Home »Haryana »Gurgaon» Corporation, Electricity And Forest Becoming Barrier, Only 30% Completed The Work Of Underpass

अंडरपास निर्माण में निगम, बिजली और वन विभाग बन रहे रोड़ा, सिर्फ30% काम पूरा

bhaskar news | Apr 21, 2017, 12:40 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
अंडरपास निर्माण में निगम, बिजली और वन विभाग बन रहे रोड़ा, सिर्फ30% काम पूरा
गुड़गांव. अंडरपास निर्माण में तेजी लाने के लिए एनएचएआई लगातार प्रयासरत है। लेकिन तीनों अंडरपास के निर्माण में नगर निगम, बिजली और वन विभाग का सहयोग नहीं मिल रहा है। राजीव चौक पर बिजली की लाइनें शिफ्ट नहीं होना, सिग्नेचर टॉवर अंडरपास में सीएनजी स्टेशन शिफ्ट नहीं होना और इफको चौक पर श्मशान भूमि का शिफ्ट नहीं होना बाधा बना है। आगे फिर ट्रैफिक किया डायवर्ट...
पिछले पांच महीनों में प्रोजेक्ट का 30 फीसदी निर्माण ही परा हुआ है। राजीव चौक पर अंडरपास निर्माण के लिए बुधवार देर रात ट्फिरै क को एक बार फिर डायवर्ट किया गया है। एक्सप्रेस-वे को जाम फ्री बनाने के लिए सितंबर 2016 में केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी और सीएम मनोहर लाल ने तीन अंडरपास का शिलान्यास किया था।
राजीव चौक, सिग्नेचर चौक और इफको चौक पर 1005 करोड़ रुपए की लागत से इनका निर्माण जारी है। दिसंबर में शुरू हुए अंडरपास का निर्माण पिछले करीब पांच महीने में महज 30 फीसदी ही हुआ है। अंडरपास निर्माण में बाधा बनी पेयजल व सीवर लाइनों को शिफ्ट किया जा चुका है, लेकिन बिजली की लाइनों को शिफ्ट करने के लिए एचवीपीएन अफसरों ने एस्टीमेट तैयार नहीं होने से राजीव चौक पर बिजली की 220केवी व 66केवी लाइनें नहीं हटाई गई हैं। इससे निर्माण कार्य रुक गया है।
एनएचएआई अफसर, एचवीपीएन के अधिकारियों से कई बार एस्टीमेट देने की डिमांड कर चुके हैं। वहीं सिग्नेचर टॉवर अंडरपास के निर्माण में सीएनजी स्टेशन व इफको चौक पर श्मशान भूमि अंडरपास निर्माण में बाधा बन रही है। एनएचएआई के अधिकारी बाधाओं को दूर करने के लिए प्रयासरत हैं, लेकिन संबंधित विभागों के अफसरों का सहयोग नहीं मिलने से निर्माण अधर में है।
स्टेडियम की दीवार तोड़ बढ़ाई सड़क की चौड़ाई राजीव चौक अंडरपास के लिए ताऊ देवीलाल स्टेडियम की दीवार को दो तरफ से तोड़ा जा चुका है। दिसंबर में जहां स्टेडियम की मेडिसिटी रोड की तरफ से दीवार तोड़ी गई थी, वहीं अब राजीव चौक की तरफ बांध व दीवार को हटाया जा रहा है। इसके अलावा स्टेडियम के भी कुछ हरे पेड़ों को बिना परमिशन काटा जा चुका है।
ये हैतीनों अंडरपास के प्रोजेक्ट्स की लागत
तीनों अंडरपास के प्रोजेक्ट पर करीब 1000 करोड़ रुपए लागत तय की गई है। इनमें 300 करोड़ बिजली, पेयजल लाइन, सीवर लाइन आदि शिफ्ट करने, जबकि 700 करोड़ रुपए अंडरपास, फ्लाइओवर के लिए तय हुए हैं। हालांकि, प्रोजेक्ट पूरा होने तक कम से कम 20 से 30 फीसद राशि और बढ़ सकती है। अधिकारियों का मानना है कि तीनों अंडरपास निर्माण पर कुल खर्च 1300 करोड़ रुपए तक हो सकता है।
बिना परमिशन काटे 5000 से अधिक पेड़
अंडरपास निर्माण को लेकर सरकार गंभीर है, लेकिन विभागीय अधिकारी नहीं। नगर निगम व एनएचएआई के अधिकारियों ने अंडरपास निर्माण में आड़े आ रहे पेड़ काटने को एनओसी के लिए सितंबर में आवेदन किया था, पर क्लीयरेंस नहीं मिली। बिना क्लीयरेंस के राजीव चौक, सिग्चर टॉ ने वर व इफको चौक पर करीब 5000 पेड़ों को काटा जा चुका है। इसके अलावा अभी पेड़ों को रातों-रात काटा भी जा रहा है।
''इफको चौक पर श्मशान भूमि, सिग्नेचर टॉवर पर सीएनजी स्टेशन व राजीव चौक पर बिजली लाइनों की शिफ्टिंग का काम थम गया है। राजीव चौक पर एचवीपीएन के अधिकारियों द्वारा एस्टीमेट भी तैयार नहीं किया गया है, जिससे काम में बाधा आ रही है।''अशोक शर्मा, प्रोजेक्ट मैनेजर,एनएचएआई, गुड़गांव
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: Corporation, electricity and forest becoming barrier, only 30% completed the work of underpass
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Gurgaon

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top