Home »International News »International» Japan Pledges Closer Ties With Vietnam Amid Shared China Concerns

जापान ने शुरू की चीन को घेरने की तैयारी

agency | Jan 17, 2013, 09:12 IST

  • टोक्यो/हनोई. विश्व की दो आर्थिक महाशक्तियों चीन और जापान एक दूसरे को घेरने की पूरी तैयारी में जुटे है। जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे इसी प्रयास में दक्षिण पूर्वी एशिया के देशों इंडोनेशिया और थाईलैंड की यात्रा करने वाले हैं। वह इस कड़ी में दो दिवसीय दौरे पर बुधवार को ही वियतनाम की राजधानी हनोई पहुंच चुके हैं।
    पूर्वी चीन सागर के एक द्वीप को लेकर हुए विवाद के बीच चीन का विरोध कर रहे देशों के साथ मिलकर जापान ने चीन की गोलबंदी शुरू कर दी है।
    जापान के नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री शिंजो आबे की सत्ता की बागडोर संभालने के बाद चीन का विरोध कर रहे इंडोनेशिया, थाईलैंड और वियतनाम जैसे देशों के प्रतिनिधियों की इसी हफ्ते प्रस्तावित यात्रा से चीन की त्योरियां चढ़ने की आशंका हैं। भौगोलिक रूप से पूर्वी चीन सागर से विभाजित दोनों देश दक्षिण पूर्वी एशिया में निवेश के मौके तलाशने में जुट गए हैं।
  • दिया साफ संकेत
    वियतनाम के राष्ट्रपति ट्रुओंग तान सांग के साथ बातचीत के बाद उन्होंने प्रेस से मुलाकात में दक्षिण चीन सागर मसले पर जापान के आक्रामक रुख को दोहराया भी। इस बार के कार्यकाल में उन्होंने सबसे पहले वियतनाम दौरा कर इसका संकेत भी दे दिया है। इससे सात साल पूर्व वह प्रधानमंत्री के रूप में सबसे पहले चीन दौरे पर गए थे। जापान के प्रधानमंत्री की इस यात्रा से चीन के नाराज होने की संभावना काफी अधिक है।
  • ऐसे बढ़ रही है तल्खी
    दरअसल चीन और जापान के संबंधों में गत वर्ष ही खटास काफी बढ़ गई थी, जब जापान ने पूर्वी चीन सागर के विवादित द्वीप शेनकाकू को उसके मालिक से खरीद लिया था। चीन ने जापान द्वारा द्वीप खरीदे जाने की घटना की कड़ी निंदा की थी और इसके बाद गत महीने जापान में आयोजित अंतरराष्ट्रीय मौद्रिक कोष की बैठक में शामिल होने से भी इनकार कर दिया था। चीन और जापान दोनों इस द्वीप पर अपना मालिकाना अधिकार जताते हैं। जापान द्वारा द्वीप खरीदे जाने के बाद चीन के सरकारी विमानों ने 1958 के बाद पहली बार उस क्षेत्र में प्रवेश किया।
  • आर्थिक संकट है चुनौती
    जापान ने आर्थिक संकटों के मद्देनजर दक्षिण पूर्वी एशिया में अपनी उपस्थिति दर्ज करानी शुरू कर दी है। चीन की बढ़ती आर्थिक और सामरिक ताकत के कारण जापान के लिए उसके समकक्ष ताकत बढ़ाना एक चुनौती के समान है, क्योंकि वह फिलहाल आर्थिक संकटों में घिरा है। इससे उबरने के लिए जापान और अपनी ताकत बढ़ाने के उद्देश्य से चीन ने दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों में अपनी पकड़ बनाने की कोशिश शुरू कर दी है। दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों के साथ संबंधों में सुधार लाने की कोशिश को आबे ने सही ठहराया है। आबे ने कहा है कि जापान लोकतंत्र की रक्षा और मानवाधिकारों के संरक्षण के लिए प्रतिबद्ध है।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: Japan pledges closer ties with Vietnam amid shared China concerns
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From International

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top