Home »Haryana »Ambala» Leaders Was Commenting On Rape Something Like This, Every Women Get Shamed

रेप पर कुछ ऐसा बोलते रहे नेता लोग, हर महिला हो गई शर्मसार

bhasker news | Dec 17, 2012, 00:05 IST

  • भास्कर डॉट कॉम द्वारा चलाई जा रही सबसे चर्चित खबरों की सीरीज की चौथी कड़ी में हम आपको बताने जा रहे हैं कि हमारे नेता बलात्कार जैसे संगीन जुर्मों के लिए कितने असंवेदनशील हैं।

    सभी को पता है साल 2012 में हरियाणा राज्य सहित पूरे देश में अंधाधुंध रेप हुए हैं। कुछ महिने तो ऐसे भी बीते हैं जब हर दो दिनों में एक बलात्कार हुआ है।

    इसके बाद जब हमारे नेता, समाज, खाप पंचायतें अथवा अधिकारी ऐसे विषयों पर बोलना शुरू करते हैं तो खुद को भी शर्म आ जाती है। रेप पीड़ितों के आंसू पोंछने तो कोई नहीं आता, हां नमक छिड़कने वालों की कोई कमी नहीं है।

    उस पर ये बात तो और भी खलती है कि बलात्कारियों को समय पर अथवा उचित सजा नहीं मिल पाती। कभी-कभी तो सजा मिलती ही नहीं है।

    इस साल हरियाणा में हुए बलात्कारों पर कई ऐसे बेबाकी भरे बयान आए जो बेहद निराशाजनक थे। बहुतों ने रेप के कारण गिनाए तो कइयों ने तो बलात्कार रोकने के उपाय भी बता दिए।

    बलात्कार को लेकर दिए जाने वाले हमारे नेताओं के बयान महिलाओं और इन घटनाओं के प्रति हमारा नजरिया दिखाते हैं।

    आगे की तस्वीरों पर क्लिक करके जानिए किस-किस नेता ने दिए कैसे-कैसे बयान...

  • 90 फीसदी लड़कियां मर्जी से करवाती हैं रेप: कांग्रेसी नेता
    हरियाणा कांग्रेस के प्रवक्‍ता ने यह कहके विवाद खड़ा कर दिया था कि अधिकतर रेप आपसी सहमति से होते हैं। कांग्रेस नेता धरमवीर गोयल ने बलात्‍कार के लिए महिलाओं को ही जिम्‍मेदार ठहराया था। उन्‍होंने पत्रकारों से बातचीत में कहा कहा था कि रेप के 90 फीसदी मामले आपसी सहमति से किए जाने वाले सेक्‍स के चलते सामने आते हैं और यह कहने में मुझे कोई झिझक नहीं है। उन्‍होंने कहा, '90 फीसदी लड़कियां मर्जी से सेक्‍स करना चाहती हैं, लेकिन उन्‍हें पता नहीं होता है कि आगे चल कर उनका गैंगरेप भी हो सकता है, क्‍योंकि कुछ वहशी लोग उनकी राह में आ सकते हैं।'
  • हरियाणा में रेप के कारण चाउमिन और मानसिक पिछड़ापन!: संपत सिंह
    हरियाणा की सत्ता पर काबिज कांग्रेस पार्टी के नेता पीड़ितों से सहानुभूति जताने की बजाय अजीब-ओ-गरीब बयान देकर लगातार माहौल को और खराब करते रहे। एक विवादित बयान कांग्रेस के विधायक संपत सिंह ने भी दिया था।
    संपत सिंह ने कहा था कि सामाजिक और मानसिक विकास के अभाव में रेप की घटनाएं बढ़ रही हैं। संपत के मुताबिक, 'हरियाणा ने आर्थिक तौर पर तो तरक्की कर ली, लेकिन राज्य का मानसिक और बौद्धिक विकास नहीं हो पाया, जिसके चलते रेप की वारदातें बढ़ती जा रही हैं और इसमें फास्ट फूड जैसे चाऊमीन और पिज्जा का भी बड़ा हाथ है'
    जींद जिले के खाप नेता जितेंदर छत्तर ने रेप की वजह के तौर पर 3 कारण गिनाए हैं। छत्तर के मुताबिक फिल्मों में अश्लीलता, संस्कृति का अभाव और फास्ट फूड रेप के अहम कारण हैं। जब उनसे पूछा गया कि फास्ट फूड रेप की वजह कैसे हो सकता है?
    तो उन्होंने जवाब दिया कि जब हम चाउमिन जैसे फास्ट फूड खाते हैं तो हमारे शरीर में गर्मी पैदा होती है। गर्मी की वजह से सेक्स हार्मोन का विकास तेजी से होता है। इसमें कोई संदेह नहीं है। इसीलिए हमें ठंडी चीजें खानी चाहिए और भारतीय संस्कृति का पालन करना चाहिए। जितेंदर छत्तर ने जातिप्रथा को रेप की घटनाओं के पीछे अहम वजह मानने से इनकार कर दिया और इसे मीडिया की उपज बताया।
  • 'बलात्‍कार रुकवाना है तो कम उम्र में कराओ शादी': खाप
    हरियाणा में गैंगरेप की ताबड़तोड़ वारदात के बाद खाप पंचायतों ने बेतुकी मांग सरकार के सामने रखी थी। नरवाना गैंगरेप प्रकरण के बाद हरियाणा की खाप पंचायतों एवं अखिल भारतीय जाट महासभा ने शादी की उम्र घटाने को लेकर नई बहस छेड़ दी। हिंदू मैरिज एक्ट में लड़के की उम्र 21 एवं लड़की की उम्र 18 है।
    खाप पंचायतें इसे 18 व 16 कराने की प्रस्ताव को केन्द्र तक पहुंचाने जा रही हैं। उनका मानना है कि ऐसा करने से रेप की घटनाओं में कमी आएगी। बकौल खाप पंचायत, 'यह सामाजिक बुरार्ई अश्लील साहित्य, अश्लील फिल्में, टीवी पर अश्लील कार्यक्रमों से आ रही है।'
    उत्तरी भारत की प्रसिद्ध खाप सर्व खाप पंचायत महम चौबीसी के प्रधान रणधीर सिंह ने कहा था कि 16 ही क्या 15 वर्ष में ही लड़का-लड़की जवान हो जाते हैं तो विवाह में क्या बुराई। हरियाणा का महिला आयोग, कानूनविद् तो इस पक्ष में नजर आए लेकिन मेंडिकल एक्‍सपर्ट्स इस प्रस्ताव को सिरे से नकार रहे थे।
    उत्तर भारत के प्रसिद्ध मुकट अस्पताल के विशेषज्ञ डॉ. रविइंदर सिंह का कहना है कि उम्र घटाना तो बिल्कुल गलत है। इस आयु में लड़कियां शारीरिक रूप से परिपूर्ण नहीं होती। हालांकि 16 की उम्र में बच्चा पैदा हो सकता है। लेकिन प्रेगनेंसी में परेशानी का सामना करना पड़ेगा।
    साथ ही सामाजिक तौर पर देखें तो लड़कियां गृहस्थ जीवन कैसे संभालेंगी। वहीं लड़के की मानसिक स्थिति 18 की उम्र में सामाजिक रूप से तैयार नहीं होती। घटनाएं रोकने के लिए सेक्स एजुकेशन पर ध्यान दें उम्र घटाना समाधान नहीं।
  • रेप तो पूरे देश में हो रहे हैं: सोनिया गांधी
    कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने रेप कांड के बाद सच्चा खेड़ा का दौरा किया था। उन्‍होंने गैंगरेप के बाद आत्मदाह करने वाली दलित किशोरी के परिजनों से मुलाकात की और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का भरोसा दिया। बाद में पत्रकारों से बातचीत में सोनिया ने कहा कि ये सच है कि बलात्‍कार की घटनाएं बढ़ी हैं लेकिन ऐसा सिर्फ हरियाणा में नहीं देश के सभी राज्‍यों में हैं।
    आखिरकार केंद्र सरकार ने ये स्वीकार किया कि देश में महिलाओं पर अपराध बढ़ है। लेकिन सोनिया गांधी ये नहीं बता पाईं थी कि पूरे देश में बलात्कार क्यों हो रहे हैं?
    सोनिया गांधी के दौरे से पहले प्रशासनिक अमला सच्चा खेड़ा की सूरत संवारने में जुट गया था। पीड़ित परिवार के घर में पहली बार बिजली आई। आत्मदाह करने वाली शर्मिला की मां रामकली व पिता बलराज ने बताया कि शाम छह बजे फ्री में उनके घर बिजली कनेक्शन जोड़ दिया गया।
  • विपक्ष की साजिश से बढ़े रेप: मुलाना
    रेप के मामलों को फूलचंद मुलाना ने सियासी रंग देकर राजनीति की रोटियां सेंकना शुरू कर दिया था। हरियाणा कांग्रेस के अध्यक्ष फूलचंद मुलाना प्रदेश में अपराध की बढ़ती घटनाओं को विपक्षी दलों की साजिश बता रहे थे। उनके मुताबिक विपक्षी कांग्रेस सरकार को बदनाम करना चाहते हैं।
    मुलाना ने कहा कि प्रदेश में बलात्कार तो पहले भी होते रहे हैं। मीडिया इसे बढ़ा-चढ़ाकर पेश कर रहा है।
  • बच्चों को मिली आजादी ही रेप की वजह: ममता
    मता बनर्जी ने कोलकाता में एक कार्यक्रम के दौरान मीडिया पर आरोप लगाया था कि वह बलात्कार की घटनाओं को बढ़ाचढ़ा कर पेश कर रहा है। उन्होंने खुली सोच वाले आधुनिक समाज को भी ऐसी घटनाओं के लिए जिम्मेदार ठहराया था। गैंगरेप की इस एक और सनसनीखेज वारदान ने पश्चिम बंगाल में महिलाओं की सुरक्षा के साथ हो रहे लगातार खिलवाड़ पर और गंभीर सवाल खड़े कर दिए थे।
    अभी हाल ही में एक कॉलेज छात्रा ने तृणमूल कांग्रेस से जुड़े छात्र नेताओं पर बलात्कार के आरोप लगाए थे। ममता के अनुसार 'आज-कल बच्चों को घर-परिवार की ओर से बहुत आजादी और छूट दी जा रही है और रेप कांड इसी का नतीजा हैं।
    पहले लड़के-लड़की अगर हाथ पकड़कर चलते थे तो उनके पैरंट्स उन्हें डांट देते थे, लेकिन अब तो सब खुल्लम-खुल्ला हो रहा है। इससे भी समाज पर बुरा असर पड़ रहा है।'
  • भगवान की इच्छा से होते हैं बलात्कार: रिचर्ड मर्डोक
    अमेरिकी सीनेट के एक प्रत्याशी रिचर्ड मर्डोक ने तो बलात्कार को भगवान की इच्छा से जोड़ दिया। उन्होंने कहा था, 'अगर कोई महिला रेप के बाद गर्भवती हो जाती है तो समझ लीजिए, इसमें भगवान की कोई इच्छा है। ऐसा भगवान की इच्छा के बगैर नहीं हो सकता। प्रेंग्रेसी से जिंदगी की शुरुआत होती है और मां के जीवन को खतरे की स्थिति को छोड़कर बाकी हर स्थिति में गर्भपात को अच्छी चीज नहीं हैं।
    मैंने महसूस किया है कि जीवन तो ईश्वर का तोहफा है। मुझे लगता है, जब जीवन की शुरुआत बलात्कार जैसी घटना से होती है तो भी यह भगवान की इच्छानुसार होता है।'
  • बलात्कार तो छोटी-मोटी घटना है: किरण बेदी
    टीम अन्ना की प्रमुख सदस्या रहीं किरण बेदी ने तो एक बार मीडिया से बातचीत में बलात्कार को छोटी-मोटी घटना बता दिया था। बेदी ने कहा था कि मीडिया भ्रष्टाचार के मामले को सही से नहीं उठा रहा है। इसके बदले वह दुष्कर्म की छोटी घटना पर बहस कर रहा है। मीडिया भी पुलिस के निचले स्तर के अधिकारी द्वारा किए गए बलात्कार को बहस का मुद्दा बना रहा है।
    हालांकि बाद में किरण बेदी ने ट्वीट कर सफाई देते हुए कह दिया था कि 'गलत खबर चलाई जा रही है। मैंने कभी नहीं कहा कि दुष्कर्म छोटा-मोटा अपराध है। मैंने कहा था कि छोटे स्तर का कोई कर्मचारी जब दुष्कर्म करता है तो हम उसे टांगने पर लग जाते हैं। लेकिन जब यही काम ओहदेदार व्यक्ति करता है तो हमारा रुख अलग हो जाता है।'
  • घर से बाहर ही ना निकलें महिलाएं: गुड़गांव पुलिस कमिश्नर
    गुड़गांव के पुलिस कमिश्नर तो बलात्कार के मामले बढ़ने पर महिलाओं को घर में बंद रहने की सलाह दे चुके हैं। इसी साल मार्च में बलात्कार की ताबड़तोड़ वारदातों के बाद गुड़गांव पुलिस ने साफ कह दिया था कि अगर बलात्‍कार से बचना है तो महिलाओं को घर में ही बंद रहना चाहिए। अगर वह घर से बाहर निकलती हैं तो अपनी सुरक्षा का जिम्‍मा खुद ही संभालें।
    यही नहीं, लगातार दो दिन गैंगरेप के मामले सामने आने के बाद स्‍थानीय प्रशासन ने रात आठ बजे के बाद महिलाओं के ड्यूटी करने पर रोक लगाने का हुक्‍म दिया था। गुड़गांव प्रशासन ने सभी मॉल्‍स, वाणिज्यिक प्रतिष्‍ठानों और पब मालिकों से साफ कह दिया था कि उनके यहां रात आठ बजे के बाद किसी भी महिला कर्मचारी की ड्यूटी न लगाई जाए।
  • महिलाओं के हल्के कपड़े हैं बलात्कार के जिम्मेदार: वी. दिनेश रेड्डी
    आंध्र प्रदेश के डीजीपी वी. दिनेश रेड्डी और कर्नाटक के महिला और शिशु कल्याण मंत्री सी सी पाटिल ने बेहद चौंकाने वाले बयान दिए थे। रेड्डी ने कहा कि महिलाओं के हल्के कपड़े बलात्कार के लिए जिम्मेदार हैं वहीं, पाटिल ने कहा था कि महिला को पता होना चाहिए कि उन्हें कितनी चमड़ी (स्किन) ढंकनी है।
    रेड्डी ने एक बयान में कहा था, 'पुरुषों को भड़काने वाले महिलाओं के फैशनेबल और झीने कपड़े बलात्कार के बढ़ते मामलों के लिए जिम्मेदार है।' कर्नाटक के महिला और शिशु कल्याण मंत्री सी सी पाटिल ने रेप से बचने के लिए महिलाओं को हिदायत देते हुए कहा था, 'मैं निजी तौर पर इस हक में नहीं हूं कि महिलाएं भड़काऊ कपड़े पहनें और यह सोचें कि वे चाहे जो पहनें उन्हें सम्मान की नज़रों से देखा जाए।'
  • हमें सत्ता में लाइए, देंगे बलात्कार भत्ता: मुलायम सिंह यादव
    उत्तर प्रदेश के नेताओं का हाल तो और भी निराला है। यूपी में विधानसभा चुनावों के दौरान समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव ने तो बकायदा 'बलात्कार भत्ते' की ही घोषणा कर दी थी। इस साल हुए विधानसभा चुनावों के दौरान सिद्धार्थनगर जिले में एक चुनावी रैली में मुलायम सिंह यादव ने कहा था कि अगर उनकी सरकार सत्ता में आई तो बलात्‍कार के आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलवाएंगे और रेप पीड़ितों को सरकारी नौकरी दी जाएगी।
    मुलायम सिंह यादव की पार्टी अभी सत्ता में हैं लेकिन राज्य में अपराध या बलात्कार की घटनाओं में कोई कमी नहीं आई है।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: leaders was commenting on rape something like this, every women get shamed
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Ambala

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top