Home »Haryana »Ambala» Justice For Rape Victim Ever Got To Court Then It Is Still Not Sensitive

कहीं पर मिल गया रेप पीड़िता को न्याय तो कहीं अभी भी अदालत नहीं संवेदनशील

bhaskar news | Feb 23, 2013, 02:30 IST

  • जींद.अदालतें रेप मामलों में शायद अब अधिक संवेदनशील होने लगी हैं। इसका ताजा उदाहरण यहां की एक अदालत का है। गैंगरेप में अपना फैसला साढ़े चार महीने में ही दे दिया है। यानी लोमहर्षक घटना के घटने के तत्काल बाद ही शुरू की गई कानूनी कार्रवाई इस अवधि में पूरी कर ली गई।

    सच्चाखेड़ा में गैंगरेप के बाद दलित किशोरी के आत्मदाह के बहुचॢचत मामले में शुक्रवार को अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश आरएन भारती की अदालत ने दो दोषियों को आजीवन कारावास व दस-दस हजार रुपए की सजा सुनाई है।

    जुर्माना न भरने की सूरत में दोषियों को दो-दो माह का अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा। इस मामले में एक नाबालिग आरोपी का केस जुवेनाइल कोर्ट में विचाराधीन है। जबकि चार दिन पहले दो अभियुक्तों को सबूतों के अभाव में अदालत ने बरी कर दिया था।

    अलग-अलग धाराओं में सुनाई सजा
    सच्चाखेड़ा किशोरी गैंगरेप व आत्मदाह मामले में नरवाना सदर पुलिस ने 6 अक्टूबर 2012 को आरोपी प्रदीप, संदीप उर्फ संजीव, मनोज, मीना व नवीन के खिलाफ 376 टू जी, 306 व 34 आईपीसी के तहत मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया था।

    अदालत ने प्रदीप व संदीप उर्फ संजीव को दोषी करार दिया था, जिस पर उन्हें शुक्रवार को सजा सुनाई। इसमें धारा 376 टू जी के तहत दोनों को आजीवन कारावास व पांच-पांच हजार रुपए का जुर्माना, धारा 306 के तहत 10-10 साल की कैद व पांच-पांच हजार रुपए का जुर्माना लगाया है। जुर्माना न भरने पर दोषियों को दो-दो माह का अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा।

    दोनों पाए गए थे दोषी

    अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश आरएन भारती की अदालत ने मामले में सच्चाखेड़ा गांव निवासी प्रदीप, संदीप उर्फ संजीव सामूहिक दुष्कर्म करने व आत्महत्या के लिए मजबूर करने के दोषी पाए गए। अदालत ने 18 फरवरी को इन दोनों युवकों को दोषी करार दिया था, जिस पर शुक्रवार दोपहर बाद दोनों को उम्रकैद की सजा सुना दी।

    मुख्य आरोपी प्रदीप के भाई हरियाणा पुलिस के जवान मनोज व उसकी भाभी मीना को अदालत ने सबूतों के अभाव में बरी कर दिया था। नाबालिग आरोपी नवीन की सुनवाई जुवेनाइल कोर्ट में चल रही है।

    कोर्ट में लगा रहा जमावड़ा

    गैंगरेप के दोषियों को सजा सुनाने की तारिख होने के चलते शुक्रवार सुबह से ही मीडियाकर्मी व अन्य लोग कोर्ट में जमा होना शुरू हो गए थे।

    दोपहर बाद जब सजा सुनाने का समय आया तो सभी मीडिया कर्मी, वकील व अन्य लोगों का जमावड़ा लगा दिखाई दिया। लंच के बाद करीब ढाई बजे एडीजे आरएन भारती ने दोषी प्रदीप व संदीप उर्फ संजीव को उम्रकैद व 10-10 हजार रुपए की सजा सुनाई।

    यह था मामला

    6 अक्टूबर 2012 को सच्चाखेड़ा गांव में वाल्मीकि समुदाय की 16 वर्षीया शर्मिला दोपहर के समय गली से गुजर रही थी। तभी पड़ौसी युवक प्रदीप ने उसका हाथ पकड़कर अपने मकान में घसीट लिया। प्रदीप के मकान में संदीप उर्फ संजीव ने लड़की और प्रदीप को कमरे में बंद कर बाहर से कुंडी लगा दी थी।

    कमरे में नवीन पहले से कमरे में मौजूद था। प्रदीप व नवीन ने शर्मिला के साथ दुष्कर्म किया। घटना के बाद शर्मिला अपने ताऊ के घर पहुंची और मिट्टी का तेल छिड़ककर खुद को आग लगा ली। गंभीर रूप से झुलसी लड़की को रोहतक पीजीआई में ले जाया गया, जहां उसने उसी दिन ही दम तोड़ दिया था।

    मजिस्ट्रेट के समक्ष ये दिए थे बयान

    पीडि़ता शर्मिला ने दम तोडऩे से पहले मजिस्ट्रेट तरणजीत कौर के समक्ष दिए में बयान में कहा था कि उसके साथ पहले प्रदीप ने फिर नवीन ने दुष्कर्म किया।

    प्रदीप के भाई मनोज व उसकी भाभी मीना व संदीप उर्फ संजीव ने सहयोग दिया। पुलिस ने सभी आरोपियों के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म करने व आत्महत्या के लिए मजबूर करने का मामला दर्ज कर कार्रवाई की।

    सोनिया गांधी व सांसदों का दल भी पहुंचा था गांव

    सच्चाखेड़ा में दलित किशोरी के साथ गैंगरेप व आत्मदाह करने की घटना ने हरियाणा समेत पूरे देश में हलचल मचा दी थी। गैंगरेप कांड के बाद नौ अक्टूबर को कांगे्रस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने सच्चा खेड़ा का दौरा किया था।

    सोनिया गांधी व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने इस दौरान पीडि़त परिवार के साथ करीब दस मिनट बातचीत कर दोषियों को सख्त सजा दिलाने का आश्वासन दिया था। इसके बाद दिल्ली से 17 सांसदों का दल भी सच्चाखेड़ा में घटना का जायजा लेने व पीडि़त परिवार को संवेदना व्यक्त करने पहुंचा था।

  • नहीं मिला इंसाफ, हाईकोर्ट में दायर करेंगे अपील
    पीडि़ता की मां ने कहा, थाना प्रभारी ने नहीं होने दी सही गवाही
    नरवाना.मेरी लड़की के हत्यारों को नहीं मिली सजा। अब इंसाफ के लिए हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगे। कोर्ट के फैसले ने उनको आहत कर दिया है। सोनिया गांधी ने आश्वासन दिया था कि इंसाफ मिलेगा पर पुलिस प्रशासन व न्यायपालिका की खामियों के कारण दो आरोपियों को कोर्ट ने उम्रकैद की सजा व दो लोगों को बरी कर दिया।

    यह बात सच्चा खेड़ा गांव में गैंगरेप की पीडि़त माता राजकली ने जींद एडीशनल सेशन कोर्ट का शुक्रवार को फैसला आने के बाद भास्कर संवाददाता से कहीं।

    उन्होंने कहा कि मामले में सदर थाना प्रभारी की लापरवाही के कारण गैंगरेप में दो युवकों को उम्र कैद की सजा सुनाई है और साथ में पकड़े गए पुलिस कर्मचारी मनोज व उसकी पत्नी मीनू को कोर्ट ने सबूत के आभाव में बरी कर दिया था, जबकि सभी आरोपियों को फांसी की सजा होनी चाहिए थी।

    पीडि़त परिवार के सदस्यों ने कहा कि पुलिस ने कोर्ट में मनोज के मोबाइल की कॉल डिटेल नहीं दी, जिसके कारण कोर्ट ने उनको बरी कर दिया। उन्होंने कहा कि सभी प्रशासनिक अधिकारियों ने उनको आश्वासन दिया था कि इस मामले में किसी भी आरोपी को बख्शा नहीं जाएगा।

    अब इस मामले को लेकर वह यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, मुख्यमंत्री हरियाणा सरकार व उद्योग मंत्री रणदीप सिंह सुरजेवाला से मिलेगें और फैसले की कॉपी आने के बाद वह हाईकोर्ट में अपील दायर करेगें। उन्होने कहा कि सरकार ने उस समय बड़े-बड़े दावे किए थे कि इस मामले की निष्पक्ष जांच करके आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी।

    इसके बावजूद सदर पुलिस क ी लापरवाही के कारण दो आरोपियों को कोर्ट ने सबूत के अभाव में बरी कर दिया था और दो युवको को बस उम्र कैद की सजा सुनाई है। गांव सच्चा खेड़ा के लोग इस फैसले पर चुप्पी साधे हुए है।

    9 अक्तूबर को सोनिया गांधी ने दिया था आश्वासन:-मेरी लड़की के साथ दुष्कर्मियों को फांसी की सजा मिलनी चाहिए। ताकि किसी की बेटी इस तरह अपनी अस्मत तार-तार होने पर मरने के लिए मजबूर ना हो।

    यह बात सच्चा खेड़ा गांव में 9 अक्तूबर को यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी पीडि़त परिवार को सांत्वना देने पहुंची थी तो शर्मिला की माता राजकली ने उनके गले लगकर रोते हुए कही थी कि इस मौके पर यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ,केन्द्रीय शहरी आवास एवं गरीबी उन्मूलन मंत्री कुमारी शैलजा ,उद्योग मंत्री रणदीप सिंह सुरजेवाला, शिक्षा मंत्री गीता भुक्कल, प्रदेशाध्यक्ष फु लचंद मौलाना, हरियाणा मामलों के प्रभारी बीके हरिप्रसाद व सिरसा के सांसद डा अशोक तंवर भी साथ थे।

    पीडि़त परिवार को दिया था आश्वासन:-सच्चा खेड़ा गांव में पहुंची यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने दोषियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही करने को कहा था।

    इस पर मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने उन्हें आश्वस्त किया था कि हरियाणा सरकार दोषियो के खिलाफ सख्त कार्यवाही कर रही है और दोषियों को बक् शा नही जाएगा और सख्त से सख्त सजा मिलेगी।

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: Justice for rape victim ever got to court then it is still not sensitive
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Ambala

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top