Home »Haryana »Faridabad » Now Parking Problem Solve

अब 5 लाख वाहनों को मिलेगा स्थान, निगम होगा मालामाल

Bhaskar newws | Mar 21, 2017, 08:09 IST

अब 5 लाख वाहनों को मिलेगा स्थान, निगम होगा मालामाल
फरीदाबाद.सरकार की नई पार्किंग पॉलिसी से शहर में पार्किंग की समस्या खत्म होने वाली है और दूसरी तरफ नगर निगम भी मालामाल हो जाएगा। इससे शहर में करीब 5 लाख वाहनों को सुरक्षित
स्थान मिलेगा।

नगर निगम क्षेत्र के अंतर्गत 500 वर्गमीटर का खाली प्लॉट रखने वाले मालिक इसे पार्किंग स्थल के रूप में तब्दील कर सकेंगे। प्रदेश सरकार की नई पॉलिसी के अनुसार नगर निगम सीमा के अंदर खाली प्लाटों के अस्थाई पार्किंग के रूप में उपयोग के लिए नीति तैयार की गई है। इसके लिए प्लॉट मालिक को नगर निगम से परमिशन लेनी होगी। इस नई व्यवस्था से शहर में पार्किंग की समस्या खत्म होने के आसार हैं। इस व्यवस्था से वाहन चोरी के आंकड़ों में भी भारी कमी आने की उम्मीद है। फिलहाल शहर में सार्वजनिक पार्किंग स्थल न होने से सड़कों पर वाहन खड़े रहते हैं। इससे न केवल वाहन चोरी का खतरा रहता है बल्कि जगह-जगह जाम की स्थिति बनी रहती है।

ये है नई पार्किंग पालिसी में
शहरी स्थानीय निकाय विभाग से आई गाइडलाइन के अनुसार प्लॉट का आकार 500 वर्ग मीटर से कम नहीं होना चाहिए। न्यूनतम 500 वर्ग मीटर क्षेत्र बनाने के लिए, सहमति के शपथ-पत्र के साथ उसी स्वामित्व या अलग-अलग स्वामित्व वाले 500 वर्ग मीटर से कम के प्लाटों को मिलाने की अनुमति दी जाएगी बशर्ते कि वे एक-दूसरे के साथ लगते हों। पार्किंग स्थल तक पहुंच के लिए कम से कम 12 मीटर चौड़ी सड़क होनी चाहिए।

इस नीति के तहत अनुमति प्रतिवर्ष 100 रुपए प्रति वर्ग मीटर की दर से लाइसेंस शुल्क के भुगतान पर दी जाएगी। वाहनों के लिए पार्किंग शुल्क संबंधित नगरपालिकाओं (नगर निगम, नगर परिषद, नगरपालिका) द्वारा तय किया जाएगा। जो भी व्यक्ति पार्किंग स्थल उपलब्ध करवाने के लिए अपने प्लॉट का उपयोग करना चाहता है, उसे अपने प्लाट के राजस्व दस्तावेजों के साथ आयुक्त या कार्यकारी अधिकारी या सचिव को आवेदन करना होगा।

-एसके शर्मा, सीनियर वाइस प्रेसीडेंट, रोड सेफ्टी ऑर्गेनाइजेशन।
ये होना चाहिए पार्किंग स्थल में
केवल सतह पार्किंग की अनुमति दी जाएगी और इसके लिए स्थल समतल होना चाहिए। शौचालय और टिकट रूम या गार्ड रूम, जोकि 50 वर्ग फुट से अधिक न हों, को छोड़कर किसी भी प्रकार के स्थाई निर्माण की अनुमति नहीं होगी। जारी की गई अनुमति को भूमि उपयोग परिवर्तन या किसी भी रूप में स्थाई अनुमति नहीं माना जाना चाहिए। पार्किंग की सुविधा प्रदान करने के लिए यह केवल अस्थाई अनुमति है।
यह एक वर्ष के लिए जारी की जाएगी और क्षेत्र की आवश्यकता के अनुसार प्रत्येक कैलेंडर वर्ष को नवीनीकृत की जानी चाहिए। नवीकरण की अनुमति, अनुमति के लिए लाइसेंस शुल्क के भुगतान पर दी जाएगी। पार्किंग के मालिक यह सुनिश्चित करेंगे कि इस सुविधा के कारण लोगोंं को किसी भी प्रकार की असुविधा न हो, अन्यथा पालिका द्वारा किसी भी समय बिना कोई सूचना दिए अनुमति को रद्द किया जा सकता है। पार्किंग के मालिक को यह सुनिश्चित करना होगा कि पार्किंग के प्रभाव क्षेत्र में कोई भी वाहन सड़क पर खड़ा न हो। प्रभाव क्षेत्र का निर्णय पार्किंग क्षेत्र की क्षमता के आधार पर किया जाएगा। प्लॉट का मालिक स्थल के उपयोग के बारे में साइन बोर्ड लगाएगा और दरें प्रदर्शित करेगा।
वाहनों का वर्गीकरण
-ऑटो 15 हजार
-टैक्सी करीब 8 हजार
-हैवी कॉमर्शियल व्हीकल 60 हजार
-5 लाख से अधिक घरेलू वाहन टू व फोर व्हीलर हैं।
10 साल में वाहन चोरी
2007 973
2008 691
2009 896
2010 1552
2011 1439
2012 1495
2013 1363
2014 1710
2015 1615
2016 1800
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: now parking problem solve
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From Faridabad

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top