Home »Gujarat »Politicians» Sidhus Rhetoric Speech Created Controversy In Gujarat

जिस 'ब्रह्मचर्य' का पालन मोदी ने हमेशा किया, सिद्धू ने उसे तार-तार कर दिया!

Nitesh Shrivastava | Dec 04, 2012, 00:05 IST

  • अहमदाबाद। भाजपा के सांसद और पूर्व भारतीय क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू ने जबसे गुजरात में कदम रखा है, चुनावी माहौल बिलकुल बदल सा गया है। सिद्धू की सभाओं में जनसैलाब खुद-ब-खुद ही उमड़ आता है। इस मौके के भुनाते हुए सिद्धू अपने अंदाज में दो काम बखूबी कर रहे हैं... लोगों को हंसाने और विरोधियों पर जमकर वार करने का।



    गुजरात में सिद्धू के साथ जो सबसे खास बात जुड़ गई है वह है गुजरात परिवर्तन पार्टी के प्रमुख और मोदी के प्रखर विरोधी केशुभाई पटेल के खिलाफ बोलना। इसके इतर मोदी ने अब तक अपने राजनीतिज्ञ गुरू केशुभाई पटेल के बारे में एक शब्द नहीं बोला है, वहीं मोदी का यह काम सिद्धू किए दे रहे हैं। वे जबसे गुजरात आए हैं, अपने किसी भी भाषण में केशुभाई पटेल को कोसना नहीं भूलते।

    आगे पढ़िए, सिद्धू ने किस तरह भूचाल ला दिया है गुजरात की राजनीति में...

  • केशुभाई पटेल के खिलाफ सिद्धू इतना कुछ बोल चुके हैं कि गुजरात की सियासी दुनिया में भूचाल आ गया है। गुजरात परिवर्तन पार्टी के समर्थक जगह-जगह सिद्धू के खिलाफ नारेबाजी और अपने-अपने अंदाज में विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। कहा जा रहा है कि सिद्धू के इस व्यवहार से मुख्यमंत्री मोदी भी खुश नहीं हैं। भाजपा के कई दिग्गज नेताओं ने भी सिद्धू को केशुभाई पटेल के खिलाफ अभद्र भाषा का प्रयोग करने से रोका है।

  • अपने बेबाक अंदाज के लिए पहचाने जाने वाले नरेंद्र मोदी तक ने आज तक केशुभाई पटेल के बारे में कुछ नहीं बोला है। हो सकता है यह भी उनकी रणनीति का एक सिरा हो। लेकिन सिद्धू पिछले दो दिनों से लगातार केशुभाई पर प्रहार कर रहे हैं।

  • बीते बुधवार को उन्होंने बोटाद शहर में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा था...केशुभाई पटेल ने तो पार्टी की पीठ में छुरा घोंपा है, पार्टी को धोखा दिया है। अरे, जो व्यक्ति अपनी मां समान पार्टी का नहीं हुआ, वह आपका क्या होगा'?

  • शनिवार को रांधनपुर की एक सभा में सिद्धू ने कहा, 'पार्टी ने केशुभाई को जमीन से उठाकर मुख्यमंत्री की गद्दी तक पहुंचाया और आज वे ही पार्टी की पीठ में छुरा घोंप रहे हैं। अगर आपने उनकी पार्टी जीपीपी को वोट दिया तो यह गौमांस खाने के बराबर है। भाजपा मेरी मां है और कोई मां के सीने में खंजर घोंपे, मैं यह सहन नहीं कर सकता। आज गुजरात की जनता को न्याय करना है।'

  • सिद्धू के इस भाषण पर काफी बवाल मचा हुआ है और जीपीपी के समर्थक जगह-जगह उनके खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। केशुभाई पटेल ने भी सिद्धू की इस बयानबाजी को गंभीरता से लेते हुए इस मामले को चुनाव आयोग मे ले जाने की धमकी दी है।

    अब सुनने में भले ही यह आ रहा हो कि भाजपा आलाकमान ने सिद्धू को केशुभाई पटेल के खिलाफ ज्यादा न बोलने की सलाह दी है। लेकिन ये राजनीति का मैदान है... यानी की परदे के पीछे की सच्चाई कोई नहीं जानता। बात सच भी हो सकती है और नहीं भी। बहरहाल इस बात से तो बिल्कुल इंकार नहीं किया जा सकता कि सिद्धू ने ठंडे मौसम में गुजरात की राजनीति और गर्मा दी है और यहां की जनता भी राजनीति के गर्म होते माहौल का भरपूर आनंद ले रही है। रही वोट देने की बात तो किसे देना है, किसे नहीं, यह जनता अच्छी तरह से जानती है।

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: Sidhus rhetoric speech created controversy in Gujarat
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Politicians

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top