47 फीसदी पुरषों की पसंद मोदी हैं। जबकि 39 फीसदी महिलाएं मोदी को पसंद करती हैं वहीं, राहुल सिर्फ 36 फीसदी महिलाएं की पसंद हैं।

  • लिंग के आधार पर
    लिंग आधारित सर्वे में मोदी को सौ में 61 पुरुषों ने पसंद किया, जबकि राहुल की रेटिंग 42 फीसदी (यानी सौ में 42 लोग) रही। वहीं महिलाओं में दोनों नेताओं के बीच अंतर कम हो जाता है। 40 फीसदी महिलाओं की पसंद के साथ मोदी यहां भी बाजी मार ले जाते हैं तो राहुल को 34 फीसदी महिलाओं का समर्थन मिला है।
  • लिंग के आधार पर
    लिंग आधारित सर्वे में मोदी को सौ में 61 पुरुषों ने पसंद किया, जबकि राहुल की रेटिंग 42 फीसदी (यानी सौ में 42 लोग) रही। वहीं महिलाओं में दोनों नेताओं के बीच अंतर कम हो जाता है। 40 फीसदी महिलाओं की पसंद के साथ मोदी यहां भी बाजी मार ले जाते हैं तो राहुल को 34 फीसदी महिलाओं का समर्थन मिला है।
  • सामाजिक वर्गों के आधार पर
    सोशल ग्रुप की कैटेगरी में दोनों नेताओं के बीच कड़ा मुकाबला है। दलित वर्ग में राहुल को 51 फीसदी तो मोदी को 34 फीसदी का समर्थन है। वहीं जनजातीय वर्ग में मोदी राहुल से थोड़ा पीछे रह जाते हैं। इसमें राहुल को 49 फीसदी तो मोदी को 44 फीसदी लोगों का समर्थन है। वहीं ओबीसी कैटेगरी में मोदी 56 फीसदी लोगों की पसंद हैं तो राहुल को 36 फीसदी लोग अगला पीएम देखना चाहते हैं। हिंदू अपर कास्ट के बीच भी मोदी की लोकप्रियता ज्यादा है। इसमें 62 फीसदी लोगों ने मोदी को और 31 फीसदी ने राहुल को अपनी पसंद बताया है। वहीं मुस्लिम विरोधी छवि की वजह से मोदी को इस वर्ग में लोगों का समर्थन नहीं मिला है। इसमें राहुल को 69 फीसदी तो मोदी को -5 फीसदी वोट मिले हैं।
  • क्षेत्रीय आधार पर
    देश के अलग-अलग हिस्सों में भी दोनों नेताओं की लोकप्रियता अलग-अलग है। देश के पूर्वी हिस्से में 54 फीसदी लोगों का समर्थन मोदी को मिला है तो 45 फीसदी ने राहुल पर सहमति जताई है। पश्चिमी हिस्से में राहुल मामूली अंतर से बाजी मारते हैं। यहां राहुल को 47 फीसदी तो मोदी को 46 फीसदी लोगों ने पसंद किया है। उत्तरी हिस्से में मोदी 53 फीसदी की पसंद हैं तो राहुल के साथ 40 फीसदी लोग हैं। मध्य भारत में दोनों के बीच मुकाबला कड़ा है। मोदी को 30 फीसदी तो राहुल को 28 फीसदी लोगों ने पसंद किया है। वहीं दक्षिण भारत में मोदी को अभूतपूर्व समर्थन मिला है। यहां मोदी 55 फीसदी तो राहुल 26 फीसदी की पसंद हैं।
  • आय वर्ग के आधार पर
    निम्न आय वर्ग के लोगों में मोदी के मुकाबले राहुल ज्यादा लोकप्रिय हैं। इस आय वर्ग में मोदी को 46 फीसदी लोगों ने तो राहुल को 52 फीसदी लोगों ने पसंद किया है। मध्य आय वर्ग में मोदी को 53 फीसदी तो राहुल को 39 फीसदी लोग पसंद करते हैं। वहीं उच्च आय वर्ग में पहुंचने पर राहुल की लोकप्रियता काफी कम हो जाती है। इस कैटेगरी में मोदी को 52 फीसदी तो राहुल को केवल 21 फीसदी लोग पसंद करते हैं।
  • पढ़ाई के आधार पर
    सर्वे में एजूकेशन ग्रुप की कैटेगरी को भी शामिल किया गया है। इसमें प्राइमरी एजूकेशन कैटेगरी में मोदी को 46 फीसदी तो राहुल को 49 फीसदी लोग पसंद करते हैं। हायर सेकेंडरी लेवल तक के 51 फीसदी लोग मोदी को तो 37 फीसदी लोग राहुल को पीएम के तौर पर देखना चाहते हैं। ग्रेजुएट या इससे ऊपर की पढ़ाई कर चुके 57 फीसदी लोग मोदी को देश के अगले नेता के लिए ठीक मानते हैं तो मात्र 25 फीसदी का मानना है कि राहुल को देश का नेतृत्व करना चाहिए।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: no comparison of rahul gandhi with narendra modi
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Politicians

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top