Home »Haryana »Hisar » Despite Very Few Studies That Engineers Invented So Surprised By The Farmer

कम पढ़ाई के बावजूद इस किसान ने किया ऐसा अविष्कार कि इंजीनियर भी हुए हैरान

bhaskar news | Feb 23, 2013, 02:22 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
कम पढ़ाई के बावजूद इस किसान ने किया ऐसा अविष्कार कि इंजीनियर भी हुए हैरान

सोनीपत.इन्हें शिक्षा कोई बहुत ज्यादा नहीं मिली, लेकिन एक सोच थी कि दूसरों से कुछ अलग किया जाए। उसी सोच का ही परिणाम था कि आज वे ऐसे आविष्कार में लगे हैं, जो न केवल उनके लिए बल्कि समाज के लिए भी बढिय़ा उदाहरण बन चुके हैं।

फिर चाहे बात स्क्रैप से वाहन बनाने की हो या फिर आक्सीजन से वाहन चलाने की। यही नहीं सातवीं पास किसान द्वारा लीवर सिद्धांत पर काम कर कम बल को बढ़ाकर कई गुना करने के मॉडल को देख कई इंजीनियर भी हैरत में पड़ गए।

दीनबंधु सर छोटूराम विज्ञान एवं प्रौद्योगिकि विवि, मुरथल में गुरुवार को ऐसे ही 'वैज्ञानिकोंÓ का मेला देखने को मिला। प्रतिभागियों की इस मेहनत को देखने के लिए खुद तकनीकी शिक्षा विभाग की वित्तायुक्त धीरा खंडेलवाल पहुंची।


प्रतिभागियों की कला से उत्साहित होकर उन्होंने कह भी दिया कि अगले वर्ष से विशेष खोज एवं अविष्कार पर पुरस्कार मिलेंगे। उन्होंने अविष्कारकत्र्ताओं से आह्वान किया कि वे ऐसे अविष्कार पर कार्य करें जो न केवल समाज के लिए उपयोगी हो, अपितु वातावरण को शुद्ध रखने में मदद करते हों।

विश्वविद्यालय के कुलसचिव आरके अरोड़ा, प्रो. राजकुमार, प्रो. राजिंदर कुमार सोनी, एचके अग्रवाल ने भी प्रतिभागियों का उत्सह थे।


विवि में अविष्कार परिषद का गठन
कुलपति एचएस चहल ने विवि ने भी एक केंद्र की स्थापना की है, जो औद्योगिक क्षेत्र के साथ मिलकर नई खोज एवं आविष्कारों पर कार्य कर रहा है। कुलपति ने कहा कि इस केंद्र को 25 लाख रुपए की वित्तीय सहायता दी गई है।

लीवर का सिद्धांत से बढ़ी ताकत : कैथल के सातवीं पास किसान ने लीवर के सिद्धांत से कम बल को बढ़ाकर कई गुणा करने के मॉडल कर्ण शक्ति ने सभी को हैरत में डाला। वहीं विश्वविद्यालय के छात्रों ने सोलर से चलने वाली रिक्शा,गोबर के उपले बनाने वाली मशीन तथा वृक्ष के पत्तों को खाद में बदलने वाली मशीन बनाई है।


कहीं भी चलेगा वाहन :विश्वविद्यालय के छात्र रजत सेठी की टीम ने ऑल टैरेन वाहन बनाया है। इस वाहन की विशेषता यह है कि यह मिट्टी, रेगिस्तान, कीचड़ व ऊबड़ -खाबड़ जमीन पर अच्छी तरह से चल सकता है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: Despite very few studies that engineers invented so surprised by the farmer
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From Hisar

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top