Home »Haryana »Ambala» Awareness: Red Ribbon Accessible To More Than 29 Thousand People

PICS: रेड रिबन देखने पंहुचे 29 हजार से ज्यादा लोग

bhasker news | Dec 11, 2012, 06:16 IST

  • अम्बाला. स्वास्थ्य विभाग हरियाणा के मुख्य संसदीय सचिव रामकिशन फौजी ने आह्वान किया कि वह एड्स जैसी घातक और जानलेवा बीमारी से बचाव की जानकारी आम जनता तक पहुंचाने के लिए इसे जनांदोलन का रूप दें।
    उन्होंने कहा कि यदि समय रहते एचआईवी व एड्स के खिलाफ जागरुकता न लाई गई तो भविष्य में न केवल समाज को इसके घातक परिणाम झेलने पड़ सकते हैं बल्कि मानवता के अस्तित्व पर भी प्रश्न चिन्ह लग सकता है।
    वे सोमवार को कैंट रेलवे स्टेशन पर रेड रिबन ट्रेन के आगमन पर स्वास्थ्य विभाग द्वारा आयोजित उद्घाटन समारोह के प्रतिभागियों को संबोधित कर रहे थे। संसदीय सचिव ने इस अवसर पर पीजीआई चंडीगढ़ से आई मोबाइल वैन में आयोजित रक्तदान शिविर का उद्घाटन किया।
    स्वास्थ्य, पुलिस, राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन इत्यादि विभागों द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी का अवलोकन किया। प्रदर्शनी के बाहर आयुष विभाग द्वारा मेडिकल चेकअप शिविर लगाया गया। यह प्रदर्शनी मंगलवार शाम छह बजे तक होगी। पहले दिन करीब 29 हजार ने प्रदर्शनी ट्रेन का अवलोकन किया।
    आगे की तस्वीरों में देखिए क्या-क्या दी गई जानकारी...
  • एचआईवी पीडि़तों ने अनुभव बताए
    गत 10 वर्षों से एचआईवी प्रभावित भिवानी निवासी सुरेंद्र कुमार और प्रीति शर्मा ने अपने अनुभव बताते हुए कहा कि इस रोग की चपेट में आने के उपरांत व्यक्ति को हिम्मत हारने के बजाए परिस्थितियों का डटकर मुकाबला करना चाहिए।
    उन्होंने कहा कि समाज के लोगों को भी एचआईवी प्रभावित लोगों के प्रति दोस्ताना व्यवहार अपनाने से उन्हें अधिक समय तक जीवन जीने के लिए प्रेरित किया जा सकता है।
    एड्स पर लघु नाटिकाएं पेश कीं
    नर्सिंग स्कूल अम्बाला सिटी तथा तुलसी बीएड कॉलेज की छात्राओं ने एड्स के लक्षणों, फैलने के कारणों तथा बचाव की जानकारी पर आधारित लघु नाटिकाएं प्रस्तुत की।
    यह रोग साथ खाने, गले मिलने, एक ही घर में रहने, एक-दूसरे के वस्त्र प्रयोग करने अथवा हाथ मिलाने इत्यादि से नहीं फैलता।
  • हरियाणा में 40 हजार एचआईवी पॉजिटिव
    देश में एचआईवी प्रभावित लोगों की संख्या तीन लाख है। हरियाणा में 40 हजार लोग एचआईवी पॉजिटिव हैं।
    रेड रिबन एक्सप्रेस पहली बार वर्ष 2007 में दिल्ली से आरंभ हुई।
    ट्रेन देश के 20 राज्यों के 150 स्टेशनों से होते हुए दिल्ली में अपने तीसरे चरण की यात्रा संपन्न करेगी।
    कार्यक्रम में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मुलाना में जांच सेंटर खोलने की घोषणा की।
    प्रदेश में 59 गैर सरकारी संगठन एड्स की जानकारी पहुंचाने के लिए कार्य कर रहे हैं।
  • कैंट के रेलवे स्टेशन पर रेड रिबन ट्रेन प्रर्दशनी की झांकी।

  • प्रदर्शनी ट्रेन में यह जानकारी

    आठ डिब्बों वाली प्रदर्शनी ट्रेन के पहले तीन डिब्बों में ऑडियो और वीडियो के माध्यम से एचआईवी एड्स रोग के बारे में जानकारी दी गई है। पहले डिब्बे में विस्तार से यह बताया गया है कि यह रोग विश्व में तथा भारत में कब और कैसे आया।
    चार नंबर कोच में बताया गया कि अतीत की भांति एचआईवी संक्रमित व्यक्तिको घबराने की कोई जरूरत नहीं है। एचआईवी एड्स के लक्षण दिखाई दें, वह तुरंत सरकारी अस्पताल में अपनी जांच कराए।
    >कोच नंबर पांच में दर्शाया गया है कि जवानी के जोश में ज्यादातर युवा वर्ग इस बीमारी की चपेट में आते हैं। युवा वर्ग को इसके बचाव के बारे में जागरूक होना चाहि ताकि वे इस बीमारी का शिकार न बन सकें।
    कोच नंबर छह में केंद्र सरकार द्वारा चलाई जा रही राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य योजना, टीबी, मलेरिया जैसी बीमारियों की रोकथाम के लिए चलाई जा रही योजनाओं के बारे में बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी दी गई है।
    कोच नंबर सात में एचआईवी की मुफ्त जांच तथा परामर्श की सुविधा उपलब्ध है। यहां पर विशेषज्ञ लोगों के रक्त की जांच के साथ-साथ उन्हें इस बीमारी के बारे में विस्तार से बता रहे हैं। इससे पहले उन्होंने प्रदर्शनी ट्रेन का उद्घाटन किया।
    इस मौके पर डीसी शेखर विद्यार्थी, स्वास्थ्य विभाग के महानिदेशक डॉ. डीपी लोचन, अतिरिक्त योजना निदेशक एड्स डा. विजय गर्ग सहित अन्य अधिकारियों के साथ इस प्रदर्शनी का अवलोकन किया।

    स्कूली छात्राओं को एड्स की जानकारी देतीं कर्मचारी।

  • एड्स विषय पर हुई पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता
    शिक्षा विभाग द्वारा एड्स विषय पर पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।
    उपजिला शिक्षा अधिकारी उमा शर्मा ने प्रतियोगिता के परिणामों की जानकारी देते हुए बताया कि इस प्रतियोगिता में विभिन्न विद्यालयों के 45 बच्चों ने भाग लिया।
    इसमें मुरलीधर डीएवी पब्लिक स्कूल के आकाश मेहरा ने प्रथम, सोहन लाल कन्या डीएवी स्कूल अम्बाला शहर की हिमांशी ने द्वितीय तथा सेवा समिति स्कूल अम्बाला छावनी की भारती ने तृतीय पुरस्कार हासिल किया।
  • सिर की टोपियां पड़ी रहीं पैरों में
    प्रदर्शनी ट्रेन के दौरान स्टेशन पर ढेरों खामियां भी रहीं। छात्रों की संख्या ज्यादा होने की वजह से उन्हें जमीन पर बिठाया गया। इसके अलावा कई लोगों को कार्यक्रम के दौरान एचआईवी का संदेश देने वाली टोपियां वितरित की गई थी जिन्हें पहनने के बजाए इन्हें कार्यक्रम स्थल पर ही फेंक दिया गया।
    कार्यक्रम की वजह से पुलिस ने स्टेशन एक हिस्से पर वाहनों की एंट्री बंद कर दी थी। केवल एक गेट से ही अंदर-बाहर वाहन चालक आ-जा रहे थे। इससे जाम भी लगा। जीटी रोड पर भी वाहनों की संख्या ज्यादा होने के कारण दोपहर तक जाम के हालात रहे।
  • सांस्कृतिक कार्यक्रमों की धूम
    नाटक निरीक्षक गुलाब सिंह के नेतृत्व में लगभग दो घंटे के कार्यक्रम में कलाकार सूरज बेदी, रामनिवास शर्मा, रामफल सिंह और महावीर शर्मा ने प्रतिभागियों का मनोरंजन किया। इसी प्रकार सेवा ड्रामा अकादमी के कलाकारों ने नुक्कड़ नाटक के माध्यम से जानकारी दी।
    नाटक का मंचन करती छात्राएं।
  • नुक्कड़ नाटक पेश करते विद्यार्थी।

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: Awareness: Red Ribbon accessible to more than 29 thousand people
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Ambala

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top