Home »Gujarat »Politicians» What Said Modis In Delhi

मोदी ने सुनाई अपने जीवन की पांच कहानियां, जिससे आज तक अनजान थी दुनिया

divyabhaskar network | Feb 07, 2013, 11:17 IST

  • नई दिल्ली। गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को दिल्ली में राजनीतिक दस्तक दी। दोपहर में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह मिले और शाम को पहुंचे श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स। वहां सैकड़ों की संख्या में मौजूद छात्रों से कहा, ‘भारत को स्वराज मिला, सुराज नहीं। देश अब भी गुड गवर्नेंस के इंतजार में है।’ बतौर सबूत मुख्यमंत्री रहते गुजरात की उपलब्धियां उंगलियों पर गिनाई।

    भाषण में जमकर अंग्रेजी:

    मोदी ने आदत के उलट अपने भाषण में अंग्रेजी शब्दों का जमकर इस्तेमाल किया। कई बार हिंदी में कही गई बातों का अंग्रेजी में अनुवाद भी करते रहे। वजह साफ थी सुनने वाले कॉलेज के छात्र-छात्रा जो थे।

    इस पूरे भाषण में उन्होंने अपने जीवन से जुडी पांच कहानियां सुनाई। हर कहानी बेहद रोचक और एक खास मकसद लिए हुए थी।

    मोदी के जादुई अंदाज ने हर कहानी को जीवंत और प्रभावी बना दिया। स्लाइड के साथ पढ़िए, मोदी की सुनाई वो पांच कहानियां और उनके पीछे छिपे मकसद की हकीकत।

  • कहानी : 1

    गुजरात में एक राजदूत ने मुझसे पूछा, आपके मुताबिक भारत के सामने दो सबसे बड़े चैलेन्ज क्या हैं।
    मोदी का जवाब : हमारे सामने पहली सबसे बड़ी समस्या है मौके का इस्तेमाल न कर पाना। हम दुनिया के सबसे नौजवान देश हैं। हमारी 65 फीसदी जनसंख्या युवा है, जिसका हम इस्तेमाल नहीं कर पा रहे हैं। हम मौके का इस्तेमाल करने में चूक रहे हैं।

    पूरी दुनिया यह मानती है कि भारत एक गरीब देश है। मेरा देश गरीब नहीं है। यह प्राकृतिक संसाधनों से भरा पड़ा है, जिसका हम सही इस्तेमाल नहीं कर पा रहे हैं। इस संसाधन का सही दिशा में इस्तेमाल करना ही दूसरा सबसे बड़ा चैलेंज है।

  • कहानी : 1

    गुजरात में एक राजदूत ने मुझसे पूछा, आपके मुताबिक भारत के सामने दो सबसे बड़े चैलेन्ज क्या हैं।
    मोदी का जवाब : हमारे सामने पहली सबसे बड़ी समस्या है मौके का इस्तेमाल न कर पाना। हम दुनिया के सबसे नौजवान देश हैं। हमारी 65 फीसदी जनसंख्या युवा है, जिसका हम इस्तेमाल नहीं कर पा रहे हैं। हम मौके का इस्तेमाल करने में चूक रहे हैं।

    पूरी दुनिया यह मानती है कि भारत एक गरीब देश है। मेरा देश गरीब नहीं है। यह प्राकृतिक संसाधनों से भरा पड़ा है, जिसका हम सही इस्तेमाल नहीं कर पा रहे हैं। इस संसाधन का सही दिशा में इस्तेमाल करना ही दूसरा सबसे बड़ा चैलेंज है।

  • कहानी : 3

    एक बार मैं जापान गया। वहां हर चीज पर एक स्लोगन लिखा देखा। चाहे बिस्कुट का पैकेट हो, बस या रेल का टिकट हो या होटल में चाय का कप। हर चीज पर एक ही स्लोगन छपा हुआ था। यह स्लोगन था - We are waiting for Olympic। जापान में आठ साल बाद ओलिंपिक होना है। एक देश आठ साल पहले से ही इस आयोजन की तैयारी कर रहा है, क्योंकि ऐसे आयोजन पूरी दुनिया में आपकी छवि पेश करते हैं। आपकी ब्रांडिंग करते हैं, जबकि हम कॉमनवेल्थ जैसे गेम के मौके पर अपनी छवि नहीं बना सके।

  • कहानी : 4

    एक बार मै ताइवान गया। वहां मेरे साथ ठहरे एक मित्र ने मुझसे पूछा कि क्या आज भी आपका देश स्नेक चार्मरर्स का देश है? मैंने कहा, 'नहीं आज हमारा देश उतना बहादुर नहीं रहा। अब हम माउस चार्मर के देश हैं, जो पूरी दुनिया को अपनी उंगलियों पर चला रहा है।' पूरे विश्व में सूचना तकनीक में भारत की ताकत का लोहा माना जा रहा है। इस युवा पीढ़ी ने कम्प्यूटर के माउस से वो कर दिखाया जो देश का कोई नेता नहीं कर सका।

    यही कारण है कि जब बिल क्लिंटन भारत आए तो जयपुर के एक गांव में गए। उस गांव की महिलाएं घूंघट में थीं, लेकिन उनकी उंगलियां कम्प्यूटर पर घूम रही थी।

    तभी अचानक गांव का एक पंच वहां पहुंचा और क्लिंटन से कुछ पूछने लगा। सारा गांव सोचने लगा कि आखिर यह क्या कहने वाला है। कहीं यह हमारी बेइज्जती न करा दे, लेकिन उसने क्लिंटन से एक सवाल पूछा, 'क्या अब भी आप हमारे देश को गरीब और पिछड़ा हुआ मानते हो?' उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है और मैं वादा करता हूं कि अब मैं जहां भी जाऊंगा, बता दूंगा कि भारत कहां पहुंच चुका है।

  • कहानी : 5

    एक दिन एक युवा मेरे ऑफिस में आया। वह मुझसे कुछ कहना चाहता था। वह न तो देखने में आकर्षक था और न ही उसका तरीका ही प्रभावित करने वाला था। वह मुझे जरा भी प्रभावित नहीं कर सका। उसे टालते हुए मैंने कहा कि वह बड़ौदा जाए और वहां के डीएम से आपनी बात करे और अगर कोई समस्या हो तो मुझे बताये।

    13 महीने बाद वह फिर से मेरे ऑफिस आया। इस बार फिर मैंने उसे टालने की कोशिश की। मेरे पीए ने बताया कि वह आपसे मिलने नहीं, बल्कि आपको निमंत्रण देने आया है। मैं चौंक गया। मैंने तुरंत ही उसे बुलाया। उसने मुझसे कहा कि मेरी फैक्ट्री बन गई है और आपको उसका उद्घाटन करना है। लेकिन छह महीने बाद आपको फिर से आना पड़ेगा, क्योंकि छह महीने बाद मेरे फैक्ट्री का प्रोडक्ट लॉन्च होगा। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि जिस दिल्ली मेट्रो पर आप गर्व करते हो, उसके कोच उसी फैक्ट्री में बनते हैं। आज दिल्ली मेट्रो का हर वो कोच, जिसमें आप सफ़र करते हैं, उसी नवजवान की फैक्ट्री का उत्पाद है।

  • मोदी के फार्मूले :

    भाषण के दौरान मोदी अपनी कामयाबी के फॉर्मूले भी बताते रहे। मसलन
    1. पीटूजीटू: प्रो पीपुल गुड गवर्नेंस (सरकार के उद्देश्य के लिए)
    2. फाइव एफ: फार्म, फाइबर, फैब्रिक, फैशन और फॉरेन (कपड़ा उद्योग के लिए)
    3. डबल पी: प्रोडक्ट और पैकेजिंग (मार्केटिंग के लिए)
    4. ट्रिपल एस: स्किल, स्केल और स्पीड (सरकार के कामकाज के लिए)
    5. एआईएस: एग्रीकल्चर, इंडस्ट्री और सर्विस सेक्टर (गुजरात सरकार की प्राथमिकता)

    (फोटो: एसआरसीसी कालेज के बाहर हुआ जबदस्‍त प्रदर्शन।)

  • दुनिया में गुजरात की पैठ :

    - दिल्ली में दूध गुजरात से ही आता है।
    - देश गुजरात का नमक खाता है।
    - यूरोप में भिंडी मिले तो मानिए यह गुजरात की ही होगी।
    - अफगानिस्तान में टमाटर मिले तो वह गुजरात का ही है।

    (फोटो: एसआरसीसी कालेज के बाहर हुआ जबदस्‍त प्रदर्शन।)

  • भाषण की चार अहम बातें :

    1. विकास : इससे अलग कोई राजनीति नहीं।

    मोदी ने श्रीराम कॉलेज ऑफ कामर्स में सिर्फ विकास की बात की। छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि वोट बैंक की राजनीति ने देश को बर्बाद किया है। इससे निजात पाना होगा। विकास की राजनीति करनी होगी।

    2. भरोसा : सब ठीक किया जा सकता है।

    जहां जाता हूं, लोग निराश दिखते हैं। कहते हैं सब चोर हैं, देश का कुछ नहीं हो सकता। यहां से निकलो। लेकिन ऐसा नहीं है। बतौर मुख्यमंत्री मेरा अनुभव कहता है कि इन्हीं मुलाजिमों, इसी व्यवस्था और इसी कानून-कायदे से देश को बदला जा सकता है।

    3. तरुणाई : भारत सबसे युवा देश

    भारत सबसे युवा देश है। 65 फीसदी आबादी 35 वर्ष से कम आयु की है। ये न्यू एज वोटर नहीं न्यूज एज पावर हैं। यूरोप, चीन, जापान बूढ़े हो रहे हैं। ऐसे में भारत के पास दुनिया में छा जाने की क्षमता और अवसर दोनों हैं।

    4. नई सोच : आधा पानी, आधी हवा से भरा है ग्लास

    कोई पानी के ग्लास को आधा भरा हुआ देखता है तो कोई आधा खाली, लेकिन मेरे पास तीसरी सोच है। मैं ग्लास को आधा पानी और आधी हवा से भरा हुआ देखता हूं।

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: what said modis in delhi
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Politicians

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top