Home »International News »International » Treatment To Obese Patients And Smokers In England

इंग्लैंड में नई मेडिकल पॉलिसी: मोटे लोग 10% वजन कम करें और स्मोकर्स दो महीने तक सिगरेट छोड़ें, तभी सर्जरी होगी

dainikbhaskar.com | Dec 02, 2016, 09:22 AM IST

इंग्लैंड के नेशनल हेल्थ सिस्टम (एनएचएस) ने अपनी मेडिकल पॉलिसी में बदलाव किया है। (फाइल)

लंदन. इंग्लैंड के नेशनल हेल्थ सिस्टम (एनएचएस) ने अपनी मेडिकल पॉलिसी में बदलाव किया है। अब मोटे लोगों और स्मोकर्स को अपना इलाज कराने के लिए सालभर लंबा इंतजार करना पड़ सकता है। ऐसे लोगों को वेटिंग लिस्ट में सबसे आखिर में रखा जाएगा। साथ ही, सर्जरी कराने के लिए इन्हें कुछ नई शर्तों को मानना पड़ेगा। मोटे लोगों को 10 फीसदी वजन घटाना होगा। जबकि स्मोकर्स को कम से कम दो महीने के लिए सिगरेट छोड़नी पड़ेगी। इसके लिए बाकायदा छह महीने का प्रोग्राम भी चलाया जाएगा, ताकि वे अपने खान-पान की आदतों में बदलाव कर सकें। सिर्फ नॉन अर्जेंट ऑपरेशन के मामले में ऐसा किया जाएगा...
- ऐसा सिर्फ नॉन अर्जेंट ऑपरेशन के मामले में किया जाएगा। यानी जहां सर्जरी जरूरी होगी, उस हालत में प्रायोरिटी बेसिस पर इनकी सर्जरी की जाएगी।
- एनएचएस की ओर से किए जा रहे इस बदलाव का विरोध भी शुरू हो गया है।
- रॉयल कॉलेज ऑफ सर्जन के वाइस प्रेसिडेंट इयान का कहना है कि यह बहुत ही असंतोषजनक है। एनएचएस अपनी हदों को पार कर रहा है।
- यह स्कीम भेदभाव को बढ़ावा देती है। साथ ही नैचुरल जस्टिस के खिलाफ भी है। यह एनएचएस के संविधान का भी हनन है।
क्यों किया गया ऐसा?
- दरअसल, इंग्लैड में जरूरी और नॉन अर्जेंट सर्जरी कराने वालों की लंबी वेटिंग है। लोगों को पांच महीने से एक साल तक इंतजार करना पड़ रहा है।
- पहले यह वेटिंग दो साल तक लंबी थी। एनएचएस का कहना है कि ऐसा मरीजों को हेल्थ के प्रति प्रोत्साहित करने के मकसद से किया गया है।
- ज्यादातर बीमारी लाइफ स्टाइल से जुड़ी हैं। इसमें बदलाव करके सर्जरी से बचा जा सकता है। लोगों की लाइफ स्टाइल में बदलाव कर बीमारियां ठीक की जा सकती हैं।
- इससे मरीज क्लिनिकल ट्रीटमेंट से बच सकते हैं। दावा किया जा रहा है कि यह नया क्लिनिकल सिस्टम बेस्ट साबित होगा।
ऐसे लोगों पर 65 हजार करोड़ सालाना खर्च कर रहा है एनएचएस
- हर साल करीब 65 हजार करोड़ रुपए लाइफ स्टाइल से जुड़ी बीमारियों से जुड़े मरीजों पर खर्च कर रहा है।
- इसमें सबसे ज्यादा बीमारियों की वजह मोटापा और ध्रूमपान है। इसके बाद मधुमेह संबंधी मरीज सबसे ज्यादा हैं।
- इससे एनएचएस का वित्तीय सिस्टम बिगड़ता जा रहा है।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: treatment to obese patients and smokers in England
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

    More From International

      Trending Now

      Top