Home »Gujarat »Politicians» Why Sonia Gandhi Salute This Man In Ahmedabad

PICS: गुजरात में सोनिया गांधी ने इसे क्यों किया सैल्यूट?

divyabhaskar network | Dec 15, 2012, 00:05 IST

  • अहमदाबाद। शीर्षक और तस्वीर देखकर आप हैरान हो गए होंगे, लेकिन ये सच है। दरअसल कांग्रेस सुप्रीमो सोनिया गांधी 'सेवादल' के कार्यकर्ताओं को सैल्यूट कर रही हैं। (सोनिया का जवाब- लोगों को उकसा रहे हैं मोदी, नहीं करेंगे बर्दाश्‍त)

    गांधीजी के सिद्धांतों पर अटूट विश्वास रखने वाले इस दल का कांग्रेस में एक सम्माननीय स्थान है। कांग्रेस में गांधीजी के समय से ही यह प्रथा है कि पार्टी का हरेक केंद्रीय नेता पहले 'सेवादल' को सलाम करता है और इसके बाद ही किसी सभा को संबोधित करने या रैली के लिए प्रस्थान करता है। (सोनिया और राहुल फेल हो गए, प्रधानमंत्री तो दोबारा गुजरात ही नहीं आए)

    कांग्रेस के किस वरिष्ठ नेता की सभा या रैली कहां आयोजित होने वाली है, इसकी जानकारी बड़े-बड़े नेताओं से पहले 'सेवादल' को दे दी जाती है। जानकारी मिलते ही यह टीम संबंधित नेता से पहले ही उस जगह पहुंच जाती है और व्यवस्था की सारी जिम्मेदारी संभाल लेती है। अपनी सफल रैलियों या सभाओं का सबसे पहला श्रेय कांग्रेस 'सेवादल' को ही देती है।


    आईए जानते हैं संक्षेप में 'सेवादल' का इतिहास....

    ये भी पढ़ें-

    बचपन में मगरमच्छ लेकर घर पहुंच गए थे मोदी

    गुजरात कांग्रेस के लिए कहीं मुसीबत बन जाए इस विकेट का गिरना

    मोदी को वीजा देने के खिलाफ अमेरिकी सांसदों की मोर्चाबंदी

    सिद्धू को पड़ी हाईकमान से डांट!अमेरिका में मोदी के खिलाफ लामबंद हुए सांसद

    ...ऐसे में सत्‍ता से बाहर भी हो सकते हैं नरेंद्र मोदी

    मोदी से आगे और नीतीश से पीछे रहे शिवराज

  • 'सेवादल' कांग्रेस की सेवा में कार्यरत एक सेना है, जिसकी स्थापना जनवरी, 19२३ में स्वर्गीय नारायण सुब्बाराव हार्डिकर ने की थी। हार्डिकर का जन्म सन् 1889 को धाखाड़ कर्नाटक में एक मध्यवर्गीय परिवार में हुआ था। बचपन में ही उनके सिर से माता-पिता का साया उठ गया था, लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और गरीबी के बावजूद उन्होंने उच्च शिक्षा ग्रहण की।

  • डॉ. हार्डिकर की मां का निधन आर्थिक तंगी के चलते उच्च इलाज के अभाव में हुआ था। इसीलिए उन्होंने एक बड़ा अस्पताल खोलने का निश्चय किया था। उच्च शिक्षा के लिए अमरीका चले गए।

  • सन् 1921 में वे भारत वापस आए महात्मा गांधी, जवाहर नेहरू एवं लाला लाजपतराय के संपर्क में आए। इन महान लोगों के संपर्क में आते ही वे स्वतंत्रता आंदोलन में कूद गए और उन्होंने महात्मा गांधी से विचार विमर्श के बाद देश के युवाओं एवं युवतियों को संगठित कर प्रशिक्षण करने का एक प्रारूप तैयार किया। जिसकी परिणिति सन् 1923 में 'हिंदोस्तानी सेवादल' के रूप में हुई।

  • डॉ. हार्डिकर के ही अथक प्रयास थे कि देश के हजारों लाखों युवकों ने स्वतंत्रता संग्राम में बढ़ चढ़ कर भाग लिया। इस संस्था का एकमात्र उद्देश्य देश के स्वंय सेवकों को नि:स्वार्थ जन सेवा के लिए तैयार करना है। यह दल कांग्रेस पार्टी के दिशा-निर्देश पर काम करता है। इसके पहले प्रेसीडेंट जवाहर लाल नेहरू थे।

  • सन् 1931 में कांग्रेस कमीटी ने इसक नाम हिंदुस्तानी सेवा दल से बदलकर कांग्रेस सेवा दल कर दिया था। शुरुआत से लेकर अब तक यह दल कांग्रेस की मजबूत नींव माना जाता रहा है। सेवादल वर्तमान में लगभग हिंदुस्तान के हर शहर में मौजूद है।

  • पार्टी के वरिष्ठ नेता जहां भी जाते हैं, उनसे पहले यह सेना वहां पहुंच जाती है। सेना का मुख्य काम नेताओं की रैलियों या सभाओं की व्यवस्था करने का होता है। कांग्रेस की सभाओं या रैलियों की व्यवस्था में यह सेना महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

  • इसीलिए जब सोनिया गांधी शुक्रवार को अहमदाबाद पहुंची तो उन्होंने सेवादल के कार्यकर्ताओं को सैल्यूट किया। दरअसल सोनिया यहां 'घर का घर' योजना का सैंपल देखने पहुंची थीं। आपको बताते चलें कि गुजरात कांग्रेस ने अपने चुनावी घोषणा-पत्र में 'घर का घर' योजना को शामिल किया है।

  • सोनिया गांधी (अहमदाबाद में)

  • सोनिया गांधी (अहमदाबाद में)

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: why sonia gandhi salute this man in ahmedabad
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Politicians

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top