Home »International News »International» Afghanistan Female Air Force Pilots Left Grounded

PHOTOS: तालिबान की बैंड बजाने को तैयार हैं ये अफगानी लड़कियां

dainikbhaskar.com | Jan 05, 2013, 00:00 IST

  • एक लड़की का क्या सपना होता है। खुले आकाश में अपनी मर्जी से उड़ना, दुनिया को देखना। लेकिन क्या यह हर लड़की के मुमकिन होता है। हम बात अफगानिस्तान के महिलाओं की करें तो शायद उनके लिए सपना देखना मना है।
    शौर्या सालेह को कार चलाना आती है, लेकिन उसका भाई किसी भी अनहोनी से बचने के लिए उसके बगल में बैठता था। लेकिन अब उसका भाई पर कदमों और इशारों में नजर नहीं रख पाएगा। क्योंकि वह दूर गगन में अपनी मर्जी से उड़ने के लिए तैयार है।
    ऐसा ही कुछ अंदाज मासूमा हुसैनी का है। हम बात कर रहे हैं अफगानिस्तान की पहली महिला हैलिकॉप्टर पायट्स की। कभी तालिबान के चंगुल में फंसने वाले इस देश में महिलाओं के सपनों पर पहरा था, लेकिन आज महिलाएं अपने सपनों में नए रंग भर रही हैं।
    dainikbhaskar.com अपने पाठकों को बता रहा है अफगानिस्तान में कैसे बदल रही है। महिलाओं की स्थिति और अफगानी लड़कियां रसोई के बाहर निकल कर तालिबान से दो-दो हाथ करेगी...
  • 20 वर्षीय शौर्या सालेह अपनी सहेली मासूमा हुसैनी के साथ 18 महीने की मिलिट्री हेलिकॉप्टर की ट्रेनिंग लेकर अफगानिस्तान लौटी हैं। इसके साथ दोनों को सेकंड लेफ्टिनेंट का पद दिया गया।

  • वे दोनों अपनी ट्रेनिंग पर भरोसा करती हैं, लेकिन अफगान एयरफोर्स उन्हें यूनीफॉर्म और असाइनमेंट देने को तैयार नहीं है। 28 अक्टूबर को घर लौटी दोनों लड़कियां आजकल घर में टीवी देखने और पढ़ने और अंग्रेजी ठीक करने में लगी हैं।

  • उन्होंने कई अमेरिकी महिलाओं के साथ अमेरिका के टेक्सास, एलाबामा में ट्रेनिंग ली। हुसैनी कहती है, मैं अपने देश की सेवा करना चाहती हूं, बावजूद इसके हम उड़ान नहीं भर सकते। हमारा सीखा हुआ सब कुछ बर्बाद हो जाएगा। लेकिन हमें भरोसा कि जल्द ही हमारी सेना में वापसी होगी।

  • पुरानी दर्द भरी यादों में डूबते हुए हुसैनी कहती है कि तालिबान ने लड़कियों के लिए सारे स्कूल बंद कर दिए थे, उस दौर में माता-पिता ने खुफिया तरीके से हमारी पढ़ाई जारी रखी। अफगानिस्तान की जमीन महिलाओं के लिए नर्क है।

  • इस साल महिलाओं पर हिंसा के 3500 केस दर्ज किए गए। अफगान मिलिट्री पश्चिमी देशों के दबाव में आकर अपने यहां महिलाओं को नौकरी दे रही है। अभी सेना में 350 महिला हैं।

  • शौर्या और हुसैनी के परिवार पुरानी सोच वाले हैं। दोनों ही सहेली तीन साल पहले तक एक-दूसरे को जानती तक नहीं थीं। जब तक दोनों ने टीवी पर सेना में भर्ती का विज्ञापन न देखा था। उन्होंने टेक्सास में यूएस आर्मी ओएच-58 वॉरियर स्काउट हेलिकॉप्टर उड़ाना सीखा। दोनों ने हवाई मुकाबला करने और युद्ध के दौरान बेसिक कोर्स की परीक्षा पास की थी।

  • वहीं, एक अफगानी लेफ्टिनेंट निलोफर रहमानी देश की पहली महिला सोलो पायलट बन गई हैं, जो नाटो और अफगानिस्तान के संयुक्त ऑपरेशन में काम करेंगी। यूएस एयर फोर्स अफगानिस्तान कन्ट्री डायरेक्टर जेरेमी पोन कहते हैं कि रहमानी, दूसरी महिलाओं के लिए रोल मॉडल हैं। वे पिछले कई महीनों से यूएस और नाटो के संरक्षण में काम कर रही थी।

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: Afghanistan female air force pilots left grounded
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From International

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top