Home »Haryana »Ambala» Anuradha Sharma, Gopal Kanda Suicide Case, On Aruna And FIR

गोपाल कांडा, अरुणा पर एक और एफआईआर, जानिए क्या था अनुराधा के सुसाइड नोट में

bhaskar news | Feb 17, 2013, 02:27 IST

  • गीतिका शर्मा की मां अनुराधा की मौत मामले में हरियाणा के पूर्व गृह राज्य मंत्री गोपाल कांडा और उनकी एमडीएलआर कंपनी की मैनेजर अरुणा चड्ढा के खिलाफ शनिवार को एक और मामला दर्ज कर लिया गया।

    भारत नगर थाना पुलिस ने आईपीसी की धारा-306 (आत्महत्या के लिए प्रेरित करना) और 34 (कई लोगों द्वारा एक ही नीयत से किया अपराध) के तहत मुकदमा दर्ज किया है।

    उत्तर-पश्चिम जिला पुलिस उपायुक्त पी. करुणाकरण ने बताया कि सुसाइड नोट के आधार पर कांडा और अरुणा पर नई एफआईआर दर्ज की गई है। हालांकि उन्होंने परिवार को किसी प्रकार की धमकी मिलने से साफ इंकार किया है। उन्होंने बताया कि पूर्व में परिवार वालों ने इस संबंध में कोई जानकारी पुलिस को नहीं दी है।

    अनुराधा किसी प्रकार से धमकी मिलने के कारण तनाव में थीं या नहीं यह जांच का विषय है। एहतियातन अनुराधा के फोन की कॉल डिटेल मंगाई जा रही है। अंतिम संस्कार के बाद परिवार वालों से भी अब इस संबंध में विस्तार से पूछताछ की जाएगी।

    आगे की तस्वीरों पर क्लिक करके देखिए क्या लिखा था अनुराधा ने अपने सुसाइड नोट में...

  • घुट-घुट कर जीने से अच्छा है मर जाऊं
    अकेलेपन और दहशत के बीच जिंदगी से जूझ रहीं अनुराधा न तो बेटी की मौत को भूल पा रही थीं और न ही इंसाफ की उम्मीद थी। उस पर गोपाल कांडा की पहुंच ने बाकी बची हिम्मत को तोड़ कर रख दिया था।

    मीडिया में आई खबर ने भले ही आरोपी गोपाल कांडा को जेल पहुंचा दिया लेकिन न्याय प्रक्रिया की सुस्त चाल से वह हार गईं और मौत को गले लगाने से पहले इतना कहा कि घुट-घुट कर मरने से अच्छा है कि आज ही मर जाऊं..।

    दो पन्नों के सुसाइड नोट में अनुराधा ने लिखा है कि सारा दिन वह घर पर अकेली बैठ कर बेटी की यादों में ही खोई रहती थीं। 24 घंटे बेटी की तस्वीर उनकी आंखों के सामने घूमती रहती थी।

    उन्हें धीमी न्यायिक प्रक्रिया के चलते एक तरफ बेटी को अब तक इंसाफ न दिला पाने का मलाल था तो दूसरी ओर गोपाल कांडा जैसे प्रभावशाली व्यक्ति की पहुंच के चलते अब उन्होंने इंसाफ की आस खो दी।

    सुसाइड नोट में अनुराधा ने लिखा कि कल भी मरना है और आज भी। वह बेटी की याद में तिल-तिल कर मर रही हैं। बेहतर है कि वे आज ही मौत को गाले लगा लें।

    मामले की जांच कर रहे एक अधिकारी ने बताया कि बेटे के नाम लिखे सुसाइड नोट में अनुराधा ने उनकी मौत के बाद बेटे को मजबूती से परिस्थितियों का सामना करने की सलाह दी है।

    उन्होंने यह इच्छा भी जताई कि उनकी मौत के बाद परिवार वाले मीडिया से बात न करें और पोस्टमार्टम कराने के बाद उनके शव को घर लाए बगैर सीधे अंतिम संस्कार कर दिया जाए।

    आगे की तस्वीरों के जरिए जानिए कांडा से जुड़ी 10 ऐसी सीक्रेट बातें जिनके चलते और भी ज्यादा उलझ गया था कांडा का केस।
  • एक गीतिका ही नहीं, 20 महिलाओं पर बरसी थी कांडा की कृपा
    पुलिस की जांच में कांडा के कई छिपे सच, उसकी रंगीनमिजाजी और सरकार को चूना लगाने की प्लानिंग भी सामने आ गई थी। गोपाल कांडा ने अपनी 39 कंपनियों में 20 महिलाओं को डायरेक्टर के पद तक पहुंचाया। ये महिलाएं भले ही उनकी रिश्तेदार, जानकार या दोस्त रही हों, लेकिन कांडा ने 38 कंपनियों में 17 महिलाओं को प्रतिनिधित्व दिया। बताया जाता है कि एकेजी इंफ्राबिल्ड तो गोपाल कांडा ने केवल अरुणा चड्ढा और गीतिका शर्मा के लिए ही खड़ी की है।
    और इसके कई कारण भी बताए जाते हैं। क्या ज्यादा से ज्यादा महिलाओं को नजदीक लाने के लिए कांडा ने उनको इतने महत्वपूर्ण पद दिए थे? क्या कांडा को ये भय रहता है कि उसकी कंपनी के डायरेक्टर वफादार नहीं हैं? क्या गोपाल कांडा अपनों से ज्यादा बेगानों पर यकीन करता था, क्योंकि ज्यादातर डायरेक्टर उसके रिश्तेदार नहीं, बल्कि दोस्त या जानकार हैं?
    क्या कांडा ने सरकार को रेवेन्यू का चूना लगाने के लिए ही इतनी कंपनियां खड़ी की थीं? इन सवालों के जवाब दिल्ली पुलिस भी जानने की कोशिश कर रही है। जिन महिलाओं को कांडा ने महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां दी थीं उनमें सरोज अलंकार, सुधा पवार, प्रेरणा, कंचन भल्ला, सरिता देवी, सुशीला गोयल, गरिमा चावला, सरस्वती गोयल, सरिता अग्रवाल अरुणा चड्ढा और खुशबू शर्मा का नाम सबसे आगे है।
    अगली तस्वीर: गीतिका को अबॉर्शन के लिए ले गई थी अरुणा, कांडा ने 45 दिन में किए थे 400 फोन
  • गीतिका को अबॉर्शन के लिए ले गई थी अरुणा, कांडा ने 45 दिन में किए थे 400 फोन
    इस खुलासे से गीतिका शर्मा खुदकुशी केस में एक नया मोड़ आ गया था। एक अखबार में छपी खबर के मुताबिक गीतिका ने गर्भपात कराया था। 'टाइम्‍स ऑफ इंडिया' ने पुलिस सूत्रों के हवाले से लिखा है, 'पुलिस एमडीएलआर में मैनेजर अरुणा चड्ढा के इस 'दावे' की जांच में जुटी है कि वह गर्भपात के लिए गीतिका को दिल्‍ली के लाजपतनगर स्थित एक प्राइवेट क्लीनिक में ले गई थी।'
    हालांकि, गीतिका के भाई का आरोप है कि गोपाल कांडा और अरुणा चड्ढा लोगों का ध्‍यान भटकाने के लिए उसकी बहन का चरित्र हनन करने की कोशिश कर रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक कांडा ने गीतिका को 45 दिनों में 400 बार फोन किया था। गीतिका कांडा की कंपनी एमडीएलआर में काम कर चुकी थी।
    अगली तस्वीर: सिरसा में तारा बाबा की कुटिया से भी जुड़े थे कांडा के तार
  • सिरसा में तारा बाबा की कुटिया से भी जुड़े थे कांडा के तार
    सिरसा आने वाले लोगों के लिए श्री तारा बाबा की कुटिया किसी आश्चर्य से कम नहीं है। यह अपनी भव्यता के लिए मशहूर है, लेकिन तारा बाबा कुटिया का संबंध गीतिका शर्मा सुसाइड मामले में मुख्य आरोपी बनाए गए गोपाल कांडा से भी है। जांच के समय यहां तनाव की स्थिति पैदा हो गई थी।
    कुटिया के मुख्य सेवक और गोपाल कांडा के छोटे भाई गोबिंद कांडा इस भव्य मंदिर का कामकाज देखते हैं। कुटिया में मुख्यद्वार पर लगे कांडा बंधुओं के साइनबोर्ड को लेकर जमकर हंगामा हुआ था। कांडा परिवार अपनी सफलता में सबसे बड़ा योगदान श्री तारा बाबा के आशीर्वाद को मानता है।
    अगली तस्वीर: सिर्फ कांडा ही नहीं था गीतिका की आत्महत्या की वजह, कुछ और भी था कारण
  • सिर्फ कांडा ही नहीं था गीतिका की आत्महत्या की वजह, कुछ और भी था कारण
    बचाव पक्ष के वकील गुप्ता ने सुसाइड नोट की कुछ लाइनों का हवाला देते हुए कहा था कि गोपाल कांडा और अरुणा की वजह से गीतिका ने अपने माता-पिता व भाई से दूर होने की बात लिखी है। उन्होंने कहा, 'दरअसल मृतका का अपने घर वालों से झगड़ा हुआ था।'
    वह नौकरी छोड़कर एमबीए की पढ़ाई करना चाहती थी। साठ हजार रुपये प्रति माह कमाने वाली बेटी के अचानक नौकरी छोड़ने से उसके घर वाले नाराज थे। कांडा ने तो साढ़े सात लाख रुपये एमबीए के लिए देकर उसकी मदद की थी। ऐसे में आत्महत्या के लिए उकसाने की बात तर्कहीन है।
    अरुणा की सात साल की बेटी तथा बुजुर्ग माता-पिता की देखभाल की जिम्मेदारी का तर्क देकर भी वकील ने यह सिद्ध करने की कोशिश की थी कि गीतिका की आत्महत्या की वजह कांडा नहीं था।
    अगली तस्वीर: कांडा के साथ चुनावी मंच पर भी दिखती थी गीतिका
  • कांडा के साथ चुनावी मंच पर भी दिखती थी गीतिका
    गीतिका आरोपी गोपाल कांडा की चुनावी सभाओं में भी भाग लेती थी। इस बात का खुलासा एक वीडियो से हुआ था। सिरसा की एक चुनावी रैली के इस वीडियो में गीतिका और कांडा एक साथ दिख रहे थे। वर्ष 2009 के इस वीडियो में गीतिका के अलावा कॉमेडियन सलोनी और भारती के साथ बॉलीवुड की अदाकारा रति अग्निहोत्री भी हैं, जबकि मंच पर गीतिका और कांडा एक साथ हैं।
    अगली तस्वीर: गीतिका को एमाइरेट्स से निकालने के लिए कांडा ने की थी शिवरूप की नियुक्ति
  • गीतिका को एमाइरेट्स से निकालने के लिए कांडा ने की थी शिवरूप की नियुक्ति
    गोपाल गोयल कांडा की एमडीएलआर कंपनी में वर्ष 2010 में शिवरूप को बतौर असिस्टेंट मैनेजर रखा गया था। शिवरूप की नियुक्ति का मकसद कंपनी की उन्नति व तरक्की से जुड़ा न होकर कांडा के नापाक इरादों को साकार करना था। रोहिणी अदालत में दाखिल चार्जशीट में दिल्ली पुलिस ने यही दावा किया था।
    शिवरूप अब दिल्ली पुलिस का गवाह बन चुका है। चार्जशीट के मुताबिक कंपनी में नियुक्ति होने के तुरंत बाद शिवरूप को अरुणा और कांडा ने दुबई भेज दिया था। इससे पहले गीतिका गोपाल कांडा द्वारा समाज में उसकी इज्जत को तार-तार करने से परेशान होकर उसकी कंपनी छोड़कर दुबई स्थित एमाइरेट्स कंपनी ज्वाइन कर चुकी थी।
    कांडा और अरुणा खुद भी दुबई जाकर गीतिका को वापस कंपनी ज्वॉइन करने के लिए मनाने की कोशिश कर चुके थे। जब वह नहीं मानी तो उन्होंने शिवरूप को हथियार की तरह इस्तेमाल किया। शिवरूप को दुबई भेजने का मकसद उस अनापत्ति पत्र की जांच करना था, जिसे एमडीएलआर कंपनी ने गीतिका के नाम जारी किया था।
    शिवरूप एमडीएलआर कंपनी का जांच अधिकारी बनकर दुबई स्थित एमडीएलआर कंपनी के दफ्तर गया। वहां पहुंचकर उसने एमाइरेट्स कंपनी के एचआर डिपार्टमेंट से संपर्क किया और एमडीएलआर कंपनी द्वारा गीतिका को दिए गए एनओसी की जांच की बात कही।
    हालांकि, शुरुआत में इससे गोपाल कांडा और अरुणा को कुछ खास फायदा नहीं हुआ। जब इससे कोई बात नहीं बनी तो कांडा ने शिवरूप को एक ई-मेल भेजा। इस ई-मेल में गुडगांव के सिविल लाइन थाने में एमडीएलआर द्वारा दर्ज कराई गई फर्जी शिकायत की कॉपी थी।
    अगली तस्वीर: अंकिता से थी कांडा को एक बच्ची
  • अंकिता से थी कांडा को एक बच्ची
    गीतिका के बारे में छानबीन करते-करते पुलिस को मध्य प्रदेश के सतना की रहने वाली अंकिता सिंह और हरियाणा के पूर्व मंत्री गोपाल कांडा के बीच अवैध संबंध की बात भी पता चली थी। अंकिता सिंह के नाम का जिक्र गीतिका शर्मा के सुसाइड नोट में भी था, जो लापता थी। अंकिता पेशे से डांसर थी और कांडा से पहली बार उसकी मुलाकात 2005 में हुई थी। गीतिका ने उसे पहली बार कांडा के गुड़गांव स्थित फार्महाउस में देखा था।
    अंकिता वहां एक परफॉर्मेंस के लिए गई थी। उसके बाद कांडा ने उसे नौकरी दे दी थी। गीतिका ने सुसाइड नोट में लिखा है कि अंकिता और कांडा के बीच अवैध संबंध भी थे। अंकिता से कांडा को एक बच्‍ची भी है। अंकिता को कांडा ने फिल्मों में भी काम दिलाने का वादा किया था।
    अगली तस्वीर: यौन शोषण की शिकार होने के चलते की खुदकुशी !
  • यौन शोषण की शिकार होने के चलते की खुदकुशी !
    एयरहोस्टेस गीतिका शर्मा के सुसाइड मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट से कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए थे। पुलिस सूत्रों का कहना था कि रिपोर्ट के अनुसार, गीतिका का शारीरिक शोषण हुआ था। इस खुलासे से यह सवाल भी उठ खड़ा हुआ है कि कहीं यही वो वजह तो नहीं थी, जिससे गीतिका टूट गई और उसने मौत को गले लगा लिया।
    संभवत: इसी वजह से गीतिका ने अपने सुसाइड नोट में लिखा था, 'कांडा बेशर्म इंसान है और वह हर लड़की पर बुरी नजर रखता है।' गीतिका का पोस्टमार्टम 6 अगस्त को दिल्ली के मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज में किया गया था। डॉक्टर्स ने खुलासा किया था कि गीतिका के साथ लंबे समय से यौन संबंध बनाए गए थे।
    अगली तस्वीर: गीतिका से जबरन संबंध रखना चाहता था कांडा
  • गीतिका से जबरन संबंध रखना चाहता था कांडा
    24 अगस्त के आस-पास के दिनों में दिल्ली पुलिस ने गीतिका आत्महत्या केस को सुलझा लेने का दावा किया था। पुलिस का कहना था कि गीतिका गोपाल कांडा से अपने रिश्ते को खत्म करना चाहती थी, लेकिन कांडा किसी कीमत पर यह नहीं होने देना चाहता था। इसी वजह से गीतिका परेशान रहती थी और यही उसकी आत्महत्या का कारण बना।
    पुलिस के मुताबिक गीतिका कांडा के झूठे वादों और धमकियों से भी परेशान रहती थी, जिसके चलते उसने खुदकुशी कर ली।
    अगली तस्वीर: पुलिस ने लिया था गीतिका और कांडा के बीच एमएमएस की ऑडियो-विजुअल क्लिपिंग बनाने का फैसला
  • पुलिस ने लिया था गीतिका और कांडा के बीच एमएमएस की ऑडियो-विजुअल क्लिपिंग बनाने का फैसला
    मामला सुलझाने के लिए पुलिस गीतिका के मोबाइल का सीडीआर (फोन कॉल रिकॉर्ड ) बनाने में जुटी थी। साथ ही, वह गीतिका के परिजनों की मदद ले रही थी। पुलिस सीडीआर के आधार पर यह पता लगाने का प्रयास कर रही थी कि किन लोगों से गीतिका की बातचीत हुई। इसी के चलते पुलिस ने फैसला लिया था कि एफएसएल जांच की मदद से गीतिका और कांडा के बीच हुए एसएमएस की ऑडियो-विजुअल क्लिपिंग भी बनाई जाएगी। ये फैसला तब लिया गया था जब कांडा की रिमांड के सिर्फ दो दिन ही शेष बचे थे।
    अगली तस्वीर: गीतिका को दुबई ले जाकर कांडा बनाना चाहता था हवस का शिकार
  • गीतिका को दुबई ले जाकर कांडा बनाना चाहता था हवस का शिकार
    दिल्ली पुलिस ने कोर्ट में दावा किया था कि एयर होस्टेस गीतिका शर्मा को पूर्व मंत्री गोपाल कांडा दुबई ले जाकर शारीरिक शोषण करना चाहता था। पुलिस ने बुधवार को कांडा, चानशिवरूप सिंह और उसकी कर्मचारी अरुणा चड्ढा के खिलाफ सप्लीमेंट्री चार्जशीट दायर किया। एडिशनल चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट डीके जांगला की कोर्ट को पुलिस ने बताया कि चानशिवरूप सिंह के खिलाफ जांच चल रही है।
    गीतिका ने वापस भारत आकर एमडीएलआर एयरलाइंस में काम करने से इनकार कर दिया था, जबकि कांडा इसके लिए उस पर दबाव बना रहा था। कांडा और चड्ढा ने चानशिवरूप सिंह को इस काम के लिए एयरलाइंस में बतौर एचआर मैनेजर रखा था।
    वह दुबई गया और गीतिका के खिलाफ फर्जी ईमेल आईडी से कांडा से मिले दस्तावेजों को अमीरात एयरलाइंस को मेल किया। इससे गीतिका दबाव में आ गई थी। मामले में चानशिवरूप सिंह को सह-अभियुक्त बनाया गया है।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: Anuradha Sharma, Gopal Kanda suicide case, on Aruna and FIR
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Ambala

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top