Home »Haryana »Hisar» KU Colleges Now Affiliated With GJU

ग्रीन बैल्ट से अवैध कब्जा छुड़वाया, निगम टीम और प्लॉट मालिक हुए आमने-सामने

Bhaskar news | Apr 19, 2017, 07:08 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
ग्रीन बैल्ट से अवैध कब्जा छुड़वाया, निगम टीम और प्लॉट मालिक हुए आमने-सामने
हिसार.जहाजपुल पर पार्क की जमीन से कब्जा छुड़वाने गई नगर निगम की टीम और पार्क की जमीन के साथ लगते प्लॉट मालिक आमने-सामने हो गए। निगम ने कब्जा हटवाने के लिए जब जेसीबी मशीन बुलाई तो प्लॉट मालिक का बेटा और डिप्टी मेयर भीम महाजन का बहनोई अशोक कुमार विरोध स्वरूप जेसीबी मशीन के पंजे पर जा बैठा। विरोध और आक्रोश बढ़ता देखकर पुलिस तक बुलानी पड़ी। बाद में स्थिति को समझ जमीन मालिकों ने मजदूर लगाकर स्वयं अवैध कब्जा हटाने का काम शुरू कर दिया।

बुधवार तक अवैध कब्जे वाली जगह को खाली करने का लिखित आश्वासन मिलने के बाद निगम की टीम लौटी। जहाजपुल पर नगर सुधार मंडल की स्कीम के तहत 1 से 14 रिहायशी प्लॉट हैं, जिनका साइज 33 बाई 75 है। जहाजपुल चौक पर प्लॉट नंबर 1 के साथ ग्रीन बैल्ट की खाली जमीन थी। जिसकी लगभग 70 गज जगह प्लाॅट मालिक ने अपने कब्जे में लेकर चारदिवारी बना ली। बाकि खाली जगह पर जमीन मालिक ने लक्कड़ डाल दिए। प्लाॅट मालिक टेकचंद हैं, जिनका बेटा अशोक निगम के डिप्टी मेयर भीम महाजन का बहनोई है।

ग्रीन बैल्ट की जमीन का कुछ हिस्सा प्लाॅट नंबर 1 में शामिल होने के बाद स्थानीय लोगों ने इसकी शिकायत प्रशासन से की। जिला कष्ट निवारण समिति में जब यह मामला पहुंचा तो इसकी जांच के आदेश नगर निगम को दिए गए। निगम ने अवैध कब्जे हटवाने के लिए कार्रवाई शुरू की। गत दिनों में जब यह मामला फिर से कष्ट निवारण समिति की बैठक में पहुंचा तो प्लाॅट मालिक ने कहा कि वे अवैध कब्जा हटा देंगे। नगर निगम आयुक्त ने सख्त कार्रवाई करते हुए निगम के अधिकारियों को आदेश दिए कि ग्रीन बैल्ट की जमीन से तुरंत कब्जा हटाया जाए। आयुक्त ने सोमवार को स्वयं मौके का निरीक्षण किया था।
मंगलवार को आयुक्त अशोक बंसल ने निगम के एमई प्रवीण कुमार, संदीप और अमित कौशिक के नेतृत्व में जहाजपुल भेजा और अवैध अतिक्रमण हटवाने का काम शुरू करवाया। तभी साथ लगते प्लॉट मालिक टेकचंद, उनके बेटे अशोक, अनिल व अन्य परिजन वहां पहुंच गए और निगम अधिकारियों से भिड़ गए। टेकचंद के बेटे और डिप्टी मेयर के बहनोई अशोक कुमार तो जेसीबी के पंजे पर जाकर बैठ गए तथा भारी विरोध जताया। इस दौरान नगर निगम की ओर से पुलिस फोर्स भी बुलवा ली गई। टेकचंद व उनके बेटों का कहना था कि जब वे स्वयं कब्जा हटवा रहे हैं तो फिर नगर की टीम जेसीबी सहित बुलाने की क्या जरूरत आन पड़ी। काफी कहासुनी के बाद प्लॉट मालिक ने अपने मजदूरों से अवैध कब्जे वाली दीवार को तुड़वाने का काम शुरू करवा दिया। अशोक कुमार का कहना था कि वे बुधवार तक वे स्वयं ग्रीन बैल्ट की जमीन से अवैध कब्जा हटवा कर जमीन नगर निगम को सौंप देंगे। इसके बाद निगम के अधिकारी जेसीबी समेत वहां से रवाना हो गए।
कार्रवाई की प्रक्रिया गलत : टेकचंद
जहाजपुल पर प्लॉट नंबर 1 के मालिक टेकचंद उनके पुत्र अशोक व अनिल ने बताया कि प्रशासन से बातचीत के बाद वे स्वयं ग्रीन बैल्ट की जमीन से कब्जा हटाने की बात मान गए थे। अनिल कुमार ने बताया कि कष्ट निवारण समिति की बैठक में उन्होंने कहा भी था कि अगली बैठक तक ग्रीन बैल्ट से कब्जा हटवा कर नगर निगम को सौंप दिया जाएगा। मगर नगर निगम ने जिस तरह कार्रवाई की, वह गलत है। निगम अधिकारियों ने की इस तरह कार्रवाई प्रक्रिया गलत है, क्योंकि यह मामला कोर्ट में चल रहा है।
कब्जा खुद हटाने की बात कही है : बीआई
नगर निगम के बीआई सुनील लांबा ने कहा कि उन्होंने नगर निगम अायुक्त के अादेश पर अपना काम किया है। प्लॉट मालिक ने बुधवार सुबह अवैध कब्जे वाली जमीन को स्वयं खाली करने की बात कही है। इसलिए टीम शाम को वापस चली गई। अब पूरी रिपोर्ट बुधवार को तैयार कर नगर निगम आयुक्त को दी जाएगी।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: KU colleges now affiliated with GJU
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Hisar

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top